Tag Archives: Hindi Songs

Unleashing Magic Of “Triple S” Of Indian Cinema: Sahir Ludhianvi, Shakeel Badayuni and Shailendra!

Sahir: The Poet Very Close To My Heart!

Sahir: The Poet Very Close To My Heart!

  

         (Also published in Northern India Patrika, December 22, 2013)

Once upon a time Hindi movie songs acted as anti-depressants. Now Hindi film music gives rise to depression! Modern songs devoid of meaning and set upon incoherent beats in the name of music give rise to headache instead of removing it! Earlier songs depicted certain philosophy, which added a new dimension in the script of the movie. The movies made by Bimal Roy, Guru Dutt and Raj Kapoor effectively used songs to introduce new twist in the story. It’s altogether a different story in modern cinema. There are item numbers or poorly inserted hopelessly romantic numbers.

First, there is dearth of talented lyricists and, second, there is lack of good music directors. The bunch of music directors that we see are primarily technocrats, relying heavily on technology. Some will argue that we have talented lyricists but the ability to write one or two catchy one-liners doesn’t make anyone a lyricist! Listen the lyrics and it would be hard for you to decide whether it’s an English song, or a Punjabi song, or a Hindi song.  Look at the music compositions. It’s either for the hip-hop generation or it’s for the night clubs. It’s not merely that times have changed and we need to adjust to new trends. There is something terribly wrong with the creativity involved in making of songs! Should we not assume that capitalistic traits have murdered real creativity? Overseas rights of distribution, heavy fees extracted from rights of satellite channels and numerous other equations enjoy greater concern than ensuring bliss! 

I do not wish to appear stupidly nostalgic caught in the time warp. As an evidence of the creativity, which prevailed in 50s and 60s, I am presenting four songs of lyricists who have really inspired me a lot. Every time I come to hear a song written by them, it leaves me in state of intoxication. I am referring to trio comprised of Sahir Ludhianvi, Shakeel Badauini and Shailendra. These “Triple S” always stirred my emotions to no extent.  

Shakeel Badayuni: Great Poets Are Always Down-To-Earth!

Shakeel Badayuni: Great Poets Are Always Down-To-Earth!

********************************************************************

1. Ye Raat Ya Chandni Phir KahanListen this song from Hindi movie Jaal (1952). The heavenly voice of Hemant Kumar, wonderful composition by S D Burman and soul stirring  verses by Sahir Ludhianvi made this song timeless!  Guru Dutt was the director of this movie- a thriller which involved Dev Anand, Geeta Bali and Purnima. Excellent cinematography by VK Murthy has made this song a poetry carved on silver screen. As I said the songs of this era were borrowed from literature. This song echoes the eternal theme that “time and tide wait for no man” – “Ek baar chal diye ager tujhe pukar ke laut ke na aayenge kaafile bahar ke”. The movie depicted Goan Christian culture and so we find the music having western effect based on sweet Guitar pieces. However, the most important aspect about this song is that it’s based on Raga Kafi, which is a midnight raga. That matches with the picturization of the song, depicting a moonlit night! 

***************************************************************

Shailendra:  He Always Lived A Simple Life. That's Why He Emerged As Icon Of  Simplicity!

Shailendra: He Always Lived A Simple Life. That’s Why He Emerged As Icon Of Simplicity!

2. Suhana Safar Aur Ye Mausam Haseen

Bimal Roy’s Madhumati (1958) is very close to my heart. Not only it strengthens our belief in re-birth, a prominent concept in Indian philosophy, but also it makes us believe in the power of true love. As per this movie the impact of true love transcend many generations. This movie is really a classic in world cinema. Right from the first scene till the last frame of this movie, it keeps the viewer in state of trance with its gripping presentation of the story and its enchanting music. I remember when I went to see this movie in a theater couple of months ago in a film festival, the theater was jam-packed. Not a single seat was available. And I saw many of the viewers sitting on the floor of the balcony and many others still having argument with the gate-keeper to move inside even as the movie had started. Shailendra and Salil Chaudhary made each song a masterpiece. Well, this time I wish to introduce first song of this movie “Suhana Safar Aur Ye Mausam Haseen”. Every time I move on a beautiful passage passing through the valleys, I always come to remember this song. Shailendra has borrowed the appeal present in poems of Wordsworth. Nature has come alive in this song where one can actually feel that clouds are kissing the earth! – “Ye Aasman Jhuk Raha Hai Jameen Par”. Notice the wonderful prelude of this song. It’s so impressive that it has virtually become part of my consciousness! Immediately you come to realize that this song features mountains! That’s the magic of these songs. One of my favourite past-time in school and college days was to identify the song after listening clip of prelude. Anyway, it’s time to listen the whole song! Also notice the way how great maestro Bimal Da has picturized this song! 

*************************

3. Aaj Purani Raho Se Koi Mujhe 

That’s  a song which speaks volume about the singing ability of Mohammed Rafi. It’s been so deeply and soulfully sung by Rafi that it leaves you speechless. Aadmi was released in 1968 which had music under direction of Naushad and songs were penned by Shakeel Badayuni. Naushad had a special place for Shakeel in his heart and he went out of the way to help Shakeel in his last days troubled both by financial crisis and bad health. The movie highlighted love triangle and fascinating performances on part of Dilip Kumar, Waheeda Rahman and Manoj Kumar made it an unforgettable movie. The song makes it clear that one can be strong willed even if one’s heart and mind have been shattered by the cruel twists and turns of the fate. The song has tragic melody which not only depicts personal loss but also highlights that pain ultimately leads to realization of highest type- perfect union with the Lord! The camera work is wonderful in this song as it captures the roaring sea waves hitting the rocks! The song makes an appeal that someone who has begun a new journey should not be haunted by the past episodes of life! 

*******************************

  
Shailendra’s fame attained new heights after the release of Vijay Anand’s Guide (1965). It is considered to be one of the finest movies made in Bollywood. Hats off to the courage of Vijay Anand, who went ahead with the release of this movie despite failure of  movie version of  R K Narayan’s ‘The Guide’ in English. The distributors were very much impressed with the efforts of Vijay Anand. The Hindi version proved out to be phenomenal success. S D Burman was seriously ill during making of this movie but he regained health to create some unforgettable numbers. “Aaj Phir Jeene Ki Tamanna Hai” became one of the representative songs of women’s emancipation. However, I wish to present this number which represents the pinnacle of love, commitment and togetherness. Shailendra was a class poet, who had gifted ability to write verses in most simple language without losing sight of loftiness. When I hear these immortal songs and contrast them with songs made in present era a sense of discomfort prevails within. Well, instead of lamenting about the loss of creativity, let’s hear this song which is an ode to love and get lost in an era when music was a way to connect with higher forces!
 Pics Credit: 

Pic One 

Pic Two 

Pic Three

Advertisements

भारतीय फिल्मो में नायिकाओ का रोल मार्फ़त मनीषा कोईराला और उर्मिला मातोंडकर

मनीषा कोईराला: इस बेहद प्रतिभाशाली अभिनेत्री को भी खराब समझौते करने पड़े और फिर भी हाशिये में जाना पड़ा!

मनीषा कोईराला: इस बेहद प्रतिभाशाली अभिनेत्री को भी खराब समझौते करने पड़े और फिर भी हाशिये में जाना पड़ा!

भारतीय फिल्मो ने सौ सालो का फासला तय कर लिया है। ये अवधि काफी है इसके कुछ गुण दोषों पर नज़र डालने के लिये। भारतीय फिल्मी नायिकाओ के उत्थान पतन का जिक्र करना जरूरी है। भारतीय नायिकाओ के इस चरित्र को आधुनिक काल के दो अभिनेत्रियों मनीषा कोईराला और उर्मिला मातोंडकर के अभिनय ग्राफ पर नज़र डालने से बेहतर समझा जा सकता है। इसके पहले इस बात का जिक्र करना जरूरी हो जाता है कि जबसे भारतीय फिल्मे बन रही है तब से नायिकाओ का काम केवल पेड़ के आस पास टहल घूम कर नाचने कूदने का भर का ही था। अब भी कुछ नहीं बदला है। झरने की जगह स्विमिंग पूल आ  गया है। पहले नायिकाएं कूल थी अभिव्यक्ति के मामले में पर जब से “वुमन ऑफ़ सब्सटेंस” का अवतरण हुआ तब से वो और अधिक बोल्ड हो चली है। कम कपड़ो में भी शालीनता की रक्षा की वकालत हो रही है। पहले महिला निर्देशकों, गीतकारो का अकाल सा था लेकिन अब ऐसा नहीं है। लेकिन इसके बाद भी ये कहा नहीं जा सकता कि नायिकाओ के स्पेस में कोई गुणात्मक परिवर्तन आया हो। जो स्थिति पहले थी वो अब भी है। या यूँ कहे कि अब जब पैसा बनाने की हवस, कॉर्पोरेट और माफियाओ का गठजोड़ अपने चरम उफान पर है तो गुणात्मक परिवर्तन की अपेक्षा रखना तारो का दिन में उगने का ख्वाब देखने के सामान है।

उर्मिला मातोंडकर और मनीषा कोईराला के करियर पर दृष्टि डालने से फ़िल्म में नायिकाओ के महत्त्व की एक दिलचस्प तस्वीर उभर कर आती है। मै मूलतः मेनस्ट्रीम सिनेमा की बात कर रहा हूँ। कला फिल्मो में तो हम देखते है शबाना आज़मी, स्मिता पाटिल, सुहासिनी मूले इत्यादि अभिनेत्रियों ने अच्छा काम किया और इसके साथ ही मेनस्ट्रीम सिनेमा में अच्छा काम किया। ये अलग बात है स्टार वैल्यू प्रधान मुख्य धारा के सिनेमा में इनके लिए ज्यादा कुछ करने के लिए था नहीं। सुष्मिता सेन जो कि एक्टिंग टैलेंट में ऐश्वर्या  से कही आगे थी उनको तो आज के महिला निर्देशकों के उपस्थिति के बाद ज्यादा कुछ करने को नहीं मिला लेकिन फूहड़ अभिनय करने वाली ऐश्वर्या राय की झोली में कई बड़े बैनर की फिल्मे आयी। हर फ़िल्म में बकवास अभिनय करने के बाद भी आप बदन उघाड़े ऐश्वर्या को कैनंस फ़िल्म समारोह में देख सकते है। इसी से समझ में आ जाता है कि पॉपुलर सिनेमा में टैलेंट कम काम आता है कुछ और सतही समीकरण ज्यादा काम आता है।

उर्मिला ने मुमताज़ की तरह ही बचपन से फिल्मो में काम करना शुरू कर दिया। पिंजर और सत्या जैसी फिल्मो में काम कर चुकी उर्मिला एक बेहद समर्थ अभिनेत्री है लेकिन कैसी बिडम्बना है कि हमारी फ़िल्म इंडस्ट्री ने इन्हें बदन प्रधान अभिनेत्रियों में अग्रिम पंक्तियों ला खड़ा किया। इसके बाद वो राम गोपाल वर्मा कैम्प तक ही सिमट के रह गयी है। लेकिन आप उर्मिला की फिल्मे देखे तो समझ में आएगा कि वेस्टर्न वर्ल्ड ने जो एक्टिंग के मापदंड तय किये है उनमे उर्मिला शानदार रूप से खरी उतरती है। बल्कि उनसे बीस ही है क्योकि डांसिंग टैलेंट में अभी विदेशी अभिनेत्रियाँ इतनी सक्षम नहीं है जितनी की उर्मिला है। ये आपको तब दिखता है जब आप  चमत्कार फ़िल्म में ट्रेन कम्पार्टमेंट में फिल्माया बिच्छू गीत देखते है।

अभिनय की जिस बारीकियो को उर्मिला ने “कौन” फ़िल्म में प्रदर्शित किया वो किसी साधारण टैलेंट से ओतप्रोत अभिनेत्री के बूते के बाहर है। इसलिए खेद होता है कि इतनी सक्षम अभिनेत्री को मुख्यधारा सिनेमा में बदन दिखाऊ दौड़ में शामिल होना पड़ा। एक सक्षम अभिनेत्री को रेस में बने रहने के लिए क्यों बदन दिखाने की कला में आगे रहना पड़ता है? ये परिपाटी किसने स्थापित की? आप कह सकते है बाज़ार की बड़ी पूँजी लगी होती है पर पूँजी तो हालीवुड की फिल्मो में हमसे अच्छी लगती है पर टैलेंट से वो तो समझौता नहीं करते! खैर आज की नयी अभिनेत्रियों को देखे तो कुछ एक नामो को छोड़ दे तो अधिकतर के पाद टैलेंट तो कुछ नहीं लेकिन बिकनी पहनने में संकोच ना करने के कारण वो मुख्य धारा में कामयाब है। यहाँ तक कि एक हाल की अभिनेत्री ने जिसने पहली फ़िल्म में साधारण औरत का किरदार किया था उसने भी अपनी अगली ही एक अन्य फ़िल्म में बिकनी में आगाज़ किया!

मनीषा कोईराला  के उदाहरण से आपको ये समझ में आ जाएगा कि हमारे यहाँ टैलेंट की समझ और परख कितनी है। मनीषा ख़ामोशी, बॉम्बे, गुप्त, मन  और अकेले हम और अकेले तुम में शानदार अभिनय करने के बाद हाशिये पर चले गयी। यहाँ तक कि उनको अपने को सुर्खियों में रहने के लिए निम्न स्तर की फिल्मो में काम करना पड़ा। साफ़ है कि उगते सूरज को सलाम करने वाली इस इंडस्ट्री ने मनीषा को तज दिया। आज कैंसर से जूझती मनीषा को इंडस्ट्री संज्ञान में लेना उचित नहीं समझती। स्पष्ट है ग्लोबल वर्ल्ड में जो पैसा पैदा कर सकता है चाहे चमड़ी बेचकर ही क्यों न बस उसी की क़द्र है। टैलेंट है तो ठीक और नहीं है तब भी ठीक अगर आप पैसा पैदा करने के समीकरण में फिट बैठते है तो। सनी लियोन और वीना मालिक का चमकता सितारा तो यही बताता है। उर्मिला और मनीषा के प्रतिभा को सलाम कि इस अंधे युग में भी टैलेंट के महत्त्व को बरकरार रखा।

उर्मिला मातोंडकर : एक अभिनेत्री जो घिसे पिटे मापदंडो में उलझ कर रह गयी!

उर्मिला मातोंडकर : एक अभिनेत्री जो घिसे पिटे मापदंडो में उलझ कर रह गयी!

पिक्स क्रेडिट:

Pic One

Pic Two

शैलेन्द्र: मायावी जगत को अर्थ देने वाला एक बेहतरीन गीतकार

सिगरेट का कश लेते शैलेन्द्र अपने मीत राजकपूर के साथ!

सिगरेट का कश लेते शैलेन्द्र अपने मीत राजकपूर के साथ!

फ़िल्म का चलना या ना चलना एक अलग मसला होता है. मूल बात ये थी कि फ़िल्म वास्तव में कैसी बनी थी. तो तीसरी कसम वाकई अच्छी बनी थी. लेकिन ये बात जरूर है कि इस फ़िल्म ने शैलेन्द्र को ये बता दिया कि फ़िल्म जगत उन जैसे सीधे अच्छे लोगो के लिए कभी नहीं बना था. इस फ़िल्म ने उनके  करीब के लोगो के चेहरे से मुखौटे को हटा दिया. शैलेन्द्र के नजदीकी लोगो की बात पढ़िए आपको पता चलेगा कि किसी ने शैलेन्द्र के लिए मुफ्त काम नहीं किया. सब ने पैसे लिए. दूसरी बात मै इस बात से इत्तेफाक नहीं रखता कि राजकपूर ने हीरामन के किरदार के साथ न्याय किया. वो इस वजह से कि राजकपूर जिस परिवेश में ढले थें, उनकी अरबन इंस्टिंकट्स (urban instincts)  बहुत बड़ी बाधक थी  इस किरदार की जरूरतों के साथ. ये शैलेन्द्र की सबसे  बड़ी गलती थी राजकपूर को इस रोल के लिए चुनना.

ये अलग बात थी  राजकपूर एक अच्छे अभिनेता थे. सो उन्होंने भरसक कोशिश कि अपना सर्वोत्तम देने कि लेकिन आप इतने बड़े मिसमैच को कैसे पाट सकते थे. सो आप ध्यान से देखे राजकपूर को इस फ़िल्म में आपको उनके अभिनय में नाटकीयता जरूर दिखेगी. तो मेरी नजरो में ये एक बड़ी गलती थी शैलेन्द्र कि जो राजकपूर को उन्होंने लिया. इस बात पे गौर करना आवश्यक है कि मुम्बईया सिने जगत में ग्रामीण जगत को या भारत के गाँवों को कभी भी यथार्थ स्वरूप में परदे पे लाने की कोशिश नहीं की गयी. सब में गाँव के नाम पर मसाला तत्त्व डाला गया. जैसा मिसमैच राजकपूर का तीसरी कसम में था वैसे ही नर्गिस का मदर इंडिया में था. ये अलग बात है दोनों अच्छे कलाकारों  ने जान डाला अपने अभिनय से पर वास्तविकता से तो दूर ही था ना.

तीसरी कसम: भारतीय फ़िल्म इतिहास में मील का पत्थर

तीसरी कसम: भारतीय फ़िल्म इतिहास में मील का पत्थर

खैर बात तीसरी कसम की हो रही है. तीसरी कसम और साहब बीवी और गुलाम दोनों फिल्मे साहित्यिक कृतियों पर बनी है. तीसरी कसम   फणीश्वरनाथ रेणु  की कहानी “मारे गए गुलफाम” और साहब बीवी और ग़ुलाम बिमल मित्र के  इसी नाम के उपन्यास पर बनी थी. एक तो हमारे हिंदी फ़िल्म जगत में   साहित्यिक कृतियों पर फिल्मे बनाने का चलन नहीं और बनती भी है तो मूल कृति के साथ न्याय नहीं करती. सो दोनों फिल्मो का कृति के साथ लगभग पूरा सा न्याय करना बहुत संतोष प्रदान करते है. हा मेरे जैसे जाहिल जो मूल कृति को पढ़ कर फ़िल्म देखने की भूल कर बैठते है वो ये हमेशा जानते रहते है कि पढने में  कृति के बहुत से पक्ष उभर कर आते है. परदे पर मामला बहुत सीमित हो जाता है. पर तीसरी कसम, गाइड, साहब बीवी और ग़ुलाम, परिणीता, काबुलीवाला कुछ एक ऐसी फिल्मे रही जिन्होंने मूल कृति के साथ बहुत अत्याचार नहीं किया.

चलते चलते शैलेन्द्र के बारे में कुछ कहना बहुत जरूरी है. शैलेन्द्र जैसा बेहतरीन इंसान फिल्मो की दुनिया में आने की गलती कर बैठा पर इनकी इसी गलती की वजह से हमे इतने अच्छे गीत सुनने को मिले. मेरे ये सबसे पसंदीदा गीतकार है और इनका कोई भी गीत चाहे वो “टूटे हुए ख्वाबो  नें” या “दुनिया बनाने वाले क्या तेरे मन में समा” या “तेरे मेरे सपने अब एक रंग है” आपको एक दूसरी दुनिया में ले जाता है.  पर रूहानी ख़ूबसूरती से लैस इस बेहद नाजुक मिजाज इंसान को तीसरी कसम के बनने के दौरान पैदा हुई कडुवी सच्चाइयो ने आखिरकार इनको विशाल  अजगर की तरह नील लिया. पैसा ही खुदा है या पैसा ही ईश्वर है इस दुनिया का इनके नाजुक ह्रदय पर गहरा आघात कर गया. फिर भी दुनिया शैलेन्द्र जैसे सुंदर आत्माओ की वजह से अस्तित्व में रहती है, दुनिया रहने के काबिल बनी रह पाती है. श्वेत श्याम सी जिंदगी में रंग भरने वाले   शैलेन्द्र  ( August 30, 1923 – December 14, 1966 ) को मेरी तरफ से विनम्र श्रद्धांजलि.

References:

फणीश्वरनाथ रेणु 

शैलेन्द्र

बिमल मित्र  

 शैलेन्द्र 

Pics credit:

Pic One

Pic Two

I Am Hindi Movie Songs Addict!

I Am Hindi Movie Songs Addict!

I must confess that I am Hindi songs addict! I am not at all ashamed to reveal this great truth. One reason why Hindi movie songs come to stir the emotions so often is because they are based on elements defining Indian classical music. The raga and tal employed often connects us with newer plane of consciousness. In this very land, the various forms of art are ways to explore and establish our connection with the Absolute. So we can see that some addictions are good.

Listen to the “Mere Naina Sawan Bhado ” moulded in Raga Shivaranjini. It immediately makes you get lost in a strange unknown realm of a mysterious world. Listen Talat singing ” Aye Dil Mujhe Aise Jagah Le Chal”(Arzoo) and you get transported to a world embedded in total silence.

A sincere lover of Indian movie songs would also take note of the picturization of these songs. The geniuses like Gurudutt, Raj Kapoor , Vijay Anand and Manoj Kumar, to name few, had mastered the art of perfect picturization. The dream sequence songs like “Hum apki aankho me ” (Pyasa) and ” Ghar Aaya Mera Pardesi” (Awara) epitomizes song picturization. Even ”Pal Pal Dil Ke Pass ” from movie ‘Blackmail’ is a treat for the eyes. One interested in knowing how to use light and shade needs to watch “Saqiya Aaj Mujhe Neend Nahi Ayegi” (Sahib Biwi Aur Ghulam).

I Am Hindi Movie Songs Addict!

One thing more. We always tend to ignore and downsize the contributions of music directors and lyricists. The lyricist is the most unfortunate creature in terms of eliciting credit. Anyway, Shailendra, Sahir, Shakeel, Indeevar, Rajendra Krishn and Pradeep would never get lost into oblivion. The composers like Shankar-Jaikishen, SD Burman, Ravi, Kalyanji Anandji, OP Naiyyar, Laxmikant-Pyarelal and RD Burman would continue to keep providing few moments of bliss in the world gone to the dogs.

It’s time to sing for Hindi songs Chura Liya Hai Jo Tumne Dil Ko,Nazar Nahi Churana Sanam!”( You have stolen my heart and so never ignore me) .

I Am Hindi Movie Songs Addict!

Pic Credit:

Pix One

Pix Two

Pix Three

The great Rudolf Steiner Quotes Site

Quotes and fragments from the work of the great visionary, thinker and reformer Rudolf Steiner

Bhavanajagat

Welcome to Noble Thoughts from All Directions to promote the well-being of man and to know the purpose in Life.

Serendipity

Was I born a masochist or did society make me this way? I demand unconditional love and complete freedom. That is why I am terrible.

John SterVens' Tales

Thee Life, Thee Heart, Thee Tears

Indowaves's Blog

Just another WordPress.com weblog

Una voce nonostante tutto

Ognuno ha il diritto di immaginarsi fuori dagli schemi

Personal Concerns

My Thoughts and Views Frankly Expressed

the wuc

a broth of thoughts, stories, wucs and wit.

A Little Bit of Monica

My take on international politics, travel, and history...

Atlas of Mind

Its all about Human Mind & Behavior..

Peru En Route

Tips to travel around Perú.

Health & Family

A healthy balance of the mind, body and spirit

मानसिक हलचल

ज्ञानदत्त पाण्डेय का हिन्दी ब्लॉग। मैं गाँव विक्रमपुर, जिला भदोही, उत्तरप्रदेश, भारत में रह कर ग्रामीण जीवन जानने का प्रयास कर रहा हूँ। ज़ोनल रेलवे के विभागाध्यक्ष के पद से रिटायर रेलवे अफसर।

Monoton+Minimal

travel adventures

Stand up for your rights

Gender biased laws

The Bach

Me, my scribbles and my ego

Tuesdays with Laurie

"Whatever you are not changing, you are choosing." —Laurie Buchanan

The Courage 2 Create

This is the story of me writing my first novel...and how life keeps getting in the way.