Category Archives: Poem

Words Of Aurobindo Ghosh And Poetry Of Neeraj Besides Sanskrit Verses On India’s Glory!

 

Sri Aurobindo: His Birth Anniversary Falls On Day When India Got Independence!

Sri Aurobindo: His Birth Anniversary Falls On Day When India Got Independence!



The views expressed herein unfold Sri Aurobindo’s methadology to deal with huge challenges India was going to face in post-Independence era.  Sri aurobindo conveyed these views between 1910-1922 in Arya- an English monthly published by Sri Aurobindo.

****************************************

“How shall we recover our lost intellectual freedom and elasticity? By reversing, for a time at least, the process by which we lost it, by liberating our minds in all subjects from the thraldom to authority. That is not what reformers and the Anglicised require of us. They ask us, indeed, to abandon authority, to revolt against custom and superstition, to have free and enlightened minds. But they mean by these sounding recommendations that we should renounce the authority of Sayana for the authority of Max Muller, the Monism of Shankara for the Monism of Haeckel, the written Shastra for the unwritten law of European social opinion, the dogmatism of Brahmin Pandits for the dogmatism of European scientists, thinkers and scholars. Such a foolish exchange of servitude can receive the assent of no self-respecting mind. Let us break our chains, venerable as they are, but let it be in order to be free, in the name of truth, not in the name of Europe. It would be a poor bargain to exchange our old Indian illuminations, however dark they may have grown to us, for a derivative European enlightenment or replace the superstitions of popular Hinduism by the superstitions of materialistic Science.”

“Our first necessity, if India is to survive and do her appointed work in the world, is that the youth of India should learn to think, to think on all subjects, to think independently, fruitfully, going to the heart of things, not stopped by their surface, free of prejudgments, shearing sophism and prejudice asunder as with a sharp sword, smiting down obscurantism of all kinds as with the mace of Bhima….”

“Let us not, either, select at random, make a nameless hotchpotch and then triumphantly call it the assimilation of East and West. We must begin by accepting nothing on trust from any source whatsoever, by questioning everything and forming our own conclusions. We need not fear that we shall by that process cease to be Indians or fall into the danger of abandoning Hinduism. India can never cease to be India or Hinduism to be Hinduism, if we really think for ourselves. It is only if we allow Europe to think for us that India is in danger of becoming an ill-executed and foolish copy of Europe…. We must … take our stand on that which is true and lasting. But in order to find out what in our conceptions is true and lasting, we must question all alike rigorously and impartially. The necessity of such a process not for India, but for all humanity has been recognised by leading European thinkers. It was what Carlyle meant when he spoke of swallowing all formulas. It was the process by which Goethe helped to reinvigorate European thinking. But … Europe has for some time ceased to produce original thinkers, though it still produces original mechanicians…. China, Japan and the Mussulman states are sliding into a blind European imitativeness. In India alone there is self-contained, dormant, the energy and the invincible spiritual individuality which can yet arise and break her own and the world’s fetters.”

Source:  Bharat Vani

He Was The Most Perfect Manifestation Of Absolute!

He Was The Most Perfect Manifestation Of Absolute!

His Writings Soaked In Divinity Impressed Everybody!

His Writings Soaked In Divinity Impressed Everybody!


*****************************************

These beautiful verses in Sanskrit unfold glory of India’s past. They make you aware of great souls who made their presence felt on this great divine land. The verses also let you know about beautiful places, rivers and mountains which make this part of the world a poetry carved on planet earth. I first noticed these verses on page of  Sri Vijay Krishna Pandey.

*******************************

ॐ नमः सच्चिदानंदरूपाय परमात्मने
ज्योतिर्मयस्वरूपाय विश्वमांगल्यमूर्तये॥१॥

 

प्रकृतिः पंचभूतानि ग्रहलोकस्वरास्तथा
दिशः कालश्च सर्वेषां सदा कुर्वंतु मंगलम्‌॥२॥

 

रत्नाकराधौतपदां हिमालयकिरीटिनीम्‌
ब्रह्मराजर्षिरत्नाढ्याम् वन्दे भारतमातरम्‌ ॥३॥

 

महेंद्रो मलयः सह्यो देवतात्मा हिमालयः
ध्येयो रैवतको विन्ध्यो गिरिश्चारावलिस्तथा ॥४॥

 

गंगा सरस्वती सिंधु ब्रह्मपुत्राश्च गंदकी
कावेरी यमुना रेवा कृष्णा गोदा महानदी ॥५॥

 

अयोध्या मथुरा माया काशी कांची अवंतिका
वैशाली द्वारका ध्येया पुरी तक्शशिला गया ॥६॥

 

प्रयागः पाटलीपुत्रं विजयानगरं महत्‌
इंद्रप्रस्थं सोमनाथस्तथामृतसरः प्रियम्‌॥७॥

 

चतुर्वेदाः पुराणानि सर्वोपनिषदस्तथा
रामायणं भारतं च गीता षड्दर्शनानि च ॥८॥

 

जैनागमास्त्रिपिटकः गुरुग्रन्थः सतां गिरः
एष ज्ञाननिधिः श्रेष्ठः श्रद्धेयो हृदि सर्वदा॥९॥

 

अरुन्धत्यनसूय च सावित्री जानकी सती
द्रौपदी कन्नगे गार्गी मीरा दुर्गावती तथा ॥१०॥

 

लक्ष्मी अहल्या चन्नम्मा रुद्रमाम्बा सुविक्रमा
निवेदिता सारदा च प्रणम्य मातृ देवताः ॥११॥

 

श्री रामो भरतः कृष्णो भीष्मो धर्मस्तथार्जुनः
मार्कंडेयो हरिश्चन्द्र प्रह्लादो नारदो ध्रुवः ॥१२॥

 

हनुमान्‌ जनको व्यासो वसिष्ठश्च शुको बलिः
दधीचि विश्वकर्माणौ पृथु वाल्मीकि भार्गवः ॥१३॥

 

भगीरथश्चैकलव्यो मनुर्धन्वन्तरिस्तथा
शिबिश्च रन्तिदेवश्च पुराणोद्गीतकीर्तयः ॥१४॥

 

बुद्ध जिनेन्द्र गोरक्शः पाणिनिश्च पतंजलिः
शंकरो मध्व निंबार्कौ श्री रामानुज वल्लभौ ॥१५॥

 

झूलेलालोथ चैतन्यः तिरुवल्लुवरस्तथा
नायन्मारालवाराश्च कंबश्च बसवेश्वरः ॥१६॥

 

देवलो रविदासश्च कबीरो गुरु नानकः
नरसी तुलसीदासो दशमेषो दृढव्रतः ॥१७॥

 

श्रीमच्छङ्करदेवश्च बंधू सायन माधवौ
ज्ञानेश्वरस्तुकाराम रामदासः पुरन्दरः ॥१८॥

 

बिरसा सहजानन्दो रमानन्दस्तथा महान्‌
वितरन्तु सदैवैते दैवीं षड्गुणसंपदम्‌ ॥१९॥

 

रविवर्मा भातखंडे भाग्यचन्द्रः स भोपतिः
कलावंतश्च विख्याताः स्मरणीया निरंतरम्‌ ॥२०॥

 

भरतर्षिः कालिदासः श्रीभोजो जनकस्तथा
सूरदासस्त्यागराजो रसखानश्च सत्कविः ॥२१॥

 

अगस्त्यः कंबु कौन्डिण्यौ राजेन्द्रश्चोल वंशजः
अशोकः पुश्य मित्रश्च खारवेलः सुनीतिमान्‌ ॥२२॥

 

चाणक्य चन्द्रगुप्तौ च विक्रमः शालिवाहनः
समुद्रगुप्तः श्रीहर्षः शैलेंद्रो बप्परावलः ॥२३॥

 

लाचिद्भास्कर वर्मा च यशोधर्मा च हूणजित्‌
श्रीकृष्णदेवरायश्च ललितादित्य उद्बलः ॥२४॥

 

मुसुनूरिनायकौ तौ प्रतापः शिव भूपतिः
रणजितसिंह इत्येते वीरा विख्यात विक्रमाः ॥२५॥

 

वैज्ञानिकाश्च कपिलः कणादः शुश्रुतस्तथा
चरको भास्कराचार्यो वराहमिहिर सुधीः ॥२६॥

 

नागार्जुन भरद्वाज आर्यभट्टो वसुर्बुधः
ध्येयो वेंकट रामश्च विज्ञा रामानुजायः ॥२७॥

 

रामकृष्णो दयानंदो रवींद्रो राममोहनः
रामतीर्थोऽरविंदश्च विवेकानंद उद्यशः ॥२८॥

 

दादाभाई गोपबंधुः टिळको गांधी रादृताः
रमणो मालवीयश्च श्री सुब्रमण्य भारती ॥२९॥

 

सुभाषः प्रणवानंदः क्रांतिवीरो विनायकः
ठक्करो भीमरावश्च फुले नारायणो गुरुः ॥३०॥

 

संघशक्ति प्रणेतारौ केशवो माधवस्तथा
स्मरणीय सदैवैते नवचैतन्यदायकाः ॥३१॥

 

अनुक्ता ये भक्ताः प्रभुचरण संसक्तहृदयाः
अविज्ञाता वीरा अधिसमरमुद्ध्वस्तरि पवः
समाजोद्धर्तारः सुहितकर विज्ञान निपुणाः
नमस्तेभ्यो भूयात्सकल सुजनेभ्यः प्रतिदिनम्‌ ॥ ३२॥

 

इदमेकात्मता स्तोत्रं श्रद्धया यः सदा पठेत्‌
स राष्ट्रधर्म निष्ठावानखंडं भारतं स्मरेत्‌ ॥३३॥

जयति पुण्य सनातन संस्कृति…जयति पुण्य भूमि भारत…
सदा सुमंगल…वंदेमातरम…..
जय श्री राम

Source: Vijay Krishna Pandey

*************************************************

These verses in Hindi written by famous poet Neearj unfold the charishma of  feeling called love!

********************

जब तक आँसू साथ रहेंगे,
मुझको याद किया जायेगा;
जहाँ प्रेम की चर्चा होगी,
मेरा नाम लिया जायेगा ।
जब भी कोई सपना टूटा,
मेरी आँख वहाँ बरसी है;
तड़पा हूँ मैं जब भी कोई,
मछ्ली पानी को तरसी है ।
गीत दर्द का पहला बेटा,
दुःख है उसका खेल खिलौना
कविता तब मीरा होगी,
जब हँस कर ज़हर पिया जायेगा ।
जहाँ प्रेम की चर्चा होगी,
मेरा नाम लिया जायेगा ।

   -By Neeraj

Neeraj: The Poet Who Talked About Love In Impressive Way!

Neeraj: The Poet Who Talks About Love In Impressive Way!

**************************************************

Pics Credit:

Pic One

Pic Two

Pic Three

Pic Four

Advertisements

When I Be Absent In This World ( Mystical Love Poem )

 

Moving Towards A Place Where Earthly Meets The Divine :-)

Moving Towards A Place Where Earthly Meets The Divine 🙂



Let’s venture out to quiet place

Where time has come to standstill
Where moments love to freeze
And at such a place
Sitting under shade of each other’s soul
Ponder about those days
When we be missing from this world
And yet life’s beauty be prevailing around
In all its majestic grandeur
And such an introspection
Would add a new dimension
In our existence
In our collective silence
Conceived as your silence merged with mine
That annihilated our beingness
And as that happened
We kept coming close
To the realm of  Absolute
Which steadily and slowly
Kept moving towards us
Silently embracing our collective silence
The separation vanished altogether
And prevailed absolute oneness
Untouched by impermanence
Gaining entry into realm
Where oneness gets wedded to totality
In light of incessant togetherness.

**********************************************

Hindi Version Of The Poem: 

एक दिन जब हम नहीं होंगे ( रहस्यवादी प्रेम कविता )

 

******************************

Information About The Picture:

The picture clicked by me  shows River Ganges  flowing through my village situated in Mirzapur District, Uttar Pradesh, India.

***************************

 

वो जो तुमसे जोड़ता एक पुल है!

वो जो तुमसे जोड़ता एक पुल है!

वो जो तुमसे जोड़ता एक पुल है!

कही न कही तेरे मेरे बीच
में एक पुल है
जिस पर से गुज़र कर मै
अक्सर पहुच जाता हूँ तुम तक

हां वो पुल दिखता नहीं है
इस यथार्थ से भरी दुनियाँ में
ठीक ही तो है कि दिखता नहीं
या फिर मैंने ठीक ही तो किया
जब मैंने इसे सच्ची दुनिया में  
दोष बाधा से बंधी नज़रो से उलझती
हर इस तरह के तिकड़मो से ऊपर रखा
और नहीं बनाया सबको दिखने वाला पुल

वो एक पुल
जिस पर से गुज़र कर मै
अक्सर पहुच जाता हूँ तुम तक

बनता या बनाता इसे दुनियाँ में
तो निश्चित था कि वो ढह जाता
छल कपट से भरी हर निगाहो से
निकलती हर एक उतरन सें
और मिट जाता वो एक सहारा भी
जो  अभी मेरे जीने की एक वजह है

वो एक पुल
जिस पर से गुज़र कर मै
यथार्थ के बीच से होता हुआ
अक्सर पहुच जाता हूँ तुम तक
हर रोज, हर एक गुजरते लम्हे में!
उस दुनियाँ में जहा कोई नही होता
सिवाय तेरे और मेरे अस्तित्व के.

For Non-Hindi Readers:

English Version Of The Same Poem

 Pics Credit:

Pic One


A Bridge Between Two Souls! (Poetry)

There exists a bridge between You and I!

There exists a bridge between You and I!

There exists a bridge between
You and I
And I travel across it
To reach to you each day.

This bridge remains invisible
In the world governed by reality
Glad that it is non-existent!
In a world marred by evil eyes
It remains invisible to naked eyes
In love with concrete images
And I did the right
By not giving it a shape
To a bridge I travel across
Each day to reach to you.

Had it been built by me
Surely it would have collapsed
Facing every passing moment
The rays of eyes dipped in
Evil and falsehood, treachery and crime,
And I would have lost something
Which sustains my earthly existence

There exists a bridge between
You and I
And I travel across it
Through the realities of visible world
To reach to you each day
In every passing moment
To arrive at a world
Where no one exists
Other than you and I.

Attention Readers:

Hindi Version Of The Same Poem

Pic Credit: 

Pic One 

चेतावनी: भारत में हिंदी में बात करना और हिंदी के बारे में बात करना खतरनाक है!

हिंदी की उपेक्षा ना करे!

हिंदी की उपेक्षा ना करे!

हिंदी दिवस है सो हिंदी के रोजमर्रा के जीवन में अधिक से अधिक प्रयोग को लेकर बहुत सारी  बाते होंगी। सरकारी तंत्र इसके प्रचार प्रसार के बारे में पहले के तरह ही ऊबाऊ तरीकें से बात करेगा। और लोग पहले ही की तरह बोर होते हुए सुनेंगे। मै सरकारी तंत्र की तरह दमघोंटू बात नहीं करूँगा। संक्षेप में उन्ही कटु अनुभव का जिक्र करूँगा जो हिंदी प्रेमी के होने के नाते मेरे हिस्से में आई.लेकिन इस लघु लेख लिखने की प्रेरणा मुझे कल तब मिली जब राधाष्टमी पर किसी ने श्री राधाजी की सुंदर चित्र के नीचे बधाई सन्देश के रूप में लिखा ” Happy birthday to you Radhaji”! 

तो यही से बात शुरू करता हूँ मै कि चलिए शुद्ध हिंदी बोलना मत सीखे। मत हिंदी में लिखे-बोले हमेशा लेकिन  हम कुछ ख़ास अवसरों पर भी क्या हिंदी में कुछ नहीं कह सकते? बहुत  सारे मौके है जहा पे हम हिंदी में अपनी भावनाए अभिव्यक्त कर सकते है तो वहा ऐसा करने में हम क्यों चूक जाते है? नातीज़ा इसका ये हुआ है कि अँगरेज़ भी असहज हो जाएगा भारत में आकर काले अंग्रेजो के बीच. कितने तकलीफ की बात है कि हम गलत अंग्रेजी में गिटपिट करने को अपनी ऊँची नाक की निशानी समझते है, अपने आधुनिक होने का दंभ भरते है लेकिन शुद्ध हिंदी में बात करके अपने अन्दर शर्मिन्दगी के भाव को उत्पन्न कर देते है. 

उससे भी घातक है ये बात कि जहा आपने हिंदी को उसका सम्मान दिलाने की बात की वोही पे आपसे लोग लड़ने को आतुर हो जायेंगे। मुझे याद आता है इन्स्टाब्लाग्स (Instablogs) पर अपना इसी भाव को ध्यान में रखकर वर्षो पहले लिखा गया लेख. उस मेरे बहुत निष्कपट इरादों से लिखे गए लेख पर भयानक बहस हुई जो मेरे लिए अप्रत्याशित सी घटना थी, इस प्रतिक्रिया के लिए मै बिलकुल तैयार नहीं था और उस वेबसाइट पर सबसे लम्बी बहसों में से एक में अधिकतर बातें हिंदी विरोधी रूख से लबरेज़ थी. मुझे कहना पड़ा वहा कि शायद भारत ही एक ऐसा देश होगा पूरे विश्व में जहा के लोग अपने संस्कृति और भाषा के बारे में इस तरह की दोयम राय रखते है.

हिंदी में बात करने से हम छोटे नहीं हो जायेंगे !

हिंदी में बात करने से हम छोटे नहीं हो जायेंगे !

चलते चलते कुछ एक हादसे भी सुने जो मेरे साथ हुए जो आप गौर करे कितने विचित्र तत्त्वों से भरा है. नई  दिल्ली स्थित किसी एक प्रसिद्ध संस्था जो पर्यावरण बचाओ मुहिम में संलग्न है ने चंदे के लिए मुझे फ़ोन किया. काल अंग्रेजी में थी पर जाने क्या सोचकर मैंने हिंदी में प्रतिउत्तर दिया। इसके पहले उधर से वे सज्जन मेरे पर्यावरण प्रेम की तारीफ में बहुत कुछ कह चुके थें. खैर जैसे ही हिंदी में मैंने कुछ कहना शुरू किया फ़ोन कट गया इस सन्देश के साथ कि आपसे हिंदी में बात करने के लिए अभी दुबारा फ़ोन आएगा पर फ़ोन नहीं आया. 

हिंदी दिवस पर दीनदयाल शर्मा लिखित छोटी सी बाल कविता पढ़े जो मुझे अन्दर तक गुदगुदा गयी: अभी कुछ दिनों पहले ही पढ़ी तब से मुस्कराहट है कि जाने का नाम ही नहीं लेती।

“अकड़-अकड़ कर
क्यों चलते हो 
चूहे चिंटूराम,
ग़र बिल्ली ने 
देख लिया तो 

करेगी काम तमाम,

चूहा मुक्का तान कर बोला
नहीं डरूंगा दादी
मेरी भी अब हो गई है
इक बिल्ली से शादी।”

ये सही बात है!

ये सही बात है !

पिक्स क्रेडिट:

Pic One 

Pic Two 

Pic Three 

कवि और कविताये: समय से परे होकर भी यथार्थ में नए आयाम जोड़ जाते है!

अदम गोंडवी: सही मायनों में जनकवि

अदम गोंडवी: सही मायनों में जनकवि

कविताओ में बहुत ताकत होती है विचारो के प्रवाह को मोड़ने की, उनको एक नया रूख देने की। ये अलग बात है कि कवि और कविताओ की आज के भौतिकप्रधान समाज में कोई ख़ास अहमियत नहीं, इनकी कोई ख़ास “प्रैक्टिकल” उपयोगिता नहीं। लेकिन उससे भी बड़ा सच ये है कि कविताओ की प्रासंगिकता सदा ही जवान रहेंगी। कवियों को समाज नकार दे लेकिन उनके अस्तित्व की सार्थकता को नकारना समाज के बूते के बस की बात नहीं। उसकी एक बड़ी वजह ये है कि कवि और कविताएं इस क्षणभंगुर संसार और पारलौकिक सत्ता के बीच एक सेतु का काम करते है। ये समाज के विषमताओ के बीच छुपे उन जीवनमयी तत्वो को खोज निकालते जो सामान्य आँखों में कभी नहीं उभरती। इसी वजह से कम से कम मुझे तो बहुत तकलीफ होती है जब कविताओ और कवियों को समाज हेय दृष्टि से देखता है या उपयोगितावादी दृष्टिकोण से इन्हें किसी काम का नहीं मानता। खैर इसे कुदरत का न्याय कहिये कि उपेक्षा की मौत मरने वाले कवि और लेखक भले असमय ही इस संसार को छोड़ कर चले जाते हो उनके शब्द अमर होकर धरा पे रह जाते है। उनके शब्द समय के प्रवाह को मोड़कर नया रास्ता बनाते रहते है। मोटरगाडी में सफ़र करने वाले तो गुमनाम हो जाते है लेकिन जीवन भर गुमनामी और उपेक्षा सहने वाले कवि/लेखक अमर हो जाते है। उनकी आभा धरा पे हमेशा के लिए व्याप्त हो जाती है।

आइये कुछ ऐसी ही कविताओ को पढ़ते है जो गुज़रे वक्त के दस्तावेज सरीखे है।

*******************************************************************************

अदम गोंडवी की ये कविता मजदूरों के अहमियत को पाठक के मष्तिष्क पटल पर वास्तविक रूप से उकेरती है । उनके यथार्थ को यथावत आपके सामने रख देती है। २२ अक्टूबर १९४७ को गोंडा जिले के आटा गाँव में जन्मे इस क्रन्तिकारी कवि ने समय के पटल पर कुछ ऐसी रचनाये रची जो संवेदनशील ह्रदय में सकारात्मक वेदना को जन्म दे देती है। वैसे इस कविता में देश में व्याप्त दुर्दशा का भी चित्रण है लेकिन प्राम्भिक पंक्तिया मजदूर पर आधारित है जिसको पढ़कर मुझे रामधारी सिंह “दिनकर” जी की ये पंक्तिया स्मरण हो आई:

‘‘मैं मजदूर हूँ मुझे देवों की बस्ती से क्या!, अगणित बार धरा पर मैंने स्वर्ग बनाये,
अम्बर पर जितने तारे उतने वर्षों से, मेरे पुरखों ने धरती का रूप सवारा’’

***********************************

वो जिसके हाथ में छाले हैं पैरों में बिवाई है
उसी के दम से रौनक आपके बंगले में आई है

इधर एक दिन की आमदनी का औसत है चवन्नी का
उधर लाखों में गांधी जी के चेलों की कमाई है

कोई भी सिरफिरा धमका के जब चाहे जिना कर ले
हमारा मुल्क इस माने में बुधुआ की लुगाई है

रोटी कितनी महँगी है ये वो औरत बताएगी
जिसने जिस्म गिरवी रख के ये क़ीमत चुकाई है

 -अदम गोंडवी

*****************************************

बशीर बद्र ने वैसे तो जीवन के कई रंगों का जिक्र किया लेकिन रूमानियत के रंग में डूबी इनकी ग़ज़लों को जगजीत सिंह ने स्वर देकर एक नयी ऊंचाई दे दी।ये ग़ज़ल मैंने पहल पहल जगजीत सिंह की आवाज़ में सुनी जिसे बहुत ही सधे स्वर में जगजीत जी ने गाया है। और अब पढने के बाद बहुत भीतर तक उतर गयी बशीर साहब की ये ग़ज़ल।

*************************

सर झुकाओगे तो पत्थर देवता हो जाएगा
इतना मत चाहो उसे, वो बेवफ़ा हो जाएगा

हम भी दरिया हैं, हमें अपना हुनर मालूम है
जिस तरफ भी चल पड़ेंगे, रास्ता हो जाएगा

कितनी सच्चाई से मुझ से ज़िन्दगी ने कह दिया
तू नहीं मेरा, तो कोई दूसरा हो जाएगा

मैं ख़ुदा का नाम लेकर पी रहा हूँ दोस्तो
ज़हर भी इसमें अगर होगा, दवा हो जाएगा

सब उसी के हैं हवा, ख़ुश्बू, ज़मीनो-आसमाँ
मैं जहाँ भी जाऊँगा, उसको पता हो जाएगा

बशीर बद्र

*******************

रमाकांत दूबे जी का नाम शायद लोगो ने कम सुना हो लेकिन इनके द्वारा ग्रामीण लोक में बसी आत्मा में रची ये कविताये कही भी पढ़ी जाई अपना असर दिखा जाती है। ३० अक्टूबर १९१७ को जन्मे इस कवि ने अपनी जड़ो का कभी नहीं छोड़ा और आज़ादी से पहले और आज़ादी के बहुत बाद तक जो भी समय ने दिखाया उसे वैसा ही शब्दों में रच डाला। यकीन मानिए इन पंक्तियों को २०१३ में पढ़ते हुए ऐसा कभी नहीं लगा कि इनको चालीस साल पहले रचा गया होगा। इसकी प्रासंगिकता की अमरता पर हैरानी सी हो रही है। यूँ आभास हो रहा है किसी ने चालीस साल पहले ही २०१३ में क्या व्याप्त होगा ये देख लिया था। इसीलिए तो  मुझे  ये कहने में कोई संकोच नहीं कि कवि संसार में रहते हुएं भी संसारी ना होकर समय से परे रहने वाला एक विलक्षण जीव होता है।

******************************

खाके किरिया समाजवाद के खानदानी हुकूमत चले
जैसे मस्ती में हाथी सामंती निरंकुश झूमत चले
खाके गोली गिरल परजातंतर कि मुसकिल इलाज़ हो गइल
चढ़के छाती पे केहू राजरानी, त केहू जुवराज हो गइल

– रमाकांत दूबे

***********************************

अदम गोंडवी: जो उलझ कर रह गयी है फाइलों के जाल में गाँव तक वह रौशनी आएगी कितने साल में

अदम गोंडवी: जो उलझ कर रह गयी है फाइलों के जाल में गाँव तक वह रौशनी आएगी कितने साल में!


कुछ अच्छी कवितायेँ आप यहाँ पढ़ सकते है: कविता कोष 

Pic Credit: 

Pic One 

 

Meeting The Giants In World Of Writing: My Precious Moments With Ruskin Bond And Gulzar

Ruskin Bond: From His Writings I Learnt The Art Of Writing Simply!

Ruskin Bond: From His Writings I Learnt The Art Of Writing Simply!



The world of writing is marred by strange twists and turns. It’s never easy for a writer, whether established or novice, to keep pace with time in an easy-going manner in world dominated by materialistic principles, which treats nurturing aesthetic pleasures as some sort of waste of time. When selling rose becomes more worthwhile task than to appreciate its scent, it’s quite certain that one would not gain much by falling in love with creative pursuits. I faced extremely tough conditions with humiliating episodes taking place quite frequently, but I always tried not to take them to heart, remembering that great writers of previous eras also received similar treatment. Pain and humiliation do not break a writer ( unless destiny has predestined such a fate) but make him gain more insights, not available to ordinary mortals. The other thing that really kept me going ahead with ease despite huge setbacks was constant support of extremely talented souls, who appeared at various stages of my life as friends and colleagues. Apart from them, I feel really privileged that I also got an opportunity to spent some precious moments with towering figures in world of literature. These very special moments still keep me spirited and cheerful in depressing times even as memories related with those meetings have been clouded by the affairs of time.

I met Ruskin Bond and Gulzar at a time when my bonhomie with the writing world was gaining depth. However, after meeting them, I became certain that being a writer was no crime! I always met people who stupidly asked me( and thereby revealing the actual worth of their grey cells) about my work sphere even as I told them that I write! ” It’s okay that you write but what work you do?” That’s the sort of queries which always chased me. Thank God such queries today neither appear nor they have any relevance left in my life. The sight of Gulzar and Ruskin had left me spellbound, although I had met them separately, but exhibition of feelings remained the same.

I became the fan of Ruskin Bond at the very moment when in one of the boring literature classes of my school, I first came to read his story “The Eyes Have It”. The intensity of emotions expressed in this story fascinated my young heart to great extent. Though my class teacher, the other school mates and the old-fashioned academic standards, compelled me to anticipate the story in a given way, I came to visualize many other things as I read this story. And that’s why I met Ruskin Bond not only as reader but also as a writer! It’s the writings of Ruskin which taught me that how you say is equally important as what you come to say! However, the greatest lesson Ruskin taught me was that great writing is simple writing! Never use bundle of complicated expressions, which make a reader be involved more in picking up a dictionary than being lost in the content of the post! It’s one of the reasons why I avoid reading Arundhati Roy unless I have to sleep early!

The impressions left by Ruskin can also be traced in my being!

The impressions left by Ruskin can also be traced in my being!

Ruskin Bond, the Sahitya Akademi and Padma Shri awards winner, visited Allahabad, circa 2003. He had come here to attend promotional event organised by a leading publisher Rupa & Co. I wasn’t prepared for this meeting, but the moment I heard news of his arrival, I got prepared my manuscript related with my first unpublished anthology- The Petals Of Life.  When I met him, I saw him surrounded by his well-wishers. I waited for my turn, and fortunately when my turn came he had some spare moments. He gave a fabulous smile when I introduced myself as a writer and informed him about my literary pursuits. When I handed him my poems, he seemed to be very pleased by this gesture. He patted my back and asked me to keep writing. Though he was tired but he still obliged me by giving me his autograph at number of places. Our conversations lasted for few minutes but the undercurrents still remain alive. And so I refuse to leave the company of pen!

Gulzar- the Oscar Award winner lyricist-also visited Allahabad, at the invitation of same publisher, during the same period. My meeting with him was once again a hurried affair than a pre-planned affair. When I reached the place where he was about to arrive after couple of hours, I was apprehensive about the meeting. However, call it my luck, despite presence of huge crowd, I created space for my meeting with this amazing man. It was hard for my eyes to acknowledge the fact that maker of landmark movies like Aandhi, Ijaazat, Kitaab, Parichay and Achanak, to name a few, was sitting right before my eyes. Like always, this time, too, he was clad in white kurta-pajama. And like always donned his lips a typical smile, which any Gulzar fan would easily recognize had he/she been noticing photographs of him quite sincerely. To be honest, I had not read enough literature penned by him but I had watched his movies and heard his songs with exceptional zeal and abnormal seriousness. And that’s why his “surrealism” permeated in my writings as well. Anyway, he remained seated in relaxed way. When I informed him about my credentials, his faced remained expressionless yet I noticed that he was pretty conscious! And as I finished saying what I had to say, he gave a very deep look at me. A stare that refused to leave me and became part of my being. I left the space after spending couple of minutes with him but as I came out of that place and headed towards my home these particular lines from this immortal song “Aknhon Mein Humne Aapke” kept appearing and disappearing within mind’s chamber-

              “नज़रे उठाई आपने तो  वक्त रुक गया

               ठहरे हुए पलो में जमाने बिताये है “

         – When you looked at me, the time stopped
         And in those moments I came to live many lives.

Many thanks to these gentlemen who appeared at a very important juncture in my life. I needed some genuine encouragement and their generosity in display of emotions proved to be a tonic for my spirit chased by uncertainties. The uncertainties remain the same but my spirit attained the required evolution and so my writings. And so I am still writing! Pervert critics remain the same and situation remains hopeless like always and yet I am above all these negative concerns. A proof that meeting such enlightened gentlemen did not go in vain.

Gulzar: I still remember that I met you!

Gulzar: I still remember that I met you!

************************

Excerpts from the story ” The Eyes Have It” :

“I wondered if I would be able to prevent her from discovering that I was blind. Provided I keep to my seat, I thought, it shouldn’t be too difficult.”

********************

“The man who had entered the compartment broke into my reverie.

‘You must be dissapointed,’ he said. ‘I’m not nearly as attractive a traveling companion as the one who just left.’

‘She was an interesting girl,’ I said. ‘Can you tell me – did she keep her hair long or short?’

‘I don’t remember,’ he said, sounding puzzled. ‘It was her eyes I noticed, not her hair. She had beautiful eyes – but they were of no use to her. She was completely blind. Didn’t you notice?’”

********************


Song: Ankhon Mein Humne Aapke..

Movie: Thodi Si Bewafai

Singers: Lata and Kishore

Lyricist: Gulzar

Music: Khayyam

Gulzar: That's The Way He Smiles!

Gulzar: That’s The Way He Smiles!

Reference:

Rupa & Co.

Penguin’s List Of Books Written By Ruskin Bond

Poems Of Gulzar-Kavita Kosh

Pics Credit:

Gulzar’s Image

Celebrating Holi, The Festival Of Colours, In League With Poetry Session and Comedy Session!

Colours Fascinate  Everybody

Colours Fascinate Everybody


The people having rendezvous with colours of Holi are in festive mood today. I don’t wish to act as spoilsport by making readers ponder over serious issues. I remember good old days of Doordarshan, when on the eve of Holi, it used to telecast late night poetry sessions, wherein poets, belonging to various parts of country, read their fun-filled poems. It’s really sad that glorious traditions have given way to cheap thrills on Doordarshan.  

Though I am not going to present fun-filled poem, it (the poem) nevertheless speaks about the festival of Holi. It sheds light on distortions that have hit the festival of Holi. This Hindi poem addresses the disturbing scenario, which prevent the masses from embracing the festive mood in right spirit. It makes chilling disclosure that people in cities and villages have given way to dangerous disputes involving bloodshed. How can these people in grip of limited perceptions would ever be able to enjoy the prevailing festive fervour? That’s the essence of this Hindi poem penned by Dr. Ganga Prasad Sharma” Gunashekhara”. He hails from Sitapur, Uttar Pradesh. I also need to thank SC Mudgal, New Delhi, a friend on one of the social networking sites, for making me read this poem.

**********************************

तारकोल, कीचड़ सने, चेहरे रूप-कुरूप.
होली में सब एक-से, रंक, भिखारी, भूप..
होली खूनी हो गई,रक्त सने हैं पाँव.
कान्हा अब आना नहीं, लौट के अपने गाँव..          
होली खूनी हो गई,रक्त सने हैं पाँव.
कान्हा अब आना नहीं, लौट के अपने गाँव..

कैसा हो यदि होलिका, सींचे जीवन- आस.
रंग-बिरंगे रूप, ले मह-मह करे मिठास..
गदराए गेहूँ खड़े , बौराए-से आम.
होली ने सब को दिए,मन-मन भर के काम..
सरसों,तीसी,चना हो,या गेहूँ के खेत.
मस्ती में लहरा उठे, होली आते देख..
जिसमें अपनापन नहीं,नहीं नेह का लेश.
ऐसे घटने से रहा ,बैर भाव या द्वेष ..

होली में फागुन फिरे, धर बासंती वेश. 
पावन पाती प्रेम की, बाँटे देश- विदेश..
फागुन की मादक हवा, उन्मादक परिवेश.
खिले गुलाबी रंग -से, केशरिया गणवेश..
बँसवारी, अमराइयाँ ,ऐसी लुटीं अशेष.
फागुन वापस जा रहा, ले अपना संदेश.

Dr. Ganga Prasad Sharma” Gunashekhara”
 

Once Upon A  Time..

Once Upon A Time..


****************

And yes, now it’s time to laugh. Enjoy two comedy clips from two different movies. Enjoy this “Mahabharata Episode” from Jaane Bhi Do Yaaro, which is a landmark movie in the genre belonging to comedy. The high standards which it came to set have until now remain unsurpassed. The “Mahabharata Episode” is such a hilarious episode in the movie that it never fails to give rise to maddening laughter. I have watched it umpteen times, but even then when I watch it for one more time I am but all smiles. For non-Hindi readers let me apprise them of the plot of this episode. It’s all about possession of dead body which due to a blunder on part of the people, originally in possession of body, got trapped in live drama show, impersonating the lady who was about to play that role. This dead body is most sought-after object by various rival groups.               
     

The bizarre methods employed by these rival groups  to get hold of this dead body, right in the middle of the live show, based on a mythological theme, is terribly rib-tickling. After all, the actors in the play thought that this lady character belonged to their group, but which in reality was a dead body in hot demand among the dangerous rival groups.They trespass the ongoing drama, as new characters, and then there is huge confusion as they come into conflict with the original characters of the play. For me this movie brings back the memories of days when Doordarshan was darling of the masses.

The Mahabharata Episode From Jaane Bhi Do Yaaro

************************

This second comedy clip is from movie” Pyar Kiye Jaa”. Two legendary actors, Om Prakash and Mehmood, have touched the pinnacle while dealing with shades of comedy. That’s comedy at its best. Neat and clean comedy with no impressions of double-meaning dialogues and cheap gestures. In this scene Mehmood, appearing as wannabe movie producer in the movie, is narrating the elements involved in making of his forthcoming horror movie to Om Prakash. Just notice the expressions on faces of both the actors as they remain deeply involved in act of mutual conversation.

The Comedy Clip  From Pyar Kiye  Jaa

Pics Credit: 

Pic One

Pic Two

Pain Is The True Vitalizer Of My Soul!

Pain Serving As Panacea!

Pain Serving As Panacea!

Listen my beloved 
Love is never put on scale

In love do you measure the 
Worth of emotions, desires and wishes?

Why do you wish to heal the pain
Emanating from injuries you fail to see?

Pain which nature wants to heal
Shall always get healed

And sometimes unhealed injuries 
Refine the soul further 

Or let them remain unhealed 
Floating in the ocean of heart as insoluble capsules of pain!

It’s an unbearable dishonesty on your part my beloved
An act unfair to dilute the pain simmering inside

Listen I have learnt lessons
To move from one pain to another 

In the company of light 
It’s time for you my beloved to touch new horizons 

And leave me far behind 
To walk all alone on the isolated path 

For I have also learnt 
How to remain alive with no trace of life inside!

When Ways Get Separated!

When Ways Get Separated!


The same poem in Hindi with a slight  modification in style and treatment.

*****************************

सुन मेरे मीत: तू कुछ जख्मो को हरा ही रहने दे! 

**********************************

जो इश्क करते है वो 
इश्क को तराजू में नहीं तौलते 

अरमानो, ख्वाहिशों, जस्बातो 
का लेखा जोखा कैसा मीत!

जो जख्म दीखते नहीं उन 
पर मरहम लगाना कैसा? 

जिन जख्मो को भरना होता है 
वो अपने आप ही भर जाते है 

या वक़्त के साए में ढलकर 
रूह को थोडा और निखार जाते है 

या नासूर बनते है 
तो नासूर ही बन जाने दें?

सो लिहाज़ा तेरा तडपना, आज़माना 
अब बेमानी सा लगता है 

कि एक जख्म से दूसरे जख्म तक 
का फासला तय करना हमने सीख लिया है

सो बेहतर है कि तू आगे बढ़ चल 
रौशनी के कारवां संग 

और छोड़ दे पीछे मुझे 
अजनबी सी राहो पे तन्हा चलते रहने को  

कि अब मर के भी हमने
जीते सा दीखते रहने का हुनर सीख लिया है।

*******************

Trying  To Be On A Different  Path But Like Always All Alone!

Trying To Be On A Different Path But Like Always All Alone!

Pics Credit:
 

Pic Two

Pic Three

 

फगुआ की बयार मे भीगा भीगा सा मन, जरा जरा सा बहकता हुआ, जरा जरा सा सरकता हुआ

जय राधे! बरसाने की लट्ठमार होली ..महिला शशक्तिकरण वालो के लिए :P

जय राधे! बरसाने की लट्ठमार होली ..महिला शशक्तिकरण वालो के लिए 😛


बसंत ऋतू का आगमन हो चुका है। बहकना स्वाभाविक है। गाँव में तो फगुआ की बयार बहती है। ग्लोबल संस्कृति से सजी संवरी शहरी सभ्यता में क्या होलियाना रंग, क्या दीपावली के दियो की ल़ौ की चमक। दोनों पे कृत्रिमता की चादर चढ़ चुकी है। या तो समय का रोना है या फिर महँगाई का हवाला या फिर जैसे तैसे निपटा कर फिर से घरेलु कार्यो/आफिस के कामकाज में जुट जाने की धुन। त्यौहार कब आते है कब चले जाते है पता भी नहीं चलता। ये बड़ी बिडम्बना है कि त्यौहार सब के लिए दौड़ती भागती जिंदगी में टीवी सीरियल में आने वाले दो मिनट के ब्रेक जैसे हो गए है। सब के लिए त्यौहार के मायने ही बदल गए है। अलग अलग उम्र के वर्गों के लिए त्यौहार का मतलब जुदा जुदा सा है। और मतलब अलग भले ही होता हो लेकिन उद्देश्य त्यौहार के रंग में रंगने का नहीं वरन जीवन से कुछ पल फुरसत के चुरा लेने का होता है।

इन सब से परे मुझे याद आते है कई मधुर होली के रंग। वो लखनऊ की पहली होली जिसमे कमीने तिवारी ने मेरी मासुमियत का नाजायज़ फायदा  उठाते हुए और लखनऊ की तहजीब की चिंदी चिंदी करते हुए मुझे रंग भरे टैंक में धक्का देकर गिरा दिया था। बहुत देर के बाद एक गीत उस तिवारी के लायक बजा है हर दोस्त कमीना होता है। तिवारी का नाम इस लिस्ट में पहले है। ये इतना मनहूस रहा है शनिचर की तरह कि हर अनुभव इसके साथ बुरा ही रहा है। बताइए बैंक के कैम्पस के अन्दर छुट्टी वाले दिन बैंक की चारदीवारी फांद कर हर्बेरिअम फाइल के लिए फूल तोड़ने का आईडिया ऐसे शैतानी दिमाग के आलावा कहा उपज सकती थी। गार्ड धर लेता तो निश्चित ही बैंक लूटने का आरोप लग जाता। वो तो कहिये हम लोग फूल-पत्तियों सहित इतनी तेज़ी से उड़न छू हुएं कि इतनी तेज़ी से प्रेतात्माएं भी न प्रकट होके गायब होती होंगी। गाँव की होली याद आती है जिसमे गुलाल तो कम उड़ रहे थें गीली माटी ज्यादा उड़ रही थी। पानी के गुब्बारों से निशाना साधना याद आता है। सुबह से सिर्फ पानी की बाल्टी और गुब्बारा लेकर तैयार रहते थें। याद आते है वार्निश पुते चेहरे, बिना भांग के गोले के ही बहकते मित्र, गुजिया पे पैनी नज़र। ये सब बहुत याद आता है। अपने मन को धन्यवाद देता हूँ कि मष्तिष्क का अन्दर इन यादो के रंग अभी भी ताज़े है।

स्मृतियाँ तकलीफ भी देती है और आनंद भी। इन्ही स्मृतियों में भींगकर पाठको को होली से जुड़े कुछ विशुद्ध शास्त्रीय संगीत पे आधारित ठुमरी/गीत जिनमे अपने प्यारे राधा और कन्हैय्या के होली का वर्णन है को सुनवा रहा हूँ। ये अलग बात है कि मेरे मित्रो के श्रेणी में इन गीतों को सुनने के संस्कार अभी ना जगे हो लेकिन  इन्हें स्थापित उस्तादों ने  इतना डूब कर गाया  है कि अन्दर रस की धार फूट पड़ती है। कुछ एक गीत चलचित्र से भी है, अन्य भाषा के भी है भोजपुरी सहित। इन्हें जैसे तैसे आप सुन लें अगर एक बार भी तो मुझे यकीन है कि संवेदनशील ह्रदय इनसे आसानी से तादात्म्य कर लेंगे हमेशा के लिए। और इसके बाद भी यदि शुष्क ह्रदय रस में ना भीग सके तो उनके लिए जगजीत सिंह का भंगड़ा आधारित गीत भी है। सुने जरूर। ह्रदय हर्ष के हिलोरों से हिल जाएगा।

गुजिया कम झोरते है तो क्या हुआ पैनी नज़र हमेशा रहती है इस पर :-)

गुजिया कम झोरते है तो क्या हुआ पैनी नज़र हमेशा रहती है इस पर 🙂

***************************

1. रंग डारूंगी,  डारूंगी, रंग  डारूंगी नन्द के लालन पे (पंडित छन्नूलाल मिश्र)

पंडितजी को सुनने का मतलब है आत्मा में आनंद के सागर को न्योता देने का सरीखा सा है। बनारस की शान पंडितजी से आप चाहे ठुमरी गवा लीजिये, कजरी गवा लीजिये, या ख्याल वो सीधे आपके रूह पे काबिज हो जाता है। ये किसी परिचय के मोहताज़ नहीं और ईश्वर की कृपा रही है कि प्रयाग की भूमि पर इनको साक्षात सुनने का मौका मिला है। ख़ास बात ये रहती है कि ये गीत के बीच में आपको मधुरतम तरीकें से आपको कुछ न कुछ बताते चलते है। और इस तरीके से बताते है कि आप सुनने को विवश हो जाते है। खैर इस बनारसी अंग में राधा जी ने अच्छी खबर ली है कृष्ण की। मुझे नारी बनाया सो लो अब आप नाचो मेरे संग स्त्री बन के। सुने कृष्ण का स्त्री रूप में अद्भुत रूपांतरण राधाजी के द्वारा होली के अवसर पर।

 
 
 
  2. होली खेलो मोसे नंदलाल 
  
डॉ गिरिजा देवी भी बनारस घराने से सम्बन्ध रखने वाली प्रख्यात शास्त्रीय गायिका है। इनको सुनना भी आत्मा के ऊपर से बोझ हटाने सरीखा है। सुने तो समझ में आएगा कि राधाजी किस तरह से कृष्ण को भिगोने के लिए व्याकुल है कि आग्रह लगभग मनौती सरीखा बन गया है।
 
 
3. होरी खेलन कैसे जाऊं ओ री गुइयाँ 
 
शोभा गुर्टू को मैंने बहुत सुना है और जितनी बार भी सुनता हो तो लगता है कि एक बार और सुन लूँ। हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीत में पारंगत इस गायिका को ठुमरी क्वीन भी कहते है। इनको फिल्मो में भी सुनना बहुत मधुर अनुभव है। “सैय्या रूठ गए” (मै तुलसी तेरे आँगन की) आप सुनिए तो आपको समझ में आएगा। वैसे इस मिश्र पीलू पे आधारित ठुमरी में राधा की उलझन दूसरी है। यहाँ प्यारी राधा उलझन में है कि होली खेलने कैसे जाऊं क्योकि कृष्ण सामने रास्ता छेंक कर खड़े है। इसी झुंझलाहट का चाशनी में भीगा वर्णन है। 
 
 
4. कौन तरह से तुम खेलत होली

संध्या मुखर्जी को मैंने पहले नहीं सुना। इस लेख को लिखने के दौरान इनको सुनने का सौभाग्य मिला। बंगाली संगीत में निपुण इस गायिका की आवाज़ मन में घर कर गयी। उस्ताद बड़े ग़ुलाम अली खान की शिष्या बंगाली फिल्मो सहित हिंदी फिल्मो के लिए भी गीत गाये। इस शास्त्रीय गीत को सुनने के बाद आपको राधाजी का किसी बात पे रूठना याद आता है। कोई शिकायत जो अभिव्यक्त होने से रह गयी उसी की खीज इस गीत में प्रकट हो रही है।  दर्द है तो प्रकट होगा ही। इसमें कौन से बड़ी बात है लेकिन ये क्या कि आप फगुआ की बयार में बहने से इन्कार कर दे? शिकायत दूर कर के होली जरूर खेले मै तो बस यही कहूँगा। 


 
5. होली खेलेछे श्याम कुञ्ज 
     
पंडित अजोय चक्रबोर्ती को सुना है शास्त्रीय संगीत को सुनते वक्त और तभी से जब कभी मौका मिलता है सुन जरूर लेता हूँ। इनकी ठहराव भरी आवाज़ मन के किसी कोने में अटक कर रह गयी है। ख्याल गायन हो या ध्रुपद या भजन गायिकी हो सब पे लगभग बराबर सा अधिकार रखते है। राष्ट्रपति पुरस्कार से सम्मानित इस गायक ने बंगाल के बाहर भी अपनी आवाज़ का जादू बिखेरा है। इतना मीठे तरीक़े से कृष्ण के होली खेलने का वर्णन किया है कि बंगाली भाषा में होने के बावजूद इसका भाव ह्रदय के तार झंकृत कर गया।

 
 
6. अरी जा रे हट नटखट    
  होली पे मुझे तो वैसे अक्सर ये गीत “होली आई रे कन्हाई” (मदर इंडिया) याद आ जाता है लेकिन ये गीत कम बजता है। बहुत मधुर गीत है। व्ही शांताराम के फिल्मो के ये विशेषता रही है कि भारतीयता के सुंदर पक्षों को उन्होंने बड़े कलात्मक तरीके से उकेरा है हम सभी के चित्तो पर। नवरंग के सभी गीत बेहद सुंदर है जैसे “श्यामल श्यामल वरन” और “आधा है चन्द्रमा रात आधी” लेकिन कृष्ण और राधा के होली प्रसंग पर आधारित गीत कालजयी बन गया। कौन कहता है कि भारतीय स्त्री बोल्ड नहीं रही? देखिये क्या कह रही है राधा इसमें जिसको जीवंत कर दिया संध्या के सधे हुए नृत्य की भाव भंगिमाओ ने। महेंद्र कपूर और आशा भोंसले ने गीत में स्वर दिया है। संगीत सी रामचंद्र का है और गीत हिंदी गीतों को शुद्ध हिंदी के शब्द देने वाले भरत व्यास का लिखा है। 

 
7. प्यार के रंग में सैय्या रंग दे मोरी चुनरिया 
 
दुर्गेश नंदिनी 1956 में प्रदर्शित हुई थी। बंगाली जगत में इसी नाम से बंकिम चन्द्र चट्टोपाध्याय का प्रमुख बंगाली उपन्यास है। वैसे इस फिल्म के ये गीत “कहा ले चले हो बता दो ए मुसाफिर” तो बहुत बार सुना है लेकिन ये मधुर होली गीत लताजी की आवाज में कम सुना गया है। हेमंत कुमार का सौम्यता से परिपूर्ण संगीत है और राजिंदर क्रिशन का गीत है।
 
8. जोगी रे धीरे धीरे

नदिया के पार ने ऐतहासिक सफलता प्राप्त की थी भोजपुरी में होने के बावजूद। रविन्द्र जैन का गीत और संगीत मील का पत्थर बन गया। और यही से भोजपुरी संगीत ने एक नयी उंचाई प्राप्त की लेकिन ये अलग बात है उस मूल तत्त्व से भटक गया जिसके दर्शन इस फिल्मो के गीतों में हुए है।  भारतीय फिल्मो  में गाँव कभी भी असल तरीके से प्रकट नहीं हुआ। ये कुछ उन विलक्षण फिल्मो में से एक है जिसमे गाँव ने अपनी आत्मा को प्रकट किया है अपने कई मूल तत्वों के साथ।

 
9. कौन दिशा में लेके चला रे बटुहिया

 

 इस गीत को सिर्फ इसलिए सुनवा रहा हूँ कि इस गीत में मेरे गाँव का स्वरूप बिलकुल यथावत तरीकें से प्रस्तुतीकरण हुआ है। इस में दीखते रास्ते, पगडण्डीयाँ, खेत, नदी बिलकुल अपने गाँव सरीखा है। गीत के बीच में आपको पालकी पे विदा होती दुल्हन भी दिख जायेगी। क्योकि पालकी पे सवार होकर कभी दुल्हन को विदा होते हुए होते देखा था सो इस युग में जहाँ पे सजी धजी कार में दुल्हन को  भेज़ने की नौटंकी होती है वहां ये दृश्य आपको बिलकुल भावविभोर कर देता है। खैर गीत सुने जो बहुत मधुर है ऐसा शायद बताने की जरुरत ना पड़े। ये बताने की जरुरत अवश्य पड़ सकती है कि गीत को गाया  है हेमलता और जसपाल सिंह नें। 

 
10. गोरिया चाँद के अजोरिया 

 

मनोज तिवारी की आवाज में ये भोजपुरी गीत मन को भाता है। ये अलग बात है कि गीत को भोजपुरी गीतों में व्याप्त लटको झटको जैसा ही फिल्माया गया है। वही रंग बिरंगी परिधानों में कूदती फांदती स्त्रिया जो गीत के साथ न्याय नहीं करती प्रतीत होती। फिर भी हरे भरे  खेत मन में उमंग को जगह तो दे हे देते है। भाग्यश्री “मैंने प्यार किया” के बाद लगभग गायब ही हो गयी। मैंने प्यार किया जैसी वाहियात फ़िल्म मैंने देखी नहीं सो बता नहीं सकता कि ये टैलेंटेड है कि नहीं लेकिन जहा तक इस गीत की बात है गीत में इनकी उपस्थिति से चार चाँद तो लग ही रहे है लुक्स की वजह सें। खैर इतने दिनों बाद देखना इस एक्ट्रेस को और वो भी एक भोजपुरी गीत में एक सुखद आश्चर्य है।

 
11. लारा लप्पा ( जगजीत सिंह)

लारा लप्पा “एक थी लड़की” से बहुत ही सुंदर गीत है। इसी के खोज में ये जगजीत सिंह का ये पंजाबी गीत हाथ लग गया। इसको जगजीत सिंह ने जिस चिरपरिचित दिलकश अंदाज़ में गाया है उतने ही कमाल के तरीकें से इनके साजिंदों ने बजाया है। निश्चित ही सुनने योग्य गीत अगर आप चाहते है कि आप का दिल बल्ले बल्ले करने पे मजबूर हो उठें। वैसे इस गीत के शुरू में मजनू ने अपनी लैला को काली कहने वालो की दृष्टि को गरियाया है सभ्य तर्कों के साथ वो भी सुन लें। हम तो भाई मजनू से बस इतना ही कहेंगे कि जो बकते है उनको बकने दो काहे कि “यथा दृष्टि तथा सृष्टि” ( जैसी हमारी दृष्टि होती है, वैसी ही यह सृष्टि हमें दिखती है)

राधा कृष्ण के प्रेम की याद दिलाता होली। उनके सखा सखियों, उनके गौओं, बछड़ो सबकी याद दिलाता :-)

राधा कृष्ण के प्रेम की याद दिलाता होली। उनके सखा सखियों, उनके गौओं, बछड़ो सबकी याद दिलाता 🙂

Pics Credit:

Pic One 

Pic Two 

Pic Three

The great Rudolf Steiner Quotes Site

Quotes and fragments from the work of the great visionary, thinker and reformer Rudolf Steiner

Bhavanajagat

Welcome to Noble Thoughts from All Directions to promote the well-being of man and to know the purpose in Life.

Serendipity

Was I born a masochist or did society make me this way? I demand unconditional love and complete freedom. That is why I am terrible.

John SterVens' Tales

Thee Life, Thee Heart, Thee Tears

Indowaves's Blog

Just another WordPress.com weblog

Una voce nonostante tutto

Ognuno ha il diritto di immaginarsi fuori dagli schemi

Personal Concerns

My Thoughts and Views Frankly Expressed

the wuc

a broth of thoughts, stories, wucs and wit.

A Little Bit of Monica

My take on international politics, travel, and history...

Atlas of Mind

Its all about Human Mind & Behavior..

Peru En Route

Tips to travel around Perú.

Health & Family

A healthy balance of the mind, body and spirit

मानसिक हलचल

ज्ञानदत्त पाण्डेय का हिन्दी ब्लॉग। मैं गाँव विक्रमपुर, जिला भदोही, उत्तरप्रदेश, भारत में रह कर ग्रामीण जीवन जानने का प्रयास कर रहा हूँ। ज़ोनल रेलवे के विभागाध्यक्ष के पद से रिटायर रेलवे अफसर।

Monoton+Minimal

travel adventures

Stand up for your rights

Gender biased laws

The Bach

Me, my scribbles and my ego

Tuesdays with Laurie

"Whatever you are not changing, you are choosing." —Laurie Buchanan

The Courage 2 Create

This is the story of me writing my first novel...and how life keeps getting in the way.