Category Archives: Humour

Ship Of Theseus: Moving Swiftly In The Ocean Of Perspectives (Movie Review)

Ship Of Theseus: A Nice Take On Perspectives!

Ship Of Theseus: A Nice Take On Perspectives!


I curiously awaited the screening of the movie Ship of Theseus, which had managed to elicit great remarks from leading directors of Indian cinema landscape. The film festival in Allahabad, organised by Dainik Jagran, provided me an opportunity to watch this movie. In eyes of Shekhar Kapoor, the movie marked the arrival of “a brilliant new filmmaker” while Shyam Benegal could not resist himself from stating that it’s a “rare film that engages your mind, emotions and senses in equal measure providing the viewer a cinematic experience that is both hugely entertaining and stimulating”. The movie was inspired from the dilemma whether or not the object remains  same if its components undergo total replacement. In this movie the promising young director, Anand Gandhi, has interconnected three different short stories, each dealing with a different issue, but underlying theme remains the same. The first one dealt with visually impaired photographer, who lost her intuitive ability to capture striking images after a successful cornea transplant operation. The second story depicted an ailing monk, questioning life and death via his ongoing fight for rights of animals meant for conducting experiments during preparation of medicines. The third and the final story highlighted corrupt practices prevalent in medical world, wherein a stockbroker tries to place in dock persons involved in organ trade racket.

I am not the sort of person to go entirely by the rave reviews by big names from the world of cinema. In fact, even the sentiments of well-known directors fail to impress me. “Seeing is believing” has always been the principle which defined my approach, especially while anticipating the worth of a movie. And thus, contrary to the general consensus, I found the acting of  Aida El-Kashef ( Aliya in movie as visually impaired photographer) and Farza Khan (Aliya’s live-in-boyfriend in the movie) absolutely horrible. The exhibition of emotions was synthetic and loud. Great movies do not begin that way. The agony that should have hit her, in the aftermath of loss of her intuitive abilities, never got reflected in her mannerism. The saving grace came in the form of crispy thought provoking dialogues: “Does reality exist when no one is looking?” It’s the deep concerns which the characters portray compensates the poor acting.


The movie gained substance with the arrival of crazy monk Maitreya (Neeraj Kabi). Not only humour element got elevated but even the thematic shortcomings got balanced due to superb acting skills demonstrated by Neeraj Kabi and Vinay Shukla ( Carvaka in the movie). This part of the movie successfully conveyed that contradictions rules the lives and a perfect life is healthy assimilation of contradictions. A person should not be too rigid while pursuing noble cause since it comes in the way of fulfillment of goals. It might also limit one’s ability to make better choices. The rigidity displayed by Maitreya is in the eyes of Carvaka- the lawyer who believed in learning arguments of both the sides- was not very different than fundamentalism exhibited by a suicide bomber! This lawyer, follower of  Pastafarianism, induces great deal of pragmatism when he tries to create a fitting place for the contradictions. Anyway, Maitreya does impress us all when he places reasons above crude sentimentality!

Ship of Theseus: The First Story Marred By Poor Acting!

Ship of Theseus: The First Story Marred By Poor Acting!

Well, it’s crude sentimentality which always makes its presence felt in Indian movies. It’s not always the case that movies devoid of melodramatic elements manage to evoke mass attention. The average Indian cinema lover’s connection with melodrama is so intense that a director’s take on critical issue without this element is akin to self-goal in football! Anand Gandhi, at least, need to be credited for the fact that he manages to tell the story for Indians without being in awe of sentimentality! The last scene of the story showing the monk’s decision to live the life fully proves one thing quite well that healthy compromises for an elevated cause is not a bad thing. Well, the monk didn’t talk of Krishna’s Bhagvad Geeta but I feel the realization of monk is on par with view of Lord Krishna who in Bhagvad Gita stated that “every profession is world is tainted by some flaw”. So the summum bonum is: Healthy compromise should not prick the conscience!

The stockbroker’s case in the movie is pretty interesting but I need to differ from the reviews which have appeared in mainstream media and elsewhere that humour element in this part delight us. That’s not true. The humour appears as some sort of forced entry into a well structured plot. It also baffles me that reviewers have ignored some greater aspects related with this part of the movie wherein an young stockbroker trails the missing recipient of the stolen kidney! The reviewers failed to remember the heated conversation between stockbroker and his maternal grandmother, who happens to be progressive thinker, confined to ideological orientations spread in progressive literature churned out by the leftist. The impression she generates, and which irritates this guy working for American companies, is that one can pursue a noble cause only when one is in tune with such literature. The young stockbroker hits hard at her this “fallacious notion” when he tries to ensure justice for the poor labourer. The another myth which gets shattered ( and I really found it pretty interesting) is that fight for greater cause leads to its perfect attainment. Ask a real life hero and you would realize that he/she often feels cheated. The people for whom he/she comes to fight often leave their saviour in the lurch. The stockbroker wanted justice in real terms for this unfortunate labourer whose kidney got stolen for a rich foreigner ( the recipient). The labourer retracts from his promises after his petty interests get fulfilled. The protagonist has to remain contend with limited achievement.

In real life also we find that similar dilemma occurs. For instance, the moment one tries to make the purpose of education an extension of values, one has to face stiff resistance for all quarters of society, which feels that only purpose of education is to earn huge money, no matter if it means adoption of unethical means. The film does not end with a specific message but it does symbolically shows via the passage through the cave that life is full of immense possibilities, which allows nurturing of different perspectives. Hope we come to choose the one which best serves the cause of not only humanity but also our own personal causes close to heart!

The Crazy Monk Who Added New Dimensions In The Philosophical Paradoxes!

The Crazy Monk Who Added New Dimensions In The Philosophical Paradoxes!

References: 

DNA

Ship Of Theseus IMDB

Friday Times

Firstpost 

Pics Credit:

Pic One

Pic Two

Pic Three

Meeting The Giants In World Of Writing: My Precious Moments With Ruskin Bond And Gulzar

Ruskin Bond: From His Writings I Learnt The Art Of Writing Simply!

Ruskin Bond: From His Writings I Learnt The Art Of Writing Simply!



The world of writing is marred by strange twists and turns. It’s never easy for a writer, whether established or novice, to keep pace with time in an easy-going manner in world dominated by materialistic principles, which treats nurturing aesthetic pleasures as some sort of waste of time. When selling rose becomes more worthwhile task than to appreciate its scent, it’s quite certain that one would not gain much by falling in love with creative pursuits. I faced extremely tough conditions with humiliating episodes taking place quite frequently, but I always tried not to take them to heart, remembering that great writers of previous eras also received similar treatment. Pain and humiliation do not break a writer ( unless destiny has predestined such a fate) but make him gain more insights, not available to ordinary mortals. The other thing that really kept me going ahead with ease despite huge setbacks was constant support of extremely talented souls, who appeared at various stages of my life as friends and colleagues. Apart from them, I feel really privileged that I also got an opportunity to spent some precious moments with towering figures in world of literature. These very special moments still keep me spirited and cheerful in depressing times even as memories related with those meetings have been clouded by the affairs of time.

I met Ruskin Bond and Gulzar at a time when my bonhomie with the writing world was gaining depth. However, after meeting them, I became certain that being a writer was no crime! I always met people who stupidly asked me( and thereby revealing the actual worth of their grey cells) about my work sphere even as I told them that I write! ” It’s okay that you write but what work you do?” That’s the sort of queries which always chased me. Thank God such queries today neither appear nor they have any relevance left in my life. The sight of Gulzar and Ruskin had left me spellbound, although I had met them separately, but exhibition of feelings remained the same.

I became the fan of Ruskin Bond at the very moment when in one of the boring literature classes of my school, I first came to read his story “The Eyes Have It”. The intensity of emotions expressed in this story fascinated my young heart to great extent. Though my class teacher, the other school mates and the old-fashioned academic standards, compelled me to anticipate the story in a given way, I came to visualize many other things as I read this story. And that’s why I met Ruskin Bond not only as reader but also as a writer! It’s the writings of Ruskin which taught me that how you say is equally important as what you come to say! However, the greatest lesson Ruskin taught me was that great writing is simple writing! Never use bundle of complicated expressions, which make a reader be involved more in picking up a dictionary than being lost in the content of the post! It’s one of the reasons why I avoid reading Arundhati Roy unless I have to sleep early!

The impressions left by Ruskin can also be traced in my being!

The impressions left by Ruskin can also be traced in my being!

Ruskin Bond, the Sahitya Akademi and Padma Shri awards winner, visited Allahabad, circa 2003. He had come here to attend promotional event organised by a leading publisher Rupa & Co. I wasn’t prepared for this meeting, but the moment I heard news of his arrival, I got prepared my manuscript related with my first unpublished anthology- The Petals Of Life.  When I met him, I saw him surrounded by his well-wishers. I waited for my turn, and fortunately when my turn came he had some spare moments. He gave a fabulous smile when I introduced myself as a writer and informed him about my literary pursuits. When I handed him my poems, he seemed to be very pleased by this gesture. He patted my back and asked me to keep writing. Though he was tired but he still obliged me by giving me his autograph at number of places. Our conversations lasted for few minutes but the undercurrents still remain alive. And so I refuse to leave the company of pen!

Gulzar- the Oscar Award winner lyricist-also visited Allahabad, at the invitation of same publisher, during the same period. My meeting with him was once again a hurried affair than a pre-planned affair. When I reached the place where he was about to arrive after couple of hours, I was apprehensive about the meeting. However, call it my luck, despite presence of huge crowd, I created space for my meeting with this amazing man. It was hard for my eyes to acknowledge the fact that maker of landmark movies like Aandhi, Ijaazat, Kitaab, Parichay and Achanak, to name a few, was sitting right before my eyes. Like always, this time, too, he was clad in white kurta-pajama. And like always donned his lips a typical smile, which any Gulzar fan would easily recognize had he/she been noticing photographs of him quite sincerely. To be honest, I had not read enough literature penned by him but I had watched his movies and heard his songs with exceptional zeal and abnormal seriousness. And that’s why his “surrealism” permeated in my writings as well. Anyway, he remained seated in relaxed way. When I informed him about my credentials, his faced remained expressionless yet I noticed that he was pretty conscious! And as I finished saying what I had to say, he gave a very deep look at me. A stare that refused to leave me and became part of my being. I left the space after spending couple of minutes with him but as I came out of that place and headed towards my home these particular lines from this immortal song “Aknhon Mein Humne Aapke” kept appearing and disappearing within mind’s chamber-

              “नज़रे उठाई आपने तो  वक्त रुक गया

               ठहरे हुए पलो में जमाने बिताये है “

         – When you looked at me, the time stopped
         And in those moments I came to live many lives.

Many thanks to these gentlemen who appeared at a very important juncture in my life. I needed some genuine encouragement and their generosity in display of emotions proved to be a tonic for my spirit chased by uncertainties. The uncertainties remain the same but my spirit attained the required evolution and so my writings. And so I am still writing! Pervert critics remain the same and situation remains hopeless like always and yet I am above all these negative concerns. A proof that meeting such enlightened gentlemen did not go in vain.

Gulzar: I still remember that I met you!

Gulzar: I still remember that I met you!

************************

Excerpts from the story ” The Eyes Have It” :

“I wondered if I would be able to prevent her from discovering that I was blind. Provided I keep to my seat, I thought, it shouldn’t be too difficult.”

********************

“The man who had entered the compartment broke into my reverie.

‘You must be dissapointed,’ he said. ‘I’m not nearly as attractive a traveling companion as the one who just left.’

‘She was an interesting girl,’ I said. ‘Can you tell me – did she keep her hair long or short?’

‘I don’t remember,’ he said, sounding puzzled. ‘It was her eyes I noticed, not her hair. She had beautiful eyes – but they were of no use to her. She was completely blind. Didn’t you notice?’”

********************


Song: Ankhon Mein Humne Aapke..

Movie: Thodi Si Bewafai

Singers: Lata and Kishore

Lyricist: Gulzar

Music: Khayyam

Gulzar: That's The Way He Smiles!

Gulzar: That’s The Way He Smiles!

Reference:

Rupa & Co.

Penguin’s List Of Books Written By Ruskin Bond

Poems Of Gulzar-Kavita Kosh

Pics Credit:

Gulzar’s Image

Celebrating Holi, The Festival Of Colours, In League With Poetry Session and Comedy Session!

Colours Fascinate  Everybody

Colours Fascinate Everybody


The people having rendezvous with colours of Holi are in festive mood today. I don’t wish to act as spoilsport by making readers ponder over serious issues. I remember good old days of Doordarshan, when on the eve of Holi, it used to telecast late night poetry sessions, wherein poets, belonging to various parts of country, read their fun-filled poems. It’s really sad that glorious traditions have given way to cheap thrills on Doordarshan.  

Though I am not going to present fun-filled poem, it (the poem) nevertheless speaks about the festival of Holi. It sheds light on distortions that have hit the festival of Holi. This Hindi poem addresses the disturbing scenario, which prevent the masses from embracing the festive mood in right spirit. It makes chilling disclosure that people in cities and villages have given way to dangerous disputes involving bloodshed. How can these people in grip of limited perceptions would ever be able to enjoy the prevailing festive fervour? That’s the essence of this Hindi poem penned by Dr. Ganga Prasad Sharma” Gunashekhara”. He hails from Sitapur, Uttar Pradesh. I also need to thank SC Mudgal, New Delhi, a friend on one of the social networking sites, for making me read this poem.

**********************************

तारकोल, कीचड़ सने, चेहरे रूप-कुरूप.
होली में सब एक-से, रंक, भिखारी, भूप..
होली खूनी हो गई,रक्त सने हैं पाँव.
कान्हा अब आना नहीं, लौट के अपने गाँव..          
होली खूनी हो गई,रक्त सने हैं पाँव.
कान्हा अब आना नहीं, लौट के अपने गाँव..

कैसा हो यदि होलिका, सींचे जीवन- आस.
रंग-बिरंगे रूप, ले मह-मह करे मिठास..
गदराए गेहूँ खड़े , बौराए-से आम.
होली ने सब को दिए,मन-मन भर के काम..
सरसों,तीसी,चना हो,या गेहूँ के खेत.
मस्ती में लहरा उठे, होली आते देख..
जिसमें अपनापन नहीं,नहीं नेह का लेश.
ऐसे घटने से रहा ,बैर भाव या द्वेष ..

होली में फागुन फिरे, धर बासंती वेश. 
पावन पाती प्रेम की, बाँटे देश- विदेश..
फागुन की मादक हवा, उन्मादक परिवेश.
खिले गुलाबी रंग -से, केशरिया गणवेश..
बँसवारी, अमराइयाँ ,ऐसी लुटीं अशेष.
फागुन वापस जा रहा, ले अपना संदेश.

Dr. Ganga Prasad Sharma” Gunashekhara”
 

Once Upon A  Time..

Once Upon A Time..


****************

And yes, now it’s time to laugh. Enjoy two comedy clips from two different movies. Enjoy this “Mahabharata Episode” from Jaane Bhi Do Yaaro, which is a landmark movie in the genre belonging to comedy. The high standards which it came to set have until now remain unsurpassed. The “Mahabharata Episode” is such a hilarious episode in the movie that it never fails to give rise to maddening laughter. I have watched it umpteen times, but even then when I watch it for one more time I am but all smiles. For non-Hindi readers let me apprise them of the plot of this episode. It’s all about possession of dead body which due to a blunder on part of the people, originally in possession of body, got trapped in live drama show, impersonating the lady who was about to play that role. This dead body is most sought-after object by various rival groups.               
     

The bizarre methods employed by these rival groups  to get hold of this dead body, right in the middle of the live show, based on a mythological theme, is terribly rib-tickling. After all, the actors in the play thought that this lady character belonged to their group, but which in reality was a dead body in hot demand among the dangerous rival groups.They trespass the ongoing drama, as new characters, and then there is huge confusion as they come into conflict with the original characters of the play. For me this movie brings back the memories of days when Doordarshan was darling of the masses.

The Mahabharata Episode From Jaane Bhi Do Yaaro

************************

This second comedy clip is from movie” Pyar Kiye Jaa”. Two legendary actors, Om Prakash and Mehmood, have touched the pinnacle while dealing with shades of comedy. That’s comedy at its best. Neat and clean comedy with no impressions of double-meaning dialogues and cheap gestures. In this scene Mehmood, appearing as wannabe movie producer in the movie, is narrating the elements involved in making of his forthcoming horror movie to Om Prakash. Just notice the expressions on faces of both the actors as they remain deeply involved in act of mutual conversation.

The Comedy Clip  From Pyar Kiye  Jaa

Pics Credit: 

Pic One

Pic Two

फगुआ की बयार मे भीगा भीगा सा मन, जरा जरा सा बहकता हुआ, जरा जरा सा सरकता हुआ

जय राधे! बरसाने की लट्ठमार होली ..महिला शशक्तिकरण वालो के लिए :P

जय राधे! बरसाने की लट्ठमार होली ..महिला शशक्तिकरण वालो के लिए 😛


बसंत ऋतू का आगमन हो चुका है। बहकना स्वाभाविक है। गाँव में तो फगुआ की बयार बहती है। ग्लोबल संस्कृति से सजी संवरी शहरी सभ्यता में क्या होलियाना रंग, क्या दीपावली के दियो की ल़ौ की चमक। दोनों पे कृत्रिमता की चादर चढ़ चुकी है। या तो समय का रोना है या फिर महँगाई का हवाला या फिर जैसे तैसे निपटा कर फिर से घरेलु कार्यो/आफिस के कामकाज में जुट जाने की धुन। त्यौहार कब आते है कब चले जाते है पता भी नहीं चलता। ये बड़ी बिडम्बना है कि त्यौहार सब के लिए दौड़ती भागती जिंदगी में टीवी सीरियल में आने वाले दो मिनट के ब्रेक जैसे हो गए है। सब के लिए त्यौहार के मायने ही बदल गए है। अलग अलग उम्र के वर्गों के लिए त्यौहार का मतलब जुदा जुदा सा है। और मतलब अलग भले ही होता हो लेकिन उद्देश्य त्यौहार के रंग में रंगने का नहीं वरन जीवन से कुछ पल फुरसत के चुरा लेने का होता है।

इन सब से परे मुझे याद आते है कई मधुर होली के रंग। वो लखनऊ की पहली होली जिसमे कमीने तिवारी ने मेरी मासुमियत का नाजायज़ फायदा  उठाते हुए और लखनऊ की तहजीब की चिंदी चिंदी करते हुए मुझे रंग भरे टैंक में धक्का देकर गिरा दिया था। बहुत देर के बाद एक गीत उस तिवारी के लायक बजा है हर दोस्त कमीना होता है। तिवारी का नाम इस लिस्ट में पहले है। ये इतना मनहूस रहा है शनिचर की तरह कि हर अनुभव इसके साथ बुरा ही रहा है। बताइए बैंक के कैम्पस के अन्दर छुट्टी वाले दिन बैंक की चारदीवारी फांद कर हर्बेरिअम फाइल के लिए फूल तोड़ने का आईडिया ऐसे शैतानी दिमाग के आलावा कहा उपज सकती थी। गार्ड धर लेता तो निश्चित ही बैंक लूटने का आरोप लग जाता। वो तो कहिये हम लोग फूल-पत्तियों सहित इतनी तेज़ी से उड़न छू हुएं कि इतनी तेज़ी से प्रेतात्माएं भी न प्रकट होके गायब होती होंगी। गाँव की होली याद आती है जिसमे गुलाल तो कम उड़ रहे थें गीली माटी ज्यादा उड़ रही थी। पानी के गुब्बारों से निशाना साधना याद आता है। सुबह से सिर्फ पानी की बाल्टी और गुब्बारा लेकर तैयार रहते थें। याद आते है वार्निश पुते चेहरे, बिना भांग के गोले के ही बहकते मित्र, गुजिया पे पैनी नज़र। ये सब बहुत याद आता है। अपने मन को धन्यवाद देता हूँ कि मष्तिष्क का अन्दर इन यादो के रंग अभी भी ताज़े है।

स्मृतियाँ तकलीफ भी देती है और आनंद भी। इन्ही स्मृतियों में भींगकर पाठको को होली से जुड़े कुछ विशुद्ध शास्त्रीय संगीत पे आधारित ठुमरी/गीत जिनमे अपने प्यारे राधा और कन्हैय्या के होली का वर्णन है को सुनवा रहा हूँ। ये अलग बात है कि मेरे मित्रो के श्रेणी में इन गीतों को सुनने के संस्कार अभी ना जगे हो लेकिन  इन्हें स्थापित उस्तादों ने  इतना डूब कर गाया  है कि अन्दर रस की धार फूट पड़ती है। कुछ एक गीत चलचित्र से भी है, अन्य भाषा के भी है भोजपुरी सहित। इन्हें जैसे तैसे आप सुन लें अगर एक बार भी तो मुझे यकीन है कि संवेदनशील ह्रदय इनसे आसानी से तादात्म्य कर लेंगे हमेशा के लिए। और इसके बाद भी यदि शुष्क ह्रदय रस में ना भीग सके तो उनके लिए जगजीत सिंह का भंगड़ा आधारित गीत भी है। सुने जरूर। ह्रदय हर्ष के हिलोरों से हिल जाएगा।

गुजिया कम झोरते है तो क्या हुआ पैनी नज़र हमेशा रहती है इस पर :-)

गुजिया कम झोरते है तो क्या हुआ पैनी नज़र हमेशा रहती है इस पर 🙂

***************************

1. रंग डारूंगी,  डारूंगी, रंग  डारूंगी नन्द के लालन पे (पंडित छन्नूलाल मिश्र)

पंडितजी को सुनने का मतलब है आत्मा में आनंद के सागर को न्योता देने का सरीखा सा है। बनारस की शान पंडितजी से आप चाहे ठुमरी गवा लीजिये, कजरी गवा लीजिये, या ख्याल वो सीधे आपके रूह पे काबिज हो जाता है। ये किसी परिचय के मोहताज़ नहीं और ईश्वर की कृपा रही है कि प्रयाग की भूमि पर इनको साक्षात सुनने का मौका मिला है। ख़ास बात ये रहती है कि ये गीत के बीच में आपको मधुरतम तरीकें से आपको कुछ न कुछ बताते चलते है। और इस तरीके से बताते है कि आप सुनने को विवश हो जाते है। खैर इस बनारसी अंग में राधा जी ने अच्छी खबर ली है कृष्ण की। मुझे नारी बनाया सो लो अब आप नाचो मेरे संग स्त्री बन के। सुने कृष्ण का स्त्री रूप में अद्भुत रूपांतरण राधाजी के द्वारा होली के अवसर पर।

 
 
 
  2. होली खेलो मोसे नंदलाल 
  
डॉ गिरिजा देवी भी बनारस घराने से सम्बन्ध रखने वाली प्रख्यात शास्त्रीय गायिका है। इनको सुनना भी आत्मा के ऊपर से बोझ हटाने सरीखा है। सुने तो समझ में आएगा कि राधाजी किस तरह से कृष्ण को भिगोने के लिए व्याकुल है कि आग्रह लगभग मनौती सरीखा बन गया है।
 
 
3. होरी खेलन कैसे जाऊं ओ री गुइयाँ 
 
शोभा गुर्टू को मैंने बहुत सुना है और जितनी बार भी सुनता हो तो लगता है कि एक बार और सुन लूँ। हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीत में पारंगत इस गायिका को ठुमरी क्वीन भी कहते है। इनको फिल्मो में भी सुनना बहुत मधुर अनुभव है। “सैय्या रूठ गए” (मै तुलसी तेरे आँगन की) आप सुनिए तो आपको समझ में आएगा। वैसे इस मिश्र पीलू पे आधारित ठुमरी में राधा की उलझन दूसरी है। यहाँ प्यारी राधा उलझन में है कि होली खेलने कैसे जाऊं क्योकि कृष्ण सामने रास्ता छेंक कर खड़े है। इसी झुंझलाहट का चाशनी में भीगा वर्णन है। 
 
 
4. कौन तरह से तुम खेलत होली

संध्या मुखर्जी को मैंने पहले नहीं सुना। इस लेख को लिखने के दौरान इनको सुनने का सौभाग्य मिला। बंगाली संगीत में निपुण इस गायिका की आवाज़ मन में घर कर गयी। उस्ताद बड़े ग़ुलाम अली खान की शिष्या बंगाली फिल्मो सहित हिंदी फिल्मो के लिए भी गीत गाये। इस शास्त्रीय गीत को सुनने के बाद आपको राधाजी का किसी बात पे रूठना याद आता है। कोई शिकायत जो अभिव्यक्त होने से रह गयी उसी की खीज इस गीत में प्रकट हो रही है।  दर्द है तो प्रकट होगा ही। इसमें कौन से बड़ी बात है लेकिन ये क्या कि आप फगुआ की बयार में बहने से इन्कार कर दे? शिकायत दूर कर के होली जरूर खेले मै तो बस यही कहूँगा। 


 
5. होली खेलेछे श्याम कुञ्ज 
     
पंडित अजोय चक्रबोर्ती को सुना है शास्त्रीय संगीत को सुनते वक्त और तभी से जब कभी मौका मिलता है सुन जरूर लेता हूँ। इनकी ठहराव भरी आवाज़ मन के किसी कोने में अटक कर रह गयी है। ख्याल गायन हो या ध्रुपद या भजन गायिकी हो सब पे लगभग बराबर सा अधिकार रखते है। राष्ट्रपति पुरस्कार से सम्मानित इस गायक ने बंगाल के बाहर भी अपनी आवाज़ का जादू बिखेरा है। इतना मीठे तरीक़े से कृष्ण के होली खेलने का वर्णन किया है कि बंगाली भाषा में होने के बावजूद इसका भाव ह्रदय के तार झंकृत कर गया।

 
 
6. अरी जा रे हट नटखट    
  होली पे मुझे तो वैसे अक्सर ये गीत “होली आई रे कन्हाई” (मदर इंडिया) याद आ जाता है लेकिन ये गीत कम बजता है। बहुत मधुर गीत है। व्ही शांताराम के फिल्मो के ये विशेषता रही है कि भारतीयता के सुंदर पक्षों को उन्होंने बड़े कलात्मक तरीके से उकेरा है हम सभी के चित्तो पर। नवरंग के सभी गीत बेहद सुंदर है जैसे “श्यामल श्यामल वरन” और “आधा है चन्द्रमा रात आधी” लेकिन कृष्ण और राधा के होली प्रसंग पर आधारित गीत कालजयी बन गया। कौन कहता है कि भारतीय स्त्री बोल्ड नहीं रही? देखिये क्या कह रही है राधा इसमें जिसको जीवंत कर दिया संध्या के सधे हुए नृत्य की भाव भंगिमाओ ने। महेंद्र कपूर और आशा भोंसले ने गीत में स्वर दिया है। संगीत सी रामचंद्र का है और गीत हिंदी गीतों को शुद्ध हिंदी के शब्द देने वाले भरत व्यास का लिखा है। 

 
7. प्यार के रंग में सैय्या रंग दे मोरी चुनरिया 
 
दुर्गेश नंदिनी 1956 में प्रदर्शित हुई थी। बंगाली जगत में इसी नाम से बंकिम चन्द्र चट्टोपाध्याय का प्रमुख बंगाली उपन्यास है। वैसे इस फिल्म के ये गीत “कहा ले चले हो बता दो ए मुसाफिर” तो बहुत बार सुना है लेकिन ये मधुर होली गीत लताजी की आवाज में कम सुना गया है। हेमंत कुमार का सौम्यता से परिपूर्ण संगीत है और राजिंदर क्रिशन का गीत है।
 
8. जोगी रे धीरे धीरे

नदिया के पार ने ऐतहासिक सफलता प्राप्त की थी भोजपुरी में होने के बावजूद। रविन्द्र जैन का गीत और संगीत मील का पत्थर बन गया। और यही से भोजपुरी संगीत ने एक नयी उंचाई प्राप्त की लेकिन ये अलग बात है उस मूल तत्त्व से भटक गया जिसके दर्शन इस फिल्मो के गीतों में हुए है।  भारतीय फिल्मो  में गाँव कभी भी असल तरीके से प्रकट नहीं हुआ। ये कुछ उन विलक्षण फिल्मो में से एक है जिसमे गाँव ने अपनी आत्मा को प्रकट किया है अपने कई मूल तत्वों के साथ।

 
9. कौन दिशा में लेके चला रे बटुहिया

 

 इस गीत को सिर्फ इसलिए सुनवा रहा हूँ कि इस गीत में मेरे गाँव का स्वरूप बिलकुल यथावत तरीकें से प्रस्तुतीकरण हुआ है। इस में दीखते रास्ते, पगडण्डीयाँ, खेत, नदी बिलकुल अपने गाँव सरीखा है। गीत के बीच में आपको पालकी पे विदा होती दुल्हन भी दिख जायेगी। क्योकि पालकी पे सवार होकर कभी दुल्हन को विदा होते हुए होते देखा था सो इस युग में जहाँ पे सजी धजी कार में दुल्हन को  भेज़ने की नौटंकी होती है वहां ये दृश्य आपको बिलकुल भावविभोर कर देता है। खैर गीत सुने जो बहुत मधुर है ऐसा शायद बताने की जरुरत ना पड़े। ये बताने की जरुरत अवश्य पड़ सकती है कि गीत को गाया  है हेमलता और जसपाल सिंह नें। 

 
10. गोरिया चाँद के अजोरिया 

 

मनोज तिवारी की आवाज में ये भोजपुरी गीत मन को भाता है। ये अलग बात है कि गीत को भोजपुरी गीतों में व्याप्त लटको झटको जैसा ही फिल्माया गया है। वही रंग बिरंगी परिधानों में कूदती फांदती स्त्रिया जो गीत के साथ न्याय नहीं करती प्रतीत होती। फिर भी हरे भरे  खेत मन में उमंग को जगह तो दे हे देते है। भाग्यश्री “मैंने प्यार किया” के बाद लगभग गायब ही हो गयी। मैंने प्यार किया जैसी वाहियात फ़िल्म मैंने देखी नहीं सो बता नहीं सकता कि ये टैलेंटेड है कि नहीं लेकिन जहा तक इस गीत की बात है गीत में इनकी उपस्थिति से चार चाँद तो लग ही रहे है लुक्स की वजह सें। खैर इतने दिनों बाद देखना इस एक्ट्रेस को और वो भी एक भोजपुरी गीत में एक सुखद आश्चर्य है।

 
11. लारा लप्पा ( जगजीत सिंह)

लारा लप्पा “एक थी लड़की” से बहुत ही सुंदर गीत है। इसी के खोज में ये जगजीत सिंह का ये पंजाबी गीत हाथ लग गया। इसको जगजीत सिंह ने जिस चिरपरिचित दिलकश अंदाज़ में गाया है उतने ही कमाल के तरीकें से इनके साजिंदों ने बजाया है। निश्चित ही सुनने योग्य गीत अगर आप चाहते है कि आप का दिल बल्ले बल्ले करने पे मजबूर हो उठें। वैसे इस गीत के शुरू में मजनू ने अपनी लैला को काली कहने वालो की दृष्टि को गरियाया है सभ्य तर्कों के साथ वो भी सुन लें। हम तो भाई मजनू से बस इतना ही कहेंगे कि जो बकते है उनको बकने दो काहे कि “यथा दृष्टि तथा सृष्टि” ( जैसी हमारी दृष्टि होती है, वैसी ही यह सृष्टि हमें दिखती है)

राधा कृष्ण के प्रेम की याद दिलाता होली। उनके सखा सखियों, उनके गौओं, बछड़ो सबकी याद दिलाता :-)

राधा कृष्ण के प्रेम की याद दिलाता होली। उनके सखा सखियों, उनके गौओं, बछड़ो सबकी याद दिलाता 🙂

Pics Credit:

Pic One 

Pic Two 

Pic Three

MEN IN BRAS AND SKIRTS (HUMOUR)

True Feminism Would Surely Make Such Men A Regular Sight!

True Feminism Would Surely Make Such Men A Regular Sight!


During one of the conversations with close friend Carmen, who happens to be a gifted conversationalist, the idea of men wearing skirt came to haunt my imagination. She picked up the idea from some fashion show. Her casual reference to men in skirt made me remind of the famous phrase that there is “method in madness”. If anyone wishes to realize how madness has become a passion in our times, the present age is fittest time to witness the mad show. Just organize a fashion show and introduce horrible sense of dressing as a new passion among youths. No wonder men wearing skirts does not sound amusing. Anything is possible in our times. Overnight we can find “he” emerging as “she” the next day!  Now I am wondering what else could follow if men start wearing skirts?

The purpose of fashion shows also defies my sensibilities. Often the trends shown in it are not meant for masses. The dresses exhibited in it are beyond the range of common people. Still we find an unending craze for such fashion shows. Remember the movie “Fashion”? That movie disclosed the harsh realities prevalent in world of fashion. Anyway, I am talking about the craziness existing in our real world, wherein the distinction between men and women is getting reduced with each passing moment, and even in the virtual world with help of Photoshop. The write-up is merely a humorous take on the whole issue.

Notice the fact that wearing “ear rings” by the boys is new craze. My friend endorsed usage of ear rings by boys since that make guys attain a look that attracts females. I feel that in every man there is female essence and in every woman there is some male element. Only today I saw a girl riding a motor bike meant for men.  Few days back, I had seen an young girl having two girls pillioned behind her on a slender scooty! That makes it very clear that there is urge in both the sexes to give way to each other’s essence. Has anyone heard “Aake Seedhi Lagi Dil Pe” song from movie Half Ticket?  Kishore Kumar has given voice to male and female characters on whom this song has been picturized!!  Pran and Kishore Kumar have performed in mind-boggling way in this song.  And that’s why this song always makes me smile! In many Indian movies dance sequences have male actors disguised as females. The same has been the case with female actresses as well.
 

Right now, I am wondering what would follow the skirt? I am sure male bras are next hot item. Please read this excerpt borrowed from news item:

“Japanese men are getting in touch with their feminine side thanks to a new trend in male lingerie.They are hitching up their man boobs (moobs), finding out their cup sizes, and getting into male bras. Akiko is the woman behind this underwear revolution. She started selling the bras online from her Tokyo shop – The Wishroom. She said: ‘I think more and more men are becoming interested in bras.’ “

Now if that’s the case I feel new perceptions would emerge. Now men, like women, would often be found complaining: I found her staring at my assets !!! New harassment laws would also be introduced for men that would take cognizance of men’s complaints, accusing the passers by of indecent gesture !!! I feel that such tactics are very cleverly promoted by market. That makes them sell their products. That’s the reason why “Mardo wali cream” (fairness cream for men) has come in existence and actors like Shah Rukh Khan, having dark complexioned wives, are promoting it. They are making us develop guilt complexes to promote the sale of fairness cream for men!!! Anyway, for me black is beautiful.

I request the likes of Carmen not to create chaos in society by feeling excited about idea of seeing men in skirts. I love women with long hairs. I am sure not many would love to see a woman proclaiming bald is beautiful! Please be traditional, at least, in some matters. Women in long hairs are epitome of sensuality. Unfortunately, it’s age of short cuts. No wonder women love anything from short hairs to short skirts.

It's Time For Girls To Shout, Sexy Legs :-)

It’s Time For Girls To Shout , Sexy Legs 🙂

Pics Credit:

Men In Skirts

Japanese Men

वैलेंटाइन डे: लो आया मौसम प्यार के बिक्री का!

क्या प्रेम आज भी इतना ही मासूम है इस फूल की तरह?

क्या प्रेम आज भी इतना ही मासूम है इस फूल की तरह?

कल तथाकथित प्यार करने वालो का परम पुनीत दिवस है। कुछ कहने की जरूरत नहीं है कि फर्जी इमोशंस के साथ बहुत सारे गुलाबो का आदान प्रदान होगा। गुलाब का तो पता नहीं पर वो अगर समझदार लड़की होगी तो उसका काम तो लह गया क्योकि गुलाब तो मुरझा जायेंगे, चाकलेट उदर में समा जायेंगे लेकिन गिफ्ट हो सकता है अगले साल भी किसी और को देने में काम आ सकते है। क्योकि एक साल में बहुत से इस साल वैलेंटाइन डे मनाने वालो लड़कियों के बॉयफ्रेंड इनके द्वारा ऐक्स्ड (axed ) कर देने के कारण एक्स-बॉयफ्रेंड हो जाते है। एक्स- गर्लफ्रेंड भी अस्तित्व में आ जाती है। खैर ये सब पुराने प्रेमी नहीं कि जाके किसी सॉलिड रॉक के ऊपर कोई दुखांत सा गीत गाये। इतने संवेदनशील नहीं कि शोक मनाये। कुछ एक जो थोड़े दुखी होंगे वो जरूर सॉलिड रॉक कुक्कुर धुन में रचे गीत जैसे” जो भी मै कहना चाहू बर्बाद करे अल्फाज़ मेरे को गाने या सुनने के बाद “तू नहीं सही कोई और सही” को चरितार्थ करते हुएँ किसी नए के दामन से लिपट जायेंगें। अब कितने सारे आप्शन माने विकल्प  “जोड़ी ब्रेकर” के रूप में भटक रह होते है। वो तो पुराने प्रेमी थे जो बेचारे कितने साल महीने आंसू टपकाते थें प्यार की आग में तन बदन जल गया” गाते थें। अब तो आप इतने व्यापक विकल्पों वाले है कि मौका मिले तो “मेरे ब्रदर की दुल्हन” भी आपकी हो सकती है।

बाज़ार में देख रहा हूँ कि भोजपुरी गीतों के रोमांटिक एल्बम भी बहुत सारे आ गए है जिसके ऊपर “लभ” वाले चिन्ह बने हुएं है। मतलब प्यार का व्यापार ग्रामीण संस्कृति में गहनता से व्याप्त हो गया है। अहसास तो यही होता है। वर्ना ये अजंता-एलोरा की आधुनिक संस्करण तो भोजपुरी वाले “लभ” में इंटरेस्ट दिखाने से  रही। जितनी तेज़ी से भारत ग्लोबल हुआ उतनी तेज़ी से लव का ग्राफ भी बढ़ा ये तय है। दोनों में समानुपाती रिश्ता सा लगता है। खैर एक चीज़ ये है कि इंडिया ने अब इतनी फ्रीडम जरूर दी है कि अगर इतने सारे आप्शनस लॉन्ग टर्म, शार्ट टर्म, लिव-इन के बावजूद भी आप अगर अकेले रह गए तो आप अपने सेक्स के साथ भी लव कर सकते है। इससे आप का कॉन्फिडेंस लेवल तो बढेगा ही और साथ में आप सब पे धौंस जमा सकते है प्रोग्रेसिव बन कर। कम से कम लोगो को अपने अनुभव से उत्पन्न प्रोग्रेसिव लेक्चर तो झाड़ ही सकते है। थोडा अच्छा लिख लेते हो तो क्या पता आप एक दो नोवेल भी लिख दे और पुरस्कार वगैरह मिल गया, जो ऐसे थीम पे अन्तराष्ट्रीय या राष्ट्रीय जगत में कुछ न कुछ मिलना तय ही है, तो युवा वर्ग की नब्ज़ पकड़ने वाले तमगो सहित आप की लेखक के रूप में उभार तय है। 

वैलेंटाइन डे के ठीक एक दिन के बाद भट्ट कैम्प की मर्डर थ्री रिलीज़ हो रही है। ये सीरिज मैंने नहीं देखी है और ना मै चाहता हूँ कि इस सीरिज की कोई फ़िल्म देखने का सौभाग्य कभी भविष्य में बने लेकिन इस नयी फ़िल्म के पोस्टर में लिखी पंच लाइन आज के लव की हकीकत बयान कर देती है। लिखा है कि आप अपने प्रेमी को कितना जानते है? मतलब साफ़ है कि अगर आप सचेत नहीं है तो लव के बाद धोखा अवश्य है। वैसे अच्छा है वैलेंटाइन डे के ठीक एक दिन के बाद ही बहुत सारे नए नए प्रेमी भूतपूर्व प्रेमी हो जायेंगे। एक्सपीरियंस बढेगा युवाओं का। कैसी संस्कृति है कि वफ़ा की सोच भी रखना जुर्म से कम नहीं। सब में मिलावट, सब में खोट है चाइनीज़ माल की तरह। कब फुस्स हो जाए पता नहीं। एक युग था कि सरल और सीधा होना सम्मानजनक था। आज आप के नाकाबिलियत का परिचायक है। आप के विरुद्ध निकम्मेपन का तमगा है। शातिर दिमाग होना ही बुद्धिमानी बन गया है। खैर ये लव करने वाले प्रेमी उगते रहे, पनपते रहे। लेकिन चूँकि गाँव में “लभ” पाँव पसार चूका है इसलिए सरकार को जैसे शहर में लव के डाक्टर माने साइकोलोजिस्टस है जो प्यार के साइड इफेक्ट्स डिप्रेशन या टीनेज प्रेगनेंसी के केसेस को देखते है ऐसे कुछ डाक्टरों को ग्रामीण क्षेत्रो में नियुक्त किये जाए। ताकि कम से कम प्रेम के बाद जो शॉक्स झेंले पड़े उनका निदान वैज्ञानिक तरीके से हो। खैर मेरी तरफ से सब प्रेमी जनों को शुभकामनायें। 

मेरे अन्दर तो साहिर की यही पंक्तियाँ उभर रही है:

हर चीज़ ज़माने की जहाँ पर थी वहीं है,
एक तू ही नहीं है

नज़रें भी वही और नज़ारे भी वही हैं
ख़ामोश फ़ज़ाओं के इशारे भी वही हैं
कहने को तो सब कुछ है, मगर कुछ भी नहीं है

हर अश्क में खोई हुई ख़ुशियों की झलक है
हर साँस में बीती हुई घड़ियों की कसक है
तू चाहे कहीं भी हो, तेरा दर्द यहीं है

हसरत नहीं, अरमान नहीं, आस नहीं है
यादों के सिवा कुछ भी मेरे पास नहीं है
यादें भी रहें या न रहें किसको यक़ीं है

 

प्रेम का एक एक स्वरूप ये भी है!

प्रेम का एक स्वरूप ये भी है!


Reference:

Kavita Kosh

Pics Credit: 

Internet

अटेन्शनवा: भाई किसी को खालिस सोने के बिस्किट चाहिए तो तिवारी सर से मिले अर्जेन्टी (व्यंग्य लेख )

ये सोने के बिस्कुट मै नहीं हज़म कर पाता हूँ :P

ये सोने के बिस्कुट मै नहीं हज़म कर पाता हूँ 😛

मेरे कुछ मित्र भी गजब ही है। बैठे बिठाये लिखने का मसाला दे जाते है। ये तिवारी जी, लखनऊ वाले, मेरा सौभाग्य कहिये या मेरा दुर्भाग्य कि मेरे बचपन के परम मित्रो से है। तब से लेकर आज तक मुझसे गठबंधन किया बैठे है। अब बचपन में तो अच्छे बुरे की पहचान तो होती नहीं वर्ना इस तरह के खतरनाक मित्रो को मै जरा भी लिफ्ट नहीं देता हूँ। खैर ये ‘सड़ी मूँगफली स्कूल’ के काबिल हस्ताक्षर थें। इस स्कूल का असली नाम पाठको को नहीं बताऊंगा क्योकि जिनको समझना है उनके लिए इतना इशारा काफी है। कभी किताब लिखने का मौका मिला तो इस स्कूल के सभी नमूनों के बारे में विस्तार से लिखूंगा लेकिन ये इसी स्कूल की देन है कि खुली आँखों से सोना मुझे आ गया। सुबह सुबह इतने उबाऊ पीरियड में कौन इतना उच्च चेतना संपन्न था कि वो पूरे होशो हवास में रह पाता। कम से कम मै तो नहीं था। और निगम, जो पूरी सर्दी में शायद  तीन चार बार नहाने को महान कार्य समझते थें, तो बिलकुल नहीं था क्योकि उसको तो हमी सब उठाकर स्कूल लाते थें आँखों में नींद लिए। यहाँ भी कोई गांधी थें जिनके महाऊबाऊ विश्वशान्ति वाले भाषण सुबह सुबह असेंबली लाइन में सबसे आगे खड़ा होकर सुनने के कारण कुछ कुछ “अटेंशन डिफिसिट” सा हो जाता था, कही शान्ति आये ना आये पर मेरा मन जरूर अशांत हो जाता था। लगता था कि काश इस युग में भी धरती फट जाए सोचते ही मान तो कुछ देर के लिए वहा  रेस्ट कर लूं। पर किसी शापित देव सा ना सुनने लायक भी सुनने को मजबूर था। 

तो इसी तिवारी साहब ने, मेरे तमाम अशुभ ग्रहों के एक जगह आ जाने के कारण प्रतीत तो यही होता है, मुझे फोनवा करके, आवाज बदल के खालिस भयंकर डान की माफिक एक ढोंगी पाखंडी की तरह राम राम कहने के बाद मुझे सूचित किया कि  “आपके सोने के बिस्कुट आ गए है। बताये कहा डिलिवेरी करनी है। जाहिर सी बात है इस दुष्ट आत्मा से, भाई मै कहा जानता था कि तब तिवारी आवाज बदल कर बोल रहे है गोपनीय नंबर से, पूछना पड़ा कि आप बोल कौन रहे है। उधर से जवाब आया कि अरे लीजिये “आप अपने एजेंटो को नहीं पहचानते”। मुझे फिर कहना पड़ा कि आप बताते है कि कौन बोल रहे है कि मै बंद कर दू नंबर। तब उन्होंने राज खोला अरे मै तिवारी बोल रहा हूं पहचाना नहीं। एक नया नंबर मिल गया था जिसमे फ्री टॉक टाइम था तो सोचा इसका इस्तेमाल कर लूं। अब गरिया तो सकता नहीं था क्योकि वो मेरी आदत नहीं और दूसरा वो इस बोली भाषा में हिट था। वैसे ये कई धंधे आजमा चुके है सो मुझे ऐसा प्रतीत हुआ लगता है इनके फील्ड में रिसेशन आ जाने क्या पता ससुरा गोल्ड बिस्कुट का डीलर बन गया हो । 

वो बहुत खुश था शोले के गब्बर की तरह मुझको डरा समझ के। लेकिन मै जिस वजह से परेशान था उसकी वजह वो नहीं थी जो तिवारी साहब समझ  रहे थें। लेखनी की वजह से मै अपने नंबर सहित काफ़ी सर्कल्स में पहचाना हुआ हूँ जिसमे खाड़ी देशो के मित्र, अपना प्रिय पडोसी पाकिस्तान भी है, के लोग शामिल है, और इसके अलावा इंटेलिजेंस सर्विसेज के लोग भी है। इन साहब की नादान हरकत, जो क़ानूनी परिभाषा के तहत जुर्म की श्रेणी में आता है पर  इनकी बोल्ड आत्मा इस नाजुक आत्मा की  इस बात को मानने से इंकार करती थी, किसी विपत्ति को जन्म दे सकती थी। खैर इनको मुझे समझाना पड़ा कि टेक्नोलाजी के इस युग में जब भाई लोग मर्द हो के भी औरत की आवाज़ में बतिया सकते है, फर्जी स्टिंग आपरेशन होते है, मुझे इस बात की परवाह तो करनी पड़ेगी न कि उधर तिवारी ही बोल रहे थें बिना अपने किसी चमचों के। चमचा का मतलब यहाँ पे फटीचर मीडिया के लोग जो आवाज़ रिकार्ड करके खबरे बनाते है या चमचा माने वो जो फिल्मे परदे में एक मेन विलेन के पीछे पीछे चलते है। खैर मेरी बात की गंभीरता का वो आशय समझ गए पर ये बताने से नहीं चूके कि हाई प्रोफाइल नम्बरों से भी वो ऐसा ही कर सकते है और कोई उनका कुछ नहीं कर सकता या ऐसा करने से कुछ होता नहीं है। 

हां आप सही कह रहे है कि कुछ नहीं होता मगर इन्ही अफवाहों के चलते सिक्योरिटी एजेंसीज की नींद हराम हो जाती है और असली वारदात के समय ये बेचारे कुछ नहीं कर पाते, महत्त्वपूर्ण ट्रेने ऐसी ही बातो के चलते समय से चल नहीं पाती, दंगो के वक्त इस तरह की बाते शोलो को और भड़काती है। अरे साहब कुछ नहीं होता है  तो पीएमओ आफिस में डीलिंग कर लेते तो क्या पता तुम्हारे सोने के बिस्कुट इस देश की दरिद्रता कुछ कम कर देते! तिवारी जी हम जैसे मुद्रा विहीन के यहाँ तो तुम्हारी डीलिंग फ्लाप हो गयी लेकिन पीएमओ आफिस से भयंकर लोग तुम्हे उठाकर तो जरूर ही ले जाते, तुम्हारे  सोने के बिस्कुट बिकते या न बिकते। नालायक कही का ये तिवारी कभी सुधर नहीं सकता। एक बचपन के मित्र की कायदे से मदद करने के बजाय लगा उसे सोने के बिस्किट खिलाने। पता नहीं तुम सोने के बिस्कुट बेचने की हिम्मत रखते हो कि नहीं लेकिन इतनी औकात तो रखते ही हो कि कम से एक मिनी ट्रक बिस्किट ही बच्चों के लिए मेरे घर भेजवा देते। कुछ मै खाता कुछ मोहल्ले के बच्चो को बटवा देता। उनकी दुआओं से तुम्हारी ज़िन्दगी संवर जाती। लेकिन आज जब एक ब्राह्मण ही दूसरे ब्राह्मण की धोती खीचने में लगा हुआ है तो तुम कैसे अपवाद बन जाते। लगे मुझ जैसे फक्कड़ आत्मा को ही सोने के बिस्कुट बेचने जो सदा से ही यही गीत गाता  रहा हो कि “कोई सोने के दिलवाला, कोई चाँदी के दिलवाला, शीशे का है मतवाले तेरा दिल, महफ़िल तेरी ये नहीं, दीवाने कही चल”

तिवारी के बारे में मेरे गाँव की पगली लड़की, और इन तिवारी साहब को इस लड़की की बात बुरी नहीं लगनी चाहिए क्योकि वो भी तिवारी ही है, बिलकुल सही कहती थी कि जब “सौ पागल मरते है तो एक तिवारी का जन्म होता है”। पता नहीं कितनी सच थी उसकी बात लेकिन तिवारी लोगो में पायी जाने वाली अराजकता को देखता हूँ तो मन इस  बात पे आकर टिक जाता है। खैर इन तिवारी साहब का निगम की ही तरह कितना बढ़िया जजमेंट सेंस है ये बताना जरूरी हो जाता है। ये बताना भी जरूरी हो जाता है कि इनको कक्षा चार से ये विलक्षण शक्ति प्राप्त थी कि कौन से लड़की किस लड़के से ज्यादा बतियाती थी। और ये न्यूज़ नमक मिर्च लगा के सब तक सर्कुलेट कर देते थें। मेरे क्लास की लड़की अगर मेरे मोहल्ले में रहती थी तो इनके पेट में दर्द जरूर होता  था। और निगम का भी होगा ये तो तय था। इन दोनों की जजमेंट शक्ति कितनी उच्च थी। अभी पता चल जाएगा। खैर मै जब अपने गाँव में जाता था तो तिवारी सिर्फ यही सूंघ पाते थें कि जैसे मै  इसी खतरनाक पगली लड़की से,जो तिवारी वर्ग में पाए जाने वाली सब महान शक्तियों से लैस थी, से बतियाने जाता था। ये तो कभी सूंघ नहीं सकते थे कि बरसात के कीचड भरे रास्ते,  भयंकर ठण्ड से भरे दिन और राते, भीषण गर्मी में बिना किसी पंखे वाले कमरे में, किसी तरह जो भी मिला वो खाकर अपने खेतो में क्या हो रहा है देखता था। हा ये उन्होंने अनुमान लगा लिया कि गंगा नदी के तट पर स्विट्ज़रलैंड की हसीन वादियों में जैसे लोग टहलते है, वैसे ही मै लेकर उसको विचरण करता हूँगा। अब लखनऊ की चमकती रोमान्टिक गलियों में पले  बढे, नाम मात्र रूप से गाँव के सामाजिक परिवेश को जानते हुए- कभी  असल ब्राह्मण बहुल्य गाँव में तो कभी रहे ना होंगे-को इससे बेहतर क्या समझ में आ सकता था। मुझे इनकी समझ से कुछ लेना देना नहीं पर तिवारी साहब ये आप जान ले कि गाँव में चाहे वो गँगा के तट हो या खेत सुबह शाम नित्य कर्म करने वाले लोगो से पटे रहते है तो कोई कैसे किसी को इस तरह रोमान्टिक तरीके से घुमा सकता  है? मै तो गाड़ी भी ड्राइव नहीं कर पता कि चल कही दूर निकल जाए ऐसा कुछ भी हो सकता। लेकिन इनको क्या और निगम को क्या। सोचने लगे तो यही सब सोच डाला। और सुनिए आप मेरे गाँव में आइये तो ये ट्राई भी मत करियेगा, हा किसी और के बारे में आप कुछ भी सोच ले ये अलग बात है, वर्ना गाँव के लोग कूट काट  डालेंगे। गाँव वाले न शहर वालो को ठीक नज़र से देखते है और शहर वाले तो शहरीपने के चलते गाँव वालो को शुरू से ही गंवार समझते रहे है।

और निगम साहब को उस उम्र में जिसमे प्यार की भावना एक नैसर्गिक प्रक्रिया होती है ये साहब तब भी भयंकर फिल्मी अंदाज़ में मुझे समझाते थे “प्यार वो करते है जिनकी जागीर होती है”। वैसे उसकी बात में कडुवी सच्चाई थी ये मै मानता हूँ पर सच नहीं थी सोचने पर। बिल्कुल सच नहीं थी। क्योकि निगम जी जागीर वाले सब कुछ कर सकते है प्रेम नहीं कर सकते। ये ज्यादा से ज्यादा इस लड़की के साथ टहलेंगे, फिर कल किसी दूसरे के साथ टहलेंगे और अंत में आपको पता चलेगा इन्होने माता पिता का सम्मान करते हुएं रीति रिवाजों के साथ किसी जागीरवाली लड़की के साथ शादी कर ली। अपवाद हो कोई वो अलग बात है पर ज्यादातर तक जागीर वालो का  इतिहास ऐसा ही रहता है प्रेम के नाम पर। वैसे निगम तिवारी से बतिया लेना क्योकि मुझसे कह रह था कि “अलीगंज सेक्टर डी”  से कपूरथला काम्प्लेक्स की दूरी कोई लन्दन से पेरिस तक जितनी नहीं थी कि जो आके अपने बचपन के मित्र का हाल चाल भी न ले सके। ये कायस्थ वर्ग के चरित्र की निशानी है कि अपने सीमित स्वार्थ से ज्यादा दूर तक नहीं सोच पाते। ये अलग बात है बाभनो से पटती भी बहुत है जो इस सोच के ठीक विपरीत होते है। 

वैसे बात सोने के बिस्किट से शुरू हुई थी तो समापन भी ऐसे ही होगा। भाई तिवारी अमीनाबाद चले जाना वहा अपने सड़ी मूंगफली स्कूल के ही एक परम मित्र रहते है अपने ही बचपन के जिनसे जब मै बातचीत करने का इच्छुक होता हूँ तो इस भय से नहीं करता हूँ कि कोई फायदा नहीं क्योकि आपने फ़ोन किया नहीं कि उधर से आवाज़ आएगी कि अरे वो तो मजलिस में गए है। बहुत अच्छा उसका बिज़नस सेन्स है। वो जरूर बिकवा देगा तुम्हारे बिस्कुट। नहीं तो इसी स्कूल के एक सज्जन खुर्रम नगर में रहते है जो फेसबुक मित्रो मे एक बेहतर क्लासिक पोज़ में मौजूद है चश्मे सहित। वहा  चले जाना तुम्हारा काम हो जाएगा। ये लोग बहुत काबिल है। मेरे जैसे साधन विहीन लेखक वर्ग के जरिये तुम अपने सोने के बिस्किट कभी नहीं बेच पाओंगे। अब ये भी धंधा चालु कर दिया है तो कम से कम धंधे में तो थोडा से बेहतर जजमेंट सेंस रखो कि कहा तुम्हारा माल बेहतर बिक सकता है। ऐसे तो तुम दिवालिया हो जाओगे। आया समझ में। और मुझसे मिलने आना तो कम से कम पारले जी वाला बिस्कुट लेते आना। बचपन से इसी बिस्कुट की लत जो लगी है। सोने के बिस्कुट हज़म  करने की लत मुझे कभी नहीं पड़ी और न पड़ेगी। और निगम तुम्हारे लिए तो यही लाइन उपयुक्त रहेगी: सोना नहीं, चांदी नहीं, अरे यार तो मिला जरा प्यार कर ले।

अपना प्यारा लखनऊ :-)

अपना प्यारा लखनऊ 🙂

Pics Credit: 

Pic One

Pic Two

पूर्णता की शिकार ये कुछ मैच्योर आत्माये (व्यंग्य लेख)

जय गऊ माता की ...जय कुक्कुर देव की भी।।।

जय गऊ माता की …जय कुक्कुर देव की भी।।।


[सर्वप्रथम 03 जुलाई, 2004 वाराणसी/इलाहाबाद से प्रकाशित सम्मानित दैनिक “आज” में प्रकाशित। ये लेख ऑटोमैटिक रूप से प्रयाग की धरती पर भटकती पूर्णता को प्राप्त रूहों से मिलन के बाद लिखा गया था एक दम फटाफट।]

आज का मनुष्य विरोधाभासों का पुतला बन के रह गया है। जिधर भी देखिये आज ऐसे ही मनुष्यों का समूह पायेंगे। तमाम तरह की विरोधाभासी प्रवृत्तियों को इस तरह अपने में समेटे रहते है कि ऐसा लगता है कि व्यंग्य की कृतियों ने मनुष्य का चोला धारण करना आरम्भ कर दिया है। कुछ उदहारण देने से बात समझ में आ जायेगी। आज के अधिकांश राजनैतिक दल जो क्रन्तिकारी परिवर्तनों की बात करते है अगर हम उनको ध्यान से देखे तो पायेंगे कि गली में घूमने वाले टामियों, मोतियों और शेरूओ और इन दलों के बीच का फर्क बिलकुल समाप्त हो गया है। अब इन कुत्तो को देखिये। दूसरी गली में कोई कुत्ता किसी कारण से भौंक रहा हों तो मेरे दरवाजे के पास बैठे काले कुत्ते को भौकना ना जाने किस वजह से अनिवार्य हो जाता है।

फिर तुरंत ही सारे कुत्ते इकट्ठे होकर सामूहिक रूप से अपनी उर्जा समाप्त करके अपनी अपनी जगह लौट जाते है फिर ऐसी किसी प्रक्रिया को क्षणिक विश्राम  के बाद दुहराने के लिए। कोई कुत्ता यदि भिन्नता लिए हो या फिर कोई कुत्ता अजनबी गली से आउटसोर्सिंग की वजह से गुजर रहा हो तो वह अन्य कुत्तो की आलोचना का अर्थात “भौकन  क्रिया” का शिकार हो जाएगा। वह आगे आगे और अन्य गलियों के काले, भूरे, सफ़ेद, चितकबरे आदि रंग के तमाम कुत्ते उत्तेजक रूप से भौकते उसे गति पकड़ने पर मजबूर कर देंगे। कुछ इसी बीच नई माडल की गाडियों पर टांग उठाते चलेंगे।

आप संसद या विधानसभा की कार्यवाही पर गौर करे तो लगेगा कि आप ये सब पहले कही देख चुके है! बात निवेश की हो या आर्थिक सुधारो की कुछ लोग जो ऊँघते या अनुपस्थित न होंगे तो आप उन्हें हरदम “साम्प्रदायिक सरकार नहीं चलेगी, नहीं चलेगी” या “फ़ासिस्ट हाय-हाय” आपको नियमित रूप से उच्चारित करते हुए मिलेंगे। अब पता नहीं किन अनुभवों के आधार पर आर्थिक सुधारो को साम्प्रदायिकता से जोड़ लेते है ये तो खैर इनकी प्रोग्रेसिव आत्मा ही बता सकती है। और इस उच्चारण को जब और सारे दल सुर में सुर मिलाते  है तो वाकआउट नाम का जिन्न प्रकट होता है जो तत्काल सबको एक बराबरी पर ला पटकता है। और इसके बाद कुछ मुद्दों पर इधर-उधर की कह कर अर्थात टांग उठाकर अपने ठिकाने की तरफ बढ़ चलते है। विरोधाभासों के मंच के सशक्त केंद्र बन गए है संसद आदि स्थल।

अपने इलाहाबाद शहर के एक व्यस्त चौराहे पर अखबार की रसीली दुकान है। विरोधाभासों के कई सशक्त हस्ताक्षर यहाँ दिन भर डेरा डाले रहते है। ऐसे ही एक सज्जन कई अखबारों के पन्नो को यूँ ही उल्टा पल्टी करने के बाद टीका टिपण्णी के बाउन्सर फेकने लगते है। एक दिन मुझसे ये बोले हिंदी में जरा आप लिखे तो कुछ बात बने वर्ना अंग्रेजी लेखन के जरिये तो आप कभी राष्ट की  चेतना से सम्बन्ध नहीं बना पायेंगे। पता नहीं अंग्रेज़ क्यों अपनी अंग्रेजी कुछ लोगो के हवाले करके चले गए। अपनी मिसाईल दाग कर वो चलते बने। अफ़सोस इस बात का नहीं था कि अंग्रेजी लेखन को निशाना बनाया गया था पर इस बात का था कि अपनी दिमागी जड़ता को राष्ट्र की चेतना के विकास से जोड़ गए। क्योकि मै अच्छी तरह जानता हूँ कि अगर मै इनसे ये कहता कि मुझे हिंदी की श्रेष्ठ कृतियों से लगाव है तो मुझे ये संस्कृत से जुड़ने की सीख देते, संस्कृत से भी अगर जुड़ा पाते तो फिर ये कहते आप भोजपुरी से क्यों नहीं गठबंधन करते आदि आदि। खैर मै आपको विरोधाभासों के बारे में, विचित्र प्रवृत्तियों के बारे में कुछ बता सा रहा था।

अगले दिन मुझे बड़ा आश्चर्य हुआ जब मैंने इन सज्जन को फेमिना, कास्मोपोलिटन इत्यादि अंग्रेज़ी मैग्जीनों के पन्नो को पलटते देखा। मैंने उनसे कहा कि लगता है आपने अपना पाला पलट लिया है। अभी आप कल ही तो स्वाभिमान वाली बात कर रहे थें। उन्होंने ये सुनकर कहा कि आपको लगता  है तो लगे पर मै स्पष्ट कर दूँ  कि मै पढ़ नहीं सिर्फ इन्हें सिर्फ देख रहा हूँ। आप की अंग्रेजी पर इतनी पकड़ नहीं तो फिर आप इन्हें देखकर क्या प्राप्त कर रहे है? इस सवाल पर उनका  चेहरा तमतमा उठा पर झेंप को छुपाते हुए बोले देखिये निरुत्तर बनकर मुझे अपूर्णता का शिकार तो होना नहीं है। इनके पन्ने पलटने से तो ही मैचोरिटी आती है। संक्षेप में मंत्र इन्होने ये दिया कि राष्ट्र की चेतना का विकास भले हिंदी में लिखने से होता हों पर पूर्णता अंग्रेजी के मैग्जीनों के पलटने से ही आती है।

अगर सेंट्रल लाइब्रेरी में घटी घटना का उल्लेख न करू तो बात अधूरी रह जायेगी। मै वाचनालय में किसी लेख को पढने में पूरी तल्लीनता से रमा हुआ था कि किसी के कदमो की आहट ने मेरा ध्यान भंग कर दिया। देखा कि एक साहब आदिमकाल के मनुष्यों में पाए जाने वाले गुणों को अभिव्यक्त करते हुए चले आ रहे थें। दुर्भाग्य से ये आके मेरे बगल में खड़े हो गए। आँखे इनकी अभी भी दरवाजे की तरफ ही थी पर इनके हाथो में अंग्रेजी का अखबार आ चुका था। फिर जिस तरह कैशिअर नोटों को गिनता है इन्होने इसी अंदाज़ में पन्नो को तेज़ी सें पलटना आरम्भ किया। केवल मुंह की तरफ हाथ थूंक लगाने के लिए उठता था। कुछ ही सेकेण्ड में भारत का नंबर एक अंग्रेजी का राष्ट्रीय दैनिक अखबार पढ़ा जा चुका था।मुझे इनकी शक्ल कुछ जानी पहचानी सी लगी। भाई साहब लगता है मैंने आपको पहले कही देखा है। इन्होने मेरी तरफ देखा फिर अटपटे लहजे में पूछा कि  आप क्या करते है? इससें पहले कि मै इनसे कुछ कह पाता ये जिस तरह मेरे पास चल के आये थें उसी तरह से ये दरवाजे की तरफ बढ़ चले थें। चलिए ठीक है अब मै किसी जानी पहचानी शक्ल से मिलूँगा तो यही से शुरुआत करूँगा कि आप क्या करते है ? आप की शक्ल कुछ जानी पहचानी रही है। अब तो ठीक है न। शायद मै परिपक्व और पूर्ण हो चला हूँ।

 

बस इसी रोड पर कुछ कदम और आगे बढ़कर है एक अखबार की  दूकान!

बस इसी रोड पर कुछ कदम और आगे बढ़कर है एक अखबार की दूकान!

पिक्स क्रेडिट:

तस्वीर प्रथम 

तस्वीर दितीय

चलो थोडा सा मुस्कुरा ले, थोडा सा जी ले! (हास्य लेख)

मेरी तरह आराम करना सीखे

मेरी तरह आराम करना सीखे


गंभीर  लिखते लिखते मन बोझिल सा हो गया तो सोचा जरा सा मुस्कुरा ले, जरा सा आराम कर ले। पता नहीं किस कवि की पंक्तिया है पर मुझे हंसने और मुस्कुराने के लिए बाध्य कर रही है:’चलो आज बचपन का कोई खेल खेलें, बड़ी मुद्दत हुई बेवजह हंस कर नहीं देखा’। मेरी एक परम मित्र है। बड़ी दुखिया स्त्री है पर काम करने के मामले में नान स्टाप एक्सप्रेस है। लिहाजा हमेशा मेरा उससें छत्तीस का आंकड़ा रहता है काहे कि अपने स्वास्थ्य की कीमत पर काम करती है। मैंने उससें कह रखा है जब मरने लगना मुझे खबर जरूर करना तुम्हारे कब्र के ऊपर मै ये लिखवाऊंगा ” ये रही मेरी मित्र जिसने मुझ जैसे जीवंत शख्स को  दो मिनट भी एक मगरूर, जिद्दी,  बिगडैल हसीना की तरह एहसान जता के दिए लेकिन आफिस के घटिया वातावरण में बेजान आंकड़ो को खूब रस ले के प्रेम किया। इस महान बुद्धिमान स्त्री को मेरा नमन जिसकी मौत आफिस का काम करते करते हुईं। ईश्वर  इसकी आत्मा को शान्ति प्रदान करे जो “हैवन द स्वर्ग” में तो कम से कम आराम करे।” 

ऐसा लिखवाने के बाद मेरी आत्मा को बहुत शान्ति मिलेगी। और उन मेरे जाहिल मित्रो से नफरत और दूरी और घनी हो जायेगी जो आफिस में सड़को पे फिरते आवारा कुत्तो की तरह इधर उधर दुम फटकारने  को “आराम हराम है” सा समझते है । आफिस में दुम फटकारना बहुत बड़ा कर्मयोग है, कुत्ते कही के,  ढोंगी कही के, पाखंडी है ये सब। ईश्वर के अस्तित्व को मै इसी बात से स्वीकार करता हूँ कि इस तरह के वातावरण और ढ़ोंगपने से उसने बचाया। मुझे खूब काम  करना सिखाया पर उसको जताना नहीं  सिखाया। अब मै अपनी  बकैती बंद करता हूँ और आपको आराम तत्त्व को प्रतिपादित करती ये कविता पढवाता हूँ। मेरे जीवन दर्शन को प्रकट करती है और अपने दुखिया मित्र को तन्हाई में कोसने में मदद करती  है। एक लेखक को किसी दूसरे अच्छे लेखक की बातो को  फैलाना चाहिए। उसे चोरी से अपने नाम से नहीं छपवाना चाहिए। या सिर्फ अपना ही लिखा दुसरो पे नहीं  थोपना चाहिए। 

तो आप सब लोग गोपाल प्रसाद व्यास की इस बेहद शानदार हास्य कविता को पढ़कर मेरी  तरह मुस्कुराना सीखे, मेरी तरह आराम करना सीखे।

********************************************************************            

“आराम करो” 

एक मित्र मिले, बोले, “लाला, तुम किस चक्की का खाते हो?
इस डेढ़ छँटाक के राशन में भी तोंद बढ़ाए जाते हो।
क्या रक्खा है माँस बढ़ाने में, मनहूस, अक्ल से काम करो।
संक्रान्ति-काल की बेला है, मर मिटो, जगत में नाम करो।”
हम बोले, “रहने दो लेक्चर, पुरुषों को मत बदनाम करो।
इस दौड़-धूप में क्या रक्खा, आराम करो, आराम करो।

आराम ज़िन्दगी की कुंजी, इससे न तपेदिक होती है।
आराम सुधा की एक बूंद, तन का दुबलापन खोती है।
आराम शब्द में ‘राम’ छिपा जो भव-बंधन को खोता है।
आराम शब्द का ज्ञाता तो विरला ही योगी होता है।
इसलिए तुम्हें समझाता हूँ, मेरे अनुभव से काम करो।
ये जीवन, यौवन क्षणभंगुर, आराम करो, आराम करो।

यदि करना ही कुछ पड़ जाए तो अधिक न तुम उत्पात करो।
अपने घर में बैठे-बैठे बस लंबी-लंबी बात करो।
करने-धरने में क्या रक्खा जो रक्खा बात बनाने में।
जो ओठ हिलाने में रस है, वह कभी न हाथ हिलाने में।
तुम मुझसे पूछो बतलाऊँ — है मज़ा मूर्ख कहलाने में।
जीवन-जागृति में क्या रक्खा जो रक्खा है सो जाने में।

मैं यही सोचकर पास अक्ल के, कम ही जाया करता हूँ।
जो बुद्धिमान जन होते हैं, उनसे कतराया करता हूँ।
दीए जलने के पहले ही घर में आ जाया करता हूँ।
जो मिलता है, खा लेता हूँ, चुपके सो जाया करता हूँ।
मेरी गीता में लिखा हुआ — सच्चे योगी जो होते हैं,
वे कम-से-कम बारह घंटे तो बेफ़िक्री से सोते हैं।

अदवायन खिंची खाट में जो पड़ते ही आनंद आता है।
वह सात स्वर्ग, अपवर्ग, मोक्ष से भी ऊँचा उठ जाता है।
जब ‘सुख की नींद’ कढ़ा तकिया, इस सर के नीचे आता है,
तो सच कहता हूँ इस सर में, इंजन जैसा लग जाता है।
मैं मेल ट्रेन हो जाता हूँ, बुद्धि भी फक-फक करती है।
भावों का रश हो जाता है, कविता सब उमड़ी पड़ती है।

मैं औरों की तो नहीं, बात पहले अपनी ही लेता हूँ।
मैं पड़ा खाट पर बूटों को ऊँटों की उपमा देता हूँ।
मैं खटरागी हूँ मुझको तो खटिया में गीत फूटते हैं।
छत की कड़ियाँ गिनते-गिनते छंदों के बंध टूटते हैं।
मैं इसीलिए तो कहता हूँ मेरे अनुभव से काम करो।
यह खाट बिछा लो आँगन में, लेटो, बैठो, आराम करो।

– गोपालप्रसाद व्यास

***********************

Pic Credit:

Pic One

When Carvind Met With Lord (Humourous Short Story)

Carvind: In The Company Of Lord

Carvind: In The Company Of Lord


Carvind, belonged to the world of naughtiest kids. This image of innocence, a pure-hearted spirit, was always found involved in some sort of mess by his parents, who were quite a character in themselves. Naturally, Carvind was natural ally for all disturbing elements. One day, the Lord appeared in his dreams at an unusual hour and said:” My son, I want to visit earth to see how it fares in Kali Age.”  “Lord I have heard that you give darshana (appear) at auspicious hours and so I am really surprised to find you at such an odd hour,” said Carvind.

Carvind had slept late in the night. “Vatsa (my dear son), what can I do! You people have given way to strange habits, which defy my system. I waited for you to sleep at proper time but you never did so,” answered the Lord. Carvind felt really embarrassed. “My son, I would come tomorrow and be visible only to you. Though you have often entered in nuisance of all sorts and defied my mode of life as mentioned in the scriptures, it’s quite pleasing to see the temple of innocence prevailing in your heart. I am glad that you find time to remember me.”

Carvind was now fully awake after being in that trance like state. He started recollecting the episodes. How beautiful Lord appeared! The one infinite blue-bodied Narayana was clothed in his “yellow garb”. In his four hands, he carried the conch, the discus, the mace and the lotus. A soft but impressive golden light environed the Lord. He soon became sad as he failed to greet Lord with folded hands and also did not bother to touch his feet.

Carvind decided to rectify his mistake. This morning he extended the duration of his pooja, performing it with greater concentration. He planned to greet Him methodically on His arrival. Carvind got involved in preparations to receive Him and the day soon gave way to evening. He went to bed soon but since he never slept that early, the sleep remained elusive. Anyway, his mind was full of excitement-something that kept sleep at safe distance from the eyes.

He woke up at 3 am. It was dark outside and others were still in deep slumber. Carvind had his bath, which created noise sufficient enough to awaken his mother from deep sleep. She saw Carvind shivering and lost her cool. “So it was not cat but you who were producing such strange sounds in the middle of the night!”  “You have become the agent of problems for us” she said before marching towards her bedroom.

Carvind ignored her wrath and sat down for meditation. Today, he attained the divine state very soon. The various zones of his brain got filled with divine consciousness.” Now I have attained a perfect state of mind to receive Him” spoke Carvind to himself as he waited for the Lord’s arrival. He was becoming quite impatient. “Has the Lord forgotten his promise? By now He should have arrived.” Then under the impact of past tendencies, his mind got focused on beautiful girl, whom he had seen at magazine shop near his home.

“Dear son! Please regain your sense. It’s time to break your sahaj yoga (spontaneous attunement), “a familiar voice hit the ear drums of Carvind. The Lord was standing in front of Carvind and His smile said all! Carvind, for a while said nothing, just the way a child gets caught by the mother stealing food from the kitchen. He bent down and touched His Lotus feet, offered some flowers which he had stolen from the garden of his neighbor guarded by a dangerous Doberman, and then washed his feet with holy water, which her mother had warned not to use at all; after all, she had brought it from quite a distance.

Krishna's Lotus Feet

Krishna’s Lotus Feet

 

The fragrance of His body left him spell bound, rejuvenating his dull senses. “Will Lord, tell me the name of the perfume He uses? If I get hold of this brand of perfume, it would make him instant hit amid his boring girlfriends, always complaining about his choice of clothes and perfume.”

“ Won’t we move out, little angel?” asked the Lord in pleasing voice. “Oh! Definitely Lord” said Carvind, once again found caught on the wrong foot by the Lord. They were now on the road to Sangam(Confluence of three rivers at Allahabad: the Ganges, Yamuna and the mythical Saraswati). The tempo in which they were sitting was nearly chock-a-block with passengers. The record player was on and devotional songs, based on latest chart-busters echoed inside the tempo. “If I am not wrong, these songs in some way seem to be connected with me,” remarked the Lord with displeasure. “Lord, very few people in the world remember you in the ways prescribed by you in ancient times. Human beings of modern times have attained new means of attaining intimacy with you. They are no longer interested in going by your likes and dislikes.”

“My son, I find iron rods on every roof top, connected to strange Chakra (discus) like round object. What purpose do they serve? Are they some sort of safety device, which prevent you people from dangers?” “No Lord! They do not save human beings from dangers; instead, they drown them deeper into ocean of heinous crimes and problems. This is known as dish antenna, which is connected with a device called Television, watched by human beings the way Yogis fix attention on your form during meditation!”

They were now on the banks of the Ganges. The unhygienic condition that prevailed there left Lord in bitter mood. Dead bodies, bones and waste material were floating on the water. “Whom are you trying to locate?” asked Carvind. “Vatsa, in my previous incarnations I always found people meditating and performing tapas at the banks of Ganges. I am really surprised that nobody is engaged in such pious activity. Where have these people disappeared?” “Lord, they are all sleeping. They are all lost in deep sleep after having watched late night movies, and people like my father and mother, who usually work till late hours of the night, and then go to sleep,  just cannot leave bed too early.”

The Lord was pleased to find a Shiva temple. They entered inside the temple and found dogs roaming there. One of them was busy in searching leftovers there; another one was comfortably sleeping over the Shivalinga. I looked at the face of Lord to notice His reaction but He seemed to be lost in some different world.

“Lord, it is not the fault of these dogs. These hungry dogs arrived here in search of food, and entered inside the temple” The compassionate Lord produced food and offered them to the hungry dogs.  Carvind’s attitude towards animals had please the Lord. After performing pooja there, they moved out of the temple. In the way, they met some cows. The Lord rushed towards them. He was visibly very happy on seeing them. “Do you love cows?” asked the Lord. “Yes, since they remind me of my mother. She has cow like eyes and when she is angry I also notice same pointed thorns on her head as I come to notice in these cows.”  These cows had very little fat on their bodies and most of them looked quite weak.

“Don’t you people take care of creatures? Have I not provided you enough resources and, in some cases, more than enough? In fact, the case is that you people have become greedy and do not believe in charity at all.”  The cows standing there suddenly vanished. The Lord sent them to unknown destination, having grass and safe water in abundance. The Lord had suggested Carvind to take him to the needy people. They moved towards slums located close to the rail tracks. The Lord was eager to cross these tracks to reach to the other side but Carvind prevented him from doing so.

“But why?“ asked the Lord. “The signal lights are bright green and so let’s wait. Let the train pass.” He thanked Carvind for providing such valuable life-giving information. The train passed and they moved to the other side. Carvind was amazed at the simplicity of the Lord. The Lord was moved to see the bare bodies of the starving children. The labourers living there were getting ready to leave in search of work. It was a noisy scene. The pungent smell of garbage, scattered around us, entered inside our nostrils, which forced us to leave the spot.

The Lord seemed to be lost in some thoughts after witnessing such a scene. “Lord, that‘s the condition which prevails in the whole nation. The wealth has been distributed in an unequal manner. The rich people have got everything; the poor people have been left at the mercy of fate. The poor person always finds himself in all sorts of troubles. Lord, you sound right that greed is cause of sufferings. “Is nobody working for the cause of poor people?” inquired Lord. “Lord, nobody is working sincerely for their cause. Some organizations, which in the beginning worked in whole-hearted manner, became political in their approach, and thus, deviated away from the cause of the poor people.

They had now arrived near a school. God wished to see the activities inside the school. Unfortunately, it was a government-run school. The teachers were nowhere in sight. The blackboard was barren like a dead river. Some senior students were busy in discussion revolving around good and bad points of latest movies running in the theaters of city. The junior ones were seriously trying to make their paper aircraft attain the maximum height, and also attain the perfect aerial route!  Some girls have already opened their Tiffin boxes and were in great hurry to finish the lunch! We found one section of boys getting ready for cricket match and so heated discussion regarding the format of the match was in full flow.

They had moved out of the school and now walking on the road in leisurely way. They came to anticipate a large gathering of people and they turned towards it. It was a meeting organized by the rationalists to create awareness in society and motivate people to develop scientific spirit. The chief speaker asked loudly, “Has anyone of us seen God? No. Then why do we  believe in His existence? My friend, you people should not waste time in adoring abstractions by strengthening faith in Lord. I request you all to be more realistic by giving way to scientific explanations.”

For a while they listened to him with great attention but they soon gave way to peals of derisive laughter. They said enough is enough and made sure, as they moved away from that spot, that his words fail to hit their ear drums. Carvind was now feeling hungry as he had not eaten anything since morning. The sun was now shining above their heads. Carvind brought two cups of tea and some pieces of bread from nearby tea stall.

“Vatsa, I find its taste unique. I wasn’t offered this flavor during my previous arrivals on earth. I need nothing, and, therefore,  I come to taste this drink, sheer out of grace, as an offering on part of little Bhakta (devotee) like you”  said the Lord in a hilarious tone.

“Lord, please forgive me!  I am ruled by my desires. That‘s why I dared to offer you tea. However, Lord, if tea vanished from our lives, millions of people across the globe would never get out of their beds! We have become slaves of very things we have discovered!”

They did not drink the tea even as the Lord was eager to empty the cup totally. They arrived at a juice corner and sat there on a bench in a relaxed manner. The staff at the juice corner was asked to serve the juice. The person, who was told to serve the juice, was surprised that I needed one extra glass even as I was all alone! At a close distance was a busy bus stand. Some college going girls had been waiting for the arrival of buses. Like previous days, arrived some youths and started making obscene gestures at them. There were many people present at the bus stand but they preferred to remain mute spectator. But toady something unusual happened. Some men in uniform appeared from nowhere and beat these youths black and blue. They were arrested and taken to police station. The girls and others were quite taken aback as they never found men in uniform intervening in such a timely manner. They like, filmy cops, were used to arrive only after the criminals have left the crime scene.

Carvind stared at the face of Lord and a big smile appeared on his cute face. He realized why the cops had appeared all of a sudden. “Lord, these grown up modern youths do not believe in living life based on values and principles. At next corner, you would find girls and boys consuming cigarette and beer. The cut throat competition has murdered their sensitivity.”

“ My son, every age has got its own peculiar tendencies. The cycle of good and bad actions never stops and as it rotates, it unleashes various effects. You are an enlightened soul, Carvind! You must be aware that Gunas(attributes) constitute character of a human being. When Sattva increases, it brings peace and knowledge. The increase in Rajas creates desires, leading to hectic activities and rise of Tamas creates ignorance, bringing pain and misery. One should always try to increase ones sattva portion in the personality. That also ensures peace and stability in the external world. The change is inevitable and so one should not worry too much about particular condition or happening.”

“Vatsa, now I wish to return back to my abode but before I disappear I would love to meet a real devotee. Carvind took him to home of man in late 40s. He had a wife and three daughters. Though he wanted to have a male child, he had only daughters. He had no source of income and yet he and his family were always found smiling. The girls went to government run school and were talented in many ways. Since the person had gone outside, Carvind and Lord were welcomed by his wife and daughters. His wife was always delighted to find Carvind at his door step and sudden visit has surprised them all. Lord had a close look the home. It lacked many articles required for sophisticated living yet the home looked complete. It had traces of bliss in the atmosphere.  Meanwhile, his wife told Carvind that his husband is retarded in terms of worldly understanding.  He has no idea what it means to live life in practical terms. The people around him treat him to be a fool but it appears he doesn’t feel bad about it. Meanwhile his youngest daughter, Gauri, interrupting the monologue of her mother, sang for us a beautiful devotional song. Her amazing voice left all of us spellbound.  What Carvind really liked about her was that she never said no to singing, even in front of strangers. However, she disliked film music unless it had classical base or really sweet melody. His father has now arrived and seeing Carvind became really happy.

Carvind told him that Gauri had just now sung a beautiful bhajan for us. His father seemed to be pleased but said that she was least interested in refining her voice through regular practice sessions. He stated that Lord has given him enough and though he cannot manage all, he is always in a relaxed state of mind. He never felt he is the actual doer. Lord is driving this body and he noticed that instead of me, Lord has taken better care of his family. Lord’s effort brings greater results than his own individual effort.  And so whenever he has to leave home all of a sudden for a long distance journey, he leaves leaving everything on Lord’s shoulder and when he returns he finds home in lesser mess.  At that point, his wife informed him that, like always, person acting as in-charge of their fields has cheated them by giving less share of the produce! He received the news with smile.  At that point, Carvind and Lord left his room after seeking permission from his family. However, before leaving, this man didn’t forget to compliment Carvind about his eyes and smile and told him that today he found him unusually attractive! “My mother called me this morning son of monkey,” said Carvind. Hearing that not even Lord could prevent himself from giving way to loud laughter! Others were naturally in grip of incredulous laughter.

“Before leaving do teach fitting lesson to my mother. No time for me and not even for herself.  She all the time works and just works. And my father! He is like you in a sense that he is always lost in some thoughts. When he is not thinking that way, he is always writing something. They are always pretty conscious about my monkey business.  Is it a crime to steal guavas from someone’s trees? If I do not steal them, they soon fall on ground and become unfit for eating. I am preventing the fruits from getting wasted and they all perceive it as a monkey business and give me a bad name.”

Lord heard the tale of Carvind with great attention.  He noticed that Carvind has become extremely sad on hearing that he was about to leave. “Do not lose heart. I promise to reside in your heart forever. I would always remain one with you. I know everything, and, therefore, such visits do not mean anything to Me. I come on earth to meet extremely cute children like you-monkeys with sensibility found in cows!  So promise me that you would not act as monkey with a razor not only for this world but also for your parents!”

“ I had to say something to you. You would never drop me from your memory and your heart as you come to live a life based on virtues. In nutshell, move in this world freely with an unbroken remembrance of mine” said Lord as He embraced Carvind in His divine arms.

Carvind bent down to touch his Lotus feet and soon forgot everything. Carvind regained normalcy after few hours. Carvind desperately looked for Him but in vain. Lord had returned to His abode.  As he closed his eyes, Carvind, felt deep peace within his mind and heart. It was sign of His eternal presence. He had vanished to become one with Carvind!

Lord Always Finds A Way To Connect With A True Devotee

Lord Always Finds A Way To Connect With A True Devotee

Pics Credit

Pic One

Pic Two

Pic Two (Internet)

The great Rudolf Steiner Quotes Site

Quotes and fragments from the work of the great visionary, thinker and reformer Rudolf Steiner

Bhavanajagat

Welcome to Noble Thoughts from All Directions to promote the well-being of man through Self-Discovery.

Serendipity

Was I born a masochist or did society make me this way? I demand unconditional love and complete freedom. That is why I am terrible.

John SterVens' Tales

Thee Life, Thee Heart, Thee Tears

Indowaves's Blog

Just another WordPress.com weblog

Una voce nonostante tutto

Ognuno ha il diritto di immaginarsi fuori dagli schemi

Personal Concerns

My Thoughts and Views Frankly Expressed

the wuc

a broth of thoughts, stories, wucs and wit.

A Little Bit of Monica

My take on international politics, travel, and history...

Peru En Route

Tips to travel around Perú.

Health & Family

A healthy balance of the mind, body and spirit

मानसिक हलचल

ज्ञान दत्त पाण्डेय का ब्लॉग (Gyan Dutt Pandey's Blog)। मैं गाँव विक्रमपुर, जिला भदोही, उत्तरप्रदेश, भारत में रह कर ग्रामीण जीवन जानने का प्रयास कर रहा हूँ। ज़ोनल रेलवे के विभागाध्यक्ष के पद से रिटायर रेलवे अफसर।

Monoton+Minimal

travel adventures

Stand up for your rights

Gender biased laws

The Bach

Me, my scribbles and my ego

Tuesdays with Laurie

"Whatever you are not changing, you are choosing." —Laurie Buchanan

The Courage 2 Create

This is the story of me writing my first novel...and how life keeps getting in the way.

A Magyar Blog

Mostly about our semester in Pécs, Hungary.