Category Archives: Ayodhya Case

Godhra Verdict: A Slap In The Face Of Secular Brigade Calling Train Burning An Accident



Godhra Verdict: A Slap In The Face Of Secular  Brigade Calling Train Burning An Accident

The Special court at Ahmedabad put a seal of approval on the “conspiracy theory” involved in the 2002 Godhra train burning incident.  After Ayodhya verdict delivered by the Allahabad high court, the verdict delivered by the Special court has made the secular brigade topsy-turvy.  The Special court has convicted 31 accused while acquitting 63 others with the help of scientific evidence, statement of witnesses, circumstantial and documentary evidence placed on record.  The people involved in the Godhra carnage have been convicted of criminal conspiracy and murder in burning of the S-6 coach of the train on February 27, 2002 near Godhra, which lead to death of 59 kar sevaks returning from Ayodhya after participating in Poorna Aahuti Yagna organized there.

The verdict has brought on the fore the real face of Indian politics, proving that Indian political landscape is held hostage by ugly secular forces, which are hell bent to distort the face of reality. They are involved in sinister designs aimed at creating upheaval in various states,   something proved by the people involved in the promotion of Naxalite movement.  At this juncture,  I wish to recall the uproar which hit the nation when Allahabad high court made it clear that disputed site is Lord Rama’s birthplace.   The secular media shed lots of tears, labeling it a flawed judgment based on faith and not on evidences and reason.  In other words, it provoked the Muslim parties to challenge the verdict in the Supreme court.

It has become need of the hour to expose misdeeds of secular intellectuals -the parasites which breed on macabre.  Ironically, they are the first ones to speak in high terms about honouring the supremacy of judiciary and respecting the verdict of court. However,  this is never the case. The Ayodhya verdict made the secular forces even question the intentions and judicial sense of judges,  which is simply the case of contempt of court.  The harsh reality is that secular forces operating in India,  disguised as progressive forums,  are more interested in pursuing the hate agenda in sophisticated forms. The main purpose of debates initiated by them is not to bring clarity on any issue but to create dichotomy of sorts,  whose end purpose is to show constitutional bodies in wrong light.

Now let’s analyze some of the elements involved in the Godhra verdict.   It would still be in public memories that how eager the UPA alliance was to treat the Godhra carnage as an accident. In fact, Central government forced the State to drop Prevention Of Terrorism Ordinance (POTO) invoked against those arrested, which was later re-invoked.   It went on to form a Committee headed by former Supreme Court judge U C Banerjee to ascertain findings related with the Godhra carnage even as Commission under Commission of Inquiry Act was probing the Godhra incident.  This shows that Congress is mother of appeasement policies.  It can go to any extent to please the Muslims and Prime Minister in Congress regimes can even declare that resources belong to Muslims first.  The way UC Banerjee Commitee was formed is indicative of the fact when it comes to vote-bank politics, the dignity of constitutional bodies becomes subordinate or, for that matter, means nothing.  As expected, the U C Banerjee Committee, sounding more like a political body than a judicial body,  opined train-burning was an accident and there is hardly any evidence to suggest that there was an external attack.

Thanks to the intervention of Gujarat high court , the UC Banerjee Commitee was declared “illegal” and “unconstitutional” since Nanavati-Shah Commission was already involved in fact finding. The Gujarat high court though did not sustain the up holding of POTA and the case regarding it is still pending in the Supreme Court. After the Godhra verdict delivered by the Special court, one can clearly infer that political compulsions have made politicians brutally rape the dignity of constitutional bodies.  Prakash Javedkar sounds right when he says that ” The UPA’s efforts to give a political spin for electoral gains have been debunked. It was an eyewash of a report and completely manipulated.”

Godhra Verdict: A Slap In The Face Of Secular  Brigade Calling Train Burning An Accident

The attempts,  which try to lessen the gravity of the incidents related with Hindu forces, often leave any conscious thinker stunned.   It appears that only injustice done to minorities constitutes injustice!  Rest is mere accident and hence trivial. In fact,  any issue be it Rama Sethu or Temple at Ayodhya or mindless changes in Hindu laws the attempt is merely to humiliate the Hindu forces. The secular governments are ready to lie even under oath in Apex court to appease the minorities! The citizens of India needs to compel such secular bodies to reveal why they always work against the Hindu forces? The Hindus needs to shed their cowardice, which they often wish to be seen as decency. In complex times,  when their opponents are not ashamed to go to any extent to make mockery of Hindu beliefs and ideals,  the Hindus should stop heeding to pretensions of all sorts by being bold and straightforward in their approach.

It’s no secret that even minor incidents related with minorities is blown out of proportion and secular press be it in India or foreign lands leaves no stone unturned in painting Indian constitutional bodies in wrong colour.   Look at the Binayak Sen case. The moment Raipur Session Court held him guilty of sedition, the whole secular forces went berserk. The same shrill cries that virtually fall in the realm of contempt of court became order of the day.  We can see how protest marches , debates and campaigns are being organized to make mockery of the verdict.

Godhra Verdict: A Slap In The Face Of Secular  Brigade Calling Train Burning An Accident

It would be interesting to note that Chattisgarh High court rejected the bail plea when it was brought to its notice that Sen had strong links with the Maoists and that “the documents seized and the circumstances in totality qualify for the requirement for conviction on the charges of sedition.” The High court refused to accept the arguments, which suggested the case to be “a case of no evidence” and “political prosecution”.  However, the secular forces, barking like the mad dogs, are engaged in spreading lies and concoctions about the whole case with an appeal to exhibit Egyptian like perseverance.  True, the Indian courts have no right punish a man involved in seditious activities and , therefore, a revolution is needed to sabotage the constitutional bodies like courts.

Summing up, I wish to state that it’s time to teach a fitting lesson to all the organizations whether involved in media groups or operating in various capacities which try to create false impressions pertaining to the Hindu interests and causes.  The Godhra verdict is a slap in the face of secular brigade, which tried it to project the train burning as an “accident”.  The conscious citizens need to ponder over as to why anything remotely connected with Hindus becomes object of ridicule even when it involves brutal killings?  The world shed lot of tears over the riots that hit the Gujarat after the Godhra carnage but loss of 59 kar sevaks meant nothing.  It never became object of discussion in secular press other than that it was insignificant happening.

In fact, the secular press is not ready to digest the fact that Gujarat riots were directly triggered by Godhra carnage but at the same time the same secular minds believe that Godhra carnage was inevitable since gestures of kar sevaks gave wrong impressions. In other words, VHP’s fundamentalists policies resulted in the death. Such twisted and biased conclusions can be readily intercepted in the secular literature.  In words of one prominent journalist ,the case is simple: Hindus provoke, Muslims suffer. That’s the impression, which the secular press wishes to project all the time.

In other parts of world, the massacre is condemned in strongest terms.  Even the killings of Muslims in Gujarat generated strong response.  However, the massacre of Hindus needs not to be condemned.   It  needs to justified in subtle ways. It needs to be seen as some ‘consequence”.  It needs to be seen as mere “accident”.   How long will that be the case in India ? Any answers ?

Godhra Verdict: A Slap In The Face Of Secular  Brigade Calling Train Burning An Accident

References:

Godhra Verdict

Godhra Happenings

Ayodhya Verdict

Binayak Sen Case

Rama Sethu Controversy

Pic Credit:

Pic One

Pic Two

Pic Three (Members of families killed in the Godhra Carnage)

Pic four

Random Thoughts In The Aftermath Of Shahi Imam’s Public Thrashing Of A Reporter

Shahi Imam Bukhari :Controversy Lover !!

Shahi Imam Bukhari :Controversy Lover !!

Recently, Shahi Imam of Jama Masjid Maulana Ahmed Bukhari manhandled a scribe at a press conference held in Lucknow.Some choicest abuses were hurled at Mohammed Wahid Chisti, editor of `Dastan-e-Awadh’, when he dared to remind Maulana that land depicted in the Ayodhya verdict,in actuality,belongs to the Hindus.

Shahi Imam Bukhari is a controversial figure in Indian political landscape.Making wayward statements and fueling the fire via inflammatory gestures during the time of crisis has been the favourite pastime of this man.A former Parliamentary Affairs and Urban Development Minister and a firebrand Muslim leader Azam Khan once hailed him as an “illiterate person“.No wonder he has always been head on with people around.Jamait Ulama-a-Hind leader and Vice President of Uttaranchal’s 15 Points Implementation Programme Maulana Masood Madani sometimes back hailed him as “biggest terrorist of India”.

“The government is not doing anything after having all relevant details about terrorists. Two months ago, I had intimated the government through a separate copy of letter to the Prime Minister that India’s biggest terrorist is Shahi Imam Ahmed Bukhari. Why is government not doing anything to arrest him? He is the one who is responsible for the bomb blasts in Jama Masjid and Srinagar. He has contacts with all the terrorist agencies. He has also threatened to kill us. Our information is correct. Even the government and the CBI have information about the same. Government is only responsible to support the terrorist in this country,” said Madni

Had the same act been done by RSS leader,the media and the other leaders like Rahul Gandhi would have issued fatwa to ban the RSS !! Shame on likes of Rahul Gandhi who feel that RSS and SIMI are one and the same.Why can’t his secular eyes see that home grown terrorists are the by product of mindset owned by these leaders who feel that laws of Shariat or the Islamic percepts are above all written constitutional provisions ?

The same Rahul Gandhi and incompetent Congress Ministers are pretty helpless the way anti India elements in Kashmir rule the roost.His heart doesn’t bleed for souls wiped out in Kashmir each day.On the contrary,we find him engaged in bloody secular concerns that makes calling SIMI and RSS a same type of organization a political necessity in our times.It’s a real shame that many perceive him as future prime minister.Cry My Beloved Country !! Just cry over your fate !!!

                            

Rahul Gandhi :Promoting So -Called Secularism !!!

Rahul Gandhi :Promoting So -Called Secularism !!!

सेकुलर आत्मा को पत्र: जो राम से जुडी बात करते है वे असल बास्टर्ड होते है !!!!

Thoughts are like waves on the surface of ocean

Thoughts are like waves on the surface of ocean

आराधनाजी, 

मै कोशिश करूँगा की आपको संक्षिप्त सा जवाब दू और वो भी हिंदी में. अंग्रेजी  में देता हू तो ” misinterpretation” का खतरा मै नहीं उठाना चाहता.संक्षिप्त इसलिए की तर्कों और स्वास्थ्य बहस के दरकार के वाबजूद आपको खीज और उलझन होने लगती है जब कोई अपना दृष्टिकोण आपको समझा रहा होता है खासकर तब तो और ज्यादा जब आप किसी बहस में पूरी तरह से “marginalized ” हो चुकी हो  “lack  of substantial  viewpoint ” की वजह से.
 
मुख्य बिंदु पर आने से पहले  इस भ्रम को मै तोडना चाहता हू की हम मित्र के श्रेणी में आते है. माफ़ करिए आप जैसे “बिन पेंदी के लोटे ” के बुद्धिजीवी के साथ मेरी नहीं निभ पाएगी कभी.नाराज़ न हो हम आपको और सब हिंदी भाई लोग को “empirical evidence ” देते है आप को बिन पेंदी का कहने के लिए. प्रमाण देने से पहले सिर्फ इतना ही कहूँगा आप अफ़सोस न करे की आपने अपने मित्रो के श्रेणी  में रखा.निकाल के बाहर कीजिये मुझे दूध में मक्खी की तरह. इस तरह का भ्रम न पाले हम मित्रवत रह सकते है. One cannot serve both God and Demon toegether !!!
 
आप को मेरे  Arvind Mishraji  के पोस्ट पर कमेन्ट में “ fucking bastard ” शब्द पर आपति है.होनी भी चाहिए.मुझे आपसे ज्यादा है क्योकि मैंने उसका इस्तेमाल किया है.जुबान मेरी  गन्दी हुई आपकी नहीं.आप तो साफ़ सुथरी ही रही न. ये आपको कमेन्ट में तो दिखाई नहीं पड़ा की मुझे कितना अफ़सोस है इस्तेमाल करने का. और न यह दिखाई पड़ा की मेरे शब्द का ” operative clause ” वो “bastard ” शब्द नहीं वरन वो हिस्सा है जहा पे ये पूछा गया है की क्या JNU से निकलने वाले बुद्धिजीवी का मकसद यही है की जहा प्रॉब्लम न हो वहा प्रॉब्लम  पैदा करना. आप जैसे अयोध्या प्रकरण पर बेसिर पैर की बात करने वाला जो बार बार सिर्फ दिखावे के लिए स्वस्थ्य बहस की बात कर रहा हो अच्छा होता की बास्टर्ड शब्द से ज्यादा आप यह सोचती की आप जिस institution का प्रतिनिधत्व करती है उनका काम केवल भ्रम फैलाना ही क्यों रह गया है ?
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                     खैर आपको अफ़सोस हो रहा है न.  मै पूरी इमानदारी से माफ़ी मागता हू. वापस लिया मैंने शब्द. इतने से भी आप खुश नहीं तो चलिए हम है   बास्टर्ड और blockhead !! अब जाये अपने सेकुलर बिरदारी में.  क्योकि स्वस्थ्य बहस  सिर्फ वो करते है. तर्क वो देते है. इतिहास और कानून सिर्फ वो जानते है और हा संस्कारमय भाषा तो केवल सेकुलर आत्माएं करती है. जब से देश में सेकुलर आत्माएं आई है तभी से स्वस्थ्य बहस और संस्कारमय भाषा की उत्पत्ति हुई देश में  और उस में अरविन्द शेष जैसे लोग उस संस्कारमय भाषा  में अपने copyrighted पवित्र गलियों से उस भाषा का विकास कर रहे है. सेकुलर आत्माए जब गाली  करते है और हम जैसे लोगो को तो छोड़िये जब हमारे पूज्य लोगो को गाली देते है तो वो गाली कहा रह जाती है. वो तो आशीर्वाद के वचनों से ज्यादा पवित्र है.  उस में तो कई सारा सच छुपा रहता है.    हम जैसे देशभक्ति का दिखावा करने वाले  अगर इस्तेमाल करे तो उस से किसी सत्य या किसी बिडम्बना का बोध नहीं होता. 

खैर छोड़िये “closed mind ” रखने वालो  से मुझे कोई उम्मीद नहीं कि अपने सीमित समझ से ऊपर उठकर उनको कुछ और समझ आएगा. अगर गाली निकल भी गयी तो इसलिए ही निकली कि  आराधना जैसे दिमाग से जो की मौलिक  चिंतन कर सकते है किसी भी विषय पर वो भी वोही राग अलाप रहे जो कि  दकियानूसी दिमाग अलाप रहा है. मैंने तो जो रोमिला थापर से कहा वोही आराधना जैसे लोगो से भी कहूँगा कि अगर भ्रम ही फैलाना है तो कम से ये तमाशा बंद कर दे की आप सच बोल रहे है. एक इतिहासकार से ये उम्मीद की जाती है कि इतिहास की सही तस्वीर पेश करे मगर उसने अगर भ्रामक तस्वीर को मौन सहमती दे रखी  है तो यह उम्मीद  न लगाये हम जैसे लोगो से की निगल ले उनकी बातो को ठन्डे दिमाग से. आप को अफ़सोस हो रहा न  कि मैंने यह शब्द क्यों इस्तेमाल किया.जरा सेकुलर लोग जो केवल स्वस्थ्य बहस करते है और वो भी गरिमामय भाषा में देखे  क्या कहा  है उन्होंने पूज्य लोगो के बारे में. अपने को जस्टिफाय नहीं कर रहा बस आपको याद दिला रहा हू.
 
सुभाष चन्द्र बोस   क्या थे ? “ Traitor” and “ Quisling”. आई एन ए (INA) क्या था ? ” The army  headed by Capt. Lakshmi Sehgal was  hired Bose army of rapists and plunderers”.  “Army of ‘ Tojo and Hitler’ and a diseased limb of India which had to be amputed…Bose was also Fascist “. गाँधी  क्या  थे  ? ‘‘ Agent of imperialism’’.  नेहरु क्या थे ? ‘‘ The running dog of capitalism’. छोड़िए इन बातो में क्या दम है.पुरानी बाते है ये सब. अरविन्द शेष जैसे लोग  स्वस्थ्य बहस को नए आयाम दे रहे उसमे मस्त रहे न हम लोग. हम तो केवल गाली देते है (क्योकि हम तो नाकाबिल  लोग है जो न तथ्य दे सकते है और न तर्क )  जिसको सेकुलर भाई लोग प्रेम से स्वीकार करते है और सब मंच पे घूम घूम के प्रचार करते है देखो हम कितने उन्नत लोग है !!
 
कुछ  देर पहले मैंने कहा था आराधनाजी बिन  पेंदे  के  लोटे की तरह है. क्यों कह दिया भाई!! कहा है empirical evidence “ जिसकी मै बात कर रहा हू. अभी  अयोध्या प्रकरण की बात हो रही है. इसी प्रकरण से दे रहा हू एम्पिरिकल एविडेंस. अभी अयोध्या वर्डिक्ट को आये कुछ घंटे भी नहीं हुए थे और जब पूरी दुनिया उस वर्डिक्ट को prima  facie समझने की कोशिश कर रही थी तो आराधनाजी  buzz पर पहली प्रतिक्रिया क्या दी यह देखे :
 
  ” न्यायालय का फैसला तो मुझे भी रास नहीं आया…मैं माननीय न्यायालय के प्रति पूरा सम्मान रखते हुए ये कहती हूँ कि फैसला अगर धर्मनिरपेक्ष होता तो ज्यादा अच्छा था…तुष्टीकरण से कोई हल ना निकला है ना निकलेगा…यहाँ वोट की राजनीति के कारण सभी धर्मों के तुष्टीकरण की नीति चलती है… एक न्यायालय से उम्मीद थी तो वो भी… “
 
चलिए भाई इस देश में “freedom of   expression ” है. आपने बहुत पते की बात कह दी.पर ये क्या कि जिस JNU के लोगो के विद्वता  का गुण गान सुनने को अकसर मिल ही जाता है उसको ये मालुम ही नहीं न्यायलय ने फैसला एक “title suit ” में दिया है और महेशजी को आप को उसी बज्ज़  पोस्ट  यह बताना पड़ा “आराधना यह एक न्यायिक फैसला है जहां मुद्दा जमीन के हक़ का था, भावना का नहीं, की अदालत जो चाहे फैसला दे दे”.पर आप ने वक्तव्य दे मारा. भाषा वही घिसी पिटी जैसे सेकुलर ब्रिगेड वाले देते है.यहाँ एक विद्वान्  JNU research scholar ने अपना दिमाग गिरवी रखकर  सेकुलर ब्रिगेड के इस सुर में सुर मिलाया किया कि यह प्रकरण  आस्था का विषय नहीं  अच्छा किया आपने. जिस देश का सारा इतिहास ही आस्था से सरोबर रहा हो वहा आस्था का कोई महत्व ही नहीं! सही बात कही आपने.  
 
इन्होने पोस्ट कौन सा reshare किया.जनाब समर अनार्या का. कहा से है ये  समर  अनार्या जी बताने की शायद जरूरत नहीं. अब ऐसा खास क्या कहा गया है समर की पोस्ट पर जिसकी वजह से शेयर किया इन्होने यह देखे. समर भाई अपने पोस्ट में लिखते है “ पर शमशानों और कब्रिस्तानों की पाकीजगी के बाद भी, अगर मरने वाला इन्साफ जैसा कुछ हो तो? क्या ये पाकीजगी इन्साफ को, जम्हूरियत को यहाँ तक की इंसानियत को दफ़नाने के लिए काफी पड़ेगी? शायद नहीं. और इसीलिए, हाई कोर्ट का कल का फैसला कम से कम एक मामले में बिलकुल ठीक है कि इन्साफ को दफ़नाने के लिए बाबरी मस्जिद की शहादतगाह से बेहतर जगह और क्या होती?” पढ़ा तो लगा कि  पाकिस्तानी न्यूज़ चैनल वाले विश्लेषण कर रहे है.
 
 इसके बाद आराधना जी कहा पहुची. अरविन्द शेष के दरबार में.ये वही है जिन्होंने इसी buzz  में  रोमिला जी और किसी सिद्धार्थ वरदराजन के लेख का उल्लेख किया है. इन दोनों में क्या कहा यह हम पढने वाले लोगो को पता है. वहा पे मै पंहुचा था तो स्वस्थ्य बहस देखकर गदगद हो गया. वहा सेकुलर और अन्य भाईलोग क्या कह रहे है इससें ज्यादा जरूरी है की शेष भाई के लेख में क्या था यह भी देखे और आराधना ने सुर क्या बदला है वो भी देखे. शेषजी जैसे बेबाक विचारक का अपने लेख ” आइए, अयोध्‍या पर इस अदालती फैसले का विरोध करें” में कहना है ” इस बात से गाफिल इस फैसले पर खुश होने के बजाय सोचने की जरूरत है कि बेईमानी की बुनियाद पर इंसाफ की इमारत खड़ी नहीं की जा सकती. ” इस पर  दूसरी विद्वान्  विचारक आराधनाजी  ने क्या कहा : “मुझे जो बात सबसे ज्यादा जो बात अखरी है वो है ‘आस्था’ का प्रश्न. देश के इतिहास में ऐसे सैकड़ों धर्मस्थल तोड़े गए, पर वो लोकतंत्र में नहीं हुआ. देश की लोकतांत्रिक व्यवस्था के अंतर्गत एक धर्मस्थल तोड़ दिया गया क्योंकि वह किसी दूसरे धर्मस्थल के अवशेषों पर बना था. और न्यायालय द्वारा इसे आस्था का विषय मान लिया गया. तब तो इसी आधार पर बहुत से गड़े मुर्दे उखड़ेंगे.”.
 
ये बार बार याद  दिलाने पर भी कि  अयोध्या प्रकरण पर जो फैसला है वो एक “title suit “था जिस पर माननीय न्यायलय ने कई क़ानूनी बिन्दुओ पर विचार कर फैसला दिया है इन्होने फिर वही “आस्था ” का रोना रोकर विधवा विलाप किया बाबरी विध्वंस का. ये एक JNU में उपस्थित विद्वान्  विचारक के  विश्लेषण का नमूना है जिसका गुणगान अमरेन्द्र भाई ने किया है !!! मतलब भाड़ में गया न्यायलय का फैसला हम तो वही कहेंगे जो सेकुलर ब्रिगेड कह रहा है. वही सेकुलर ब्रिगेड जिसकी कहानी बाबरी से शुरू होकर बाबरी के ध्वंस होने तक ही है.इतिहास  सिर्फ  यही है. बाकी हम जैसे कमीने जो अयोध्या के बारे में जानते है या बता रहे है वो तो कमीनापन है या जरुरत से ज्यादा देशभक्त बनने की कोशिश है.
 
फिर आराधनाजी  कहा पहुची. अरविन्द मिश्राजी के यहाँ. संयोग से कही से लिंक इस लेख का मुझे भी मिल गया. मिश्राजी क्या विचार रखते है यह हमको पता है. यहाँ पे वजह चाहे जो भी हो हल्का सा सुर बदल दिया. हा इसके पहले इन्होने अपने बज्ज़ पर बड़ा दुःख प्रकट किया स्वस्थ्य बहस नहीं हो रही है और लोग सेकुलर ब्रिगेड  को गरिया रहे है ,सेकुलर लोगो को देशद्रोही कह रहे है, सेकुलर लोग जो की वास्तविक देशप्रेमी है उनसे अधिक कोई अपने को देशभक्त साबित कर रहा है अपने को..इत्यादि इत्यादि.
 
खैर ये मिश्राजी के यहाँ पहुची. यह पर क्या सुर बदला देखिये : ” मेरा सोचना थोड़ा अलग है. मुझे लगता है कि मंदिर-मस्जिद दोनों बने से अच्छा था कि ना मंदिर बने ना मस्जिद, उस विवादित भूमि का सरकार द्वारा अधिग्रहण कर लिया जाता. पर माननीय न्यायालय का निर्णय है, उसका सम्मान करना चाहिए. असंतुष्ट पक्ष सर्वोच्च न्यायालय में जाने के लिए स्वतन्त्र है.”  इस पर गिरिजेश राव ने सही ही जोड़ा ”मुक्ति जी (मतलब आराधनाजी) ने मन्दिर मस्जिद एक ही जगह होने का विरोध कर मेरी सोच को सहारा दिया है। उससे आगे यह कहना है कि अधिग्रहण के बाद सरकार सोमनाथ मन्दिर की तर्ज पर वहाँ मन्दिर बना दे। अधिग्रहण के बाद सरकार सोमनाथ मन्दिर की तर्ज पर वहाँ मन्दिर बना दे।“
 
एक तरफ तो माननीय न्यायलय के प्रति सम्मान जताया जा रहा  ” न मंदिर बने न मस्जिद” यह कहकर  और दूसरी तरफ शेष और समर जो न्यायलय के निर्णय की ऐसी की तैसी कर रहे है वहा भी उपस्थिति दर्ज करा दी. मिश्राजी के पोस्ट पर यह दर्शा तो दिया की फैसले का सम्मान करो पर असंतुष्टि भी दर्ज कराओ. भाई वाह !! वक्फ बोर्ड असंतुष्ट हो या न पर सेकुलर ब्रिगेड अपने चैनल से यह सन्देश उन तक जरूर पंहुचा रहा है  कि फैसले को सुप्रीम कोर्ट में जरूर चैलेंज करो क्योकि आस्था के नाम पर दिया गया फैसला खतरनाक है. चुको मत नहीं तो हम सेकुलर इतिहासकार या JNU की उपज क्या मुह दिखायेंगे. हमारे द्वारा लिखित वास्तविक इतिहास का क्या होगा. क्यों होगा रोमिला, इरफ़ान हबीब, लाल बहादुर वर्मा बिपन चन्द्र , के न पणिक्कर , स. गोपाल, हरबंस  मुखिया,  आर स शर्मा, सुशील  श्रीवास्तव और  असग़र अली इंजिनियर इत्यादि द्वारा रचित इतिहास के नाम पर  पैदा किये भ्रमजाल का .
 
किसी पाठक का यह कहना  सही लग रहा है :” आज जनसत्ता में सतीश पेडणेकर ने लिखा है कि -सारे वामपंथी बुद्दिजीवियों और इतिहासकारों के लिये अयोध्या का फैसला एक करारा झटका है. इससे उनकी सारी दलीलों और इतिहास की समझ पर सवालिया निशान लग गया है. यही वजह है कि अब वे हाईकोर्ट के फैसले  पर सवालिया निशान खड़े कर रहे हैं.”
 
 एक समर भाईसाहब है जब तब आराधना  के  पोस्ट पर प्रकट हो जाते है. अयोध्या प्रकरण पर समर भाई फरमाते है किन हिन्दुओ ने कहा है कि अयोध्या में जो रामजन्मभूमि है वो उनकी आस्था का आधार है. ये समर भाई की  अपनी सोच तो खैर नहीं है. ये हिन्दू के सिद्धार्थ भाई की सोच है जो यह अपने लेख में  पूछ रहे है कि जिन हिन्दुओ ने अपनी आस्था प्रकट की  है रामजन्मभूमि में उस आस्था को  कैसे “ascertained “ और “measured ” किया गया.क्या बात पूछी है हिन्दू के इस लेखक ने. जब तक कोई ऐसा यंत्र ढूढ़ ले लाता है  मै यह सोच रहा हू कि जल्दी से हम सब लोग कितनी बार हगते मूतते है इसका हलफनामा तैयार करवा के रख ले .न जाने कब सेकुलर ब्रिगेड के तरफ से एम्प्रिकल एविडेंस के नाम पर हमे दिखाना पड़े और अगर हम न दिखा पाए तो ये तय है कि हम कभी आज तक न हगे और न मूते. सही बात है सत्य वोही है जो दस्तावेज में है. आस्था तो दस्तावेज में दर्ज नहीं है. जो दर्ज/प्रमाणित  नहीं वो खारिज.
 
एक श्रीकृष्णजी  थे जो गीता में व्यर्थ ही लिख गए: नास्ति बुद्धिर अयुक्तस्य
न कायुक्तस्य भावना
न काभावायतः शंतिर
असंतस्य कुतः सुखं। (अध्याय दो ,शलोक ६६)
 
बेचारे कह गए कि भावना का निवास नहीं तो शांति नहीं और शांति नहीं तो सुख भी नहीं.अब सेकुलर भाई लोगो  की  बात मानकर आस्था जो कि पवित्र भावनाओ  की  समष्टि है को अगर गोल कर दे तो देश तो हो गया अशांत.
 
 सेकुलर भाई लोगो  का धर्म निरपेक्ष होना तो यह कहता है कि पहले जितने हिन्दू स्थल है उनको इस्लामीकरण कर दो विवादित बता कर या अपने  copyrighted  इतिहास के पन्नो से  प्रमाण निकालकर  मुस्लिमो को सौप दो. ये  काम  आसान  कर  गए  वे लोग जो हिन्दू मंदिरों के बगल या उसी के ऊपर मस्जिद का निर्माण करके. चूकि मार्डन  इंडिया में  धर्म निरपेक्ष  कि परिभाषा ये कभी नहीं कहती खासकर सेकुलर परिभाषा कि मुसलमान भाई हिन्दुओ को उनकी आस्था का केंद्र रहे प्रमुख स्थल जैसे मथुरा,काशी  और अयोध्या पूरी तरह सौप दे इसिलए  हिन्दू लोगो को अगर कानून  उनकी विरासत पूरी तरह से  सौप भी दे तो ये हिन्दू भाइयो  का नैतिक फर्ज बनता है कि वे  इनको मुसलमानों को दे दे. अगर  ऐसा न होगा तो  इस देश का धर्मं निरपेक्ष  ढांचा  ही खतरे में पड़ जाएगा .
 
इसिलए आराधना का किन्तु परन्तु करना, फैसले को गलत बताना, आस्था को खारिज करना,किसी को भी नहीं सौपना पर फिर भी असंतुष्ट पक्ष को न्यायलय जाने कि सलाह देना और कुछ नहीं वरन इसी सेकुलर ब्रिगेड के तमाशे को जारी रखने का उपक्रम भर है. वक्फ बोर्ड अदालत जा रहा है . सेकुलर ब्रिगेड  खुश हो जाए.जितने दिन ये आपस  में उलझे रहेंगे हम सेकुलर भाई लोगो कि दुकान तो चलती रहेंगी. अगर सब फैसले ये आपस में या न्यायलय के द्वारा सुलझा लेनेगे तो हमारे पास क्या  काम रह  जायेगा सिवाय  कंपनी बाग़ में जाके घास छीलने के.
 
ठीक आराधनाजी पहला काम तो यही करे कि पहले हमे दूध की मख्खी तरह मित्रो की लिस्ट से बाहर करे. क्योकि हम जैसो के पास  विशुद्ध इलाहाबादी बकैती के आलावा क्या धरा है.आप सेकुलर लोगो की आदर्श कंपनी में रहे.ज्यादा अच्छा हो की सब JNU वगैरह से हो. क्योकि स्वस्थ्य बहस,तर्क, इतिहास, ज्ञान, ज्ञान की शुद्ध मीमांसा इत्यादि सब सिर्फ सेकुलर ब्रिगेड में मिलती है. और हा एक असल चरित्र  नाम की भी चीज़  सिर्फ सेकुलर ब्रिगेड के पास है.
 
गलत शब्द कह दिया JNU के लोगो को. अब क्या करे. चलिए आप को ही साष्टांग प्रणाम करके माफ़ी मांग लेते है.पाहिमाम  !!! अब क्या बचा. अमेंडमेंट करते है. संशोधन!! जो राम से जुडी बात करते है वे असल बास्टर्ड होते है !!!!
 
अब आप खुश है न आराधनाजी.
 
मै तब तक ये सोचता हूँ क़ि मैंने  ये शब्द  क्यों कहा. नंदन जी की पंक्ति  का स्मरण हो  रहा है: किसी नागवार  गुजरती  चीज पर मेरा तड़प कर चौक  जाना, उबलकर फट पड़ना  या छटपटाना मेरी कमजोरी नहीं है मै जिंदा हू इसका घोषणापत्र  है “
 
*********************************************************************
यह  है  वो  कमेन्ट:

 It’s a brilliant logical rebuttal Arvindji 🙂 Hats off ! Unless the Hindu community wakes up from slumber of ignorance and learns to offer logical explanations in this aggressive fashion, the blockheads from JNU and other institutions will keep on barking like a mad dog..

There is a reason why these fucking bastards from these institutions have gained grounds.(Sorry ! I never use hardcore expressions but then it’s demand of time.) It’s because we Hindus never learnt the art to offer logical rebuttals in an aggressive way. We remained confined to our drying rooms treating ourselves to be cultured creatures. No wonder we have developed the art of seeing cowardice as a positive gesture!!!

One thing more the government should shut down institutions like JNU.What’s the need of these acamedicians from such institutions if all they have learnt is to offer distorted image of the past ? Whatever be the issue,they lose not time to offer perverse logic? Or should I come to infer that the role of an intellectual or an academician is to create a problem where none exists ?”

 http://mishraarvind.blogspot.com/2010/10/blog-post_03.html
 
 *****************************************************************
               *The Aftermath Of Remark*
 
An explanation in a comment form got potsed by me on Mishraji’s post on Oct.07,10 :
 
*************************
                 Part  I
 
@Arvind Mishraji
 
I appreciate the way you have taken note of my remarks on your post. At least, you bothered to trace the cause of such outburst. Believe me I am more hurt when I deliver such a remark. It’s rarest of rare case for me. Whether the concerned souls were affected or not, I am definitely theone who is most affected. May be the roots of such remark lies in the words of Nandanji : किसी नागवार गुजरती चीज पर मेरा तड़प कर चौक जाना, उबलकर फट पड़ना या छटपटाना मेरी कमजोरी नहीं है मै जिंदा हू इसका घोषणापत्र है “
 
A reader on your post has strongly reacted to my usage of such a harsh term for the JNU scholars. I didn’t find it fit and proper to post an explanation on your post. A separate explanation as an article : सेकुलर आत्मा को पत्र: जो राम से जुडी बात करते है वे असल बास्टर्ड होते है !!!! ” has been posted on wordpress.Have a look at this article.I never thought that part two of Ayodhya’s Hindi article would attain this shape. I was busy giving shape to another article in English on the same issue exploring the verdict from purely legal perspective but the strange turn of events led to this present Hindi article.  ( Link: wp.me/pTpgO-1Q )

You have rightly pointed out that there is no need for me to paint all the acamedicains of JNU in one colour. True, doing so will be a logical fallacy of serious type wherein on the basis of few you enter into universalization ! However, having said that, I should point out just two examples to highlight the nefarious designs of JNU professors. It’s really strange that when Naxalites brutally murderded the policemen at Dantevada some months ago,there was celebration going on in some corner of the JNU amidst slogans like ” ‘India murdabad, Maovad zindabad’.   Great Act! Such by products will shape the future of India in big way, the Karat way !!! 

 **************
                                                            Part II
 
   In December 1990, the leading JNU historians and several allied scholars, followed by the herd of secularist pen-pushers in the Indian press, have tried to raise suspicions against the professional honesty of Prof. B B Lal and Dr. S P Gupta, the archaeologists who have unearthed evidence for the existence of a Hindu temple at the Babri Masjid site. Rebuttals by these two and a number of other archaeologists have received minimal coverage in the secularist press.

I have been thinking of the behavior of our Marxist friends and historians, their unprovoked slander campaign against many collegues, hurling abuses and convicting anyone and everyone even before the charges could be framed and proved. Their latest target is so sober and highly respected a person as Prof. B B Lal, who has all his life never involved himself in petty politics or in the groupism so favorite a sport among the so-called Marxist intellectuals of this country. But then slander is a well-practised art among the Marxists.”
 
(Source:
Negationism in India – By Koenraad Elst p. 37 – 41)

”Whites appoint Indian proxies to let them pull strings from behind the scenes, but through such intermediaries, they impose their epistemologies, institutional controls, awards and rewards, all in the name of universal thought. “
  Source: Hindu Wisdom

************************************************************

“Rao had set up an Ayodhya cell in his office, headed by Naresh Chandra. In an interview to this reporter in October 1992, Chandra was strongly critical of the attempts made by a team of Jawaharlal Nehru University (JNU) professors to prove historically that Ram was not born in Ayodhya. “Progressive historians (like Romila Thapar, S Gopal and others) are more keen to present their modern, secular credentials.They want to sound superior and informed, but we find their writings opinionated and argumentative.”

He added: “We would be rejecting history if we were to say that for the last 400 years (since Mir Baqi, a Shia from Iran, built a mosque at the disputed site), Hindus and Muslims have been living happily and sharing the same building for puja and namaz. There has obviously been a temple here. Whether it belonged to Ram or someone else, we don’t know because there isn’t enough data. But the fact is there have been bitter conflicts over this place, and we cannot brush this aside, as the JNU professors have done.”

Source: Business Standard

************************************

 

 

 

खिसियानी बिल्ली खम्भा नोचे

                                       

Cause Of Worry For The Secular Brigade

Cause Of Worry For The Secular Brigade

 

अयोध्या प्रकरण में इलाहबाद हाई कोर्ट के निर्णय ने सेकुलर खेमे में हलचल मचा दी है..स्वाभाविक है ऐसा होना.उनके बिरदारी के लेखक ऐसे ही विक्षिप्त हो जाते है अगर कोई चीज़ हिन्दुओ के पास लौट आती है.खेद इस बात का है के JNU के लोग अपने तथाकथित बौद्धिक ज्ञान जो क़ि कुछ ऐसा ही ज्ञान होता है जैसा की खजूर के पेड़ के नीचे छाया की तलाश करना पर इतराते बहुत है मगर हैरानगी इस बात है क़ि अयोध्या प्रकरण पर जितना दिमाग लगाने क़ि हैसियत रखते है ये सेकुलर बुद्धिजीवियों उतना भी नहीं लगा पाए.लिहाजा बचकाने तर्क पर उतर आये..कह रहे है निर्णय राजनैतिक है,निर्णय तथ्यों पर नहीं है,आस्था इतिहास पर हावी हो गयी इत्यादि .    

कुछ लोग जबरदस्त धर्मं निरपेक्ष हो गए है फैसला आते ही.क्योकि भाई फैसला हिन्दू हितो क़ि रक्षा जो करता है उनकी नज़र में. फैसला क्या है यह समझने क़ि फुर्सत नहीं.इसका मातम जरूर मनाने बैठ गए फैसला गलत आ गया.ठीक है फैसला गलत है.रोये इस पर.यह नहीं हुआ क़ि निर्णय का आधार क्या बना इसका ठीक से अध्यन करते लगे न्यायपालिका को गरियाने.भाई बिल्कुल गलत हो गया लगे छात्ती पीटने !! कैसे गलत हो गया?बस कुछ लेख उनके समर्थित अखबारों में जो छपे और कुछ कुतर्क जो उनके दिमाग में उठे उनके बल पर.अब सही न्याय कहा होगा.सुप्रीम कोर्ट में होगा .ठीक है यहाँ का भी न्याय आजमा लो.यहाँ भी कुछ जब न मिले तो इसको भी गरियाना .फिर संसद में जाना .हो सके तो मुसलमानों की संतुष्टि के लिए अन्तराष्ट्रीय कोर्ट में भी दस्तक दे देना. शाहबानो में क्या हुआ ? सुप्रीम कोर्ट का न्याय न्याय नहीं लगा.चले गए संसद.वहा से मनमाफिक हो गया.हो गयी धर्मंनिरपेक्षता की जीत !!!हिन्दू अगर यही हरकत करे तो फ़ास्सिस्ट कहलायेगा !!! सनद रहे हमारे देश में  धर्म निरेपक्षता की परिभाषा है हिन्दुओ को हर बात पे गरियाना और मुसलमानों के हर नाजायज़ हरकतों को जायज़ ठहराना..जो जितना अधिक कोस लेगा हिन्दुओ को वो उतना ही अधिक धर्मनिरपेक्ष आत्मा कहलायेगा !!!   

 एक नेता जिसको अचानक फैसले के दो दिन बाद याद आता है क़ि मुसलमानों के साथ बड़ा अन्याय हो गया हम समझ सकते है उसकी बौखलाहट पर ये बुद्धिजीवियों का बिल्ला लगाये लोगो को क्यों खल रहा है निर्णय ..ये तय है यही बिरादरी अभी न्याय प्रक्रिया का गुणगान कर रही होती अगर कोर्ट ये कह देता क़ि ये मस्जिद है.तब देखते इनके बयान .अब इनको रोमिला के लेख,भाजपा क़ि तथाकथित ASI टीम और खुद के मनगढ़ंत तर्क ही याद आ रहे है.   

खैर इनकी दशा खिसियानी बिल्ली खम्भा नोचे वाली हो गयी है.अल्लाह इनको इनको सन्मति दे.रामजी तो है ही नहीं तो सन्मति क्या देंगे !! और क्या कहू..फिलहाल मै अपने तर्क तो जहा रखना है वहा तो रखूँगा ही बल्कि रख ही चुका हू किसी फोरम पे .इस वक्त मै तो कुछ प्रतिक्रिया रखूँगा जो मैंने हिंदी ब्लॉग क़ि दुनिया से उठाया है..कोई ख़ास मकसद नही इनको प्रस्तुत करने का पर सोचा रख ही दू.शायद किसी का भला हो जाये.मै तो यही सोच रहा हू.सबको सन्मति दे भगवान..कम से सेकुलर आत्माओ को जरूर दे दे :-))   

 **********************************************    

नीचे प्रस्तुत टिप्पणिया इस लेख से ली गयी है जिसका लिंक है :  

http://mohallalive.com/2010/10/01/arvind-shesh-react-on-high-court-decision-about-ramjanmbhoomi/  

*******************************************************  

तुम्हारे दु:ख का साथी said    

इस मोहल्ले का दु:ख समझा जा सकता है। तुम्हारे उम्मीदों के विपरीत देश में आज शांति है। देश के हिन्दू और मुसलमानों ने इस फैसले पर भाईचारा दिखाकर एक शानदार मिशाल पेश की है। देश को कॉमनवेल्थ की शर्म से निकलकर गर्व करने का मौका दिया है। तुम राष्ट्रदोहियों को भला ये कब अच्छा लगने लगा। किसी का भी कभी भला न चाहने वालों इतना न जलो-भूनो, मुंह काला हो जायेगा। ***************    

KKC    

अरविन्द शेष जी, हिन्दुस्तान तुम्हारे जैसे लोगों की वजह से ही सुलग रहा है। तुम जैसे हरामी ही अपने आपको धर्मनिरपेक्ष समझते हो। तुम लोगों ने ही संघ का ये चेहरा बनाया है। तेरे पास कोई समाधान है जो सभी को स्वीकार्य हो तो तू बता न, वर्ना बेवजह की बकवास करना बंद कर। इस फैसले से अच्छा कोई फैसला हो अगर दुनिया में किसी के पास तो वो सामने आये। रह गयी बात मूर्ति रखने की तो जरा वो सामने आये जिसका घर तोड़कर मंदिर बनाया गया। जो हो नहीं सकता, उसका डर दिखाकर साले तुम हरामी लोग अपनी दलीलों से मुसलमानों को बरगलाते हो। किसी ने भी दो आँसू नहीं बहाये गोधरा स्टेशन पर ट्रेन में जिंदा जलाये गये लोगों के बारे में और तू बुक्के फाड़-फाड़कर रोया होगा मुसलमानों की मौत पर। जिन्हें मार-मारकर मुलायम सरकार ने नदी-नालों में बहा दिया, उनका गम नहीं लेकिन तुझे चिन्ता है उस खंडहर की जो कभी मस्जिद भी नहीं था। बात दरअसल ये है कि तुम कमीनों को ये शाॅर्टकट लगता है प्रसिद्धि पाने का और अपने आप को दार्शनिक साबित करने का। और तुम जैसे मेंढ़कों को ये डर सता रहा है कि अगर ये मुद्दा खत्म हो गया और अमन-चैन हो गया तो तुम हरामियों की दुकानें बंद हो जायेंगीं। हिंदू-मुस्लिम एक थे, एक हैं और एक ही रहेंगे, तुम कुत्ते कितना भी भौंक लो, ये एकता न तो तुमने बनायी थी और न ही तुम या संघ या कोई मोदी तोड़ सकता है। अब कुछ ईमानदार मेहनत पर लग जाओ वर्ना गली के दुत्कारे गये कुत्ते जैसी हालत होगी तेरी। आम जनता का सब्र जिस दिन टूटता है उस दिन सारी मर्यादायें टूट जाती हैं चाहे वो अच्छी हों या बुरी। मैंने कई बार तुझे गाली दी है तो इसलिए कि वो जायज हैं और तेरे जैसे किसी भी शख्स के लिए उचित हैं। *****************    

Rajeev Ranjan Prasad said:    

इस फैसले पर भारत के कौमी-एकता की जीत फख्र करने योग्य है। संगीनों और हथियारों की चौकसी ने जिस खौफ का वातावरण रचा था, सबको सच्चे भारतीयों ने दड़बों में बैठ जाने के लिए चलता कर दिया। यह वास्तव में उन राजनीतिक आस्थावीरों की पराजय है जिनका सोचा गलत और मंसूबा फेल हो चुका है। अंधेरगर्दी मचाने वाले के जिगर का खून जम चुका है तो मस्तिष्क संज्ञाशून्य। मिली-जुली प्रतिक्रिया के बावजूद जनता अपनी रौ में खुश है मानों कुछ हुआ ही न हो। अब गलाफाड़ चिल्लाने और नारे लगाने की लाख कवायद क्यों न हो? भारतीय जनता ने साफ-साफ संदेश दे डाला है कि धर्म का आश्रय गह आप राजनीतिक छिछोरेबाजी कर सकते हैं, आम जनमानस के साथ धर्म हरगिज़ नहीं निभा सकते। –   

राजीव रंजन प्रसाद, पत्रकारिता, बीएचयू, वाराणसी    

***************    

अविनाशजी-फैसला व्यावहारिक है…फैसला ढ़ांचा के तोड़नेवालों को क्या दंड दिया जाए इस पर नहीं आया है..यह जमीन के मालिकाना हक पर आया है और उस ढांचे के चरित्र पर आया है। इस फैसले में मुस्लिम कानूनों के हिसाब से भी व्याख्याएं आई है…और एएसआई के द्वारा दिए गए सबूतों के आधार पर भी…हां कोई एएसआई के चरित्र पर सवाल उठाए तो ये अलग बात है। दूसरी बात ये कि उस जमीन पर मुसलमानों का भी एक हिस्सा स्थापित किया गया है…अदालतों का काम संविधान की व्याख्या करना होता है जिसका एक ही मतलब है कि वे ये देखें कि देश में आम-सहमति की व्यवस्था भंग न हो…यहां पर चीजों अदालतों के विवेक पर चली जाती हैं…कि वे देश-काल के हिसाब से क्या फैसला करती है…हमारे यहां ऐसी कोई मशीन नहीं कि हम जजों के विवेक को तौल सकें…हां…अगर पहले उस जगह पर मस्जिद को बहाल करके ही फैसला होना था तो फिर दिक्कत ये थी कि वहां बैठे रामलला का क्या किया जाता ? इस देश की महाशक्तिशाली सरकार जब इससे हाथ झाड़ बैठी, जिसके पास कथित तौर पर 25 लाख की लगभग सेना है..(कांग्रेस एक बार वहां मस्जिद बनवाने का वादा करके मुकर चुकी है!) तो फिर अदालत इतना अव्यवहारिक नहीं हो सकती थी कि वो अपनी इज्जत पलीद करवाती। ऐसे में अदालत ने बीच का रास्ता निकाला है। हां…अब ये जरुर अध्ययन का विषय है कि उस मामले का क्या हुआ कि लोगों ने लाखों की भीड़ जमा की, मस्जिद को तोड़ा, शांति भंग किया-यहां तक तो आप ठीक हैं। **************    

Narendra Kumar    

अविनाश जी आपके लिखे वाक्यों से लग रहा है कि आप अबतक उस मीडिया से पीछा नहीं छुड़ा पाए है जो अपने चैनल या अख़बार निकालने के लिए विवादित चीजो को तूल देता है साथ ही अव्यावहारिक बाते करता है. लगता है आपका mohallalive.com वेबसाइट भी पूरी तरह इसी पर आधारित है. आप देश के लिए कम पेट के लिए लिए भी कम ऐशो आराम पाने के लिए अनाप-सनाप लिखकर अपना हिट वेबसाइट का बढ़ाते है और लोगो से विज्ञापन लेते है. सही है एक सरकार है जो वोट और नोट के लिए मुस्लिम पक्ष का साथ देती रहती है. और अप एक हिन्दू होकर बिना किसी राजनितिक दल इस तरह के बयानबाजी करते है. जो काफी अशोभनीय है. जबकि उच्चतम न्यायलय ने बेहद ही सही फैसला सुनाया है. जब सदर से लेकर चांदनी चौक से लेकर देश के विभिन्न इलाको में मुस्लिम हिन्दू एक साथ एक पडोसी बनकर रह सकते है तो क्या ३३ एकड़ जमीं के फासले में दो समुदायों के धर्म स्थान नहीं रह सकते. अब तो अंग्रेज भी कोई नहीं है जो आपसी फूट डालने के लिए घिनौनी हरकत कर सकता है. लेकिन लगता है आप जैसे कुछ लोग अपने को चमकाने के लिए किसी भी हद तक जा सकते है.    

************   

 न्यायपालिका ने बहुत ही संतुलित और सही निर्णय दिया है. सभी को इसका सम्मान करना चाहिये और कोई भी अनर्गल वक्तव्य देने से बचना चाहिये. आदेश को पूरी तरह से पढ़े / समझे बिना कोई भी टिपण्णी ना करे. दोनों धर्मों के लोग इसे स्वीकार करे और एक दूसरे की धर्म के प्रति आस्थाओं और भावनाओं का सम्मान करते हुए आपस में सहयोग कर ऐसा कुछ करें जिससे आनेवाली पीढीयाँ इस पीढ़ी का सदा-सम्मान करे.    

**********    

Pankaj Jha    

आपने अपने अंदर किसके आत्मा को जगह दी है यह समझ नहीं आ रहा है….शायद बाबर की? आज बाबर की आत्मा के अलावा शायद ही कोई होगा जो रो रहा हो. जब किसी तरह के तर्क की कोई गुंजाइश ही नहीं है तो क्या कहा जाय?चलिए….लोगों का ध्यान खीचा आपने…मुबारक हो…चाहे जिस भी कीमत पर सही.    

*********   

 Sanjeev Kumar Sinha   

 झूठ बोलना कम्‍युनिस्‍टों की पुरानी आदत है। पुरानी आदतें जल्‍दी नहीं जाती। इसलिए झूठ मत बोलिए अविनाशजी कि ‘काश कि मैं कारसेवक होता।’    

**********    

Sandeep Jha    

अविनाश जी भावनाओं पर नियंत्रण रखें। दरअसल ये संपत्ति विवाद का मामला था जिस पर उच्च न्यायालय ने फैसला दिया है। विवादित ढाँचा गिराए जाने को लेकर मामले अन्य अदालतों में चल रहे हैं। उनके भी फैसले आएंगे। धीरज रखिए। लेकिन फिलहाल जो फैसला आया , उसे सम्मान देते हुए आगे की ओर देखें तो बेहतर होगा। आप फैसले से धैर्यपूर्वक शब्दों में अपनी असहमति जता सकते हैं। लेकिन चीजों के घालमेल की आज़ादी किसी को नहीं।    

***********   

 Maheshwar Dutt Sharma    

क्यों अविनाश जी, फैसले के बाद मार-काट और दंगा नहीं हुआ तो आप को अच्छा नहीं लग रहा है?    

*********   

 Anil Saumitra    

अविनाश जी, आपके भाग्य मे बहुत रोना लिखा है, अभी अयोध्या को लेकर रो रहे है , कल को मथुरा-काशी के लिये. रोइये अच्छा है. आपके अन्दर न्याय की आत्मा प्रवेश कर गई इसलिये आप रो रहे है शायद अन्याय की आत्मा होती तो आपको प्रसन्नता होती, आत्मा भी शरीर देखकर ही धारण करती है. एक ही मानदंड है, आपने एक चीज तोड़ी, उसे पहले जोडिये – फिर किसी फैसले की बात हो। सही कहा है मन्दिर तोडकर मस्जिद बनाई गई थी इसी लिये तोडी गई अब भव्य बना देंगे. अदालत के सहयोग से और भी संविधानसम्‍मत मंदिर बनवाएंगे… मैं इसलिए रो रहा हूं…तो रोइये ना..हम सब को बहुत मजा आ रहा है..और गला फाड-फाड के रोइये..   

 *********   

 यह फैसला साबित और उसके बाद आप जैसे मीडिया वालों की प्रत्रिक्रिया ने साबित कर दिया की आज के समाज का असली गुनाहगार कौन है. मुझे बहुत दुःख हुआ यह जानकर की आप मीडिया वाले इस फैसले से खुस नहीं है. सच्चाई तो ये है की आप लोग अमन चाहते ही नहीं है. क्या ये फैसला मुस्लिम समाज पक्ष में होता तो ठीक था नहीं तो गलत. तब आपको समाज सुधारक बनने का मौका मिलता. आपने मोहल्ला लाइव के छवि को ख़राब कर दिया है. आप लोग असली देशद्रोही हो जो हमारे न्यायलय के फैसले को मानने को तैयार नहीं हो. मेरे ख्याल से कसब को छोरकर पहले आपलोगों को फांसी पे लटकाना चाहिए. बहुत दुःख के साथ गौरव   

 ***************    

awesh said:    

ये क्या बात हुई दिलीप भाई ?अगर आपकी बात मानें तो अदालती फैसला भी समय और परिस्थितियों को देखकर किया गया है ?ये देश ,देश की सारी व्यवस्थाएं पूरी तरह से भष्ट हैं और आप दीपक लेकर उजाले की तलाश में निकलने वाले उन गिने-चुने लोगोंके जुलुस की अगुवाई कर रहे हैं जिनमे अविनाश और अरविन्द भाई भी हैं |आप लोग जानबूझ कर ऐसा वातावरण पैदा कर रहे हैं जिसमे ये डर लग रहा है कि अगर कोई भी ये बोलेगा कि अदालत का फैसला सही है तो वो मुस्लिम विरोधी घोषित कर दिया जायेगा |चचा हाशिम तो खुश हैं और बोल भी दिए हम नहीं लड़ने जा रहे ,लड़ना हो तो वफ्फ़ बोर्ड लड़े | @अविनाश चलिए आपसे डरते हुए मान लेते हैं अदालत का फैसला पूरी तरह से गलत, निराधार और हिन्दुओं के तुष्टिकरण के लिए है .अब आप ही बताएं ईमानदार फैसला कौन देगा ?आप ?इस देश के वामपंथी ?या आसमान से कोइ निर्णय टपकेगा और हिन्दू मुस्लिम एक दूसरे की गलबहियां डालने घूमने लगेंगे |अगर देश है तो न्याय व्यस्था का होना भी लाजमी है और न्याय हमेशा सबको संतुष्ट करे ये भी संभव नहीं है ,एक अपराधी भी फांसी की सजा कबूल नहीं करना चाहता |अगर सही मायनों में इस निर्णय का विरोध करना चाहते हैं तो देश की न्याय व्यवस्था से असहमति के बावजूद इस निर्णय का विरोध करने वाले सभी हिन्दू पत्रकारों (ब्राम्हण और दलित पत्रकारों पर चर्चाओं के इस दौर में ये चर्चा बेईमानी नहीं )को फैसले के विरोध में क्यूँकर सुप्रीम कोर्ट नहीं जाना चाहिए ?चलिए ये मोहल्ले से निकलकर ये साहस करके दिखाइये .क्यूंकि बाबरी मस्जिद के विध्वंस पर बुद्धिजीवियों की जमात से जितनी भी आवाजें उठी है ,सारी की सारी नेपथ्य से थी और उनका कम से कम मेरी नजर में कोई महत्त्व नहीं है |   

 ***************    

मंदिर में काहे को पिछड़ा मुद्दे घुसेड़ रहे हैं आपलोग। एक बात बताएं..क्या विवादित स्थल पर यथास्थिति रहने से पिछड़ों की आर्थिक स्थिति सुधर रही थी या उनके मुंह से कोई दाना छीन रहा था। या कि मंदिर बन जाने से उनकी स्थिति कमजोर हो जाएंगी और वे अपना हक मांगना छोड़ गूंगे बन जाएंगे। गजब मानसिक दिवालियापन है, हर स्थिति में ये आपको षडयंत्र ही दिखता है! कृपया अपनी मायोपिक चस्मा उतारिये, हर बम धमाके में आईएसआई का हाथ होना बंद कीजिए। वैसे, दिलीपजी, शरद यादव बूढ़े भी हो गए, आप उनकी जगह एक पारी तो खेल ही सकते हैं। वैसे भी इंटरनेट पर हिंदी पट्टी का सारा पढ़ा-लिखा पिछड़ा युवा आपको रिक्गनाईज भी कर चुका है, तो कब गोल लालकोठी जा रहे हैं आप…!    

**********    

शाहनवाज जी, कोई आपसे कहे की अल्ला मुसलामानों के नहीं – मुस्लिम लीग के प्रतीक हैं और मुस्लिम लीग जिहादी आतंकवाद के प्रतीक हैं तो क्या आप स्वीकार कर लेंगे? और शेष जी, क्या आप मेरे समर्थन में आयेंगे? आप बता तो देते हैं कि हमको नहीं तय करना चाहिए कौन कि मामले में पड़े और क्या बोले, लेकिन आप अचानक विद्वान् होकर असली हिन्दू की परिभाषा देने लगते हैं – क्या किसी आपके खिलाग टिप्पणी देने वाले मुसलमान को आपने अपने किसी मुस्लिम फिरकापरस्ती विरोधी लेख में ऐसे कहा कई कि ‘हाँ, सच्चा या असली मुसलमान ऐसा ही होता है’ सिद्धार्थ जी का लेह पढ़ा – पता नहीं आप शायद ज्यादा समझ लेते हैं – लेकिन अच्छी अंगरेजी अच्छे कंटेंट का भी प्रमाण हो, अच्छे तर्कों का प्रमाण हो यह तो कोई ज़रूरी नहीं/ आप तो इस तरह से भोलापन दिखा रहे हैं कि जैसे हिन्दुओं ने १९४९ का बाद से अचानक उसे जन्मभूमि मानना शुरू कर दिया – क्या उसके पहले इस विश्वास का कोई प्रमाण नहीं है – सिद्धार्थ बाबू भी अपने अंगरेजी झोंकते हुए कहते हैं कि कितनी इमारते एक दुसरे के खंडहरों पर बनी हैं भारत में , वाह क्या निर्दोष मासूमियत है – मंदिर तो था लेकिन शायद समय चक्र में अपने आप गिर गया होगा – मुस्लिम शासकों ने अच्छी जगह देखी – मस्जिद बना दी – जन्मभूमि का विश्वास तो वि हि प ने स्थापित किया है १९४९ में – वाह उस्ताद वाह !! और वाह चेलों वाह !! **********    

karan said:    

शाहनवाज़ जी, अब अल्ला का नाम जोड़ते ही आपको सब कुतर्क नज़र आने लगा – राम को सिर्फ रा स्व सं का देवता बनाने में आपको सब कुछ बड़ा तार्किक लगा हिन्दू जनमानस में राम का जो स्थान है उसे भी आपको क्या बताना पड़ेगा |आप कह सकते हैं कि कुछ हिन्दू नहीं मानते हैं जिनमे कुछ तथाकथित सेकुलर गिरोह में भी पाए जाते हैं, इससे क्या मानने वालों की आस्था कमजोर हो जाती है या उनकी संख्या महत्वहीन हो जाती है? और मंदिर कितने भी हो लेकिन राम की जन्म भूमि का महत्त्व क्या मुहम्मद या ईसा की जन्मभूमि से किसी भी स्तर पर कमतर है ? *******   

 karan said:    

टोकेकर जी , आप भी कम्युनिस्टी तोतों की तरह रट्टा लगा रहे हैं और बेकार की बातो का घालमेल कर रहे हैं अदालत ने इस बात पर मुहर लगाई है कि यह स्थान मंदिर था या नहीं और क्या हिन्दुओं की आस्था इस स्थान पर राम के जन्म स्थान के रूप में काफी पहले से रही है या नहीं | अब आप चाहेंगे तो एक दरोगा भेज कर पता लगा लिया जायेगा कि राम सिंह वल्द दशरथ सिंह निवासी जन्मभूमि थाना फैजाबाद … की जानकारी कानूनी तौर पर सही है या नहीं    

**********   

karan said:  

शेष जी, 
आप जब किसी को ठस्स बताते हैं तो इससे यह नहीं जता पाते हैं कि आप बहुत ऊंची चीज हैं- यह जितनी ज़ल्दी जान लें उतना अच्छा 

तो आप किस तरह के सेकुलर हैं ज़रा ये भी बताइयेगा ! कोई और आपको गाली दे तो आपको लगती है मिर्ची और आप दुहाई देने लगते है और बेचारे हिन्दुओं को उनकी औकात दिखाने पर तुल जाते हैं | तर्कों से जवाब दीजिये ! 

************************************** 

विवेक यादव : 

@अरविंदजी- माफ कीजिएगा, मैं महान-वहान भाषा संस्कार में नहीं फंसा हूं…लेकिन दिक्कत ये है कि आप संस्कृतनिष्ट भाषाई विद्वानों की तरह ही अपना संस्करण थोप रहे हैं। दिक्कत यहां पर जरुर है। आप बस अपनी बात कह सकते हैं, जबर्दस्ती मनवा कैसे सकते हैं। आप ने भी तो न जाने कितनी बार मूर्ख, गिरोह, जंगली, और न जाने क्या-क्या शब्द का इस्तेमाल कर लिया। जबकि इसका ठेका तो संघियों ने ले रखा था…!! माफ कीजिएगा, मैं आपके इस संबोधन का हकदार नहीं हूं। 

*********************************** 

arvind mishra : 

अरविंद शेष। युवा पीढ़ी के बेबाक विचारक। दलितों, अल्‍पसंख्‍यकों और स्त्रियों के पक्षधर पत्रकार। पिछले तीन सालों से जनसत्ता में। जनसत्ता से पहले झारखंड-बिहार से प्रकाशित होने वाले प्रभात ख़बर के संपादकीय पन्‍ने का संयोजन-संपादन। कई कहानियां भी लिखीं। 

तुम्हारा यह पोस्टर तुम्हारी दिमागी हालत को बयां करता है ….
न्यायाधीशों का फैसला एक ऐतिहासिक फैसला है और सुचिंतित ,तर्कपूर्ण है .
जब बिना पोस्टर के कुछ लिखने के काबिल हो जाओगे तब तुम्हे पढ़ा जाएगा
 

************************************** 

कुमार गौरव : 

आखिर ६० साल पुराने मुकदमे का फैसला हो गया. करोड़ों भारतीयों के आस्था के केंद्र और आराध्य भगवान राम की जन्मभूमि पर उच्च न्यायलय ने मुहर लगा दी है, तीनो. न्यायाधीशों ने एक मत से जो माना है, वह भारतीय सम्मान संस्कृति और स्वाभिमान है. पन्थ निरपेक्षता शब्द भारतीय संविधान ने भारतीय संस्कृति से ही लिया है, भारत मे जन्मे पंथ और धर्म सदैव एक दूसरे को आदर और सम्मान देते रहे है. भारत के बाहर उदभुत धर्मों ने शायद भारत की भावना को अंगीकार अब तक नहीं किया है, इसी कारण यह मुकदमेबाजी शुरू हुई और आगे चलाने को भी अभी कुछ लोग आमादा है. यहाँ एक प्रश्न उपस्थित होता है की जिस भूमि पर राम जन्मे इस तथ्य को नकारकर बाबर के प्रति आस्था क्यों? उत्तर बहुत आसान है परन्तु कोई देना नहीं चाहता क्योंकि कहीं न कहीं अभी आस्थाओं का अभी भारतीयकरण नहीं हुआ है. 

अरविन्द जैसे  ****** लोग के कारण ही आज भारत में मुसलमान ५ गुनी रफ़्तार से जनसंख्या बढ़ा rahe हैं . अरविन्द जैसे  ****** की भाषा भी पकिस्तान के सभी न्यूज़ -चैनलों के जैसी है. वैसे आप जैसे  ******* बाबर को क्या समझते हैं ?जरुर लिखिएगा 

********************************** 

 karan said:  

पढ़ लिया रोमिल्ला जी की रुदाली, वही मुर्गे की एक टांग ! रोमिल्ला भी यही कह रही हैं जो आप जैसे स्सरे गा रहे हैं ! आप जैसे तो किसी अंगरेजी में लिखने वाले की पूँछ पकड़ के बैठे रहेंगे या उस पर सोचेंगे भी कि कुछ नयी बात कही गयी है या नहीं 

आप साबित कीजिये कि हिन्दुओं की श्रद्दा उस स्थान पर मस्जिद बनने से पहले नहीं थी और वि हि प के आन्दोलन के बाद ही लोगों की नींद खुली थी कि अरे यही तो राम पैदा हुए थे | 

अब सारे इतिहास कार इस पर जुटे हैं कि राम मिथ थे वास्तविक ! जबकि अदालत इस मुद्दे पर जोर देती है कि हिन्दुओं की आस्था इस स्थान के बारे में जन्म भूमि के रूप में रही है या नहीं वह भी पहले से !
खैर मैं किसे बता रहा हूँ \ किसी बेबाक (या बेबात के ) चिन्तक को जो चिंतन से ज्यादा चिंता में मग्न है अपने अहम् की ऊंचाई सिद्ध करने में !
अरविन्द शेष जी, आप तो बस अब गाली-गलौज कीजिये और उसी में तौलते रहिये कि हराम्मी बड़ी गाली है या ठस्स या मूर्ख ! गालियों का मापदंड आप ही तय कीजिये!
जब कुछ उठाये मुद्दों पर कहने को हो तो सामने वाले को व्यक्तिगत तौर पर कोसने या गरियाने के बजाय दिमाग पर जोर डालियेगा और ज्ञान उलीचियेगा ! अभी तो आप किसी मिश्र कोमिश्र होने की वजह से इग्नोर करने का आनंद उठाये या किसी को ठस्स कहने का sadistic आनद लें या फिर मिर्ची लगाएं !
 

****************** 

   

  http://mohallalive.com/2010/10/01/arvind-shesh-react-on-high-court-decision-about-ramjanmbhoomi/   

 ******************************************************   

 इस लिंक को भी देखे :   

 http://www.pravakta.com/?p=13933

Ayodhya Verdict:The Land Belongs To Shri Rama !!!!

Ram Lala Gets The Rights

Ram Lala Gets The Rights

 

The Allahabad High Court has finally delivered the verdict in one of the most unique and sensational cases in Indian legal history called Ayodhya case.The land belongs to Lord Rama,says the High Court in unanimous way in the Babri-Ram Janmabhoomi title suit.The judgment favoured the Hindu theory that disputed land belongs to Hindus in totality,being the birth place of Lord Rama.The bench comprising of Justice S U  Khan, Justice Sudhir Agarwal and Justice DV Sharma was in no doubt over the fact that makeshift Ram Lala temple is the place where Ram Lala was born.It quashed the Sunni Waqf Board’s all claims in this regard.The court ruled arrived at the opinion that site on which the idol of Lord Rama stood belonged to the Hindus and part of the land under the central dome of the Babri Masjid was the Ram Janamsthan which should go to the Hindus.   

However,the Allahabad High Court in order to make the verdict make room for an amicable agreement has decided that disputed land shall be divided into three parts between Sunni Waqf Board, Nirmohi Akhara and the party representing Akhil Bharat Hindu Mahasabha – the party for Lord Ram.Each one of them will get 1/ 3 portion from the 2.7 acre disputed land. However,the court has made it very clear that in the final division the Rama Janmasthan which lies in the Central dome of the Babri Mosque shall go to the Hindus.As per news reports based on the interpretation of the Allahabad High Court Lucknow’s bench it has been decided that there will be broadly three division:1) Ram Lala, the birthplace of Lord Ram, given to Ram Lala Virajman (2) Sita Rasoi and Ram Chabootra to Nirmohi Akhara and (3) The remaining part to be given to the Sunni Waqf Board.   

Coming to the reactions ,the political parties have appreciated the stand of High Court. The common men and as well as the institutions who wish to see the construction of Ram Temple on that site are happy that now their dream to see a Ram Temple is no longer a distant reality. Yes,it was more an emotive issue than a legal issue.No wonder people from all walks of society remained on the edge wondering what will be the verdict of the High Court.I found many friends who never telephoned me because of so-called lack of balance spent a lot of money in knowing the details !! Progressive souls often enter into blabbering that religion is of no use in modern times as people on street are more involved in bread and butter concern.However,the bright Hindu faces told a different story ,making the theories shared by progressive secular brigade fit enough for the dustbin.No wonder the progressive parties are tight lipped under the disguise of making a proper study of the judgment !!!!   

Great Allahabad High Court Always Creating History

Great Allahabad High Court Always Creating History

 

I also noticed how foreign media loves to distort the truth.After the decision was given it instead of highlighting the main points of judgment went on to talk about the panic like situation in the country and taking into note the Muslim concerns stated that final decision shall come after many years due to Supreme Court’s intervention.The impression it has generated that judgment is vague in nature.That’s far away from truth.The judges have not passed a split verdict.On all the key issues ranging from the actual ownership to nature of division the judges have been unanimous.For instance in a majority verdict it has been proven that “the disputed site is the birth place of Lord Ram.”and” it is established that the property in suit is the site of Janm Bhumi [birthplace] of Ram Chandra Ji and Hindus in general had the right to worship Charan [Lord Ram’s slippers], Sita Rasoi [Goddess Sita’s kitchen], other idols and other object of worship existed upon the property in suit. It is also established that Hindus have been worshiping the place in dispute as Janm Sthan, ie a birthplace as deity and visiting it as a sacred place of pilgrimage as of right since time immemorial”.The Bench also stated that “” it is also proved that the outer courtyard was in exclusive possession of Hindus and they were worshiping throughout and in the inner courtyard (in the disputed structure) they were also worshiping ” and “it is also established that the disputed structure cannot be treated as a mosque as it came into existence against the tenets of Islam.”    

Lastly,the bench made it cleat that “it is further declared that the portion below the central dome where at present the idol is kept in a makeshift temple will be allotted to Hindus in final decree”. I am not sure why is foreign media so confused when court in a majority verdict stated that Hindus are the real owners of the disputed site. Oh !! A pro Muslim verdict would have made them a lot happier and less ambiguous while reporting. That’s why they are now more concerned about panic,about the “partial disappointment of Muslim claimants”, and about Apex court’s intervention !!!   

In fact,the judge DV Sharma has given a different verdict.His dissenting verdict which does not constitute the majority opinion of the bench is crystal clear that entire premises belonged to Hindus.He has clearly stated on basis of findings of ASI that Babri Mosque was built by demolishing “massive Hindu religious structure” and since the Mosque was against the tenets of Islam it cannot be treated as mosque at all.Interestingly,that mosque was built after demolishing a Hindu temple is view both of Justice Sudhir Agarwal and Justice DV Sharma.Only Justice SU Khan believes that mosque came into existence on the ruins of temple!!! I would also like to make it clear that though majority verdict has allocated 1/3 land to Muslims the judges differed in opinion to what extent Muslims own the disputed land. Justice Agarwal believes that only ” the area within the inner courtyard” belonged to both Muslims and Hindus due to their collective usage of it for a long period.On the other hand S U Khan feels that both Muslims and Hindus are ” joint title holders in possession of the entire premises in dispute”.In nutshell, though the verdict has allowed Muslims to be part of the disputed site ,it’s quite clear that claims of Sunni Waqf Board are baseless and illegal. The foreign media that’s worried about division of I/3 portion of Muslims should take note of the fact that court has stated that ‘a part of the outer courtyard which was in the possession of Hindus could be given to Muslims’.Anyway, the Court has for another three months imposed status quo.   

In the end ,I must say peace loving Hindus are happy.They have no problem with their 1/ 3 portion going to the Muslims.It’s another thing that Akhil Bharat Hindu Mahasabha plans to move Supreme Court challenging the allocation made to Muslims.There is news that even Sunni Central Waqf Board will move SC as it feels that “The Babri mosque cannot be reduced to a part or portion” even as all its claim have been trashed by the Allahabad’s Lucknow Bench !! Let’s this drama continue but by and large the road to Ram Lala Grand Temple is now free of all obstacles.Once again Prayag(Allahabad) the most loved city of Gods and sages has shaped the destiny of Bharata (India) in most divine manner.It’s indeed time to say “Bolo Ram Shri Ram Jai Jai Ram” :-))   

Shri Sita Rama

Shri Sita Rama

 

The great Rudolf Steiner Quotes Site

Over 1500 quotes from the work of the great visionary, thinker and reformer Rudolf Steiner

Simon Cyrene-The Twelfth Disciple

I follow Jesus Christ bearing the Burden of the Cross. My discipleship is predestined by the Sovereign Grace and not by my belief or disbelief, or free will.

Serendipity

Was I born a masochist or did society make me this way?

SterVens' Tales

~~~In Case You Didn't Know, I Talk 2 Myself~~~

Indowaves's Blog

Just another WordPress.com weblog

Una voce nonostante tutto

Ognuno ha il diritto di immaginarsi fuori dagli schemi

Personal Concerns

My Thoughts and Views Frankly Expressed

the wuc

a broth of thoughts, stories, wucs and wit.

A Little Bit of Monica

My take on international politics, travel, and history...

Peru En Route

Tips to travel around Perú.

Health & Family

A healthy balance of the mind, body and spirit

मानसिक हलचल

मैं, ज्ञानदत्त पाण्डेय, गाँव विक्रमपुर, जिला भदोही, उत्तरप्रदेश (भारत) में ग्रामीण जीवन जी रहा हूँ। मुख्य परिचालन प्रबंधक पद से रिटायर रेलवे अफसर। वैसे; ट्रेन के सैलून को छोड़ने के बाद गांव की पगडंडी पर साइकिल से चलने में कठिनाई नहीं हुई। 😊

Monoton+Minimal

travel adventures

Stand up for your rights

Gender biased laws

The Bach

Me, my scribbles and my ego

Tuesdays with Laurie

"Whatever you are not changing, you are choosing." —Laurie Buchanan

The Courage 2 Create

This is the story of me writing my first novel...and how life keeps getting in the way.

A Magyar Blog

Mostly about our semester in Pécs, Hungary.