Monthly Archives: March, 2013

Ensuring Separation Is Always Easy But Formation Of New Relationship Remains A Daunting Task!

Separation Hurts!

Separation Hurts!

Separation sometimes becomes the fate of a cherished relationship. On most occasions, the inherent contradictions, operating in a relationship, lead to untimely demise of the relationship. If that’s not the case, the societal pressure, resting on the vilification campaign of the petty minds, paves the way for parting of ways. The thing that really hurts is that factors ensuring the break-up dominate the life’s cruel drama. However, the positive elements involved into the making of new relationship, after the break-up, never operate with the same pace, the way negative elements led to dissolution of previous relationship. Building a home is difficult affair than bulldozing a well-built home!

Ravana, used shrewd means, to abduct Shree Sitaji, which was an easy affair. The abduction part was an easy task. However, Lord Rama had to enter in dangerous war with Ravana to ensure the freedom of Shree Sitaji. It’s really stunning that shrewdness-an aasuri pravitti (demoniacal attribute)- has now become synonymous with intelligence in modern times. On the contrary, the person exhibiting simplicity, representative of Lord Rama’s persona, is seen as representative of dumbness. The dominance of this sort of understanding is really baffling. People justify their shrewdness in name of battle of survival!

However, the pangs of separation, is never easy to bear. It does manifest, no matter, how hard you try to keep it confined within chambers of heart. When used constructively such depressive mood leads to origin of great literature, but the ordinary mortals- the greater lot- succumb to lesser means or, for that matter, give way to annihilation of life-force. Well, let’s learn to drink poison like Lord Shiva, or if that’s not possible then let the molten lava of emotions flow. There is no point in holding back the strong emotions.
 

On Two Different  Routes After Long Togetherness!

On Two Different Routes After Long Togetherness!

Pics Credit:

Pic One

Pic  Two

Celebrating Holi, The Festival Of Colours, In League With Poetry Session and Comedy Session!

Colours Fascinate  Everybody

Colours Fascinate Everybody


The people having rendezvous with colours of Holi are in festive mood today. I don’t wish to act as spoilsport by making readers ponder over serious issues. I remember good old days of Doordarshan, when on the eve of Holi, it used to telecast late night poetry sessions, wherein poets, belonging to various parts of country, read their fun-filled poems. It’s really sad that glorious traditions have given way to cheap thrills on Doordarshan.  

Though I am not going to present fun-filled poem, it (the poem) nevertheless speaks about the festival of Holi. It sheds light on distortions that have hit the festival of Holi. This Hindi poem addresses the disturbing scenario, which prevent the masses from embracing the festive mood in right spirit. It makes chilling disclosure that people in cities and villages have given way to dangerous disputes involving bloodshed. How can these people in grip of limited perceptions would ever be able to enjoy the prevailing festive fervour? That’s the essence of this Hindi poem penned by Dr. Ganga Prasad Sharma” Gunashekhara”. He hails from Sitapur, Uttar Pradesh. I also need to thank SC Mudgal, New Delhi, a friend on one of the social networking sites, for making me read this poem.

**********************************

तारकोल, कीचड़ सने, चेहरे रूप-कुरूप.
होली में सब एक-से, रंक, भिखारी, भूप..
होली खूनी हो गई,रक्त सने हैं पाँव.
कान्हा अब आना नहीं, लौट के अपने गाँव..          
होली खूनी हो गई,रक्त सने हैं पाँव.
कान्हा अब आना नहीं, लौट के अपने गाँव..

कैसा हो यदि होलिका, सींचे जीवन- आस.
रंग-बिरंगे रूप, ले मह-मह करे मिठास..
गदराए गेहूँ खड़े , बौराए-से आम.
होली ने सब को दिए,मन-मन भर के काम..
सरसों,तीसी,चना हो,या गेहूँ के खेत.
मस्ती में लहरा उठे, होली आते देख..
जिसमें अपनापन नहीं,नहीं नेह का लेश.
ऐसे घटने से रहा ,बैर भाव या द्वेष ..

होली में फागुन फिरे, धर बासंती वेश. 
पावन पाती प्रेम की, बाँटे देश- विदेश..
फागुन की मादक हवा, उन्मादक परिवेश.
खिले गुलाबी रंग -से, केशरिया गणवेश..
बँसवारी, अमराइयाँ ,ऐसी लुटीं अशेष.
फागुन वापस जा रहा, ले अपना संदेश.

Dr. Ganga Prasad Sharma” Gunashekhara”
 

Once Upon A  Time..

Once Upon A Time..


****************

And yes, now it’s time to laugh. Enjoy two comedy clips from two different movies. Enjoy this “Mahabharata Episode” from Jaane Bhi Do Yaaro, which is a landmark movie in the genre belonging to comedy. The high standards which it came to set have until now remain unsurpassed. The “Mahabharata Episode” is such a hilarious episode in the movie that it never fails to give rise to maddening laughter. I have watched it umpteen times, but even then when I watch it for one more time I am but all smiles. For non-Hindi readers let me apprise them of the plot of this episode. It’s all about possession of dead body which due to a blunder on part of the people, originally in possession of body, got trapped in live drama show, impersonating the lady who was about to play that role. This dead body is most sought-after object by various rival groups.               
     

The bizarre methods employed by these rival groups  to get hold of this dead body, right in the middle of the live show, based on a mythological theme, is terribly rib-tickling. After all, the actors in the play thought that this lady character belonged to their group, but which in reality was a dead body in hot demand among the dangerous rival groups.They trespass the ongoing drama, as new characters, and then there is huge confusion as they come into conflict with the original characters of the play. For me this movie brings back the memories of days when Doordarshan was darling of the masses.

The Mahabharata Episode From Jaane Bhi Do Yaaro

************************

This second comedy clip is from movie” Pyar Kiye Jaa”. Two legendary actors, Om Prakash and Mehmood, have touched the pinnacle while dealing with shades of comedy. That’s comedy at its best. Neat and clean comedy with no impressions of double-meaning dialogues and cheap gestures. In this scene Mehmood, appearing as wannabe movie producer in the movie, is narrating the elements involved in making of his forthcoming horror movie to Om Prakash. Just notice the expressions on faces of both the actors as they remain deeply involved in act of mutual conversation.

The Comedy Clip  From Pyar Kiye  Jaa

Pics Credit: 

Pic One

Pic Two

Pain Is The True Vitalizer Of My Soul!

Pain Serving As Panacea!

Pain Serving As Panacea!

Listen my beloved 
Love is never put on scale

In love do you measure the 
Worth of emotions, desires and wishes?

Why do you wish to heal the pain
Emanating from injuries you fail to see?

Pain which nature wants to heal
Shall always get healed

And sometimes unhealed injuries 
Refine the soul further 

Or let them remain unhealed 
Floating in the ocean of heart as insoluble capsules of pain!

It’s an unbearable dishonesty on your part my beloved
An act unfair to dilute the pain simmering inside

Listen I have learnt lessons
To move from one pain to another 

In the company of light 
It’s time for you my beloved to touch new horizons 

And leave me far behind 
To walk all alone on the isolated path 

For I have also learnt 
How to remain alive with no trace of life inside!

When Ways Get Separated!

When Ways Get Separated!


The same poem in Hindi with a slight  modification in style and treatment.

*****************************

सुन मेरे मीत: तू कुछ जख्मो को हरा ही रहने दे! 

**********************************

जो इश्क करते है वो 
इश्क को तराजू में नहीं तौलते 

अरमानो, ख्वाहिशों, जस्बातो 
का लेखा जोखा कैसा मीत!

जो जख्म दीखते नहीं उन 
पर मरहम लगाना कैसा? 

जिन जख्मो को भरना होता है 
वो अपने आप ही भर जाते है 

या वक़्त के साए में ढलकर 
रूह को थोडा और निखार जाते है 

या नासूर बनते है 
तो नासूर ही बन जाने दें?

सो लिहाज़ा तेरा तडपना, आज़माना 
अब बेमानी सा लगता है 

कि एक जख्म से दूसरे जख्म तक 
का फासला तय करना हमने सीख लिया है

सो बेहतर है कि तू आगे बढ़ चल 
रौशनी के कारवां संग 

और छोड़ दे पीछे मुझे 
अजनबी सी राहो पे तन्हा चलते रहने को  

कि अब मर के भी हमने
जीते सा दीखते रहने का हुनर सीख लिया है।

*******************

Trying  To Be On A Different  Path But Like Always All Alone!

Trying To Be On A Different Path But Like Always All Alone!

Pics Credit:
 

Pic Two

Pic Three

 

फगुआ की बयार मे भीगा भीगा सा मन, जरा जरा सा बहकता हुआ, जरा जरा सा सरकता हुआ

जय राधे! बरसाने की लट्ठमार होली ..महिला शशक्तिकरण वालो के लिए :P

जय राधे! बरसाने की लट्ठमार होली ..महिला शशक्तिकरण वालो के लिए 😛


बसंत ऋतू का आगमन हो चुका है। बहकना स्वाभाविक है। गाँव में तो फगुआ की बयार बहती है। ग्लोबल संस्कृति से सजी संवरी शहरी सभ्यता में क्या होलियाना रंग, क्या दीपावली के दियो की ल़ौ की चमक। दोनों पे कृत्रिमता की चादर चढ़ चुकी है। या तो समय का रोना है या फिर महँगाई का हवाला या फिर जैसे तैसे निपटा कर फिर से घरेलु कार्यो/आफिस के कामकाज में जुट जाने की धुन। त्यौहार कब आते है कब चले जाते है पता भी नहीं चलता। ये बड़ी बिडम्बना है कि त्यौहार सब के लिए दौड़ती भागती जिंदगी में टीवी सीरियल में आने वाले दो मिनट के ब्रेक जैसे हो गए है। सब के लिए त्यौहार के मायने ही बदल गए है। अलग अलग उम्र के वर्गों के लिए त्यौहार का मतलब जुदा जुदा सा है। और मतलब अलग भले ही होता हो लेकिन उद्देश्य त्यौहार के रंग में रंगने का नहीं वरन जीवन से कुछ पल फुरसत के चुरा लेने का होता है।

इन सब से परे मुझे याद आते है कई मधुर होली के रंग। वो लखनऊ की पहली होली जिसमे कमीने तिवारी ने मेरी मासुमियत का नाजायज़ फायदा  उठाते हुए और लखनऊ की तहजीब की चिंदी चिंदी करते हुए मुझे रंग भरे टैंक में धक्का देकर गिरा दिया था। बहुत देर के बाद एक गीत उस तिवारी के लायक बजा है हर दोस्त कमीना होता है। तिवारी का नाम इस लिस्ट में पहले है। ये इतना मनहूस रहा है शनिचर की तरह कि हर अनुभव इसके साथ बुरा ही रहा है। बताइए बैंक के कैम्पस के अन्दर छुट्टी वाले दिन बैंक की चारदीवारी फांद कर हर्बेरिअम फाइल के लिए फूल तोड़ने का आईडिया ऐसे शैतानी दिमाग के आलावा कहा उपज सकती थी। गार्ड धर लेता तो निश्चित ही बैंक लूटने का आरोप लग जाता। वो तो कहिये हम लोग फूल-पत्तियों सहित इतनी तेज़ी से उड़न छू हुएं कि इतनी तेज़ी से प्रेतात्माएं भी न प्रकट होके गायब होती होंगी। गाँव की होली याद आती है जिसमे गुलाल तो कम उड़ रहे थें गीली माटी ज्यादा उड़ रही थी। पानी के गुब्बारों से निशाना साधना याद आता है। सुबह से सिर्फ पानी की बाल्टी और गुब्बारा लेकर तैयार रहते थें। याद आते है वार्निश पुते चेहरे, बिना भांग के गोले के ही बहकते मित्र, गुजिया पे पैनी नज़र। ये सब बहुत याद आता है। अपने मन को धन्यवाद देता हूँ कि मष्तिष्क का अन्दर इन यादो के रंग अभी भी ताज़े है।

स्मृतियाँ तकलीफ भी देती है और आनंद भी। इन्ही स्मृतियों में भींगकर पाठको को होली से जुड़े कुछ विशुद्ध शास्त्रीय संगीत पे आधारित ठुमरी/गीत जिनमे अपने प्यारे राधा और कन्हैय्या के होली का वर्णन है को सुनवा रहा हूँ। ये अलग बात है कि मेरे मित्रो के श्रेणी में इन गीतों को सुनने के संस्कार अभी ना जगे हो लेकिन  इन्हें स्थापित उस्तादों ने  इतना डूब कर गाया  है कि अन्दर रस की धार फूट पड़ती है। कुछ एक गीत चलचित्र से भी है, अन्य भाषा के भी है भोजपुरी सहित। इन्हें जैसे तैसे आप सुन लें अगर एक बार भी तो मुझे यकीन है कि संवेदनशील ह्रदय इनसे आसानी से तादात्म्य कर लेंगे हमेशा के लिए। और इसके बाद भी यदि शुष्क ह्रदय रस में ना भीग सके तो उनके लिए जगजीत सिंह का भंगड़ा आधारित गीत भी है। सुने जरूर। ह्रदय हर्ष के हिलोरों से हिल जाएगा।

गुजिया कम झोरते है तो क्या हुआ पैनी नज़र हमेशा रहती है इस पर :-)

गुजिया कम झोरते है तो क्या हुआ पैनी नज़र हमेशा रहती है इस पर 🙂

***************************

1. रंग डारूंगी,  डारूंगी, रंग  डारूंगी नन्द के लालन पे (पंडित छन्नूलाल मिश्र)

पंडितजी को सुनने का मतलब है आत्मा में आनंद के सागर को न्योता देने का सरीखा सा है। बनारस की शान पंडितजी से आप चाहे ठुमरी गवा लीजिये, कजरी गवा लीजिये, या ख्याल वो सीधे आपके रूह पे काबिज हो जाता है। ये किसी परिचय के मोहताज़ नहीं और ईश्वर की कृपा रही है कि प्रयाग की भूमि पर इनको साक्षात सुनने का मौका मिला है। ख़ास बात ये रहती है कि ये गीत के बीच में आपको मधुरतम तरीकें से आपको कुछ न कुछ बताते चलते है। और इस तरीके से बताते है कि आप सुनने को विवश हो जाते है। खैर इस बनारसी अंग में राधा जी ने अच्छी खबर ली है कृष्ण की। मुझे नारी बनाया सो लो अब आप नाचो मेरे संग स्त्री बन के। सुने कृष्ण का स्त्री रूप में अद्भुत रूपांतरण राधाजी के द्वारा होली के अवसर पर।

 
 
 
  2. होली खेलो मोसे नंदलाल 
  
डॉ गिरिजा देवी भी बनारस घराने से सम्बन्ध रखने वाली प्रख्यात शास्त्रीय गायिका है। इनको सुनना भी आत्मा के ऊपर से बोझ हटाने सरीखा है। सुने तो समझ में आएगा कि राधाजी किस तरह से कृष्ण को भिगोने के लिए व्याकुल है कि आग्रह लगभग मनौती सरीखा बन गया है।
 
 
3. होरी खेलन कैसे जाऊं ओ री गुइयाँ 
 
शोभा गुर्टू को मैंने बहुत सुना है और जितनी बार भी सुनता हो तो लगता है कि एक बार और सुन लूँ। हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीत में पारंगत इस गायिका को ठुमरी क्वीन भी कहते है। इनको फिल्मो में भी सुनना बहुत मधुर अनुभव है। “सैय्या रूठ गए” (मै तुलसी तेरे आँगन की) आप सुनिए तो आपको समझ में आएगा। वैसे इस मिश्र पीलू पे आधारित ठुमरी में राधा की उलझन दूसरी है। यहाँ प्यारी राधा उलझन में है कि होली खेलने कैसे जाऊं क्योकि कृष्ण सामने रास्ता छेंक कर खड़े है। इसी झुंझलाहट का चाशनी में भीगा वर्णन है। 
 
 
4. कौन तरह से तुम खेलत होली

संध्या मुखर्जी को मैंने पहले नहीं सुना। इस लेख को लिखने के दौरान इनको सुनने का सौभाग्य मिला। बंगाली संगीत में निपुण इस गायिका की आवाज़ मन में घर कर गयी। उस्ताद बड़े ग़ुलाम अली खान की शिष्या बंगाली फिल्मो सहित हिंदी फिल्मो के लिए भी गीत गाये। इस शास्त्रीय गीत को सुनने के बाद आपको राधाजी का किसी बात पे रूठना याद आता है। कोई शिकायत जो अभिव्यक्त होने से रह गयी उसी की खीज इस गीत में प्रकट हो रही है।  दर्द है तो प्रकट होगा ही। इसमें कौन से बड़ी बात है लेकिन ये क्या कि आप फगुआ की बयार में बहने से इन्कार कर दे? शिकायत दूर कर के होली जरूर खेले मै तो बस यही कहूँगा। 


 
5. होली खेलेछे श्याम कुञ्ज 
     
पंडित अजोय चक्रबोर्ती को सुना है शास्त्रीय संगीत को सुनते वक्त और तभी से जब कभी मौका मिलता है सुन जरूर लेता हूँ। इनकी ठहराव भरी आवाज़ मन के किसी कोने में अटक कर रह गयी है। ख्याल गायन हो या ध्रुपद या भजन गायिकी हो सब पे लगभग बराबर सा अधिकार रखते है। राष्ट्रपति पुरस्कार से सम्मानित इस गायक ने बंगाल के बाहर भी अपनी आवाज़ का जादू बिखेरा है। इतना मीठे तरीक़े से कृष्ण के होली खेलने का वर्णन किया है कि बंगाली भाषा में होने के बावजूद इसका भाव ह्रदय के तार झंकृत कर गया।

 
 
6. अरी जा रे हट नटखट    
  होली पे मुझे तो वैसे अक्सर ये गीत “होली आई रे कन्हाई” (मदर इंडिया) याद आ जाता है लेकिन ये गीत कम बजता है। बहुत मधुर गीत है। व्ही शांताराम के फिल्मो के ये विशेषता रही है कि भारतीयता के सुंदर पक्षों को उन्होंने बड़े कलात्मक तरीके से उकेरा है हम सभी के चित्तो पर। नवरंग के सभी गीत बेहद सुंदर है जैसे “श्यामल श्यामल वरन” और “आधा है चन्द्रमा रात आधी” लेकिन कृष्ण और राधा के होली प्रसंग पर आधारित गीत कालजयी बन गया। कौन कहता है कि भारतीय स्त्री बोल्ड नहीं रही? देखिये क्या कह रही है राधा इसमें जिसको जीवंत कर दिया संध्या के सधे हुए नृत्य की भाव भंगिमाओ ने। महेंद्र कपूर और आशा भोंसले ने गीत में स्वर दिया है। संगीत सी रामचंद्र का है और गीत हिंदी गीतों को शुद्ध हिंदी के शब्द देने वाले भरत व्यास का लिखा है। 

 
7. प्यार के रंग में सैय्या रंग दे मोरी चुनरिया 
 
दुर्गेश नंदिनी 1956 में प्रदर्शित हुई थी। बंगाली जगत में इसी नाम से बंकिम चन्द्र चट्टोपाध्याय का प्रमुख बंगाली उपन्यास है। वैसे इस फिल्म के ये गीत “कहा ले चले हो बता दो ए मुसाफिर” तो बहुत बार सुना है लेकिन ये मधुर होली गीत लताजी की आवाज में कम सुना गया है। हेमंत कुमार का सौम्यता से परिपूर्ण संगीत है और राजिंदर क्रिशन का गीत है।
 
8. जोगी रे धीरे धीरे

नदिया के पार ने ऐतहासिक सफलता प्राप्त की थी भोजपुरी में होने के बावजूद। रविन्द्र जैन का गीत और संगीत मील का पत्थर बन गया। और यही से भोजपुरी संगीत ने एक नयी उंचाई प्राप्त की लेकिन ये अलग बात है उस मूल तत्त्व से भटक गया जिसके दर्शन इस फिल्मो के गीतों में हुए है।  भारतीय फिल्मो  में गाँव कभी भी असल तरीके से प्रकट नहीं हुआ। ये कुछ उन विलक्षण फिल्मो में से एक है जिसमे गाँव ने अपनी आत्मा को प्रकट किया है अपने कई मूल तत्वों के साथ।

 
9. कौन दिशा में लेके चला रे बटुहिया

 

 इस गीत को सिर्फ इसलिए सुनवा रहा हूँ कि इस गीत में मेरे गाँव का स्वरूप बिलकुल यथावत तरीकें से प्रस्तुतीकरण हुआ है। इस में दीखते रास्ते, पगडण्डीयाँ, खेत, नदी बिलकुल अपने गाँव सरीखा है। गीत के बीच में आपको पालकी पे विदा होती दुल्हन भी दिख जायेगी। क्योकि पालकी पे सवार होकर कभी दुल्हन को विदा होते हुए होते देखा था सो इस युग में जहाँ पे सजी धजी कार में दुल्हन को  भेज़ने की नौटंकी होती है वहां ये दृश्य आपको बिलकुल भावविभोर कर देता है। खैर गीत सुने जो बहुत मधुर है ऐसा शायद बताने की जरुरत ना पड़े। ये बताने की जरुरत अवश्य पड़ सकती है कि गीत को गाया  है हेमलता और जसपाल सिंह नें। 

 
10. गोरिया चाँद के अजोरिया 

 

मनोज तिवारी की आवाज में ये भोजपुरी गीत मन को भाता है। ये अलग बात है कि गीत को भोजपुरी गीतों में व्याप्त लटको झटको जैसा ही फिल्माया गया है। वही रंग बिरंगी परिधानों में कूदती फांदती स्त्रिया जो गीत के साथ न्याय नहीं करती प्रतीत होती। फिर भी हरे भरे  खेत मन में उमंग को जगह तो दे हे देते है। भाग्यश्री “मैंने प्यार किया” के बाद लगभग गायब ही हो गयी। मैंने प्यार किया जैसी वाहियात फ़िल्म मैंने देखी नहीं सो बता नहीं सकता कि ये टैलेंटेड है कि नहीं लेकिन जहा तक इस गीत की बात है गीत में इनकी उपस्थिति से चार चाँद तो लग ही रहे है लुक्स की वजह सें। खैर इतने दिनों बाद देखना इस एक्ट्रेस को और वो भी एक भोजपुरी गीत में एक सुखद आश्चर्य है।

 
11. लारा लप्पा ( जगजीत सिंह)

लारा लप्पा “एक थी लड़की” से बहुत ही सुंदर गीत है। इसी के खोज में ये जगजीत सिंह का ये पंजाबी गीत हाथ लग गया। इसको जगजीत सिंह ने जिस चिरपरिचित दिलकश अंदाज़ में गाया है उतने ही कमाल के तरीकें से इनके साजिंदों ने बजाया है। निश्चित ही सुनने योग्य गीत अगर आप चाहते है कि आप का दिल बल्ले बल्ले करने पे मजबूर हो उठें। वैसे इस गीत के शुरू में मजनू ने अपनी लैला को काली कहने वालो की दृष्टि को गरियाया है सभ्य तर्कों के साथ वो भी सुन लें। हम तो भाई मजनू से बस इतना ही कहेंगे कि जो बकते है उनको बकने दो काहे कि “यथा दृष्टि तथा सृष्टि” ( जैसी हमारी दृष्टि होती है, वैसी ही यह सृष्टि हमें दिखती है)

राधा कृष्ण के प्रेम की याद दिलाता होली। उनके सखा सखियों, उनके गौओं, बछड़ो सबकी याद दिलाता :-)

राधा कृष्ण के प्रेम की याद दिलाता होली। उनके सखा सखियों, उनके गौओं, बछड़ो सबकी याद दिलाता 🙂

Pics Credit:

Pic One 

Pic Two 

Pic Three

हत्या को आत्महत्या बताने के पीछे का खेल

पुलिस को गरियाना बिल्कुल उचित नहीं क्योकि पुलिस भी इसी सिस्टम में रहकर ही संचालित होती है। इसकी सिस्टम से अलग सत्ता नहीं है।

पुलिस को गरियाना बिल्कुल उचित नहीं क्योकि पुलिस भी इसी सिस्टम में रहकर ही संचालित होती है। इसकी सिस्टम से अलग सत्ता नहीं है।


जैसे कि अंदेशा था दिल्ली में १६ दिसम्बर की रात हुए सामूहिक दुष्कर्म के प्रमुख अभियुक्त ने आत्महत्या कर ली।  सरकारी सूत्रों की माने तो इस अति संवेदनशील प्रकरण में शामिल इस अभियुक्त ने तीन और बंदियों को अपने में समेटे हाई प्रोफाइल तिहाड़ जेल के एक बैरक में भोर के वक़्त आत्महत्या कर लिया। जाहिर है इस अभियुक्त की मौत के बाद इस गैंग रैप के असल कारण तक पहुचना असंभव हो जाएगा। किसी भी औसत दर्जे के विश्लेषक को भी ये समझने में जो अगर थोडा भी सचेत होकर इस मामले को १६ दिसम्बर की रात से ये कवर कर रहे हो समझ में आ जाएगा आसानी से अगर पहले नहीं   समझा तो अब कि ये गैंग रैप असल में पूरी तरह से सुनियोजित था। किसने इस प्रकरण को मास्टरमाइंड किया बस अब यही एक बात पहेली बन के रह जायेगी। ठीक उसी तरह जिस तरह सबूतों की छेड़छाड़ के कारण आयुषि हत्याकांड एक पहेली बन के रह गयी ये मामला भी बन के रह जाएगा। कोर्ट से दोषी सजा पा जायेंगे और इस मामले का पटाक्षेप हो जायेगा। ये मामला भी इतिहास के गर्भ में समा जाएगा।

एक नामी सेक्युलर पब्लिकेशन का भी यही मानना है कि ये हत्या है आत्महत्या नहीं पर जैसा सेक्युलर प्रकाशकों के साथ होता है इस मामले को ख़ास रुख देने की कोशिश की गयी है। ये बताया गया इस सेक्युलर मैगज़ीन के द्वारा कि ये पुलिस की मिलीभगत या पुलिस की भूमिका इस सामूहिक दुष्कर्म में ना पते चले इसलिए इस प्रमुख अभियुक्त को सुनियोजित तरीके से खत्म कर दिया गया। ये तय है कि इस सेक्युलर प्रकाशक के अलावा जितने और मेनस्ट्रीम मीडिया के प्रकाशक है वे भी यही सतही कारण देंगे या फिर ये राग अलापेंगी कि भारतीय जेल सुरक्षित नहीं है। लेकिन यही मेनस्ट्रीम प्रकाशक और ऐसी सेक्युलर पत्रिकाएँ खामोश रह जाती है जब नक्सली समर्थक बिनायक सेन को सुप्रीम कोर्ट ने इस आधार पर जमानत दे दिया कि जेल के अन्दर सख्त सुरक्षा के चलते किसी तरह के खतरनाक चिट्ठी पत्री का आदान प्रदान नहीं हो सकता। जबकि ये असलियत सबको पता है कि जेल के अन्दर ही माफिया जिन्हें वी आई पी कैदी कहा जाता है ना सिर्फ हर तरह के ऐशो आराम भोगते है बल्कि जेल के अन्दर रह कर ही हर तरह की अवांछित गतिविधियों को अंजाम देते है। 

ये तो उसी वक़्त समझ में आ गया था कि मामला उस तरह का है नहीं जैसा कि दर्शाया जा रहा है जब पुलिस के अधिकारियो ने अपने से उच्च अधिकारी को लड़की का बयान सही तरह से लेने में बाधा डाल दिया। इस सन्दर्भ में आप घटना के तुरंत बाद ही लिखा गया ये लेख पढ़ सकते है जिसमे मैंने उसी वक़्त ये स्पष्ट कर दिया था कि ये सिर्फ सामूहिक दुष्कर्म का मामला नहीं है। फिर लड़की को सिंगापुर ले जाने का उपक्रम और उसके बीच इंडिया गेट या अन्य जगहों पर प्रायोजित धरना प्रदर्शनों ने पूरे मामले के गौड़ तत्त्वों को उभार कर रख दिया। इससें दो बाते समझ में आती है एक तो ये कि भारतीय लोगो को नौटंकी रास आती है और दूसरा ये कि जुर्म को सिर्फ जुर्म के दायरे में रख कर समझ पाने की कला अभी भारतीयों के समझ से बाहर है। इसलिए मोमबत्ती जुलूस, बेकार की हाय तौबा में सरकार ने दो हित साधे जो सीधे उसके सत्ता बचाने से सम्बन्ध रखता था। एक तो महिलाओ के सुरक्षा से सम्बन्धी कानून में संशोधन करके महिलाओ का वोट बैंक पक्का कर लिया। दूसरा नरेन्द्र मोदी की गुजरात में हुई जीत की चमक को बाँध दिया। ये नहीं भूलना चाहिए कि सत्ता में बने रहने के मोह के लिए कांग्रेस का ही क्या किसी भी पार्टी का इतिहास घृणित और घिनौना रहा है। ये तय है कि गैंग रैप अगर मोहरा ना बनता तो कुछ और मोहरा बनता। लेकिन बनता जरूर।

इसलिए इस पूरे मामले में पुलिस को गरियाना बिल्कुल उचित नहीं क्योकि पुलिस भी इसी सिस्टम में रहकर ही संचालित होती है। इसकी सिस्टम से अलग सत्ता नहीं है। मालिक का कुत्ता है। जब चाहा मालिक ने काट लेता है। नहीं चाहेगा तो नहीं काटेगा। अब इस १६ दिसम्बर की रात को वास्तव में क्या हुआ और किस तरह और क्यों  इस घटना को उभारा गया ये तो सिर्फ ईश्वर ही बता सकता है। पुख्ता सबूतों के अभाव में मै भी बेवजह व्यर्थ ही दिमाग के घोड़े नहीं दौड़ाउंगा लेकिन कुछ केस ऐसे होते है कि जहा पुख्ता सबूतों से ज्यादा घटना के हालात ही सारी स्थिति बयान कर देते है। इसलिए ये अब आपके ऊपर है कि आप वो सच मानते है जो सत्ता के मोह में लिप्त सरकार दर्शाना चाह रही है या जो हालात चीख चीख कर बता रहे है पर आप है कि देखना और समझना ही नहीं चाहते है।

 

प्रायोजित धरना प्रदर्शनों ने पूरे मामले के गौड़ तत्त्वों को उभार कर रख दिया। इससें दो बाते समझ में आती है एक तो ये कि भारतीय लोगो को नौटंकी रास आती है और दूसरा ये कि जुर्म को सिर्फ जुर्म के दायरे में रख कर समझ पाने की कला अभी भारतीयों के समझ से बाहर है

प्रायोजित धरना प्रदर्शनों ने पूरे मामले के गौड़ तत्त्वों को उभार कर रख दिया। इससें दो बाते समझ में आती है एक तो ये कि भारतीय लोगो को नौटंकी रास आती है और दूसरा ये कि जुर्म को सिर्फ जुर्म के दायरे में रख कर समझ पाने की कला अभी भारतीयों के समझ से बाहर है

References:

The Economic Times

Delhi Gang Rape: Important Aspects Ignored By Paid Media

Kafila

Supreme Court Grants Bail  To Binayak Sen

Business Standard

Ayushi Murder Case


Pics  Credit:

Pic  One

Pic Two

When Murder Becomes Suicide

We Also Demand  Real Justice!

We Also Demand Real Justice!

The Chief accused in the Delhi gang-rape case, Ram Singh, committed suicide.

“The main accused in the Delhi gang-rape case, Ram Singh was found dead in Tihar Jail on Monday morning in mysterious circumstances….A police guard found Singh hanging from the grill of his prison cell at 5:45 am, while there were three other inmates in the cell. They claimed they were asleep and had heard nothing…..Home minister Sushil Kumar Shinde said the death was a major security lapse on the part of prison authorities, saying the preliminary probe indicated it was suicide. “There were three other inmates in the cell in which Singh was found hanging,” Shinde said.” ( The Economic Times)

So the government wants us to believe in simplistic terms that it was confirmed case of “suicide” in  presence of three other inmates. A  prominent secular publication treats this as murder. And, in my eyes too, it’s also a well planned killing but I have my own reasons than the ones stated by this publication, which primarily treats it to be unholy nexus between “prisons, crime and the police”. It has also failed to ascertain the exact motive other than trying to impress upon the mind of readers that this was murder committed by police to prevent him from confessing dirty secrets related with involvement of police in the whole episode. However, such an assertion on part of this publication is also a clever attempt on part of this magazine, to limit the imagination of the conscious readers.

Agreed that Indian prisons have become operational centers for organized crime and death inside prison is a commonplace affair, which is often sponsored by police with the help of inmates. The fact that Indian prisons are breeding ground for henious crimes  was the point I had highlighted when Supreme Court  granted bail to Binayak Sen on the ground that “Visitors are screened and searched by the jail staff. Jailors are there to oversee all these things. So, the question of passing letters or documents doesn’t arise.” I had strongly objected to such a misplaced stand of Supreme Court in my article devoted to granting of bail, wherein I stated: “Anybody who knows the Indian jails know quite well that all big criminals are operating from inside the jails. The contract to kill (Supari) is being ordered from inside the jails via the mobile. A surprise raid in any Indian jail would always lead to discovery of drugs, weapons, mobile phones and other prohibited things.”  However, for Supreme Court and other paid media publications the prison at that time was no less than temple wherein visitors came with noble intentions. 
      
After the murder of  prime accused in Delhi gang-rape, once again the whole episode would be projected in one particular way with   talks related to security within jails gaining prominence. Some conspiracy theories by paid media shall also be highlighted that would project police as the chief villain. However, for a conscious mind, that’s merely tip of the iceberg. In fact, when the Delhi gang-rape incident took place, and the paid media side-by-side huge number of protesters demanded justice for the unfortunate girl with candles and placards having slogans “Hang the rapists”, the author had suspected that there is more than meets the eye. However, being a lone voice, the feeling got suppressed even as this writer along with other thinking souls tried to point out the murkier game played behind the curtains with dubious role of police.

The piece that I wrote immediately after the Delhi gang-rape incident stated: 

 “I wish to clearly state that it would be fatal to confine the urge for changes to “safety of women alone” or, for that matter, demand for stricter provisions to prevent rape. This line of action is being deliberately highlighted under pressure from feminist wings, tactically supported by Congress government, which hopes to regain power with female voters and minority card in next Parliamentary actions. The mainstream media is also singing the same tune, because in wake of fear to lose government’s aid,  it has no other option but to toe the stance taken by government. This whole drama which captured the nation’s attention from December 16, 2012, until death of gang-rape victim was a well-orchestrated show managed perfectly well by the paid media and Congress government. There are enough circumstantial evidences which give proof of it that the real story is something else and it’s more horrible than what we all came to witness in these past turbulent fifteen days. I will deal with this aspect later in this article but first let’s not ignore these pertinent points.”

The readers can have a look at that article to ascertain what could be the reasons, which indicate at involvement of hidden players in the orchestrated drama, which took place in the wake of gang rape. Now after the suicide of the main accused, which is apparently cold blooded murder, it would be quite obvious to thinking minds that real picture is indeed a “dirty picture”. And like always the real mastermind-the real villains-shall have the last laugh. I do not wish to shoot arrow in darkness since in absence of concrete facts there is always risk of arriving at flawed conclusions. However, there are enough circumstantial evidences to prove that police is merely a puppet in the hand of chief villain. The police was no more than a puppet when the gang rape occurred, and even now in the aftermath of the suicide of Ram Singh-the prime accused- is nothing but a puppet. 

 It has now become certain that we would not come to know what exactly happened in the name of gang-rape. All we know that a beautiful girl came to lose her life in a painful way. This case would remain an unresolved dilemma like the Ayushi murder case.  It’s a painful scenario that conscious citizens can do nothing much other than being mute spectators. However, the citizens can remain alert by beginning to see beyond the obvious. That way they would begin to become aware of the great politics played in their name. That would be the beginning of making better changes in the system from the top to the bottom.

Light Of  Real Information Is Needed For Justice..

Light Of Real Information Is Needed For Justice..

References:

The Economic Times

Delhi Gang Rape: Important Aspects Ignored By Paid Media

Kafila

Supreme Court Grants Bail  To Binayak Sen

Business Standard

Ayushi Murder Case

Pics  Credit:

Pic One 

Pic Two

MEN IN BRAS AND SKIRTS (HUMOUR)

True Feminism Would Surely Make Such Men A Regular Sight!

True Feminism Would Surely Make Such Men A Regular Sight!


During one of the conversations with close friend Carmen, who happens to be a gifted conversationalist, the idea of men wearing skirt came to haunt my imagination. She picked up the idea from some fashion show. Her casual reference to men in skirt made me remind of the famous phrase that there is “method in madness”. If anyone wishes to realize how madness has become a passion in our times, the present age is fittest time to witness the mad show. Just organize a fashion show and introduce horrible sense of dressing as a new passion among youths. No wonder men wearing skirts does not sound amusing. Anything is possible in our times. Overnight we can find “he” emerging as “she” the next day!  Now I am wondering what else could follow if men start wearing skirts?

The purpose of fashion shows also defies my sensibilities. Often the trends shown in it are not meant for masses. The dresses exhibited in it are beyond the range of common people. Still we find an unending craze for such fashion shows. Remember the movie “Fashion”? That movie disclosed the harsh realities prevalent in world of fashion. Anyway, I am talking about the craziness existing in our real world, wherein the distinction between men and women is getting reduced with each passing moment, and even in the virtual world with help of Photoshop. The write-up is merely a humorous take on the whole issue.

Notice the fact that wearing “ear rings” by the boys is new craze. My friend endorsed usage of ear rings by boys since that make guys attain a look that attracts females. I feel that in every man there is female essence and in every woman there is some male element. Only today I saw a girl riding a motor bike meant for men.  Few days back, I had seen an young girl having two girls pillioned behind her on a slender scooty! That makes it very clear that there is urge in both the sexes to give way to each other’s essence. Has anyone heard “Aake Seedhi Lagi Dil Pe” song from movie Half Ticket?  Kishore Kumar has given voice to male and female characters on whom this song has been picturized!!  Pran and Kishore Kumar have performed in mind-boggling way in this song.  And that’s why this song always makes me smile! In many Indian movies dance sequences have male actors disguised as females. The same has been the case with female actresses as well.
 

Right now, I am wondering what would follow the skirt? I am sure male bras are next hot item. Please read this excerpt borrowed from news item:

“Japanese men are getting in touch with their feminine side thanks to a new trend in male lingerie.They are hitching up their man boobs (moobs), finding out their cup sizes, and getting into male bras. Akiko is the woman behind this underwear revolution. She started selling the bras online from her Tokyo shop – The Wishroom. She said: ‘I think more and more men are becoming interested in bras.’ “

Now if that’s the case I feel new perceptions would emerge. Now men, like women, would often be found complaining: I found her staring at my assets !!! New harassment laws would also be introduced for men that would take cognizance of men’s complaints, accusing the passers by of indecent gesture !!! I feel that such tactics are very cleverly promoted by market. That makes them sell their products. That’s the reason why “Mardo wali cream” (fairness cream for men) has come in existence and actors like Shah Rukh Khan, having dark complexioned wives, are promoting it. They are making us develop guilt complexes to promote the sale of fairness cream for men!!! Anyway, for me black is beautiful.

I request the likes of Carmen not to create chaos in society by feeling excited about idea of seeing men in skirts. I love women with long hairs. I am sure not many would love to see a woman proclaiming bald is beautiful! Please be traditional, at least, in some matters. Women in long hairs are epitome of sensuality. Unfortunately, it’s age of short cuts. No wonder women love anything from short hairs to short skirts.

It's Time For Girls To Shout, Sexy Legs :-)

It’s Time For Girls To Shout , Sexy Legs 🙂

Pics Credit:

Men In Skirts

Japanese Men

Facebook: Has It Turned Into Playground Of Devils?

When will human beings learn to use any forum for constructive designs?

When will human beings learn to use any forum for constructive designs?

“How I wish that somewhere there existed an island for those who are wise and of good will.” ( Albert Einstein) That’s presumably an ideal state of affairs- an utopia whose actual manifestation on earthly existence is simply not possible. Let’s understand why it’s pretty difficult to create a world, which lies above human flaws. That I would explain via the mess which prevails on Facebook. It’s a pretty awesome networking site, but marred by fake profiles and anti-social activities. The point I wish to convey is that any good forum/institution either in real world or virtual world, sooner or later, gets corrupted by wrong elements. Instead of improving the face of such institutions/ forums, the negative elements infect it with their misimpressions, and thereby considerably reduce the credibility of the forum.

Before dissecting the activities taking place on Facebook, it would not be a bad idea to analyze what’s happening in our real world. The moment a good soul appears on the stage of world, the lesser souls become hyperactive to malign his/her image, and that too for no other reason other than that this person depicts some uncommon traits. They shout at him, just the way other doggies bark at some stranger dogie, who somehow happens to stray into their domain.  And so we never find these stereotyped minds promoting such a different soul unless he/she happens to serve their vested interests. They try their level best to tame the instincts of such person and make them on par with their own so that they can be used to fulfill their narrow concerns. And when they are not able to dictate terms,  the rumour mill, like always, starts churning out all sorts of absurd details make the life hellish for such a person.

It’s not that these people running the vilification campaign are devoid of brains. They have enough intelligence, owning big degrees and enjoying good position in life, but they happen to be  devil’s advocate. High profile degrees also make them owner of big ego and complex mind. That’s why they not only make a simple issue attain a pretty complicated shape, by coining vain theories and complex terms for a simple phenomenon. The very same situation could have been easily handled by framing the perspective in simple terms but presence of worldly wise practical souls, usually from corridors of known institutions, just complicate it that proper solution becomes an impossible affair. The negative minds destroy all good relationships, forums and institutions, the way a computer virus comes to hang the system. They never offer perfect solutions, but only ways and means to corrupt the face of all simple phenomenon. Now let’s see how wrong souls have corrupted a beautiful site like Facebook. Many people harbour the wrong impression that online world is different than real world. I am afraid it’s not  true. The virtual world is simply the reflection of your real attributes which you come to unleash in real world.

**************************************************
                                        *The Glory Of Facebook Status!* 

One of my friends fell ill. He is a sensible person but then even sensible person commit silly mistakes. He informed everyone about his illness, breaking this news as Facebook status. And that’s okay but its aftermath is amazing, saddening and disappointing. Besides flow of get well messages, there appeared a large section of friends who came to “like” the status! Is that a sensible application of mind? If that’s the way they are behaving on Facebook, imagine how would they be responding in real lives. I am sure had the same status been of a lady “likes” and get well messages would have flooded the thread of that status in huge number. The impression that I wish to convey is that by unleashing such false sentiments, vain application of mind, aren’t the Facebook users lowering the status of Facebook? 

*************************************************

  *Is there any merit on debating over certain issue on Facebook?*

Being someone hailing from the world of legal professional, the importance of offering rational and logical rebuttals as arguments is crystal clear to me. However, I see no reason as to why any sensible person should waste time in offering appropriate arguments on Facebook amid disinterested users. Majority of the Facebook users are pretty casual as they get engaged in important conversations. As far as I am concerned, I do take all conversations on Facebook, related with minor or major issues, quite seriously as long as its required to make the issue attain perfect clarity and then give way to other important concerns. Having said that, the waywardness and chaos which prevails on Facebook during conversation on sensitive issues usually keeps sensible minds tight-lipped. 

*******************************
  
                 *The Existence Of Strange Groups On Facebook*

Many good for nothing souls have formed groups having dubious aims. The moderator appointed in these groups operates in strange way. It adds and removes person, without apprising the concerned person of the reason for such gestures. The moderator promotes himself as an open-minded person but it generally has hidden designs and so it edit any views which is contrary to his designs. There is also some hidden hand, operating in the group, whose only task is to give wrong colouring to all your well meaning impressions. Most of the groups remain active for some time but soon you would find them defunct, a barren land.

*************************************

            *Dangerous Love On Facebook Via Photoshop* 

True love is above the differences caused by caste, creed and colour. It also defies differences caused by age and nationality. That’s how real love operates in real world by rising above such vain concerns. Using the same passion and virtues, even the wrong souls also claim to be in real love in real world. However, it’s faking at its best, wherein superficial sentiments, false vows get exchanged. If that’s how true and lesser lover exists in real world, the situation is not much different in virtual world. Love in its real and wrong shades/forms also exists in online world too. On Facebook an aged person, using a fake profile, having the picture of a celebrity as profile picture, can easily dupe a teenager girl and strike an unholy alliance. In the same fashion, a worn out over-aged women can play the same trick. One of the recent surveys showed that number of fake profiles on Facebook is quite large.  So it’s pretty difficult to ascertain the genuineness of an individual on Facebook against such a scenario, wherein Photoshop allows a fat lady to have hourglass shape of Julia Roberts quite easily! 

****************************************************

Well, these various aspects prevailing on Facebook ascertain that just like the real world, the virtual world is also comprised of good and evil. The precautions we take in real world to separate good from bad are also to be taken in virtual world. However, that’s not something what I wish to communicate. The real motive as I talk about making distinction between good and bad is to highlight the pain suffered by the real soul as we come to ensure that difference. The agony and humiliation faced by good souls in the process to ensure that bad gets truly marginalized always takes it toll on sensitive souls. The struggle between good and wrong people shall never stop in this world but it is not high time that good souls be prevented from being sacrificial lambs in this deadly drama? Have good souls appeared in this world merely to act as sacrificial lambs for attainment of insignificant causes powered by distorted minds? It’s time to think about it quite seriously so that good souls come to serve better cause rather than turning into sacrificial lambs.    

For Mine Eyes  Real Julia Roberts Is More Genuine Than Beauties Impersonating As Julia Roberts  Via Photoshop :-)

For Mine Eyes Real Julia Roberts Is More Genuine Than Beauties Impersonating As Julia Roberts Via Photoshop 🙂

Pics Credit: 

Pic One 

Pic Two

फेसबुक वाला इश्क: इसको बौड़मपने का माध्यम ना बनाये !!

फेसबुक: क्यों नहीं हम किसी माध्यम का सही  इस्तेमाल करते कभी?

फेसबुक: क्यों नहीं हम किसी माध्यम का सही इस्तेमाल करते कभी?

अलबर्ट आइंस्टाईन की तमन्ना थी कि एक ऐसा जहां हम बनाएं जहाँ मानवीय दुर्गुण न पहुच सके। जो इसके प्रभाव से परे हो। लेकिन शायद ये बहुत ही आदर्श स्थिति है जिसकी परिकल्पना तो ठीक है इसको असल जिंदगी में रूपांतरित करना शायद संभव नहीं। इसको फेसबुक पर व्याप्त नौटंकी से समझे।  इस  पहले ये देखे कि इस दुनिया में देखिये क्या हो रहा है। कोई भी अच्छा आदमी हो। उसके बारे में इतने सारे भ्रम फैला देंगे कि और तो और वो आदमी खुद भी भ्रमित हो जाएगा कि उसका असल चरित्र क्या है। ये दुनिया के लोग प्रमोट तो नहीं करेंगे पर हा सामूहिक रूप से मिलकर उसके इज्ज़त का चीरहरण जरूर कर देंगे। और ऐसे ही लोग किसी भी संस्था, फोरम को गिराने के पीछे भी होते। और ऐसा नहीं कि ये बिना दिमाग वाले लोग है। इनके पास बहुत दिमाग है लेकिन जैसे कि होता है कि भारी भरकम ओहदे और ऊंची डिग्री वालो के पास सिर्फ अहम होता है सो ये ना जिंदगी जी पाते है और ना ही किसी भी फ़ोरम की आदर्श स्थिति को ये बरकरार रहने देते है। मटियामेट करना ही इनको आता है, सब अच्छे खूबसूरत चेहरों और गतिविधियों को इनको सिर्फ विकृत करना ही आता है। हर साधारण चीज़ को ये जटिल बना देते है जिसको सुलझाने की तमीज इनके पास नहीं होती। आइये फेसबुक के माध्यम से समझे। लोग मानते है कि ऑनलाइन जगत सच्ची दुनिया से अलग है। बिलकुल अलग नहीं है। बल्कि ये आपके ही गुणों अवगुणों का आइना है। आप माने ये ना माने ये अलग बात है।

*************************************************

                                  *फेसबुक स्टेटस की महिमा* 

मेरे एक मित्र है। थोडा बीमार पड़ गए है। पता नहीं किन ग्रह नक्षत्रो के चलते इसका उल्लेख फेसबुक पर कर दिया। कर दिया सो कर दिया पर देखता हूँ कि कई बुडबक उस स्टेटस को लाइक करके निकल गए है। इसी बेहायी के चलते फेसबुक का स्टेटस लोग गिरा रहे है। जब दिमाग का इतना वाहियात इस्तेमाल फेसबुक पर कर रहे है तो मन डरता है ये सोचकर कि असल जिंदगी में ये कितने सुलझे हुएँ होंगे। किसी भी अच्छे प्लेटफार्म/ फोरम का ऐसे लोग ही स्तर गिराने के पीछे होते है।ये तो अच्छा हुआ एक पुरुष मित्र बीमार पड़ा। स्त्री जात का स्टेटस होता तो और नौटंकी होती। लाइक्स कही अधिक होती। ठीक होने की शुभकामनाएं भी अधिक होती।

*****************************

                               *फेसबुक पर तर्कों का औचित्य* 

कानून का विद्यार्थी रहा हूँ इसलिए आर्ग्यूमेंट्स का महत्त्व औरो से बेहतर समझता हूँ लेकिन होता ये है कि जहा भेड़िया धसान सरीखा माहौल हो, कोई बुडबक कुछ भी बक सकता है वहा क्या तर्क करे और क्यों करे। खैर कुल मिला के बात सिर्फ है कि अपनी बात कहने का हौसला रखे कैसा भी माहौल हो जब तक आत्मा गंवारा करे खासकर तब जब बोलना ख़ामोशी से बेहतर हो। और उसके बाद ख़ामोशी से कट ले। हम तो यही करते है। आप का मै कह नहीं सकता।

************************************

 
                                            *कैसे कैसे ग्रुप्स*  

ना जाने किन वाहियात लोगो ने कैसे कैसे ग्रुप बना रखे है और बिना अनुमति लोगो को जोड़ते घटातें रहते है। इसमें एक सनकी मॉडरेटर रहता है। जिसको ना जोड़ने की तमीज है और ना ही ग्रुप की गतिविधियों को मानिटर करने की  तमीज। कहने को ये खुले दिमाग का होता है पर ये किसी के आधीन होकर एक ख़ास तरीकें ही की बात को प्रमोट करता है। तो जब कोई गतिविधि ना हो। और एक ख़ास दिमाग-गलत दिमाग- जब आपकी सारी बातो का अनर्थ कर डाले तो ग्रुप्स का औचित्य क्या है?

**************************************

                                 *फेसबुक वाला इश्क़ एंड फोटोशाप* 

इश्क़ जात पाँत  का भेद नहीं देखता। उम्र का फासला भी नहीं देखता। असल जिन्दगी में इश्क के इस फ़लसफ़े का सही रूप भी देखने को मिलता है और गलत रूप भी देखने को मिलता है। फेसबुक का यही हाल है। यहाँ भी यही फ़लसफा विद्यमान है अपने सही गलत प्रकार में। सो तो फेसबुक पर भी लोग असली नकली चेहरो के साथ विद्यमान है। किस चेहरे के पीछे कौन है ये आप ठीक ठीक नहीं बता सकते है। कोई थुलथुल महिला भी जूलिया रोबर्ट्स सा फिगर पा सकती है फोटोशाप के जरिये और फील गुड कर सकती है और करा सकती है। एक अधेड़ उम्र का गया गुजरा व्यक्ति भी शाहरुख खान की तस्वीर लगा कर कुछ भी एहसास करा सकता है। जाहिर है कम उम्र की लौंडिया ही पटायेगा बकवास बात करने के लिए। अब इस तरह तो वो गहरा इश्क वाला लव करने से रहा।

*****************************

शायद असल जिंदगी की तरह ये आभासी जगत भी अच्छे बुरे लोगो से भरा है।  जो सावधानी आप असल जिंदगी में बरतते है वो ऑनलाइन में भी बरतते है। लेकिन मुद्दा ये नहीं है। सावधानी बरतने वाला। तकलीफ ये है कि इस नौटंकी मतलब अच्छे बुरे के फर्क में भेद करने के उपक्रम के चलते अच्छे लोगो का जो प्रताड़ना झेलनी पड़ती है उसकी भरपाई कोई नहीं कर सकता। अच्छे बुरे के बीच  संघर्ष तो हमेशा ही चलता आया है और चलता रहेगा। ये कब रुका है। लेकिन अच्छे लोगो की बलि देने का सिलसिला इस संघर्ष के चलते कभी रुकेगा कि नहीं। क्या अच्छे लोग सिर्फ बेवजह बलि चढ़ने के लिए दुनिया में आते है? बताएं कोई?

 

फील गुड करने के लिए ये असल जूलिया रोबर्ट्स की असल सौम्यता ही काफी है। ये फोटोशाप वाली माया की क्या जरूरत है?

फील गुड करने के लिए ये असल जूलिया रोबर्ट्स की असल सौम्यता ही काफी है। ये फोटोशाप वाली माया की क्या जरूरत है?

 

Pics Credit:

Pic One

Pic Two

Elucidating Ways To Avoid Negative Forces While Resurrecting The Positive Ideals

Appreciate Real Beauty Instead Of Destroying It. Creation Takes Time But Destruction Takes Few Seconds!

Appreciate Real Beauty Instead Of Destroying It. Creation Takes Time But Destruction Takes Few Seconds!

A trap is always there for genuine souls. A sponsored hand is always there. Negative forces are all the time trying best to keep you confused about the reality. A truly conscious mind is aware of all these developments quite well.The sponsored love, sponsored hatred, sponsored disputes, sponsored issues, and , above all, sponsored whistle blowers, supported by hidden negative forces, make the cause of genuine souls weak. That’s the worst development. That’s why if there arises any opportunity to wipe out negative forces, do it well, not for the sake of one’s natural moral duty but for the sake of cause of genuine souls. It would help to create space for right people.

The only option left for positive forces is to keep doing what’s in their hands. One cannot change the whole world.That not even an Avatara (Lord’s incarnation) can do. However, we must do all that’s possible in our own capacity. At least, in that regard, we should not be reluctant in playing our part well. Our whole energy gets lost in blaming others. Let’s learn to play our part well. Our small insignificant steps also matter a lot in resurrecting right values. I agree negative forces are in operation in much organized way but that’s no excuse for the right souls not to do anything. Let’s play our part well. It’s entirely in our hands either to be swayed by Manisha’s innocence or Katrina’s sex appeal! 

We need better rulers. We need conscious individuals, who can get their priorities right. That’s the only way we can bring better changes. Or else, a “better future” shall always remain an utopia. It’s a sad commentary on state of present day affairs that people at helm of affairs are behaving in irresponsible manner. This tendency has to be curbed that you can fool all the people all the time !
 

And as we do that, let’s allow the wrong souls to laugh at our efforts. Their ridiculing, their taunting, their silly remarks and their devaluation should only encourage the right souls to remain on right track. A good and powerful soul should refuse to be disappointed. Let that’s be the case with all good souls really wishing to act as agent of change. Let’s that be the guiding force of all positive elements. I don’t know about others but my aim is absolutely clear: Wipe out the negative forces in totality as much as you can.

But be careful as you get involved in the process of resurrection of  better ideals. “Never underestimate the power of stupid people in large groups.” So never ignore the strength of stupid people. The power of stupidity should not be undervalued. It would take few minutes to wipe out Lord Rama but the arrival of another Lord Rama takes place million of years. It’s easy to demolish any good formation but to simultaneously create another beautiful world at the same speed is beyond the capabilities of human beings. That could be better understood if we witness the impact of atomic attack in Nagasaki and Hiroshima. The future generations paid heavy price for attack which lasted for few minutes. “लम्हों ने खता की है…सदियों ने सजा पाई ” ( The errors got committed in few seconds, but many generations paid the price). Therefore, the good souls need to be wise enough while handling the  “Aasurs” ( Demons) and “Aasuri Vrittis” ( Demoniacal Orientations). The beautiful souls should realize their worth and keep themselves safe until the “Lord’s Will” finally ask them to quit the drama of life. This beautiful Urdu couplet says all:

हजारों साल नरगिस अपनी बेनूरी पर रोती है,
बड़ी मुश्किल से होता है चमन में दीदावर पैदा।

   – Allama Iqbal
  
( For a thousand years the narcissus has been lamenting its blindness;
With great difficulty the one with true vision is born in the garden )

Innocence Always Clean Bowled Me!

Innocence Always Clean Bowled Me!

 

Pics Credit:

Pic One- Narcissus Flower

Pic Two- Manisha Koirala

The great Rudolf Steiner Quotes Site

Over 1400 quotes from the work of the great visionary, thinker and reformer Rudolf Steiner

Simon Cyrene-The Twelfth Disciple

I follow Jesus Christ bearing the Burden of the Cross. My discipleship is predestined by the Sovereign Grace and not by my belief or disbelief, or free will.

Serendipity

Was I born a masochist or did society make me this way?

SterVens' Tales

~~~In Case You Didn't Know, I Talk 2 Myself~~~

Indowaves's Blog

Just another WordPress.com weblog

Una voce nonostante tutto

Ognuno ha il diritto di immaginarsi fuori dagli schemi

Personal Concerns

My Thoughts and Views Frankly Expressed

the wuc

a broth of thoughts, stories, wucs and wit.

A Little Bit of Monica

My take on international politics, travel, and history...

Peru En Route

Tips to travel around Perú.

Health & Family

A healthy balance of the mind, body and spirit

मानसिक हलचल

मैं, ज्ञानदत्त पाण्डेय, गाँव विक्रमपुर, जिला भदोही, उत्तरप्रदेश (भारत) में ग्रामीण जीवन जी रहा हूँ। मुख्य परिचालन प्रबंधक पद से रिटायर रेलवे अफसर। वैसे; ट्रेन के सैलून को छोड़ने के बाद गांव की पगडंडी पर साइकिल से चलने में कठिनाई नहीं हुई। 😊

Monoton+Minimal

travel adventures

Stand up for your rights

Gender biased laws

The Bach

Me, my scribbles and my ego

Tuesdays with Laurie

"Whatever you are not changing, you are choosing." —Laurie Buchanan

The Courage 2 Create

This is the story of me writing my first novel...and how life keeps getting in the way.

A Magyar Blog

Mostly about our semester in Pécs, Hungary.