Monthly Archives: November, 2012

Population Explosion Is More Dangerous Than Nuclear Explosion

That's Commonplace In  India!

That’s Commonplace In India!


The governments, across the globe, have become highly suspicious about the activities taking place in the world of social media. In some circles, especially among the bureaucratic class, which in my eyes are comprised of dullest minds, look with disdain at people involved in world of social media. For instance, Facebook for them is still some sort of time pass, when it has emerged as a powerful medium to shape vision of present and coming generations. It’s highly amusing that if the activities on Facebook are such harmless affair then what’s the need to monitor it? The truth is that it has become a powerful weapon to shatter the lies spread by government. It’s shattering their propaganda, with better version of any critical issue, haunting the society.

Anyway, this post is not intended to discuss about the influence of social media. It’s about one of the worst problems faced by India: Population Explosion. I am presenting the excerpts from a thought-provoking conversation that we had on Facebook. I must thank the participants that by giving way to such lively well-meaning thoughts, they added a new dimension in the stature of Facebook. Few participants expressed their views in Hindi. I have added English version of their comments, which highlights the essence of what they expressed in Hindi.

********************

Deewaker Pandey, New Delhi:

ये जनसँख्या असंतुलन देश की समस्याओं को बढ़ा रहा है केवल.. क्यूंकि संसाधन तो बढ़ नही रहे.. वो घट रहे बस और लोग बढते जा रहे.

[The growing population imbalance is merely adding new problems. Resources are decreasing but population is increasing with each passing day.]

Arvind K. Pandey, Media Analyst and Writer:

Well, one of my close friends, Carmen, living in a different nation, always feels as if she has seen/faced the worst. I ask her to visit  India and travel in over crowded compartment of train, no less than a Nazi torture cell. I am sure, after having such rough travelling experience, she would start imagining combis of her nation were better,  and she would then, definitely, run away to her nation, shedding all romantic notions aka Taj Mahal.

Nadeem Akhtar, Chief Copy Editor, The Public Agenda, Ranchi, Jharkhand:

अरविंद जी, पूरे सम्मान के साथ इस विषय पर मेरी असहमति है। मैं इस मसले को सामाजिक मानता हूं और इस पर कानून के पक्ष में नहीं हूं। आपको पता होगा कि चीन में भी जनसंख्या नियंत्रण के लिए नीति लागू हुई थी, वन चाइल्ड पॉलिसी लेकिन वहां भी सरकार ने कोई कानून नहीं बनाया था। हां, इसके बावजूद चीन में बेतरह अत्याचार हुए। एक नीति मात्र बन जाने से किस प्रकार आम जन पर अत्याचार किया जा सकता है, यह चीन की निरंकुश शासन प्रणालि के कर्ता-धर्ताओं से सीखना चाहिए। भारत, एक वैविध्य सांस्कृतिक चेतना वाला राज्य है। यहां राजसत्ता अगर ऐसे संवेदनशील मामले पर कानून का चाबुक चलायेगी, तो समाज के बिखरने का पूरा अंदेशा रहेगा। बेहतर यही होगा कि इस समस्या को नैतिक रूप से सुलझाया जाये। जैसे प्रथम मातृत्वोपरांत महिला बंध्याकरण पर माता को तीसरे और चौथे दर्जे की सरकारी नौकरी दी जाये या फिर पुरुषों की नसबंदी पर किसी भी रेलवे की परीक्षा में कट ऑफ मार्क्स पर 40 नंबर का ग्रेस दिया जाये, तो यह ज्यादा आकर्षित करेगा। कानून का चाबुक तो सिर्फ समाज में वैमनस्यता फैलायेगा। इसे इस नजरिये से भी देख सकते हैं कि हत्या के खिलाफ कड़ा कानून है, लेकिन क्या हत्याएं रुक गयी हैं?

[ Arvindji, having due respect for your views, I beg to differ. I treat this issue as a social ill and do not subscribe to the view that this can be handled well if tough laws come in origin. No specific law is needed to control growth of population. You must be aware of the fact that China implemented one child policy, but it did not give way to any tough law to execute this policy. Despite absence of law, the government agencies gave way to cruel means to make this policy attain logical culmination. The point is even a simple policy is capable of triggering such cruel gestures on part of government. That we need to learn from inhuman treatment of people at the hand of dictatorial government agencies in China. India, on the other hand, is a Pluralistic society. I am sure, a tough stand on part of government, would lead to disintegration of society. I suggest a moralistic approach, for instance, women opting for Tubectomy, after their first pregnancy, should be offered Class Three/ Class Four government jobs. Men, on other hand, opting for Vasectomy, should be given concession in cut off marks set for qualifying in Railway Examinations. The whip of law would only increase tension within the different layers of society. Let’s see it from this angle: Do tough laws that we have to control murder, stopped murders?]

Arvind K.Pandey, Media Analyst and Writer:

नदीमजी पहले तो इस बात के लिए आपको धन्यवाद कि इतने दिनों के बाद कोई पुराना मित्र दमदार तरीके से वापस आया। फेसबुक को सरकार और कुछ मीडिया के लोग बड़ी तिरछी नज़रो से देखते है पर आप जैसो लोगो की उपस्थिति इस मीडियम की सार्थकता बढाती है। मुद्दे पे आते है मेरा रूख थोडा सा अलग है। चीन में लोकतंत्र नहीं है इसलिए वहा से तुलना बेमानी है। ये समस्या विकट है। क्योकि अगर आप भीड़ बढाकर काम नहीं देंगे तो समाज में जुर्म का ग्राफ बढेगा। अराजकता बढ़ेगी कि बिहारी बिहार में रहे और मराठी सिर्फ महाराष्ट्र में।आप देखिये आज जो भी समस्या है इसके मूल में जंगली घास की तरह बढती आबादी ही है। तो मेरी नज़रो में एक स्पष्ट नीति होनी ही चाहिए भले ही सख्त कानूनी स्वरूप उसका ना हो। इसके बाद भी अगर कंट्रोल मे ना आये तो सख्त कानून अनिवार्य है। आप इस देश में कर ही क्या सकते है जब एक बड़ा वर्ग इस बात को मानता है कि जितने हाथ उतना मुनाफा! उनको क्वालिटी आफ लाइफ से क्या लेना देना। आप पोलियो की ड्राप पिलाने में जूझ जाते है तो इस गंभीर समस्या को आप सिर्फ समझा बुझा के कुछ कर पायेंगे मुझे संदेह है। चलिए पहले आप के पाले में बाल डालते हुए पहले समझाने वाला, कुछ साथ में लाभ देने वाला विकल्प ही ट्राई किया जाए। ये अलग बात है कि पानी सर से ऊपर बह रहा है।

[ In the very beginning, I must thank you, Nadeem, for making your presence felt, after such a huge gap,  with such a powerful response. The government is not pretty happy with activism, which prevails on Facebook. Even many circles in traditional media make mockery of journalists involved in world of Facebook. However, I must say such a conscious take on this critical issue on Facebook, makes it clear that people targeting social media are, in actuality, afraid of its ever-increasing influence in deciding the fate of any issue. Let’s come at issue at hand. I have slightly a different perspective than yours, Nadeem. China does not have a democratic set-up and so I don’t think we can contrast our situation with what’s happening there. This is a very serious issue. If you would not create scope for jobs, but keep on increasing the population, then it would automatically increase the crime rate. It will lead to chaotic situation as one state will start rejecting people belonging to a different state: Biharis should live in Bihar and Marathis should remain caged in Maharashtra type conflict would become order of the day! I mean analyze any issue and you would find surging population, spreading like wild grass, as its root cause. That’s why in my eyes, a strict policy has become the need of the hour, whether or not you have a rigorous legal sanctity. If such a policy fails, then there is no other way left other than to give way to tough laws.

You know well that simple measures, devoid of legal force, more often than not, have failed to bear proper results in India. There is a big section in Indian society, belonging to particular community, which believes greater the number of hands, greater is the profit. They care a damn about quality of life. Let’s know that government agencies faced huge difficulties in ensuring smooth  implementation of pulse polio drive, which had no controversial aspect at all. Anyway, you have made good suggestions. There is no harm in giving way to them before experimenting with tough measures. The truth is that water is already flowing above the danger mark.]

Ghanshyam Das, Medical Practitioner, U. A. E.:

Unless everybody is educated, this problem cannot be solved. We can see that thirty years back the average number of children in a middle class family was 4 or 5. And now if we see it is 2. The problem is mainly in the lower class of the society, which is uneducated, and open to accept any level of living and any work (legal/illegal), and that is the class which is a deciding factor in Indian politics. By deciding, I mean, they are easily lured by corrupt politicians, and being in large number make them an important factor. And it will take another 20-30 years, to control the rate of reproduction in this particular sector of society.

Arvind K.Pandey, Media Analyst and Writer:

Thanks for a thought provoking reply, Ghanshyam Dasji. The seriousness of the issue can be felt in exchange of views between me and Nadeem.

Since childhood, I have been reading this slogan “Hum do Humare do” (We Two, Our Two) but I don’t think it has brought any desired impact. And one reason why population graph has gone down in upper middle class, I think, it’s because of high cost of living rather than education. Still, one cannot deny educated families have better approach in this regard. Interestingly, it’s easier to convey messages in modern times. So let’s see what a vigorous campaign comes to yield. But in my eyes, we need to have a clear-cut policy in this regard. Simply messaging and giving concessions would not yield desired result.

Swami Prabhu Chaitanya, Patna, Bihar:

देश का दुर्भाग्य संजय गाँधी ने गलत ढंग से मगर अच्छी पहल की थी. संजय गाँधी की असामयिक मौत ने देश को वर्षों पीछे धकेल दिया। सारे अवसरवादी,वोट के ठेकेदार इस महान अवसर को भुनाने में लगे हैं कि  कैसे अपनी जाति बिरादरी की संख्या को अधिकतम किया जाये। जीवन की गुणवत्ता से इनका क्या वास्ता इनकी तो गद्दी सुरक्षित रहनी चाहिए। पढ़े लिखे (गधों) से इन राजनीतिज्ञों को कोई अपेक्षा नहीं। उन में से अधिकतर तो वोट देते नहीं। उन्हें TV  पर मनोरंजक चर्चाएँ /बहस आदि देखना पसंद है तो जो वोट बैंक हैं उनके उसकी संख्या को तो वे (Politician) बढ़ते देखना चाहेंगे न ?आखिर गणतंत्र (भीड़तन्त्र) चलेगा कैसे ? गुणतन्त्र की बात कोई यहाँ कैसे उठाये ?और चौथा स्तम्भ भी सुनते हैं बिक गया है। एक खास दल जिसके पास अकूत धन है शायद, तंत्र उसीके हिसाब से चलता है।

[ Ironically, Sanjay Gandhi made a good move in this direction, although appropriate methodology was not adopted. The untimely death of Sanjay Gandhi put the nation again in medieval times. The opportunists are now making all efforts to cash-in-on the chaos, which prevails in this nation on this particular issue. Let the tribe of their caste increase is their only motto. They are not interested in quality of life, being solely interested in keeping their bonhomie with power intact. They are not afraid of educated class since it never uses its voting rights, being all the time swayed by cheap thrills of life. Probably, that’s why, politicians are pretty much  interested in greater number of heads in lower sections of society, who constitute their vote bank. How else mobocracy would sustain its presence? Who will dare to ensure quality of life amid this lust for power? Even the Fourth Estate has compromised with its credibility. It appears that this country is ruled by a party, which has amassed huge wealth.]

Arvind K.Pandey, Media Analyst and Writer:

जनसँख्या बढ़ेगी तो वोट बैंक बढेगा …और क्या पता बढ़ते बढ़ते एक अलग देश फिर पैदा हो जाए तो एक नया भ्रष्ट केंद्र बिंदु पैदा हो जाए। इसलिए जनसँख्या बढ़ने दो। और कम पड़ जाए तो बांग्लादेश से बुला लो।

[ Definitely, increase in population would increase the vote bank. And who knows, this ever-increasing population gives birth to another nation, which may give rise to new centers of corruption. So let the population swell! And if they still need more people, invite Bangladeshis!]

Ghanshyam Das, Medical Practitioner, U. A. E.:

Arvind K Pandey ji, you are right in stating that “it’s because of high cost of living rather than education”, but the poor section of the society is equally exposed to the same harshness of high cost of food and clothes, but they fail to realize that it’s due to less developed intellect and go on reproducing mindlessly. That’s because of lack of awareness/education (mere school certificate is not eligible to be called as education until unless it instills the mind with wisdom and intellect). And it is equally true that the population would continue to increase as long as green revolution comes to absorb all the pressure. A time will come when even the best efforts to ensure the food safety will fail to satisfy all of them, the cost of food will rise very high, and there will be no availability of the jobs/or very less paying jobs. That will compel even the lower class of the society to stop breeding further.

It is all about the minimum requirements of the life of a particular individual, which matters. For upper middle class a respectful status in the society is equally important for life as are the foods and clothes. Therefore, they stopped early. For lower section of society, the minimum need is only food and clothes, which will be under risk soon with this rate of their growth, and they will be forced to follow the middle class.

Arvind K.Pandey, Media Analyst and Writer:

One of the advantages in modern society is that messages can be spread easily. So let’s try to increase the level of awareness.

Ghanshyam Das, Medical Practitioner, U. A. E.:

True, otherwise, it will be too late. And the society may collapse. Serious consequences are in store–like increase in crime. If awareness program fails, a binding law is a wise decision. “bhay binu hohi na preeti” (fear factor is necessary to elicit love/respect). Giving way to harsh decisions to prevent a greater disaster, is right in my opinion- something that you have already mentioned above. That’s because the government has not enough resources/employment to lure them. So the alternative way as suggested by Nadeemji does not look feasible in current situation.

Arvind K.Pandey, Media Analyst and Writer:

Finally, Ghanshyamji took a big U turn and felt that “a binding law” is needed. So let’s see what the result of your way, which is recommended by Nadeem as well, yields. I have no problem with this idea, but given the way this nation functions, unless there is well regulated proper policy which supports this vision, I am apprehensive about the success of vision you both collectively share.

Ghanshyam Das, Medical Practitioner, U. A. E.:

So, finally, we arrived at the root cause of all the rot in our society: Poor governance and political scenario!

Arvind K.Pandey, Media Analyst and Writer:

Ghashyamji, you got the bottom-line! This is one of the few conversations on Facebook which took place so well with such a perfect bottom-line. No chaos and confusion in presentation of ideas at all. Hats off to all wonderful participants, for engaging in a thought-provoking discussion in such a well-coordinated manner.

 

And Life Goes On In India!!

And Life Goes On In India!!

 

Pics Credit:

Pic One

Pic Two

Celebrations, After Ajmal Kasab’s Execution, Hold No Meaning Until Islamic Terrorism Gets Wiped Out Totally

That's Mumbai 26/11 Reeling Under The Impact Of Islamic Terrorism

That’s Mumbai 26/11 Reeling Under The Impact Of Islamic Terrorism


Well, we Indians are always desperate to elicit happiness from even the most insignificant happenings. That too when almost every alternate day, we are involved in this or that celebration. Have taste of the recent cause of celebration: Terrorist Ajmal Kasab, the lone surviving Pakistani terrorist of the 26/11 Mumbai terror attacks, hanged till death. Is this news worthy of receiving that much attention, the way Indian mainstream newspapers flashed it on their front pages, highlighting the jubilant mood which prevailed in the nation in aftermath of the death of Kasab?  It was turned into an event as if India had carved a defining moment in world history at that point of time. It appeared as if our always tight-lipped PM Manmohan Singh, started roaring like a true lion, with deafening intensity! Let me make it very clear, instead of putting it figuratively, that we need to intercept critical issues not in light of such minor gains. Instead of going overboard with such idiotic style of celebration, let’s learn to delve deep into resultant implications, when the issue pertains to sensitive issues.

The mainstream media is guilty of projecting the whole episode the wrong way. It first informed us about in a sensational style, the high level of secrecy maintained by the people involved in hanging process of Ajmal Kasab, adding that it was carried under the direct supervision of Indian Prime Minister Manmohan Singh, making the whole process bear close resemblance with Laden’s killing by USA, which was perfectly executed under the supervision of Barack Obama. Such colouring is absolutely out of place. Next we are informed by some sections of media about the high level of commitment of this UPA government, caught between the devil and the deep blue sea most of the time, in keeping at bay the threats imposed by terrorism. Isn’t mainstream media guilty of first giving rise to such flawed contrast in covert manner, and later, projecting it as some sort of moral victory for the government? 

That’s certainly not the case. The death of Kasab got brutally delayed because of the slow judicial process, as he had been declared guilty way back in 2008. It would not be hard to imagine that government would have spent huge amount of taxpayers’ money in providing him great security, in offering food and lodging. So is there any merit in celebrations which took place? Does this government, failure on every front deserve any credit? If it’s that committed to send strong signals to Islamic terrorists, what’s the reason of delaying the death of  2001 Parliament attack death row convict Afzal Guru? If it’s that alert to avoid fresh attacks, why the same loopholes prevail, in measures concerned with internal security, which prevailed at the time of Mumbai attack? The commoners are still susceptible to same threats and a fresh attack remains a great probability. So isn’t our happiness misplaced? 

This paid media, sponsored by vested interests, is corrupting the sensibilities of average readers by such crass sensationalism of minor happenings. It’s trying to deviate away our attention from more pertinent concerns- the real issues. It’s weakening our ability to frame any issue in right perspective. Such crass reporting of vain developments is no less than sweet poison, rendering ineffective the impact caused by uneasy questions. Let me put the record straight. I am not ardent fan of  Bal Thackeray, but I must admit that I liked his view that these dreaded terrorists do not need convictions after such lengthy trials. On the contrary, they need to be immediately shot dead. I mean what’s the point in subjecting a terrorist to trial, who was caught live on cameras killing people in cold blooded manner, with no sign of remorse, tainted with sadistic pleasure? But you ensured that he dies only after rejection of his mercy petition by the President- a petition which is never meant for such people! Never forget that had dedicated team lawyers under the headship of Ujjawal Nikam, didn’t pursue the case with that much sincerity, it would have simply not been possible to ensure conviction of such dreaded criminal.

In light of such facts, it’s really hard to believe that death of Ajmal Kasab highlights the strong commitment on part of the weak  UPA government to erase Islamic terrorism from Indian land. The slow process involved in the elimination of such dangerous minds  is only indicative of its lackadaisical approach and any conscious observer shall never treat it as sign of strong will. Strong will gets depicted when you get involved in serious manhunt of dreaded terrorist for years and kill him on the spot-the way USA killed Laden. Strong will gets projected when you ensure the killings of dictators by attacking a nation despite huge protests, sacrificing lives of so many of our own people. The targeted drone attacks engineered by CIA’s programme, in various parts of Pakistan’s tribal heartland, is what truly represents will to eliminate dangerous  minds! The strong commitment becomes evident when you ensure that such lethal attacks become a remote possibility, and for that you ensure that even foreign dignitaries have the taste of tough measures. It’s better this government stops fooling people, boasting of its so-called commitment.

Let me bring into light some of the important aspects related with hanging till death of Ajmal Kasab, which the mainstream media deliberately kept it away from the focal point of an average reader’s eyes, blocking him to form a substantial perspective. In a news item published in The Hindu, it was reported, citing recent UN General Assembly’s human rights committee’s resolution calling for a global moratorium on the death penalty, that ‘execution was an “unconstitutional act” of the State’. The Amnesty International, like always reacting in hypersensitive way in India related affairs, wondered about “unusual speed with which the mercy petition was rejected’, labeling it as something that would give rise to a “dangerous precedent”. The Kafila publications, best place for anti-India secularists to publish their outburst, taking a similar stance as one taken by The Hindu, stated that “the very fact that Kasab had indeed committed an unpardonable crime is what renders him eligible for mercy”.  One writer, belonging to the same publication, went ahead in unleashing his frustration, termed the jubilant mood of the victim’s families of 26/11 as “barbaric”. I am die-hard champion of freedom of expression but I wish to know do such anti-India sentiments constitute freedom of expression? Very recently, a cartoonist was sent to jail for dishonouring national symbols and this writer is interested in knowing from the government what actions has it taken to stop such publications from repeatedly hurting the national pride? 

Almost challenging the so-called commitment of this UPA government, just after the execution of Ajmal Kasab, the commander of Lashkar-e-Taiba (LeT) was quick in communicating his intentions to news agency Reuters: “He was a hero and will inspire other fighters to follow his path.” The news of Kasab execution came as a bolt from the blue for the Taliban leaders in Pakistan who were badly hurt that a “Muslim has been hanged on Indian soil”. If that was not enough, Pakistan’s failure to keep its promises intact of acting against perpetrators of the 2008 Mumbai terror attack has only added fuel to the fire. It still insists on not having enough evidences sustainable in court, which is a blatant lie in eyes of India, as it had already presented enough concrete evidences. Strangely, a major political party in Pakistan, headed by cricketer turned politician,  Imran Khan, has demanded the hanging of Indian prisoner Sarabjit Singh. Such a knee jerk reaction is enough to suggest the level of derailment of Pakistani leaders.

In a shocking disclosure in The Economic Times, B Raman, additional secretary (retd), Cabinet Secretariat, Government of India, virtually shattering the myths spread by the Government that it’s fully prepared to counteract terrorism iron-hand way, stated that “we were a soft state before 26/11 and we continue to be a soft state after 26/11 and the execution of Kasab”. The government, I am sure would  take political mileage, but it would be better for it, if it pays attention to words of sensible minds like B Raman and take appropriate measures, instead of fooling the people with help of mainstream media with rhetoric and crass sentimentality. “Kasab is no more, but the jihadi terrorist threat posed by the state of Pakistan and its non-state creations remain as serious as before. We need a comprehensive counter-terrorism strategy to deal this. We do not see any signs of it so far.” (B Raman) What’s the point in feeling glad, after the execution of Kasab, when it has utterly failed to put right pressure on Pakistan to heed its line of action?

Let’s stop being swayed by such misplaced emotions. The citizens of India should not be influenced by such rhetoric, and, instead, put pressure on government to ensure its safety in a proper way. It should replace this government with one which better suits the destiny of nation, allowing better rulers to be in the driver’s seat. The country needs few more souls like Indira Gandhi, K P S Gill and Jagmohan, to name a few, to teach fitting lesson to dangerous organisations like  Indian Mujahideen (IM), aided and funded by foreign nations including Pakistan. That’s why it becomes imperative for citizens to use their voting rights sensibly, and a failure in this regard, only ensures an unstable future. So ‘wake up sid’ it’s now a do or die situation! Act before it’s too late.

Killing The Petty Criminal Means Nothing, Kill Their Commander!

Killing The Petty Criminal Means Nothing, Kill Their Commander!

References:

The Economic Times

The Hindu

The Times Of India

The Times Of India

Kafila

Kafila

Pics Credit:

Pic One

Pic Two

जब आम आदमी से आतंकवाद का फासला कम हो तो एक कसाब के हलाक़ होने पे जश्न व्यर्थ है

आम आदमी उतना ही डरा, सहमा है और आतंकी  निशाने पे उसी तरह है जैसा कि पहले था। तो ये हम खुश किस बात पर  हो रहे है?

आम आदमी उतना ही डरा, सहमा है और आतंकी निशाने पे उसी तरह है जैसा कि पहले था। तो ये हम खुश किस बात पर हो रहे है?


हम भारतीयों का तीज त्योहारों से लगता है जी नहीं भरता है तभी तो एक दो कौड़ी के शख्स के मरने पर इतनी ख़ुशी व्याप्त है जैसे सिकंदर को विश्व विजय पर भी न हुई होगी। उस पर ये फटीचर भारतीय मेनस्ट्रीम मीडिया, जिसमे हिंदी के अखबार तो प्रमुख रूप से शामिल है, इस खबर को ऐसे कैश कर रहे है, जो कि इनकी आदत है, जैसे प्रधानमन्त्री मनमोहन सिंह ने चुप्पी तोड़कर दमदार आवाज में बोलना प्रारंभ कर दिया हो। क्यों हम व्यर्थ के खुश होने के आदी हो चुके है। खुश होने के बजाय हमे पूरे प्रकरण को बहुत ही गंभीरता और सूक्ष्मता से समझने की जरूरत है। हमे उस तरह से इस को सनसनीखेज तरीके से नहीं समझना चाहिए जैसा कि मेनस्ट्रीम मीडिया चाहता है कि हम समझे। आप देखे कि मेनस्ट्रीम मीडिया इस खबर को, खासकर हिंदी के अख़बार जो ग्रामीण परिवेश में ज्यादा पढ़े जाते है, इस खबर को मुख्य पृष्ठ पर इस तरह छापा है जैसे कि बैराक ओबामा ने लादेन को ढूंढकर मार डालने वाली कारवाई की थी अपने निगरानी में।

लेकिन यहाँ ऐसा कुछ नहीं था। बल्कि एक लचर न्यायिक प्रक्रिया के चलते एक ऐसे आदमी को जिसको चार साल पहले ही मर जाना चाहिए था को फांसी चार साल बाद हुई। इस चार साल में न जाने कितना सरकारी पैसा इसको खिलाने पिलाने और इसकी तगड़ी सुरक्षा व्यस्था में खर्च  हुआ होगा जो कुछ और नहीं आप और हमसे लिया गया टैक्स था। लेकिन दर्शाया ये जा रहा है जैसे कांग्रेस सरकार कितनी प्रतिबद्ध है आतंकवाद के खात्मे के प्रति कि उसके लगभग हर मोर्चे पे नाकाम प्रधानमंत्री ने कोई बहुत बढ़ी फतह हासिल कर ली हो। अगर इतनी ही प्रतिबद्ध है तो अफज़ल को इसके पहले मर जाना चाहिए था,  हमारी सुरक्षा व्यवस्था को पहले से और सुदृढ़ किया जा चूका होता पर हमारा सुरक्षा तंत्र आज भी उतना ही लचर है जितना बम्बई पर हमले के समय था। आम आदमी उतना ही डरा, सहमा है और आतंकी  निशाने पे उसी तरह है जैसा कि पहले था। तो ये हम खुश किस बात पर  हो रहे है?

ये बिका हुआ मीडिया हमें असल मुद्दों से हटाकर गुमराह कर रहा है। आपको स्वीट पाइजन देकर इन भ्रामक खबरों के जरिये आपसे असल सवालात करने की काबिलियत को छीन रहा है। बाल ठाकरे से हम भले ही नफरत करते हो, मै भी उग्र विचारधारा का होने के कारण समर्थक नहीं हूँ ठाकरे की विचारधारा का, पर उसकी ये बात पते की है कि इन आतंकवादियों को पकड़ो और वही शूट कर दो। जो खुले आम गोली चलाता दिख रहा हो, जिसके चेहरे पर कुटिल मुस्कान थी लोगो को छलनी करते वक्त उसको आपने ट्राइल के जरिये चार साल बाद मारा और वो भी तब जब राष्ट्रपति ने दया याचिका खारिज कर दिया तब। और ये भी तब संभव हुआ जब उज्जवल निकम जैसे वकीलों ने रात दिन एक कर डाला कि कोई बिंदु छूटने न पाए। ये हमारी कमजोरी को दर्शा रहा ना कि हमारी प्रतिबद्धता को। प्रतिबद्धता तब झलकती है जब लादेन को अमेरिका मारता है ढूंढ के बिना किसी ट्राइल के, जब सद्दाम को मारा जाता है अपने कितने सैनिको की कुर्बानी के बाद, जब आप दूसरे के देश में ड्रोन हमले करते है क्योकि इनको मारना आपकी जरुरत बन गयी है, और हमले फिर ना हो आपके यहाँ सुरक्षा तंत्र इतना सख्त हो कि वक्त पड़ने पर दूसरे देश के राजनयिक को  भी नंगा करके तलाशी लिया जा सके और कोई कुछ ना कर सके। ये कहलाती है प्रतिबद्धता!  

मै पाठको का ध्यान उन बिन्दुओ पर प्रकाश डालना चाहूँगा जो शायद मीडिया ने आपसे छुपा दिया या जिनको औसत पाठक को जरूर जानना चाहिए पर उन्होंने  ध्यान नहीं दिया होगा। द हिन्दू अखबार में इस बात का उल्लेख करते हुएँ कि फांसी दिए जाने से दो दिन पहले ही संयुक्त महासभा की मानवाधिकार समिति दुनिया भर में सज़ा ए मौत को ख़त्म करने का प्रस्ताव पास किया था, एमनेस्टी इंटरनेशनल के द्वारा किये गए विधवा विलाप के साथ, ये कहा गया कि कसाब को फांसी देना असंवैधानिक है और ये खतरनाक परंपरा को जन्म देता है। एमनेस्टी इंटरनेशनल का कहना ये था कि इतनी तेज़ी दिखाने की क्या जरुरत थी। काफिला पब्लिकेशन जो तकरीबन सबसे लद्धड सेक्युलर बुद्धिजीवियों का केंद्र बिंदु बन गया है ने लगभग यही रूख अपनाया कि क्यों राष्ट्रपति ने तेज़ी दिखाई अपील ठुकराने में बल्कि ये भी कह डाला कि चूँकि माफ़ी ऐसे हालातो के लिए बनी ही थी सो माफ़ कर देना चाहिए था। इसी पब्लिकेशन के एक और लेखक है जिनको बहुत दुःख हुआ है कसाब की मौत पर और जो कुछ हुआ कसाब की मौत के बाद मतलब हम सबकी सकारात्मक प्रतिक्रियाएं सब बर्बर की श्रेणी में आता है। मै वैचारिक स्वतंत्रता का प्रेमी हूँ पर क्या इस तरह के विचारो को फ्रीडम आफ एक्सप्रेशन के दायरे में रखना चाहिए? एक कार्टूनिस्ट को तो आपने राष्ट्रीय प्रतीकों के अपमान के कारण जेल भेज दिया पर इस सरकार से जानना चाहूँगा कि इन पब्लिकेशन पे लगाम कसने के लिए क्या कदम उठाती है? तो ये है इस देश का माहौल कि ऐसे बुद्धिजीवी है जो कसाब की मौत को असंवैधानिक तक बता डाल रहे है। आप आतंकवाद से क्या ख़ाक लड़ेंगे?

सरकार की प्रतिबद्धता को लगभग चुनौती देते हुएँ लश्करे-ए-तोइबा के कमांडर ने फ़ोन पर एक न्यूज़ एजेंसी को ये बताया कि कसाब उनका हीरो है और  भविष्य में ऐसे और हीरो पैदा होंगे। पाकिस्तान में तालिबान मूवमेंट के संचालक को भी गहरा सदमा लगा है कि एक मुसलमान भारत की धरती पर इस तरह हलाक़ हो गया है। और इधर पाकिस्तान की विदेश मंत्री अभी भी इस नौटंकी में लिप्त है कि हमको  भारत वो सबूत दे जो कोर्ट में साबित किये जा सके तो हम किसी ठोस कार्यवाही को अंजाम दे। और इधर भारत का कहना है कि हमने तो सब सबूत पहले ही उपलब्ध करा दिया है। इन सब के बीच इमरान खान की पार्टी ने कसाब की मृत्यु को दिल पर लेते हुएं“टेरोरिस्ट” सरबजीत सिंह को तुरंत फांसी पर लटकाने की मांग कर डाली है। ये देखिये पाकिस्तान की आतंकवाद से लड़ने की दृढ़ इच्छाशक्ति का नमूना कि सरबजीत सिंह  “टेरोरिस्ट” है पर कसाब सिर्फ “गनमैन” था। और भारतीय सेक्युलर अखबार द हिन्दू की माने तो भूख और गरीबी से पैदा हुआ बेचारा।  

द इकनोमिक टाइम्स में छपे कैबिनेट स्तर के भूतपूर्व भारतीय अधिकारी बी रमन का लेख आतंकवाद से लड़ने के हमारे दावो की पोल खोल के रख देता है।इस वरिष्ठ अधिकारी का कहना है कि हम 26/11 के पहले  भी सॉफ्ट स्टेट थें, 26/11 के बाद भी है और कसाब के मृत्यु के बाद भी वही है। ये सरकार सिर्फ इसका राजनैतिक लाभ लेगी ये भूलकर कि इंडियन मुजाहिदीन के द्वारा हर प्रमुख शहरों में स्लीपर सेल्स आज भी ऑपरेट कर रहे है। इस अधिकारी का ये कहना है जब तक इस षड़यंत्र से जुड़े सारे दोषियों को नहीं सजा दी जाती, उस पूरे ढाँचे को ध्वस्त नहीं किया जाता जिसके आका पाकिस्तान में बैठे है तब तक एक कसाब के मरने से क्या होगा और अफ़सोस यही है कि इस सरकार ने पाकिस्तान पर कोई कारगर दवाब नहीं बनाया।

सो एक कसाब के मरने पर हम खुश क्यों है? इतना मुझे पता है कि इस आतंकवाद नाम के दानव को खत्म करने  के लिए जिसको ईधन पाकिस्तान से मिलता है तब तक नहीं खत्म होगा जब तक इंदिरा गांधी जैसी बोल्ड राजनयिक का साथ जनरल सैम मानेकशा/ के पी एस गिल/जगमोहन जैसे कुशल अधिकारी के साथ गठजोड़ नहीं होता  है। इस ढुलमुल नीति वाले सरकार जो एक घोटाले से दूसरे घोटाले तक बिन पैंदी के लोटे की तरह लुढ़क रही है इससें कोई क्या उम्मीद रखे? तब तक जनता जनार्दन ऐसे ही किसी हमले के लिए तैयार रहे। या फिर उस सरकार को चुने जो कसाबो और अफ्ज़लो को पनपने का मौका ही ना दे।

तो ये है इस देश का माहौल कि ऐसे बुद्धिजीवी है जो कसाब की मौत को असंवैधानिक तक बता डाल रहे है। आप आतंकवाद से क्या ख़ाक लड़ेंगे?

तो ये है इस देश का माहौल कि ऐसे बुद्धिजीवी है जो कसाब की मौत को असंवैधानिक तक बता डाल रहे है। आप आतंकवाद से क्या ख़ाक लड़ेंगे?

 References: 

The Hindu

The Economic Times

The Times Of India

The Times Of India

Kafila 

Kafila

Pics Credit:

Pic One

Pic Two

Death Is More Honest Than Life!

In  Conversation With Life And Death

In Conversation With Life And Death

I met lots of people in this short life, who preached me in pompous tone that ego is bad, money is filth, ladies are evil and etc. That I have had heard umpteen times since childhood, and, interestingly, I came to live a more realistic and down-to-earth life than those who talked about such values publicly in glittering company of like minded souls! I found people, talking about life devoid of ego, the most egocentric souls, chasing name and fame with greater passion than anyone else. I met shrewdness disguised as faithfulness. Friend or beloved, they turned out to be more like poison placed in silver cup.  

And still, having seen such worst contradictions, I feel life is a beautiful affair. Life’s canvas still motivates me to live life fully. May be life has some more cruel lessons to offer me! But I am now no more interested in life’s equations similar to one which we notice on chessboard-you win I lose types. In fact, its cruel maneuvers never appealed to my sense instinctively. Precisely, that’s why I have never been passionate admirer of life’s idiotic episodes. My philosophy, until now, has been to deal sincerely with whatever came to cross my path. For me, the very fact that you have arrived in this world of human beings is a big mistake- a divine joke. May be for a greater lot, these changing facets of life turn out to be as important as a life and death issue, but in my eyes, the life mired in deceptiveness at its every turn, does not evoke great concern. I find even the most beautiful episodes of life, have their genesis in some sort of deception. So as I suffer pain, when I come to hear about loss of loved ones, or when I anticipate a blissful episode, the nothingness of life keeps me in state of peace.     

Sometimes back I read  powerful arguments in favour of death. And one of them stated that death is very much needed since if you continued living, you would realize that people who lived around you as picture of faithfulness were nothing but beings mired in selfishness! Death arrives to retain your illusion. It does you a great favour by keeping your faith intact in flawed people. I am sure had life allowed a legitimate route to embrace death all by oneself, I am sure many would have adopted that path. India’s great revolutionary Bhagat Singh had made a remarkable comment- hanged to death by the British Government in the pre-Independence era- that had he been living, life would have heaped upon him some more chosen scandals. So he is so happy that death has embraced him in the prime of his youth; that death kept his so many vices secret. That’s why he was more happy than sad when hanged to death order was delivered to him. In my eyes, he was the ideal example of these words: “Those whom the gods love die young.”

 
It’s pathetic that laws of this nation-may be elsewhere too-are strange. They treat suicide a crime. However, the same lawmakers, being devoid of accountability, fail to ensure that people who abetted suicide of innocent person should not go scot-free. The policymakers take no measures to keep away those scenarios, which compel anybody to think about killing oneself. Paradoxically, aiding and abetting suicide, becomes a cause of concern only when someone brings the issue in the court. It’s easy to understand that why it’s never the case. The case in court drags for years and in the end we find the accused denied punishment in want of concrete evidences. So it’s really amusing, and tragic as well, that society first promotes crime and then the same society delivers verdicts. Isn’t that height of absurdity? 

Anyway, the pretenders, who unfortunately claim to be my close friends- the ones who are guilty of complicating my simple life, dare to ask me as to why I am not a public figure, why I am not that involved in life’s silly episodes the way they are? Interestingly,  they are like the conspirators, standing by your side as a mute spectator, just like you, witnessing the tragedy given birth by them. Since they often dare to ask me such a question with straight face, I need to quote these lines by well known poet Sahir Ludhianvi  as a reply to these curious souls-the conspirators:

“क्या मिलिए ऐसे लोगो से जिनकी फ़ितरत छुपी रहे,
 नकली चेहरा सामने आये असली सूरत छुपी रही
 खुद से भी जो खुद को छुपाये क्या उनसे पहचान करे,
  क्या उनके दामन से लिपटे क्या उनका अरमान करे,
  जिनकी आधी नीयत उभरे आधी नीयत छुपी रहे।”   

“Is there any point in meeting with people, having dubious intentions?
  Who project their unreal image, but keep the real one hidden
  People, who have kept secret from themselves, too, their own real image
  Why should I embrace them, and seek them ?
  People who half disclose their intentions, keeping close to their hearts the actual intentions.” 

Another brilliant poet, Nida Fazli, has exposed the real elements, which constitute the so-called beautiful episodes of life. These verses in my eyes reveal the reality of life. For a simple person like me, I don’t think that such a cruel world can ever elicit deep attention on my part. It’s another thing that for people of the world, I might look like living, but internally I am on par with dead.

“हर तरफ हर जगह बेशुमार आदमी,
               फिर भी तनहाइयों का शिकार आदमी,

                सुबह से शाम तक बोझ ढ़ोता हुआ,
                 अपनी लाश का खुद मज़ार आदमी,

                 हर तरफ भागते दौड़ते रास्ते,
                 हर तरफ आदमी का शिकार आदमी,

                रोज़ जीता हुआ रोज़ मरता हुआ,
                हर नए दिन नया इंतज़ार आदमी,

                 जिन्दगी का मुक्कदर सफ़र दर सफ़र,
                   आखिरी साँस तक बेकरार आदमी”                    

“Everywhere there is sea of people 
   Yet a person suffers from isolation
  
   Carrying the burdens from morning till evening 
   Human being has become some sort of moving tomb

   Everywhere you find busy roads
   Wherein one person becomes victim of other person

    Every day a person wakes up only to die a bit more
    And still greets each day with great expectations

    The destiny of human life from its one episode to another
    Is to remain anxious till last breath.”

P.S.: Translation Of The Verses Done By The Author Of This Post.

Life and Death Are Always Inseparable

Life and Death Are Always Inseparable

Pics Credit:

Pic One

Pic Two

भीड़ का मनोविज्ञान: अन्धो के देश में काने राजा बन कर उभरते है!

 इस का मतलब ये नहीं कि मै बाल ठाकरे की नीति या राजनीति का समर्थक हूँ। कतई नहीं। लेकिन एक ठाकरे को कोसना मै  जायज़ नहीं मानता क्योकि इस हमाम में कौन नंगा नहीं? तो सिर्फ ठाकरे से घृणा क्यों? सिर्फ ठाकरे से दूरी क्यों?

इस का मतलब ये नहीं कि मै बाल ठाकरे की नीति या राजनीति का समर्थक हूँ। कतई नहीं। लेकिन एक ठाकरे को कोसना मै जायज़ नहीं मानता क्योकि इस हमाम में कौन नंगा नहीं? तो सिर्फ ठाकरे से घृणा क्यों? सिर्फ ठाकरे से दूरी क्यों?


इसके पहले मै बाल ठाकरे की शोक यात्रा में उमड़ी भीड़ के बारे में कुछ कहूँ ये समझ लेना आवश्यक रहेगा कि प्रजातंत्र में  संख्या बल बड़ा मायने रखता है।प्रजातंत्र का आधार ही यही है कि जिसके पीछे जनता वही हीरो बाकी सब जीरो अब चाहे उसने नंगा करके अपने को भीड़ जुटाई है या सबको दारू रुपैय्या बाँट कर। पर भीड़ के दम पर ही लोकतंत्र चलता है अब चाहे जनप्रिय नेता की बात भीड़ के बीच में बैठे कल्लू को या मंच पे बैठे सेठ किरोड़ीमल को समझ में आ रही हो या ना आ रही हो इससें किसी को क्या मतलब। भीड़ में है यही बहुत है। यही लोकतंत्र का माडल है जिसकी लाठी उसकी भैंस, और जिसके पास सबसे ज्यादा लाठी उसके पास पूरा देश। 

इस तर्क के हिसाब से चले तो अल्पसंख्यको के दम पर राजनीति करने वालो के मुंह पर ठाकरे साहब मर कर भी कस कर तमाचा लगाने से नहीं चूँके। बाल ठाकरे का मै कोई प्रशंसक नहीं क्योकि मूलतः मै उग्र विचारधारा का समर्थक नहीं  हूँ क्योकि उग्रता इस देश का स्वभाव कभी नहीं रहा है। लेकिन आसुरी प्रवत्ति से लैस बढ़ते लोगो का झुण्ड, अल्पसंख्यको के नाम पर होते रोज तमाशे, हिन्दुओ में फैलती कायरता के चलते तहत ये आवश्यक हो गया है कि कुछ शेरदिल नेता पैदा तो हो जो अपनी दहाड़ से कम से कम हिन्दुओ का उत्साह तो कायम रख सके नहीं तो कोई लालटेन जलाकर, कोई हाथी भागकर, कोई साइकिल दौड़ाकर जनता को नित प्रतिदिन बेवकूफ बना कर भीड़ जुटा रहा है। ऐसे में कोई देश को बाटने वाली विभाजनकारी ताकतों को को उनकी ही भाषा में जवाब देकर भीड़ जुटा गया तो इसमें हो हल्ला मचाने की क्या जरूरत है। इसमें इतना आश्चर्यचकित कर देने वाली क्या बात है। 

क्या इसके पहले भीड़ जुटते नहीं देखी किसी ने? आप ने चुनाव की रैली नहीं देखी क्या? मुफ्त में लखनऊ आयेंगे और नेताजी का भाषण सुने ना सुने चिड़ियाघर में शेर के दर्शन करना नहीं भूलेंगे। अगले दिन अखबार में नेताजी का कहिन और भीड़ की फोटु दोनों मौजूद होंगे। और पीछे जाए भारत छोड़ो आन्दोलन में लगभग पूरा देश उमड़ पड़ा था। जय प्रकाश नारायण के आहवान पर क्या भीड़ नहीं उमड़ी थी? खैर उस भीड़ के तत्त्व अलग थें। इस इक्कीसवी सदी के भारत में जब सब नेता स्विस बैंक प्रेमी हो गए है, जब नेता गरीबी को नहीं गरीब को ही हटा दे रहे है, आतंकवादी नेताओ का शह पाकर सलाखों के पीछे बिरयानी काट रहे है तो ऐसे में भीड़ के होने के मायने भी बदल गए है।  

वैसे आश्चर्य है कि बहुत से लोग ठाकरे को साम्प्रदायिक राजनीति करने वाला, उकसाने वाली राजनीति करने का आरोपी मानते है इसलिए अछूत मानते हुए अल्संख्यको की नज़रो में सेक्युलर बनने के लिए शोक यात्रा में नहीं शामिल हुएँ। मै इन विवेकी नेताओ से ये जानना चाहूँगा कि कौन सा नेता सही राजनीति कर रहा है? कौन नहीं राजनीति की दूकान चला रहा है? तो शुचिता का पाठ ठाकरे या मोदी जैसे हिन्दू नेताओ पर ही क्यों लागू होता है? तो क्या  अलगाववादी नेता जो कश्मीर में पंडितो को मारकर, भगाकर आज़ादी मांग रहे है इनके नेता के शोक सभा में होना चाहिए? या इन नेताओ के शोक सभा में होना चाहिए जो सबसे मेहनती मजदूर के नाम पर राजनीति कर रहे है। मजदूर तो वही झुग्गी झोपड़ी वाले रहे लेकिन ट्रेड यूनियन के नेता एयर कंडिशन्ड केबिनो में जा पहुंचे। तो इन नेताओ के मरने पर भीड़ जुटनी चाहिये? या इन “हाथ की सफाई” वाले नेताओ के मरने पर मजमा लगना चाहिए जिनके कुकर्मो की लिस्ट इतनी  लम्बी है कि यमराज के आफिसवाले वाले भी ना पढ़ पाए अगर चाहे तो। या राम लला के नाम पर सत्ता पाने वाले वाले पर राम को ही पीछे  धकिया कर राजनीति करने वाले नेताओ के मरने पे भीड़ होनी चाहिए? तो ये बाल ठाकरे की शोकयात्रा   में उमड़ी भीड़ पर जलने वाले, कुढने वाले, दूर रहने वाले जलते रहे, कुढ़ते रहे, सर नोचते रहे है।     

बाल ठाकरे इन धर्म निरपेक्ष नेताओ से अच्छा नेता था। कम से कम उसका असली चेहरा सामने था। उसने नकाब ओढ़कर राजनीति नहीं की। पीठ  पीछे घात लगाकर हमला  नहीं किया। जो भी किया खुल कर सामने किया। यहाँ का खाकर कठमुल्लों की तरह विदेशी ताकतों की जय नहीं करता था। धर्म निरपेक्ष बनकर बिरयानी तो नहीं काटता था उन आतंकवादियों के साथ जो निरीह लोगो को हलाक करते थें। इस का मतलब ये नहीं कि मै बाल ठाकरे की नीति या राजनीति का समर्थक हूँ। कतई नहीं। लेकिन एक ठाकरे को कोसना मै  जायज़ नहीं मानता क्योकि इस हमाम में कौन नंगा नहीं? तो सिर्फ ठाकरे से घृणा क्यों? सिर्फ ठाकरे से दूरी क्यों? 

रही भीड़ की बात। तो मेरी नज़रो में भीड़ का आना ख़ास महत्त्व नहीं। कल शाहरुख खान इलाहाबाद में रंडी टाइप का ठुमका लगा जाए तो उजड्ड नौजवानों की बेकाबू भीड़ लगेगी चीखने चिल्लाने? तो क्या शाहरूख खान को मै इस भीड़ प्रदर्शन के बल पर पर बहुत बड़ा अभिनेता मान लूं? या कल को कोई ईमानदार आदमी मर जाए और सौ पचास तो छोड़िये दस आदमी भी न शामिल हो तो क्या मै उस आदमी को कमीना मान लूं और इस शोकयात्रा को भी फ्लाप या हिट शो मानने की कवायद में जुट जाऊं ?

Pics Credit:

Pic One

Songs For Beloved Moon Embracing Clouds: Hiding, Smiling And Crying

Moon And Romance! It's Commonplace  :P

Moon And Romance! It’s Commonplace 😛


Well, for past few days, I was bit taken aback by some sad developments. I wanted to finish the English version of one of my well read posts in Hindi. However, lack of concentration on my part was delaying it. By dint of  fortune, I came to participate in conversation on a prominent Radio Forum, Shrota Biradari,dominated by oldies, which was involved in making of document related with Hindi movie songs based on moon. Moon has always appealed to my senses. I am a night watcher since childhood and to gaze at stars and moon has been my favourite past time. Even now in my village, when I am all alone, surrounded by nothing but stillness of night, penetrated by chirping of cricket etc., I sit hours in open to gaze at the moon. Neil Armstrong had to visit moon to end up as philosophical human being but my passion for moon is deep enough that it does not require a trip to moon to admire its beauty.

Anyway, the forum involved in preparation of songs missed  some of my favourite songs. I wanted to add these songs to the document but I thought let’s share the same songs for readers and friends, having taste for refined music, narrating my own personal connection with the songs. Don’t forget that popular numbers already got included in that document and these are the ones which are close to my heart, but, sadly, these did not appear in that document. The silver hairs got trapped in age which produced gems like “O  Raat Ke Musafir” (Miss Mary),  “NaYe Chand Hoga” ( Shart) and “Ye Raat Ye Chandni Phir Kaha( Jaal), to name a few. So let me include some of the songs they failed to take note of.

“I’ve tried the new moon tilted in the air
Above a hazy tree-and-farmhouse cluster
As you might try a jewel in your hair.
I’ve tried it fine with little breadth of luster,
Alone, or in one ornament combining
With one first-water start almost shining.

I put it shining anywhere I please.
By walking slowly on some evening later,
I’ve pulled it from a crate of crooked trees,
And brought it over glossy water, greater,
And dropped it in, and seen the image wallow,
The color run, all sorts of wonder follow.”

( The Freedom of the Moon by Robert Frost)

*****************************

1. Badalo Me Chup Raha Hai Chaand Kyo

That’s a charming song from movie directed by Mahesh Bhatt’s “Phir Teri Kahani Yaad Aayi”. The best thing about Mahesh Bhatt  is that no matter what’s the theme of his movies, he gives brilliant songs. The camera angles employed in his songs make the songs look so terrific. Just  remember “Tumhe apana banane ki kasam khayi hai” from Sadak – a well picturized song which depicts the state of mind of woman trapped in world of prostitution, trying to come to terms with new-found freedom. Anyway, this song is also well shot. And like always, the movie involves doomed romance. For me, the songs brings back the memories of  90s and this movie’s almost all the numbers were simply too good. Lyricist Qateel Shifai and musician Annu Malik did a wonderful  job. Interestingly, as a student, I had limited access to money, and thus, buying cassettes always meant sacrificing the last few notes found in my pocket. So I had to doubly assure whether or not all the songs were melodious in cassette. That meant taking “panga” (starting a fight) with the shopkeepers as they were often reluctant to make you listen all the numbers in bits and pieces. Anyway, these type of cassettes did full justice to few bucks (paisa vasool) which I managed to save those days.

2. Dhanno Ki  Ankhon Mein Raat  Ka  Surma 

Amazing song!  No wonder R D Burman is hailed as a true genius. Look at the sound employed in the travel song with folk touch. Talking of this sound effect, he told to Gulzar that when he first played this instrument, flanger, it produced a very harsh noise. The people around him were bit skeptical about its effect in ensuring melody. It was not so easy to make use of it. But watch this superbly picturized train song and you would realize that  how well R D Burman  used this instrument to create rhythm effect produced by train as it travelled through the valley. Hey, the song talks about Dhanno but this Dhanno is totally different from Basanti’s Dhanno! Like always imagery employed by Gulzar mesmerizes us. The song is visual delight as well. Never before train song produced such a romantic appeal. Above all, it’s “Chand Ka Chumma” (Moon’s Kiss) which kills us!

3. Chaand Chura Ke Laya Hoon

Again R D Burman and Gulzar come together to produce this great number. I like the song because the moment it refers to stealing of moon and love birds spending time behind some building like church, it brings into my mind the great buildings of British period. Although, this song does not feature Church but images of majestic buildings from previous eras appear before the eyes. By the way, tell me how many times have you seen Church being used as a spot to promote romance? But anything was possible if two souls, always out of their minds, Gulzar and R D Burman sat together to compose songs. These two always hailed themselves as crazy souls. Oh yes, crazy souls alone made some sense in world turned into hell by intelligent souls!

4. Khoobsurat Hai Wo Itna 

This song from movie “Rog” has two versions. One is sung by M M Kreem, the music director who composed this song. Another  one is sung by Udit Narayan. However, Kreem’s version is  close to my heart. I need to say few words about Kreem. This techie music composer, hugely underrated in Bollywood, is one of the few music composers, who know how to really compose a song using modern instruments, without copying anything from Western world, in name of inspiration. These are some of the hard working musicians who have kept the dignity of Bollywood music world intact. How sad, people talk about A  R Rahman but they fail to take note of gems composed by such lesser heard names. I came to hear him first in my college days, when out of curiosity, I came to buy this cassette, seeing new names on the flap of the cassette as unheard names always fascinated me. Now lend ears to  this moving number, which talks about pangs of falling in love with beloved belonging to someone else legally! That’s why the song says ” moon is dotted with rough spots yet one cannot resist its beauty”!

For movie version to notice the picturization one can visit this link.

5. Mera Chand Mujhe Aaaya Hai Nazar

The tragedy with Bollywood is that if movie bombs at the box office, the songs also fail to create impact. I am sure very few movie lovers would have heard the name of this movie released in the middle of the 90s. Mercifully, Jatin Lalit was at its peak in those days. This innovative duo managed to give some beautiful numbers, which managed to find the ears despite movie doing average business. Since this movie is by-product of Bhatt Camp, rest assured that song must be aesthetically shot! I love this song because it takes me to college days, wherein I realized that moon in youth leaves the sky and gets placed in some beautiful face!

6. Chamakte Chand Ko Toota Hua Tara Bana Daala 

Whenever Ghulam Ali came to sing for Indian movies, the song turned out to be defining moment in world of Indian movie music. Be it “Dil Ye Pagal Dil” or ” Chupke Chupke Raat Din”, the songs always managed to stay in the hearts and minds for forever. So it  was not unexpected that this song became representative song for broken dreams. What stunning lines the verses have! Just listen  to it and you would be bound to play it for more time. Anu Malik was not very popular in those days, but with such movies, he managed to build a position for himself. The  bold sequences in the this song have the stamp of Mahesh Bhatt’s vision!

7. Mere Roothe Hue Balma

This song is departure from the songs I have mentioned in  this post. It’s from a classic produced in 1950 “Bawre Nain”, featuring Raj Kapoor and Geetabali. The song would let you know that how simple and innocent gesture have given way to nothing left for imagination gestures of Sunny Leone. Anyway, this song has remarkable innocent gestures of Geetabali, who is trying to please  her moon. I am happy that silver hairs failed to mention this good number, dedicated to moon, sung by Rajkumari, and allowed me to talk about this song..ha..ha..ha. This beautiful singer sang few songs but these few songs have become unforgettable numbers.

8. Chanda Dekhe Chanda To Chanda Sharmaayein

This song has a very pleasant tune and some excellent from verses from Maya Govind- a very talented female lyricist from Lucknow.  How often we notice female lyricist in Bollywood or elsewhere? My friend Sagar Nahar, who is prominent song collector  from Hyderabad, very rightly points out that this Bappi  Lahiri’s composition sounds very similar to S D Burman’s composition in Abhiman ” Tere Mere Milan Ki  Raina”. Interestingly,  both the  movies Jhoothi and Abhiman were directed by  Hrishikesh Mukherjee. And, above all, it’s picturized on stunningly beautiful Rekha!  What else can eyes crave for!

For Rekha lovers, here is a clearer video, but unfortunately, the song is incomplete.

9. Kolaveri Di  

Well, I need not to say anything about this song. I have already written a post on it, which you can read here. I have to mention this song for one more time because first it belongs to current period, making you all know the changes that have hit the Indian film music, and secondly,  it talks about moon in hilarious way. A song meant for heart broken guys but the approach involved is refreshingly unique. Anyway, for me, it means a greater involvement with moon instead of nurturing hatred for distance moon.

References: 

Dealing With A Breakup In Love Relationship Kolaveri Di Way

Rajkumari Dubey

M. M Kreem

Maya Govind

Pics Credit:

Pic One

ऐ ज़िन्दगी तुझसे मौत ज्यादा ईमानदार है

मौत के साथ साथ ही चलती है ज़िन्दगी

मौत के साथ साथ ही चलती है ज़िन्दगी

ये कैसी बिडम्बना है कि अक्सर मुझे बहुत से लोग मुझे मिले बताने वाले कि अहम् बुरी बला है, धन बेकार है इत्यादि इत्यादि। ये बाते सैकड़ो बार नर्सरी स्कूल से लेकर अब तक पढ़, सुन, आत्मसात और जहा तक संभव है जीवन में चरितार्थ भी कर चुका हूँ लेकिन अफ़सोस सिर्फ यही है कि महफ़िलो और तन्हाई में ऐसी बाते करने वाले अक्सर पद और ओहदों के पीछे भागने वाले अहम् के पुतले निकले। वफ़ा के आवरण में लिपटे धूर्त और मक्कार मिले। दोस्त हो या प्रेमिका उनका रंग एक सा ही निकला जैसे चांदी के प्याले में विष।

ताज्जुब है इसके बाद भी ज़िन्दगी मुझे भली भली सी लगती है। इसके बाद भी जीने के मायने उभर के आते है ज़िन्दगी की कैनवास पर।  हो सकता है जिंदगी को अपने को और उधेड़ना बचा हो। लेकिन जीवन के शह मात टाइप के समीकरण में अब मेरी दिलचस्पी कहा।  पहले भी कहा थी। इसलिए मै बहुत दिलचस्पी से जीवन के तमाशो को नहीं देखता। जो मेरे सामने आता है उसको पूरी तन्मयता से निभा कर आगे बढ जाता हूँ। मेरी नज़र में जीवन में आ जाना ही एक गलती है। एक डिवाइयन मजाक है। सब के लिए हो सकता है ये जीवन के तमाशे जीवन मरण का प्रश्न हो  जाए मगर मेरा जीवन के तमाशे में कोई दिलचस्पी नहीं जिसके प्रत्येक अध्याय में छल कपट के नए किस्से हो। सबसे खूबसूरत क्षण के पीछे भी मक्कारी दबे पाँव आके दस्तक दे जाती है। सो कोई जीए मरे इस दर्द में भीं जीवन का खोखलापन एक शान्ति सा भर जाता है जीवन में।

कही पढ़ रहा कि मौत क्यों आती है या इसका आना क्यों जरुरी होता है। वो इसलिए कि ज्यादा जीये जाने से लोगो के वफ़ा के पीछे उनके असल स्वार्थ उभर के सामने आ जाते है।  सो मरने से ये भ्रम बचा रह जाता है कि अपने कुछ अपने से थें। इससें बेहतर मौत के पक्ष में बात कुछ नहीं हो सकती। मै तो अक्सर मानता हूँ कि मरने का सुविधाजनक रास्ता हो,  कोई सम्मानित शास्त्र सम्मत रास्ता हो तो बहुत से लोग ख़ुशी-2 मौत का वरण कर ले। भगत सिंह को जब फांसी की सजा सुनायी गयी तो वो बहुत खुश थे। उसकी एक वजह ये थी कि उन्हें खुशी थी मौत जल्दी आ गयी। जीते रहते थें तो कितने दाग और  लग जाते उन पर।  कितनी उनके और अवगुण लोगो के सामने प्रकट हो जाते।

देश के कानून भी गज़ब के है। आत्महत्या को जुर्म मानता है। पर उन परिस्थितयों को लगाम लगाने की कोई जिम्मेदारी नहीं लेता जो किसी को मौत के दरवाजे पर छोड़ जाते है। उनको कोई  कसूरवार नहीं ठहराता जिन्होंने किसी को मरने के लिए मजबूर किया। किसी को उकसाना तभी जुर्म बनता है जब तक मामला कोर्ट में ना पहुचे। पर कितने ऐसे केस कोर्ट में पहुचते है। और कितनो को सजा होती है कितने वर्षो में? सही है समाज ही जुर्म करने को मजबूर करता है और समाज ही न्याय का ठेकेदार बन कर सजा देता है।  गजब तमाशा है भाई ये।

खैर उन लोगो को जो आग लगा कर तमाशाई बनते है, मेरे मित्र होने का स्वांग करते है और अक्सर मुझसे पूछ लेने की गलती कर बैठते है कि आप लोगो से क्यों कम मिलते जुलते है या कि क्यों उनकी तरह जीवन की तमाम नौटंकी में शामिल क्यों नहीं है तो उनके लिए साहिर की ये पंक्तिया ही काफी है कि

“क्या मिलिए ऐसे लोगो से जिनकी फ़ितरत छुपी रहे,
 नकली चेहरा सामने आये असली सूरत छुपी रही
 खुद से भी जो खुद को छुपाये क्या उनसे पहचान करे,
  क्या उनके दामन से लिपटे क्या उनका अरमान करे,
  जिनकी आधी नीयत उभरे आधी नीयत छुपी रहे।”                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                

और रहा जिंदगी के तमाशे की बात तो निदा फाज़ली ने इन कुछ लाइनों में जिंदगी की असलियत बयान कर दी है।  मेरी नज़र में तो अपनी खूबसूरती से  मुझ सीधे सादे मनई (इंसान) के मन को भरमाती जिंदगी का असली चेहरा यही है। और ऐसे जीवन में मेरी दिलचस्पी कभी नहीं हो सकती। हां जीते रहने सा दिखना एक अलग बात है।  

                                 “हर तरफ हर जगह बेशुमार आदमी,
                                 फिर भी तनहाइयों का शिकार आदमी,

                                  सुबह से शाम तक बोझ ढ़ोता हुआ,
                                  अपनी लाश का खुद मज़ार आदमी,

                                  हर तरफ भागते दौड़ते रास्ते,
                                  हर तरफ आदमी का शिकार आदमी,

                                  रोज़ जीता हुआ रोज़ मरता हुआ,
                                  हर नए दिन नया इंतज़ार आदमी,

                                  जिन्दगी का मुक्कदर सफ़र दर सफ़र,
                                  आखिरी साँस तक बेकरार आदमी”

शह और मात

शह और मात

Pics Credit:

Pic One

  Pic Two

तीन आवारा कुत्ते जिन्होंने रात भर रखवाली कर त्यागे हुए नवजात शिशु की जान बचाई

तीन आवारा कुत्ते जिन्होंने रात भर रखवाली कर त्यागे हुए नवजात शिशु की जान बचाई

तीन आवारा कुत्ते जिन्होंने रात भर रखवाली कर त्यागे हुए नवजात शिशु की जान बचाई


इस जगत की सत्ता लगता है ईश्वर के हाथो से निकलकर शैतान के हाथो में चली गयी है। अगर ऐसा न होता तो दुनिया में चीज़ें इतनी उलझाव भरी न होती और हर साफ़ सुथरी चीजों में हम गलत मायने न ढूँढ रहे होते। इस दुनिया में अच्छे दोस्त दुश्मन बन  जाते है पल में, माता पिता बच्चो को जुर्म और धूर्तता सिखाते है जिन्हें वो बड़े जतन से पालते पोसते है, आपके विश्वास को बार बार छला जाता है उनके द्वारा जो विश्वसनीय होते है, प्रेमी जो प्यार के वादे  करते है बड़े बड़े पर एक दुसरे से अलग होते है जरा सी बात पर, दोस्त दुश्मन से ज्यादा ख़तरनाक साबित होते है और पति पत्नी जो आपस में रीति रिवाजो से जुड़ते है उनके सम्बन्ध वैसे ही होते है जैसे कोई एक सेक्स वर्कर से स्थापित करता है।

नेट पर किसी लेख के लिए शोध करते वक़्त मुझे कुछ सोचने पर विवश कर देने वाली तस्वीर हाथ लग गयी। तपन मुखर्जी के द्वारा ली गयी इस तस्वीर में एक नवजात शिशु को घेरे तीन सड़क पर घूमने वाले कुत्ते घेर कर बैठे थें। इस के नीचे जो समाचार छपा था उसमे इस बात का उल्लेख था कि इन कुत्तो ने ना सिर्फ रात भर इस शिशु की रखवाली की वरन उस भीड़ के साथ साथ पुलिस स्टेशन भी गए। वापस तभी लौटे जब इस शिशु को इस तरह के बच्चो का पालन पोषण करने वाली संस्था के हवाले करने की प्रक्रिया पूरी हो गयी और बच्चा संस्था के हवाले कर दिया गया।

इस नवजात शिशु को कोई लोक लाज के खातिर या गरीबी के हाथों विवश होकर 23 मई 1996 की शाम को कलकत्ता के किसी इलाके में कूड़ेदान के समीप छोड़कर चला गया था। सोचने को लोग ये सोच सकते है कि जनसँख्या विस्फ़ोट से ग्रसित से इस देश में इस तरह की घटना बहुत मामूली है। जहा लोग भ्रूण हत्या जैसे कुकर्मो में लिप्त है, जहा लोक लाज को बचाने की नौटंकी के चलते तहत कोई किसी स्तर तक गिर सकता है वह पे इस तरह की  खबर को  ज्यादा तूल देने की जरुरत क्या है। लेकिन इस सब के बावजूद मुझे खासी तकलीफ हुई इस तस्वीर को देखकर। इस दुनिया में ऐसे बहुत पति पत्नी है जो बच्चो की चाह में उम्र गुज़ार देते है पर औलाद के सुख से वंचित रह जाते है। दूसरी तरफ जिनके पास बच्चे है वे या तो उन पर अत्याचार करते है सही तरीके से भरण पोषण न करके या फिर उन्हें इस तरह से मरने के लिए खुले में छोड़ कर चले जाते है।

इस युग में मनुष्य भले ही हैवान हो चला हो पर जानवरों ने ईश्वर की सत्ता की लाज रखते हुए उसके अंश को अपने में समेट कर रखा हुआ है। ये समझते है कि वास्तविक संवेदनशीलता किस चिड़िया का नाम है और मनुष्य ने जो भारी भरकम शब्दावली विकसित की है जैसे कि “दायित्व बोध” उनको किस तरह से चरितार्थ करना है। नहीं तो ये सब बातें किसी भारी भरकम किताबो में दम तोड़ रही होती। कितनी बड़ी बिडम्बना है कि नए नए कारण खोज कर चाहे बन्दर हो या कुत्ते इन्हें मौत के घाट उतारा जा रहा है। पर मनुष्य अपने आप को बचाता जा रहा है जबकि वो जंगल पर्वतो को अपने स्वार्थ के लिए लगातार नष्ट करने का दोषी है, सारे मानवीय संबंधो का गला घोंटने का जिम्मेदार है। इस परिपेक्ष्य में ये सड़क छाप कुत्ते बधाई के पात्र है जिहोने ईश्वर की सबसे अनमोल कृति मनुष्य को ईश्वरीय गुणों से साक्षात्कार करवाया और ये बताया की सच्ची हमदर्दी किसे कहते है। पत्रकार पिनाकी मजूमदार भी बधाई की पात्र है कि इस खबर को जिस संवेदनशीलता के साथ प्रस्तुत करना चाहिए था उन्होंने ठीक वैसा ही किया। इन्होने ये साबित किया कि अभी भी लोकतंत्र के ढहते चौथे स्तम्भ को कुछ लोग मजबूती से सहारा देकर टिकाये हुए है, इसकी गरिमा में वृद्धि कर रहे है।

नहीं नहीं ये कुत्ता बचाव टीम में नहीं था। ये बेचारा तो सुस्ता रहा है ठेले पर।

नहीं नहीं ये कुत्ता बचाव टीम में नहीं था। ये बेचारा तो सुस्ता रहा है ठेले पर।

 

Pics  Credit and References:

Photograph by Tapan Mukherjee, courtesy Aajkaal, a Bengali daily (Dated 25th May 1996)

Original News Report Filed By Pinaki Mujumdar

Savage Humans and Stray Dogs, a book by Hiranmay Karlekar, Sage Publications 2008

Jaagrutiorg

tsemtulku.com

Pic Two

Tale Of Three Great Street Dogs, Which Protected An Abandoned Baby

The Three Saviours

The Three Saviours

This world seems to have fallen prey to negative forces. Or else, it would have been easy to find meaning in the happenings of world. Old friends turn into foes in no time; parents leave the kids into lurch, whom they once raised with great care; trust gets repeatedly shattered by the ones who are supposed to be most  trustworthy; lovers who loved each other with great intimacy come to parting of ways over  insignificant issues; friends appear more lethal than actual enemies, and couples who tied knot in glittering ceremony having religious and legal sanctity, live in same relationship which a customer strikes with a sex-worker.

While surfing the net, I came across this very moving picture. It shows a new-born protected by three stray dogs. The news item below this picture, clicked by Tapan Mukherjee, stated that these three dogs not only protected this child throughout the night but also followed the crowd, which carried the baby to Burtolla Police Station. They remained there and returned only after the Officer-in-charge at Burtolla Police Station completed the proceedings of shifting it to home for abandoned babies.

This baby was placed near the dustbin in one of the localities of Calcutta on the evening of 23rd May, 1996. One might argue that  this type of incidents are pretty common in nation having population of more than one billion people. It’s understood that this baby either due to social stigma or curse of poverty was left at the mercy of fate. Still, the photograph filled me with pain. That’s because I have seen many couples wishing to have baby but baby always eludes their fate. They remain childless. On the other hand, we find parents subjecting their child to such cruel treatment, involving abandonment.

True, human beings in our times might be competing with devil, but it appears animals have retained the attributes found in Lord. They realize what sensitivity really means, and the great words/phrases carved by human beings like “care” and “sense of responsibility” are in actuality lived by animals, or else one would have found such words in dictionaries alone. Paradoxically,  these stray dogs are projected as nuisance by civilized human beings and subjected to death. However, human beings continue to emerge successful with their shrewd manueveres  which are not only poisoning social relationships but also corrupting the entire globe. Kudos to these street dogs, which exhibited to God’s most beautiful creation, human being, the art of offering true help. Kudos to news reporter Pinaki Mujumdar, for reporting this heart-rending news in touching manner, making it clear that some people are still left in fourth estate to add dignity to it.

No..No..This was not the part of rescue  team :p

No..No..This one was not the part of rescue team :p

 

Pics  Credit and References:

Photograph by Tapan Mukherjee, courtesy Aajkaal, a Bengali daily (Dated 25th May 1996)

Original News Report Filed By Pinaki Mujumdar

Savage Humans and Stray Dogs, a book by Hiranmay Karlekar, Sage Publications 2008

Jaagrutiorg

tsemtulku.com

Pic Two

पूर्णता की शिकार ये कुछ मैच्योर आत्माये (व्यंग्य लेख)

जय गऊ माता की ...जय कुक्कुर देव की भी।।।

जय गऊ माता की …जय कुक्कुर देव की भी।।।


[सर्वप्रथम 03 जुलाई, 2004 वाराणसी/इलाहाबाद से प्रकाशित सम्मानित दैनिक “आज” में प्रकाशित। ये लेख ऑटोमैटिक रूप से प्रयाग की धरती पर भटकती पूर्णता को प्राप्त रूहों से मिलन के बाद लिखा गया था एक दम फटाफट।]

आज का मनुष्य विरोधाभासों का पुतला बन के रह गया है। जिधर भी देखिये आज ऐसे ही मनुष्यों का समूह पायेंगे। तमाम तरह की विरोधाभासी प्रवृत्तियों को इस तरह अपने में समेटे रहते है कि ऐसा लगता है कि व्यंग्य की कृतियों ने मनुष्य का चोला धारण करना आरम्भ कर दिया है। कुछ उदहारण देने से बात समझ में आ जायेगी। आज के अधिकांश राजनैतिक दल जो क्रन्तिकारी परिवर्तनों की बात करते है अगर हम उनको ध्यान से देखे तो पायेंगे कि गली में घूमने वाले टामियों, मोतियों और शेरूओ और इन दलों के बीच का फर्क बिलकुल समाप्त हो गया है। अब इन कुत्तो को देखिये। दूसरी गली में कोई कुत्ता किसी कारण से भौंक रहा हों तो मेरे दरवाजे के पास बैठे काले कुत्ते को भौकना ना जाने किस वजह से अनिवार्य हो जाता है।

फिर तुरंत ही सारे कुत्ते इकट्ठे होकर सामूहिक रूप से अपनी उर्जा समाप्त करके अपनी अपनी जगह लौट जाते है फिर ऐसी किसी प्रक्रिया को क्षणिक विश्राम  के बाद दुहराने के लिए। कोई कुत्ता यदि भिन्नता लिए हो या फिर कोई कुत्ता अजनबी गली से आउटसोर्सिंग की वजह से गुजर रहा हो तो वह अन्य कुत्तो की आलोचना का अर्थात “भौकन  क्रिया” का शिकार हो जाएगा। वह आगे आगे और अन्य गलियों के काले, भूरे, सफ़ेद, चितकबरे आदि रंग के तमाम कुत्ते उत्तेजक रूप से भौकते उसे गति पकड़ने पर मजबूर कर देंगे। कुछ इसी बीच नई माडल की गाडियों पर टांग उठाते चलेंगे।

आप संसद या विधानसभा की कार्यवाही पर गौर करे तो लगेगा कि आप ये सब पहले कही देख चुके है! बात निवेश की हो या आर्थिक सुधारो की कुछ लोग जो ऊँघते या अनुपस्थित न होंगे तो आप उन्हें हरदम “साम्प्रदायिक सरकार नहीं चलेगी, नहीं चलेगी” या “फ़ासिस्ट हाय-हाय” आपको नियमित रूप से उच्चारित करते हुए मिलेंगे। अब पता नहीं किन अनुभवों के आधार पर आर्थिक सुधारो को साम्प्रदायिकता से जोड़ लेते है ये तो खैर इनकी प्रोग्रेसिव आत्मा ही बता सकती है। और इस उच्चारण को जब और सारे दल सुर में सुर मिलाते  है तो वाकआउट नाम का जिन्न प्रकट होता है जो तत्काल सबको एक बराबरी पर ला पटकता है। और इसके बाद कुछ मुद्दों पर इधर-उधर की कह कर अर्थात टांग उठाकर अपने ठिकाने की तरफ बढ़ चलते है। विरोधाभासों के मंच के सशक्त केंद्र बन गए है संसद आदि स्थल।

अपने इलाहाबाद शहर के एक व्यस्त चौराहे पर अखबार की रसीली दुकान है। विरोधाभासों के कई सशक्त हस्ताक्षर यहाँ दिन भर डेरा डाले रहते है। ऐसे ही एक सज्जन कई अखबारों के पन्नो को यूँ ही उल्टा पल्टी करने के बाद टीका टिपण्णी के बाउन्सर फेकने लगते है। एक दिन मुझसे ये बोले हिंदी में जरा आप लिखे तो कुछ बात बने वर्ना अंग्रेजी लेखन के जरिये तो आप कभी राष्ट की  चेतना से सम्बन्ध नहीं बना पायेंगे। पता नहीं अंग्रेज़ क्यों अपनी अंग्रेजी कुछ लोगो के हवाले करके चले गए। अपनी मिसाईल दाग कर वो चलते बने। अफ़सोस इस बात का नहीं था कि अंग्रेजी लेखन को निशाना बनाया गया था पर इस बात का था कि अपनी दिमागी जड़ता को राष्ट्र की चेतना के विकास से जोड़ गए। क्योकि मै अच्छी तरह जानता हूँ कि अगर मै इनसे ये कहता कि मुझे हिंदी की श्रेष्ठ कृतियों से लगाव है तो मुझे ये संस्कृत से जुड़ने की सीख देते, संस्कृत से भी अगर जुड़ा पाते तो फिर ये कहते आप भोजपुरी से क्यों नहीं गठबंधन करते आदि आदि। खैर मै आपको विरोधाभासों के बारे में, विचित्र प्रवृत्तियों के बारे में कुछ बता सा रहा था।

अगले दिन मुझे बड़ा आश्चर्य हुआ जब मैंने इन सज्जन को फेमिना, कास्मोपोलिटन इत्यादि अंग्रेज़ी मैग्जीनों के पन्नो को पलटते देखा। मैंने उनसे कहा कि लगता है आपने अपना पाला पलट लिया है। अभी आप कल ही तो स्वाभिमान वाली बात कर रहे थें। उन्होंने ये सुनकर कहा कि आपको लगता  है तो लगे पर मै स्पष्ट कर दूँ  कि मै पढ़ नहीं सिर्फ इन्हें सिर्फ देख रहा हूँ। आप की अंग्रेजी पर इतनी पकड़ नहीं तो फिर आप इन्हें देखकर क्या प्राप्त कर रहे है? इस सवाल पर उनका  चेहरा तमतमा उठा पर झेंप को छुपाते हुए बोले देखिये निरुत्तर बनकर मुझे अपूर्णता का शिकार तो होना नहीं है। इनके पन्ने पलटने से तो ही मैचोरिटी आती है। संक्षेप में मंत्र इन्होने ये दिया कि राष्ट्र की चेतना का विकास भले हिंदी में लिखने से होता हों पर पूर्णता अंग्रेजी के मैग्जीनों के पलटने से ही आती है।

अगर सेंट्रल लाइब्रेरी में घटी घटना का उल्लेख न करू तो बात अधूरी रह जायेगी। मै वाचनालय में किसी लेख को पढने में पूरी तल्लीनता से रमा हुआ था कि किसी के कदमो की आहट ने मेरा ध्यान भंग कर दिया। देखा कि एक साहब आदिमकाल के मनुष्यों में पाए जाने वाले गुणों को अभिव्यक्त करते हुए चले आ रहे थें। दुर्भाग्य से ये आके मेरे बगल में खड़े हो गए। आँखे इनकी अभी भी दरवाजे की तरफ ही थी पर इनके हाथो में अंग्रेजी का अखबार आ चुका था। फिर जिस तरह कैशिअर नोटों को गिनता है इन्होने इसी अंदाज़ में पन्नो को तेज़ी सें पलटना आरम्भ किया। केवल मुंह की तरफ हाथ थूंक लगाने के लिए उठता था। कुछ ही सेकेण्ड में भारत का नंबर एक अंग्रेजी का राष्ट्रीय दैनिक अखबार पढ़ा जा चुका था।मुझे इनकी शक्ल कुछ जानी पहचानी सी लगी। भाई साहब लगता है मैंने आपको पहले कही देखा है। इन्होने मेरी तरफ देखा फिर अटपटे लहजे में पूछा कि  आप क्या करते है? इससें पहले कि मै इनसे कुछ कह पाता ये जिस तरह मेरे पास चल के आये थें उसी तरह से ये दरवाजे की तरफ बढ़ चले थें। चलिए ठीक है अब मै किसी जानी पहचानी शक्ल से मिलूँगा तो यही से शुरुआत करूँगा कि आप क्या करते है ? आप की शक्ल कुछ जानी पहचानी रही है। अब तो ठीक है न। शायद मै परिपक्व और पूर्ण हो चला हूँ।

 

बस इसी रोड पर कुछ कदम और आगे बढ़कर है एक अखबार की  दूकान!

बस इसी रोड पर कुछ कदम और आगे बढ़कर है एक अखबार की दूकान!

पिक्स क्रेडिट:

तस्वीर प्रथम 

तस्वीर दितीय

The great Rudolf Steiner Quotes Site

Over 1500 quotes from the work of the great visionary, thinker and reformer Rudolf Steiner

Simon Cyrene-The Twelfth Disciple

I follow Jesus Christ bearing the Burden of the Cross. My discipleship is predestined by the Sovereign Grace and not by my belief or disbelief, or free will.

Serendipity

Was I born a masochist or did society make me this way?

SterVens' Tales

~~~In Case You Didn't Know, I Talk 2 Myself~~~

Indowaves's Blog

Just another WordPress.com weblog

Una voce nonostante tutto

Ognuno ha il diritto di immaginarsi fuori dagli schemi

Personal Concerns

My Thoughts and Views Frankly Expressed

the wuc

a broth of thoughts, stories, wucs and wit.

A Little Bit of Monica

My take on international politics, travel, and history...

Peru En Route

Tips to travel around Perú.

Health & Family

A healthy balance of the mind, body and spirit

मानसिक हलचल

मैं, ज्ञानदत्त पाण्डेय, गाँव विक्रमपुर, जिला भदोही, उत्तरप्रदेश (भारत) में ग्रामीण जीवन जी रहा हूँ। मुख्य परिचालन प्रबंधक पद से रिटायर रेलवे अफसर। वैसे; ट्रेन के सैलून को छोड़ने के बाद गांव की पगडंडी पर साइकिल से चलने में कठिनाई नहीं हुई। 😊

Monoton+Minimal

travel adventures

Stand up for your rights

Gender biased laws

The Bach

Me, my scribbles and my ego

Tuesdays with Laurie

"Whatever you are not changing, you are choosing." —Laurie Buchanan

The Courage 2 Create

This is the story of me writing my first novel...and how life keeps getting in the way.

A Magyar Blog

Mostly about our semester in Pécs, Hungary.