की बोर्ड पे बोल फिट कर गीत रचने वाले ये आज के बेचारे संगीतकार!!!

शैलेन्द्र सिंह: सत्तर के रोमांटिक गीतों के एक स्तम्भ

अभी शैलेन्द्र सिंह जी का एक पुराना साक्षात्कार सुनने को मिला.  निम्मी मिश्राजी से उन्होंने इस बुधवार को टेलीफ़ोन वार्ता में विविध भारती के  ” इनसे मिलिए ” कार्यक्रम में अपनी भड़ास जम के निकाली .  उन्होंने जैसे ही पानी पी-पी के आज के संगीतकारों और उनके द्वारा रचित गीतों को कोसा मुझे जरा जरा सा कुछ याद आ गया.

उन्होंने बहुत पते की बात कही.  उन्होंने कहा कि आजकल के संगीतकार एक  संगीतकार नहीं केवल एक अर्रैन्जर है.   इन्होने कहा कि जैसे ही मुझे संगीतकार ने कहा कि भाई आप अपने वाले टुकड़े गा दो हम इसे संगीत में फिट कर देंगे.  शैलेन्द्र सिंह जी उखड गए और बोले गीत तो मै पूरा रिकॉर्ड करवाऊंगा  नहीं  तो गीत रिकार्ड नहीं होंगा.
 
वे बोले कि आज का तमाशा देखिये कि अब तो पूरा टुकड़ा तो दूर कि बात रही अब एक एक शब्द अलग रिकार्ड होता है.  अब  ऐसे में गीतों में जान क्या ख़ाक आएगी.  कहने का मतलब यही है कि दो कौड़ी की छम्मक छल्लो को जब तक चैनल वाले बजाते रहते है तब तक गीत चलता है.  और जैसे ही छम्मक छल्लो बजना बंद हुई वैसे ही वो मर गयी!  शैलेन्द्र सिंह को नमन जो इन्होने सच को सच कहा.

ये की बोर्ड पे बोल सेट करके गीत बनाने वाले क्या गीत बनायेंगे पुराने दशको वाला ?  ये सब गीत बनाते नहीं है बल्कि गीतों का उत्पादन करते है.   कहने वाले तो ये भी कहते है कि गीत लिखने वाली  मशीन का भी निर्माण हो चुक है  शायद.  कुछ शब्द डालिए और गीत तैयार.   ये बहुत संभव है आज के टेक्नोलाजी के चलते क्योकि ऐसी वेबसाइट है बहुत सारी जो आपको ऐसे ही प्रारूप पे कविताओ का निर्माण कराती है. कहने का अभिप्राय ये है आजकल गीत संगीत के नाम पर सिर्फ ट्रैक से भटके युवा लोगो ख्याल रखा जा रहा है.  इनको ही  ध्यान में रखकर गीत बनाया जा रहा है.

 

मै कोई बीते युग के मोंह में डूबकर विचरण भटकने वाला जीव नहीं हूँ पर क्या हम उन गुणी संगीतकारों के रचनाओं  की उपेक्षा कर दे जो पूरी तरह  डूब कर गीत का निर्माण करते थे ?  उस समय के गीत आज भी उतने प्रासंगिक है तो उसकी वजह यही है कि ये बड़ी लगन से संगीत के तत्त्वों में घोल कर बनाया गए हुए गीत है.  शायद यही वजह है कि या तो पुराने गीतों के रीमिक्स तैयार हो रहे है नहीं तो या फिर  ” अपनी तो जैसे तैसे  ” या “ दम मारो दम ”  जैसे पुराने लोकप्रिय गीतों को नए अंदाज़ में पेश किया जा रहा है. ये है आज की क्रेअटिविटी. अब ” आधा है चन्द्रमा रात आधी ”  (नवरंग  ) या ” जवाँ है मोहब्बत ”  (अनमोल घडी )  या फिर ” ना ये चाँद होंगा ”  (शर्त )  या “ पिया ऐसे जिया में समय गयो रे ” ( साहब बीवी और ग़ुलाम) जैसे सदाबहार दिल और दिमाग को भावविभोर कर देने वाले गीतों को बना देने की काबिलियत तो इन की बोर्ड से ध्वनी उत्पन्न करने वालो में आने से रही.

बात मै शैलेन्द्र सिंह पर ही खत्म करूँगा. इन्होने बहुत अच्छे गीत हमे दिए और इनको ऋषि कपूर की आवाज़ माना जाता रहा है.  बॉबी के गीत “मै शायर तो नहीं” से उनको जो सफलता मिली उसके बाद इन्होने पीछे मुड़कर नहीं देखा.   तो क्यों ना यही गीत सुने जो कि सत्तर के दशक के नौजवान अपनी प्रेमिकाओ को इम्प्रेस करने के लिए गाते थे और नब्बे के दशक के भी नौजवान यही गीत गाते थे इम्प्रेस करने के लिए बाइक पे बैठकर आइस क्रीम पार्लर की राह देखने वाली प्रेमिकाओ के लिए!!!

पिक्स क्रेडिट: पिक वन 

17 responses

  1. An intense discussions took place on many reputed forums.

    I am posting some of the views expressed on these forums :

    *************************************************

    Mangesh Waghmare (Broadcaster) said on Shrorta Biradari:

    की बोर्ड पे बोल सेट करके गीत बनानेकी यह शुरुआत ए.आर.रहमान ने की हैं| वो कही भी हमारे महान संगीतकारोंकी पंक्तिमें शामिल होनेकी हैसियत नहीं रखता|

    Prabhu Chaitanya Endorsed The Viewpoint Of Mangeshji on Shrota Biradari :

    “You are right.”

    In My Response To Mangesh Desai I said:

    बिल्कुल सही कहा आपने ..ये मैगी की तरह फटाफट गीत बनाने वालो ने ही बंटाधार किया है..उसका नतीजा ये हुआ कि आज कोई भी गीत सुन लीजिये सब एक जैसे ही बकवास लगते है. ये समझ में आ जाता है कि इन्हें किस तरह से बनाया होगा..

    और पता नहीं ये कहा से हमारे नए पीढ़ी के गायकों और संगीतकारों ने सीखा है कि हर गाना हाई पिच में गवाना है गला फाड़ के ..इतना कि आवाज ही फटने लगती है जिसे मशीन से सेट किया जाता है..इसे भाई लोगो ने पिच कण्ट्रोल का नाम दिया है🙂

    For Prabhu Chaitanyaji I Had This To Say:

    चलिए आपने मुहर लगा दी ..अब सब सही है

    ****************************************************************

  2. Sajeev Sarathie (Associated With Well Known Website HindiYugm) said on Shrota Biradari:

    Very funny, things change and it has to be change, appreciate the golden era, but dont rebuke somthing which u not understand, dont u feel chammak challo makes u dance, it definitely brings a smile on ur face….music is music….i love “zindagi ka safar” as much i love “jai ho” from rahmaan. wo dher saare violiniston ko bithaakar sangeet banane ke din gaye, badalte samay aur mizaaz ko pahchaniye…

    ********************************
    My Comment Against This View Expressed By Sajeev SarathieJi:

    Well, my dear Sajeevji..Read the article first.. That sentiment is not mine ..And we cannot appreciate cacophony of strange voices all in name of music.. Change is the order of the day ..That we all know.. Sadly,there are some who cannot appreciate all tamashas in name of change be it Chammakchallo or Jalebibai or Sheela or Munni..etc…

    Munni was still tolerable. at least. it had some melody. Chammakchallo is a perfect hathauda on the sensitive human ear drums..

    ****************************************

    Prabhu Chaitanya Against Sajeev’s View Said:

    “जय हो” कभी दिल को नहीं छू पाया ,
    not rebuking , only disliking.
    because
    when there are रसगुल्ला available,
    why bother about बताशा !

    मैं तो रेडियो मिर्ची में भी पुराने गाने ही पसंद करता हूँ , अधिकतर विविध भारती ही सुनता हूँ

    *******************************************

    For Prabhu Chaitanya I had this to say:

    Very well said🙂

    ************************

  3. Dilip Kawathekar, CEO Consultancy for Engineering & Systems, Said On Shrota Biradari:

    I tend to agree with Arvind K Pandey about New Songs. New songs are MY FOOT, (Mostly) since it is composed mainly for rhythmic requirement for Temporary sensual pleasure.(Foot Taping!) Nothing wrong is appreciating Pizza or Burger if it gives temporory relief, but it can not replace Home Cooked Food. Certainly there are many a songs (New) which are sensetively made, composed and appreciated.The issue here is the comparision for dedication and soulful output.

    ******************

    My Response Against This View Expressed By Dilip Kawathekarji :

    You have hit the nail on the head . That’s the message which I really wished to convey when I wrote this article. It’s give me immense satisfaction that there are conscious readers who instead of deliberately entering in wayward remarks get to the core of the things in a sensible way which ultimately gets expressed in their sensible remarks.

    Let me again clear this confusion which makes its presence felt whenever I try to resurrect or revisit the golden era. No I am not against the modern music but I have full right to condemn the wrong traits exhibited by the modern musicians- the arrangers in reality.

    I love listening to some gems produced by new age musicians like Sooraj Hua Maddhyam ( Sandesh Sandilya), Saaya or Jism songs ( M M Kreem), compositions by Vishal Bharadwaj and some numbers that have been composed by Shankar Ehasaan and Loy. At least, they have shown what’s the right way to blend modern beats with traditional forms of music.

    However, that’s not the guiding spirit of rest of the musicians for whom outraging the modesty of Hindi film music is favourite pastime. Just forget it. I am not going to appreciate their vulgar and distorted compositions all in the name of change. I welcome change and it’s quite evident when I appreciate the likes Vishal Bharadwaj or MM Kreem but please do not compel me to keep my eyes wide, ignoring the harsh realities.

    We the listeners have full moral right to trash and condemn the wrong trends that have entered in the Hindi film music.

    *************************************

    Lastly, my special thanks to Sudhir Dwivediji, Hemant Trivdeiji, Sanjay Vermaji and Dilip Sharmaji for making their presence felt on my this post on Shrota Biradari.

    ****************************

  4. Dilip Kawathekar praising the good work done by SarathieJi said:

    Dear Sajeev Sarathie ji, I can appreciate your views, since you are into thick of Musical creativity from closed quarters. I would rather appreciate with full marks for the melodious rendition and spontaneous creativity done by your team who are really dedicated and doing original work in all department of Song output, be in lyrics with soulful thoughts, composition of original tunes,usage of combination of melodies and counter melodies with Harmony and percussion instruments. Your team is not for SALE. However, most of bollywood songs now have to target a Life of only 1/2 months, with repeat telecast/broadcast, and selling on the instant emotional urge of youth. Earlier also there were trash songs, but those who precipitated down where immortal. So, it is today need that creativity like your team members MUST reach common Masses, and they need to know what is genuine which can be created even today.

    ************************
    My response against this view expressed by Dilip Kawathekarji:

    Bang on the target again.. I am also aware of the good work done by Sajeevji.. Our criticism is targeted at mass manufacturing of unbearable present age musical tracks🙂 ..It in no way undermines the good work done by likes of Sajeev.

    *****************

  5. ‎Dilip Kawathekar in a remark addressed to me said:

    Arvind K Pandey, you have penned your thoughts in very expressive and logically arrayed words. Your concern has rationality, for not condemning those who are creative even today, but those who are creating a song in a day, where there is no time to most of Music Directors for any improvisation/excellence/originality. They are rather fortunate that they now have modern techniques/hardware & software supports,where more output is possible with less input. Most of these Music Directors are creative also in pockets, but inconsistent.Creativity is done but in pockets. Earlier, all faculties from film production were involved in Creating a song. Rehearsal, trying optimised options for tunes, soulful singing , everything is in past. Today you have a Beautiful BODY of a song (Mostly) , fully Made up,attired in choicest of colourful wardrobe, but SOUL is missing.

    ***********************************

    My response against this view expressed by Dilip Kawathekarji on Shrota Biradari:

    Thanks for the appreciation. It works wonders for people like us lost in the world of writing.

    In nutshell, I wish to say that let’s hope there comes a time when technological incarnations that have blessed this age lead not to murdering of song making process but come to add a new qualitative dimension in making of the song.

    Remember there was an era when likes of Naushad placed their instrument players on a tree branch to get the right effect! Our musicians are fortunate that they do not have to enter in such gimmicks. So let’s not them enter in rubbishing the great musical traditions with the help of technology merely to keep pace with the times, merely to satiate the whimsical taste of youths !!

    Though Shailendra Singh in the same interview agreed to the fact that it’s now not possible to go back in time and expect same melody as we have lost dedicated instrument players, and therefore, keyboard will rule the roost, but I am still optimistic that better sense will prevail.

    I forgot to add that you too have expressed yourself quite well and there are many points in your remark that would force any conscious reader to do some soul searching..

    ******************************

  6. Dilip Kawathekarji added more interesting views on Shrota Biradari, a Facebook forum. In one of the remarks addressed to me he said:

    ‎Arvind K Pandey ji, I am a recent BHUKTABHOGI. There was a song to be created for Shri Anna Hazare, a Chorus Song with Lot of Josh & Umang. All of us were invited for recording and I was Lead male singer. But due to lack of time and modern trends, all singers sang in separate tracks. Every track was collapsed together later. So the soul was missing. But Nobody could help it.Incidently , a senior Musician from Mumbai Music Industry was there, who has played with LP, SJ, RD, KA, Bappi etc, and was feeling sorry about the state of affairs.

    ***************************

    Against this view stated by Dilip Kawathekarji I said:

    ‎ And that’s the inside story🙂. The facts speak for themselves. Ironically, people expect that we should digest all the ironies all in the name of change.. Pathetic.. Pity..

    Listen this Lata number from Abhimaan and imagine “Ye Kahan Aa Gaye Hum”…

    http://ww.smashits.com/abhimaan/nadiya-kinare/song-11094.html

    Music: SD Burman

    Lyrics: Majrooh

    ***********************

    Dilip Kawathekar said:

    In one of the Song Recordings in Mumbai studio, I found a group of Violinists playing Counter Melodies together. Output was very good to hear. But Khaiyyamji redid all, since he asked some violinists to play slightly delayed, to have a swinging effect of Melody. Synthesized version will not be able to create this Jadoo. A R Rehman used Synthesized mandolin in prelude and interlude of Rang de basanti yaaraa song of Daler Mehdi, but to give rural and folk effect, he untuned the Notes a bit, and therefore effect is there, which everyone liked. So convenience has pushed creativity on Back seat.

    *************************

    My views as a response addressed to Dilip Kawathekarji:

    Well, that’s an excellent piece of information .. Khaiyyamji is a legendary musician known for his maddening desire to attain perfection..He would have surely done that!!

    The point is that there is a difference between home-cooked food and ready-made food!!The songs of our times fall in latter category!!

    ***************************

  7. *******************

    On other reputed forum Desh Mere, Facbook, an important discussion took place but it was typical Facebook conversation that used the abbreviations instead of full words.. Readers please bear with it:

    ****************************************************

    Sanjiv Nigam:

    Aaj geet kahaan hain, sab items hain bas.

    Santosh Pandey:

    Dekho ye sub aapkai jamanai ke the ab waqt hamara hai issliye jo hamai pasand hai wahi rahta or tikata hai

    Sanjiv Nigam:

    Priy bhai Santosh Pandey, kya tik gaya hai……..aaj ke kitne geet hain jinhe log yaad rakhte hain , ya chhah mahine ke baad bhi gungunaate hain…….baat aaj ke ya kal ke zamaane ki nahi hai baat hai acchhi chees ki. …aaj ke geet kuchh din chalte hain aur fir gumnaami me kho jaate hain.

    Santosh Pandey

    Dekho aaj science bahut devlop kar chuka hai bahut sari chess aa chuki hai jo aapke time mai nae tha

    Santosh Pandey:

    Ab k yth ko item pasand hai or wahi chalega na ki kishore or r.d burmun

    Sanjiv Nigam:

    Priyvar shayd aap hume bahut puraana samjh rahe hain, aaj ke science ke development ke baare me hume bhi sab pata hai aur film line se jude hone ke kaaran ye bhi pata hai ki yahaan geet kaise banaaye ja rahe hain. Agar Kishore aur RD me dum nahi hota to aaj unke geeton ke re-make nahi banate…

    Santosh Pandey:

    Baat mai dum hai bt app kya chahte hai ki aapka hi song shadiyo se chalta rahe…Badalaw bhi jaruri hai…..ab sab koi kishore or r.d ko sunta rahega tho item kon dekhega

    Sanjiv Nigam:

    Badlav bhi zaruri hai aur badlav prakarti ka niyam hai, isi badlaav ki prakriya me se hi achchhi chees bhi niklegi……..par bazaar me nakli dhaatuyen aane se sone ka mol nhai ghat jata hai……aur abhi hum itne umardraaz nahi hue ki tum hamaare zamaane kii baat karo…hum aaj bhi kayi aise geeton ko pasans karte hain jo hamaare janam se pehle ke hain….videshi sangeet ko yaani jazz, pop,rock ,rap ko bhi pasand karte hain…..

    Santosh Pandey:

    Sahi baat hai

    *******************************************

    Taking note of this Facebook style conversation on my post I had this to say:

    मै संजीव निगम को विशेष धन्यवाद देना चाहूँगा कि उन्होंने बहुत सलीकें से अपनी बात कही और बहुत ही पते की बात कही और यही सच भी है. संतोष पाण्डेय जी को भी धन्यवाद कि उन्होंने भी अपना पक्ष कायदे से रखा. कोई आज के संगीत का दुश्मन नहीं है पर ये हमारा नैतिक फ़र्ज़ बनता है कि गलत बदलाव को बदलाव के नाम पे स्वीकारने से मना कर दे और उसका विरोध करे.

    भवानी गुप्ताजी को धन्यवाद इस फोरम पे आके इस लेख को पसंद करने के लिए

    **********************

  8. Humans from the past to the present are of the same psychical makeup and borders or flags make no difference in how the human can be made to react to the molding of sounds, for the humans that can listen and hear

    The mind forming done by music is the same as the human’s mind forming to believe in some sort of god or gods and when the mind forming is done, the weak minded, now mind formed humans think they made an independent thought or decision on the music they like or the god they follow

    The human’s first music memory was a nursery rhyme that the human first learned as a toddler–very powerful
    Music will stir emotions deep within humans. Bring back fond memories, or even bad ones —all subject to the amount of time on earth and health !
    The scary part of a movie will have scary music, the love scene will have soft music, the chase scene will have adventure type of music all to form an impression on a weak mind that doesn’t realized it is being controlled
    A salsa will make a human want to move one way, while a hard rock song will make a human want to move another, all proving that the human species has no logical control of their body chemistry

    There is no doubt that music is directly connected to the humans emotions. No wonder people will idealize useless musical artists. Treating them like royalty while the money wasted on them leaves millions of poor humans singing their most familiar song ( no one cares) and these cons learned how to tap something deep inside the humans always living in a dream world of impossibilities

    Religions also uses music to instill awe to control the weaker human minds into their idea of faith and inspiration. Countries use music to help the humans feel patriotic and thus loose their lifes in one of man’s wars so the fewer special at the top can have the majority of humans live as the fewer think humans should live. Marching bands will use music to stir up team spirit that causes humans to preform illogical actions and so called leaders have recognized the power of music and use it to their advantage

    If these points of logic seem to long to read, then just put on some form of mind forming sounds that might help make it through these thoughts that humans have a hard time understanding and the human once mind formed and sent out into the world thinking any human ever had an original selection on the type of sound that pleases the human’s weak brain

    1. @JustMeAgain:

      Thanks for your viewpoint.. I don’t know about others but at least the thoughts expressed by you do have great meaning inherent in it.

      You love Einstein. Even he loved music. That’s the case with all evolved souls. Music as I told you earlier helps us to reconnect ourselves with the higher consciousness. In fact, in this Hindi post, I have regretted that loss of soulful music is quiet worrying phenomenon. That;s the essence of my this write-up.

      Anyway, really happy that even on Hindi posts , you are so eager to post long meaningful comments.

      That should inspire Hindi readers to first read the post and then have some energy as well to post comment. You are indeed the most fitting example to these lazy Hindi readers who are very reluctant to share their views on original post🙂 First teach them how to post comments instead of making them realize the higher truths..he..he.he

      ****************

  9. Manoj Kumar Tiwary and Rakesh Mahajanji appreciated the post on Today’s scenario forum, Facebook.

    **********************************

    Sahil Kumar and Vikram Kumar made their presence felt on this post at Kavita Basant forum .

    Sahil Kumar said:

    और ये कर भी क्या सकते हैं ………

    I told Sahil:

    सच कहा आपने …इससें ज्यादा की इनसें उम्मीद रखना अपने अक्ल की तौहीन होगी 🙂

    ******************

    Thanks to all of you for spending precious moments on my post..

  10. Part One Of The Long Comment:

    कुछ बाते इस पोस्ट पे हाईलाइट होने से रह गयी है. पहले मै उन छोटी छोटी महत्वपूर्ण बातो का उल्लेख कर दू जो उन्ही बातो की तरफ इशारा कर रही जो इस बहुत ही सार्थक चर्चा में उभर कर आई है सम्मानित सदस्यों द्वारा और फिर सागरजी की शिकायत का निवारण करता हूँ..

    वैसे मै ये कहना चाहूँगा कि बहुत कम ऐसा होता ही कि लम्बी चर्चा मूल बिंदु पे दमदार तरीकें से जुटी रही क्योकि खासकर हिंदी फोरम पे चर्चा कुछ स्वार्थी तत्त्वों द्वारा अक्सर मूल बिंदु से भटका दी जाती बेकार के संदर्भो के द्वारा या फिर अपशब्दों का प्रयोग करके.. इस मामले में ये चर्चा विलक्षण रही है कि बिल्कुल अपने ट्रैक पर रही… फुलझड़ी पटाखों का अभाव रहा.

    इस के लिए मै दिलीपजी, संजीवजी और मंगेश्जी का विशेष आभारी हूँ कि तथ्यों और संदर्भो के आदान प्रदान में वे बिल्कुल संयमित और इमानदार रहे. सबसे बड़ी बात कोई भी पर्सनल रिमार्क से लोग बचे रहे नहीं तो कुछ समझाने के प्रोसेस में कुछ सदस्य , खासकर हिंदी फोरम , पे टिप्पणी कर ही देते है लगता है सारा ज्ञान आपको ही है !!! कम से कम ये थ्रेड अब तक ऐसी बचकानी टिप्पणी से बची रहे..आगे का राम जाने!!

    अब आता हूँ उन तथ्यों के बारे में जो इस चर्चा में आते आते रह गए..

    ***********************

    किसी रिअलिटी शो में अभिजीत ने किसी बन्दे को आतिफ असलम के गीत गाने पर जम के लताड़ा था. बाद में पाकिस्तानी मीडिया में इस बात पर बड़ा हो हल्ला मचा और पाकिस्तानी मीडिया में इसे अभिजीत के खुन्नस के रूप में दर्ज कराया गया. अभिजीत ने गुस्से में ही सही बड़ी दमदार बात कही थी. उसने कहा था कम से कम आप अच्छे सुरीले गायकों के गीत गाओ रिअलिटी शो में मै बर्दाश्त कर लूँ मगर कम से कम मै तो उन गायकों के गीत नहीं बर्दाश्त करूँगा जो कि इतने बेसुरे है कि जिनकी आवाज पहले मशीन से सेट होती है तब इनके गीत सुनने लायक बन पाते है..

    मै विश्लेषण नहीं करूँगा. यही काफी है ये समझने के लिए कि क्या हो रहा है परदे के पीछे फिल्म इंडस्ट्री में.

    विडियो भी मिल गया इस प्रकरण का :

    ***************************

  11. Part Two Of Long Comment:

    *************************************

    कुमार शानू ने भी इसी टेंडेसी का उल्लेख करते हुए विविध भारती या दूरदर्शन पे कहा था ( एक गायक कि तरफ लगभग इशारा सा करते हुए) कि क्या बात है जब आप सहजता से गा सकते है तो इतना गले पे जोर देके गाने कि क्या जरुरत है ? जिसकी तरफ शानू ने इशारा किया वो बहुत काबिल माने जाते है आज के ज़माने में पर इतना गले पे जोर डालते है कि अंतत उनका गला तो फट ही जाता है और साथ में गाने पे किरदार नहीं उनका गला हावी हो जाता है.

    ***************************

    लता के साथ वार्तालाप में किशोर ने ये स्पष्ट कहा लता से कि अब गाने का मन नहीं करता क्योकि (अपने गले की तरफ इशारा करते हुआ कहा था) कि अब गाना गाना कितना कष्टदायी हो गया है नए संगीतकारों या नए रिकार्डिंग के तौर तरीके के चलते. अब गाना आसान नहीं रहा. शायद किशोर को एस डी बर्मन याद आये होंगे जो गीतों को कितना सहज बना देते थे गायकों के हिसाब बिना मेलोडी से समझौता किये.

    शैलेन्द्र सिंह ने भी आर डी बर्मन को याद करते हुए मेरे लेख में उल्लेखित साक्षात्कार में कहा था कि आर डी बर्मन गायकों के रेंज के हिसाब से गीत बनाते थें और रिकार्डिंग के वक्त अगर तब भी गाने में दिक्कत होती थी तो गाने की रेंज फिर से बदल देते थे.. इसीलिए वे नए गायकों के आदर्श थे. शैलेन्द्र ने आज के गीत बनाने की प्रक्रिया पे कटाक्ष किया कि जब आप गीत के हर एक शब्द को अलग से रिकार्ड करेंगे तब गीत बनने के बाद फिर से सुनिए आपको हर एक लाइन के खत्म होने के बाद वोइस लेवल में फर्क साफ नज़र आएगा ..

    मै शायद गलत नहीं हूँ कि आप ए आर रहमान का हर गीत सुने आप को ये बड़ा दोष उनके गीतों में स्पष्ट दिखेगा. इसे एक बड़े संगीतकार की भाषा में कहें जो उन्होंने विविध भारती पे कही थी इसे कहते है गीतों में टोटैलिटी का आभाव…राउंडनेस का आभाव !! वैसे ये आधुनिक रिकार्डिंग की ही देन है कि पूर्व के कई महान गायक नए रिकार्डिंग तौर तरीको के चलते बेकार हो गए इसमें से तलत महमूद का नाम सबसे ऊपर है.

    खैर विजय अकेला का आवाज़ श्रंखला में सबसे लेटेस्ट बात सुनिए. ये कहते है कि लक्ष्मी प्यारे के कई गीतों कि रिकार्डिंग आज के डिजिटल युग के समकक्ष थी. नमन है इन पुराने युग के संगीतकारों के लगन, मेहनत और प्रतिभा को.. इतने कम संसाधन और ये गुणवत्ता…

    **********************

    अंत में मै अपने एक पाठक की बात का उल्लेख करना चाहूँगा जिसने इसी पोस्ट पे एक अन्य फोरम पे बहुत जबरदस्त बात कही किसी को समझाते हुएँ. इसलिए पोस्ट करना पड़ रहा है कि ऐसी ही बात कुछ इस चर्चा में भी उभरी है [ और ये उभरी है मेरे पुराने गीतों को प्रेम को लेकर कुछ लोगो के फालतू संशय के कारण🙂 ]

    प्रियवर शायद आप हमे बहुत पुराना समझ रहे हैं , आज के साइंस के डेवेलपमेंट के बारे में हमे भी सब पता है और फिल्म लाइन से जुड़े होने के कारण ये भी पता है कि यहाँ गीत कैसे बनाए जा रहे हैं . बदलाव भी ज़रूरी है और बदलाव प्रकति का नियम है , इसी बदलाव की प्रक्रिया में से ही अच्छी चीज़ भी निकलेगी पर बाज़ार में नकली धातुएं आने से सोने का मोल नही घट जाता है ……

    ( संजीव निगम )

    *******************************************

  12. Sagar Nahar Said On Shrota Biradari, Facebook:

    ह्हाँ पर एक बात जरूर कहना चाहता हूँ कि ” जय हो” किसी भी लिहाज से कर्णप्रिय नहीं लगा। ना संगीत , ना गीत और ना ही गायकी। कुछ भी अच्छा नहीं लगा। मानों सभी ने अपने अपने डस्ट बीन्न में से कुछ निकाल कर फिल्म के लिए दे दिया। और अधपगलों ने उसे इतना बड़ा इल्काब दे दिया।

    भाईयों से अनुरोध है कि चर्चा हिन्दी में किया करें। अब देखिए उपर की चर्चा मैं समझ ही नहीं पाया। अगर समझ पाता तो मैं भी कुछ लिखता, कमेंट्स देता।

    **********************

    My response to Sagar Nahar:

    Sagar Naharji

    सागर साहब इसमें कुछ भी पूर्वनियोजित नहीं था कि चर्चा अंग्रेजी में हो. वैसे आपको जान के ख़ुशी होगी कि ये चर्चा हुई बहुत जबरदस्त है. कभी कभी मूड होता है …कभी विचारो का प्रवाह अंग्रेजी में सुगम होता है और सबसे बड़ी बात टाइप करने में आसानी होती है. इसलिए अंग्रेजी बीच में आ जाती है … इसलिए समय कम हो और पते की बात फिर भी कहनी हो तो कम से कम मै अंग्रेजी में ही लिखता हूँ .

    हिंदी में तेज़ी से लिखने के कारण बहुत सारे दोष आ जाते है और फिर आपको उनके निवारण के लिए अगर वे नज़र में आते है तो फिर से अलग कमेन्ट लिखना पड़ता है माफीनामे वाला🙂 नहीं तो सागर साहब को अंग्रेजी में लिखकर हैरान और परेशान करने का कम से कम मेरा इरादा तो नहीं ही है🙂

    वैसे ये अच्छा रहा कि हिंदी पोस्ट पे चर्चा हुई अंग्रेजी में और क्या खूब हुई🙂

    वैसे इसके पहले वाला कमेन्ट पढ़े.. आपको समझ में आ जायेगा बहुत कुछ कि अब तक इस पोस्ट पे क्या हुआ है.. निश्चिंत रहे मेरी हमेशा यही कोशिश रहती है कि जहा तक संभव हो हिंदी में ही कमेन्ट को लिखू और यदि भविष्य में मेरा आप अंग्रेजी में कमेन्ट देखे तो कृपया मेरी मजबूरी को समझे.

    अंग्रेजी के तमाम कार्यो के बीच हिंदी में टाइप करना कभी कभी मेरे लिए बहुत मुश्किल हो जाता है.. इसके लिए क्षमा.

    **********************

  13. Some very intense discussions took place On Shrota Biradari. More comments got posted:

    Sanjay Verma said:

    बडी ही सारपूर्ण चर्चा हो रही है….Arvind K Pandey,Dilip Kawathekar,Sanjeev Sajeev Sarathie,Prabhu Chaitanya jJi और अन्य सभी बधाई के पात्र हैं..मैं ऍसा सोचता हूं कि गलत चीज का विरोध करना भी समाधान की दिशा मे बदाया गया एक कदम होता है….श्रोता बिरादरी के अन्य मित्र भी इस चर्चा में खुले विचारों से शामिल हों ..क्योंकि इस प्रकार की समस्याओं को भी आप और हम सब मिलकर ही दूर करने का प्रयास कर सकते है…आरंभ में कम से कम वजनदारी से विरोध तो दर्ज करा ही सकते है….मै भी आपके साथ हूं…..

    *****************************

    Sajeev Sarathie said:

    अरविन्द जी, सागर भाई और दिलीप जी, आप सब के लिए बहुत सम्मान है मेरे मन में, मेरे कहने का तात्पर्य ये है कि आज भी अच्छे गीत खूब बन रहे हैं. आप इसे ऐसे समझें वो बच्चे जो २००० के आस पास पैदा हुए हैं और जो अब ११-१२ वर्ष के हो चुके होंगें उनके लिए गुजरी सदी का सब कुछ अब “रेट्रो” है. और मुझे लगता है कि हमें उनके विचारों को समझते हुए ही उन्हें कुछ देना चाहिए. एक बात समझिए वो इस रेट्रो का सम्मान करते हैं. और हम इसे रेट्रो कह कर ही उन्हें सँभालने के लिए कहेंगें तो वो इसे बखूबी करेंगें. अभी हाल ही में राम संपत ने “सहगल ब्लूस” करके एक गाना बनाया है. अब इसे देखने के दो तरीके हो सकते हैं. सहगल के जबरदस्त फैन्स इसे कूड़ा करार दे सकते हैं वहीँ एक सकारात्मक रुख ये है कि इस गीत को सुनने के बाद जाने कितने नए बच्चों ने सहगल का नाम गूगल किया होगा और जाना होगा इस पितामह गायक के बारे में. मैं इतना समझता हूँ कि आज भी उतने ही बढ़िया गीत बनाये जा रहे हैं जितने कभी पहले बनते थे. बस उन्हें सुनने और समझने के लिए हमें अपने मोह के दायरे को थोडा बढ़ाना होगा. अरविन्द जी जो आपने लिखा है उस आलेख से आप वाह वाही लूट सकते हैं पर समय के साथ हमारे संगीत में आ रही विविधताओं पर भी कुछ लिखिए, क्या हम ६० -७० के दशक में लक्की अली जैसे संगीतकार की कल्पना कर सकते थे. अगर आपने नहीं सुना तो उनकी अल्बम “सिफर”, और ‘अक्स” सुनिए. रहमान का जब “रोजा” आया था तब मैं कुछ १८ साल का था एक १२ साल के लड़के को को जिसे मैं ट्यूशन पढाता था उसके साथ एक दिन फिल्म के गीत सुन रहा था. पूरी अल्बम में उसने एक स्वर पकड़ा जो पुराना (रेट्रो) लग रहा था, सोचिये बाकी पूरी अल्बम किस हद तक फ्रेशनेस से भरी हुई थी. ठीक है जय हो उनके अन्य गानों के टक्कर का नहीं है, पर क्या आप “दिल से” “बोम्बे” “ताल” और लगान में उनके संगीत योगदान को नज़र अंदाज़ कर सकते हैं ? मेरा ख्याल है अब आप मेरा पॉइंट समझा पायेंगें

    **************************

    Arun Sethi said:

    Being Nostalgic & Being Biased is two different things. Sometime extreme other end of a truth could be not necessarily a lie but can be another form of a truth.

    ***************************

    Arun Sethi said:

    संजय जी इसे सुनना ये तबले पर कौन हैं लगे तो पीठ थपथपायागा जी –

    http://www.youtube.com/watch?v=V -FljfzfgMk&NR=1

  14. Dilip Kawathekar said:

    ‎Sajeev Sarathie ji, मैं आपकी इस बात से इत्तेफ़ाक रखता हूं. सृजन कभी समय या किसी विशेष विधा का मोहताज नहीं होता. तभी मैंने लिखा है, कि आपने युवाओं की सृजन क्षमता को पहचानकर उसका सही दिशा में नेट के सशक्त माध्यम से विकसित किया है. आज कल की युवा पीढी दोनों जोनर के गानों में रमती है, रेट्रो भी और नया (जो भी नाम दिया गया हो). मेरा ऐसा मानना है, कि हर वस्तु या कला कि एक उपयोगिता होती है, जो उपभोक्ता की विवेकपूर्ण मति या नीड को पूरी करती है. आज जो भी असली काम हो रहा है वह ठहर भी रहा है, मगर दीगर नकली काम बह जा रहे हैं समय की बेरहम धारा में. यहां सोने को नये कलेवर में ,डिज़ाईन में गढने का तो स्वागत है, मगर यहां बात नकली गहनों की हो रही है. रहमान का ताल ,लगान या जोधा अकबर का काम हमेशा सराहा जायेगा, मगर क्या उसी के समकक्ष स्लम्डॊग को रखा जा सकेगा? रंग दे बसंती के समकक्ष साड्डा हक को नही रखा जा सकेगा. वैसे ये व्यक्तिगत पसंद का भी हिस्सा है.कोई भी सही या गलत नहीं.

    *****************

    Arun Sethi said:

    Arun Sethi Hindu Mythology say the same what did Dilipji said just now That what you can See, Hear, & feel is within best of your senses & perception’s capabilities But what you cant could be beyond it.

    ***********************

    Dilip Kawathekar said:

    मगर ये बात ज़रूर लिखना चाहूंगा कि आज कल सिंथेसाईज़्ड टोन्स की ज़रूरत या काबलियत मैं कहीं से भी सही नहीं मानता. बांसुरी की फ़ूंक की तीव्रता , और खुरदुरापन , या सितार की मींड , संतूर का खिलंदडपन, या गिटार के फ़्रेट्स के घिसने का अतिरिक्त स्वर > कलाकार की मेहनत, सृजनशीलता और अथक रियाज़ का Reflection है,जिसके पासंग सिंथेसाईज़र के notes बैठ नहीं सकते. गुलाब के फ़ूल की असली खुशबू किसी भी केमिकल स्प्रे ्से बेहतर होगा. साथ ही में ये भी – विपन्नता का सृजन संपन्नता के सृजन से बेहतर मानता हूं. चाहे नया या पुराना हो.

    आजकल के कट पेस्ट तकनीक के गानों में अरविंदजी नें सही इंगित किया है, कि Totality का अभाव है. Lack of Continuity is similar to announcement on railway station. Specially for Sponteneous Singers like Kailash Kher and Sukhavinder Singh, this effetc is highlighted.

    ******************

    Sanjay Verma said:

    भाई लोग आप सब अभी भी असली मर्ज समझने का प्रयास पूरी तरह नही कर पा रहे है….कि आखिर ऍसा क्यों हो रहा है..

    **********************

    Arun Sethi said:

    I would like to incorporate technical aspect of the discussion here. Due to cut throat competition many Desktops & Laptops coming in the market are not equipped with quality sound system. Of course they are good enough for the old song & old recordings but these sound systems are not compatible for advance say 5:1, 16:1 type of recordings. Thus when we play these new songs on it we lost many thing & effects & what we listen is not exactly what it is. Look, this is only a technical part and not an argument or support in favor of new songs.

    ***************

    Sajeev Sarathi said:

    ‎Dilip Kawathekar जी, सही है कि सिंथ पे कभी भी मूल वाध्य का स्वाद नहीं आएगा, ये एक दुष्परिणाम है पर अब इसके सकारात्मक पक्ष भी देखें. इन्टरनेट के माध्यम से मेरी टीम अब तक १०० से अधिक गीत रच चुकी है. सोचिये अगर ये सिंथ नहीं होता तो क्या ये संभव होता, यही कारण है कि एक समय में जब संगीत के सबसे बुरे दिन चल रहे थे तब भी नए संगीतकार स्टूडियो में इतने सारे वाध्यकारों के साथ संगीत रचने की हिम्मत नहीं कर पाते थे. इसमें धन भी अत्यधिक लगता था. केवल फिल्म निर्माता ही इसे एफ्फोर्ड कर पाते थे. अब देखिये कितने नए संगीतकार है और कितना नया अंदाज़ है, यहाँ तक कि रहमान जैसे किसी बड़े संगीतकार का भी एकाधिकार नहीं है. रहमान भी साल में २-३ फ़िल्में करके संतुष्ट है जबकि किसी जमाने में एल पी, बप्पी लहरी आदि एक साल में १० -१० फ़िल्में कर डालते थे. अब एक बात और बताएं उस दौर में जब लाईव लोग बजाते थे तब भी कितने लोग मूल संगीतकार के आलावा परदे के पीछे छुपे वाध्यकार का नाम भी जान पाते थे. ये रहमान ही थे जिन्होंने जितने भी एकोस्तिक वाध्यकारों से बजवाया बकायदा उन्हें डिस्क में क्रडिट भी दिया. फिल्म संगीत में अगर कहीं कुछ कमी रहेगी तभी तो लोग मूल वाद्यों के स्वरों के सुनने के लिए कंसर्टों में जाये करेंगें. ओल्ड इस गोल्ड परंपरा के माध्यम से अब तक मैंने सुजॉय और अपने अन्य साथियों के साथ मिलकर लगभग ७५० से अधिक गीत सुनवाए हैं. यकीन मानिये इन्हें सुनने वालों में भी अधिकतर नए दौर के बच्चे हैं. जब वो आपके दौर की संगीत सुंनते और पसंदकरते हैं तब ये भी गलत है कि हम उस संगीत को जो उन्हें पसदं है trash कह कर चलते बने…..अभी का दौर अपने शीर्ष पर पहुंचा नहीं है मुझे यकीन है कि ५०-६० जैसी संगीत की ऊंचाई फिर से लौटेगी.

    ************************

  15. Dilip Kawathekarji said:

    Just listen t this Fusion . Latest and exellent! Shilpa rao Unplugged.http://www.youtube.com/watch?NR=1&v=zfomv4CCXeM

    *************

    Arun Sethi said:

    Arun Sethi उपर्युक्त स्तरीय चर्चा में सम्मलित सभी साथियों को मेरा नमन आप लोगों के संगीत के अध्ययन, बारिक समझ उसे तौलने की गहराई देख मैं अभिभूत हो गया चाहे वो, (त्रिदेव को तो छोड़ दें) तो मेरे प्रिय संजय भाई, अरविंद जी, दिलीप कवठेकर जी, सारथी जी और पूर्व में भी अन्य कई सार्थक चर्चाओं में आये हमारी श्रोता बिरादरी के गणमान्य साथी जिनका सभी का जिक्र करना यहाँ, क्षमा करे मुश्किल होगा आप सभी का मैं तहे दिल से अभिवादन और प्रशंसा करता हूँ. और मुझे ये कहने में कोई हिचक नहीं की इन सभी चर्चाओं को मैंने कोपी कर अपनी लाइब्रेरी में रखा है. साथ ही साथ एक अनुभव भी आप से शेयर करना चाहूँगा कि आप लोगों की चर्चा सुन आम सामान्य श्रोता मुझे मिलाकर भयभीत हो जाता है डर जाता है और बहुत इच्छा होने पर भी अपनी पसंद पोस्ट नहीं कर पाता ये सोच कर क्या लिखूंगा क्या बताऊँ और पीछे हट जाता है इसका प्रमाण है मंच पर कुछ गिने चुने लोगों की शिरकत क्यों ना तीन बड़ा भाई में से एक किसी एक को लिखे कि श्रीमान आप फलां-फलां तारीख तक अपने पसन्दीदा पाँच गाने पोस्ट करे जिस पर हमारे जानकार जो कहने योग्य होगा कहेंगे और आप को कुछ जानना हो तो आप उनसे पूछें इससे एक जीवंतता आयेगी और सदस्यों का पार्टिसिपेशन बढेगा. कोई ये ना कहे कि ये कोई बनिए की दूकान नहीं है कि ग्राहकी बढाएं निश्चित इसकी जरूरत नहीं है और ये भी विचार हो सकता/आ सकता है लेकिन मेरे मन में जो आया लिखा गर अन्यथा लगे तो क्षमा करियेगा. शुभ रात्री.

    *********************

    Dilip Kawathekar said:

    ‎Sajeev Sarathie ji, मित्र आप लोगों के बारे में ही मैने यह लिखा है कि कम संसाधनों के बावजूद भी आप कमाल का सृजन कर रहें हैं. मैं संपन्नता के सृजन के लिये चाहूंगा कि रहमान जैसे सृजनशील संगीतकार असली वाद्यों का प्रयओग करें और साथ में मनचाहा इफ़ेक्ट देने के लिये सिंथेसाईज़्ड टोन का उपयोग करें. MTV का ये विडियो (शिल्पा आव) का फ़्युज़न कर्णप्रिय है, मधुर और पूर्ण रूप से आधुनिक है. आपके द्वारा प्रमोट किये गये कई गानों को जो मैंने सुना है, और Formal Judgement भी दिया है, आजकल के कई फ़िल्मी गनों से बेहतरीन है. कृपया ये सेवा जारी रखें

    ********************
    Dilip Kawathekar said:

    ‎Arun Sethi ji, आपका आकलन सर आंखों पर. संगीत हमें संस्कृति देता है, संतृप्ति देता है. हमे पाक साफ़, एक बेहतर इन्सान बनने में मदत करता है.आंखों से निकला एक आंसू, दिल के एहसासात का प्रकटीकरण है.सुरों की अज़ान दिल के रास्ते से गौज़र्ती है, और हम पवित्र हो जाते हैं.

    **********************

  16. ‎@All

    एक बात जो गाहे बगाहे इस चर्चा और एक अन्य चर्चा में में हर बार थोपने की कोशिश की गयी और जो सफल नहीं हुई वो ये थी कि साहब हम आज के गानों के दुश्मन है या कि आज भी बहुत अच्छा संगीत बनता है पर हम है कि इसको संज्ञान में लेते ही नहीं.. ऐसा नहीं है ये तो मैंने हर बार बता ही दिया पर लीजिये एक प्रमाण के रूप में आज के हिंदी फ़िल्म जगत से ( गैर फिल्मी अल्बम से नहीं) कुल पांच गीतों की लिस्ट दे रहा हूँ…

    जरुरी नहीं आप भी इन्हें पसंद करते हो पर मै इन्हें पसंद करता हूँ. ..मुख्यत इस बात को दर्शाने के लिए पेश कर रहा हूँ कि अगर कुछ अच्छे गीत बन रहे है तो मेरे कानो से घुसकर वो दिल में दर्ज हो जाते है..

    १. झटक कर जुल्फ ( आरक्षण )

    2. काश यूँ होता हर शाम साथ तू होता ( मर्डर 2)

    ३. तेरी मेरी प्रेम कहानी (बाडीगार्ड)

    4. दिल ये मेरा शोर करे ( काइट्स )

    5. I want to get closer to you…( कार्तिक काल्लिंग कार्तिक)

    ( सागर साहब ( Sagar Nahar) कन्फुज़ियायें नहीं ये हिंदी गीत है..सुने धुन अगर कापी नहीं किसी विदेशी गीत की तो बहुत अच्छी है🙂 ..ये सागर साहब को खास समर्पित है हिंदी गीत जो अंग्रेजी में है🙂 ..मुझे बहुत पसंद है🙂

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

The great Rudolf Steiner Quotes Site

Quotes and fragments from the work of the great visionary, thinker and reformer Rudolf Steiner

Bhavanajagat

Welcome to Noble Thoughts from All Directions to promote the well-being of man and to know the purpose in Life.

Serendipity

Was I born a masochist or did society make me this way? I demand unconditional love and complete freedom. That is why I am terrible.

John SterVens' Tales

Thee Life, Thee Heart, Thee Tears

Indowaves's Blog

Just another WordPress.com weblog

Una voce nonostante tutto

Ognuno ha il diritto di immaginarsi fuori dagli schemi

Personal Concerns

My Thoughts and Views Frankly Expressed

I love a lot

Just another WordPress.com site

the wuc

a broth of thoughts, stories, wucs and wit.

A Little Bit of Monica

My take on international politics, travel, and history...

Atlas of Mind

Its all about Human Mind & Behavior..

Peru En Route

Tips to travel around Perú.

Health & Family

A healthy balance of the mind, body and spirit

मानसिक हलचल

ज्ञानदत्त पाण्डेय का हिन्दी ब्लॉग। मैं यह ब्लॉग लिखने के अलावा गाँव विक्रमपुर, जिला भदोही, उत्तरप्रदेश, भारत में रह कर ग्रामीण जीवन जानने का प्रयास कर रहा हूँ। रेलवे से ज़ोनल रेलवे के विभागाध्यक्ष के पद से रिटायर्ड अफसर।

Monoton+Minimal

travel adventures

Stand up for your rights

Gender biased laws

The Bach

Me, my scribbles and my ego

Tuesdays with Laurie

"Whatever you are not changing, you are choosing." —Laurie Buchanan

%d bloggers like this: