Tag Archives: Truth

सत्य के लिए लड़ने वालो को दुनियाई लेबल की परवाह नहीं करनी चाहिए

सत्य जरूरी है ना कि लेबल

सत्य जरूरी है ना कि लेबल



सच बोलने या सही बोलने वाले को दुनिया ने हमेशा तमाम तरीके की बौड़म उपाधियाँ दी है। सो लेबल की परवाह मुझे नहीं है। उस अवस्था से ऊपर उठ गया  हूँ जहाँ लोगो को दुनियाई तमगो की चिंता होती है। कुछ तीव्रता से महसूस करना और फिर भी खामोश रह जाना एक प्रकार का बौद्धिक जुर्म है, बौद्धिक  धोखा है। कम से कम ये मेरा तरीका नहीं है। स्त्रियों का मै  सम्मान करता हूँ मगर इसका ये मतलब नहीं है कि उनके आचरण से जुड़े गलत तौर तरीको पर आपत्ति न उठाऊं। हर संवेदनशील व्यक्ति को समय रहते स्त्रियों को उनके आपत्तिज़नक आचरण के लिए सचेत करते रहना चाहिये इस बात की परवाह किये बिना कि इसका उन्हें खामियाज़ा भुगतना पड़  सकता है।  कम से कम ये बेहतर है इससें कि आप व्यर्थ के आंसू टपकायें कुछ गलत हो जाने के बाद उसी   गलत आचरण की वजह से। ये अलग बात है कि हम कदम तभी उठाते है जब सार्थक कदम अपनी अहमियत खो चुके होते है। अब ना तो मुझे इनकी तरह  आँसू बहाने का शौक है और ना ही मै इन निष्क्रिय आत्माओ  के समूह से में अपने आपको जोड़ सकता हूँ जो व्यर्थ ही आँसू बहाने के शौक़ीन है फोकट में।इसलिए तीव्रता से विरोध करता हूँ उस अवस्था से ही जब समस्या अपने प्रारम्भिक चरण में होती है। कम से कम विरोध करना तो मेरे हाथ में ही है। अगर आप मेरा साथ देते है तो अच्छी बात है। नहीं तो मै अकेले ही अपना विरोध तीव्रता से दर्ज करता रहूँगा। जिनको जो उपाधि मुझे देना है वो स्वतंत्र है मुझे देने के लिए। 

कभी कभी हमको चीजों को मानवीय दृष्टिकोण से भी समझना चाहिए, एक संवेदनशील दिमाग से भी देखना चाहिए। दिक्कत हमारे साथ ये है कि हम सब चीजों को ओवर इंटेलेक्चुअलआइज़ कर देते है। यही सबसे बड़ी समस्या है रेडिकल फेमिनिस्ट्स के साथ जो औरतो के अधिकारों के लिए लड़ रही है। अब औरतो के पास कुछ तथाकथित अपने पर्सनल अधिकार है पर जो चीज़ इस पर्सनल राइट्स के मिलने के बाद आयी कि पुरुषो के साथ परस्पर माधुर्य से जुड़े सम्बन्ध बनाने की काबिलियत का लोप हो गया। इसीलिए मुझे जो साधारण स्तर पर विचरणने वाले स्त्री पुरुष है वो ज्यादा जीवन का रस लेने वाले है बजाय दोहरी ज़िन्दगी, उलझाव भरी ज़िन्दगी जीने वाले ये अधिकारों की लडाई लड़ते स्त्री और पुरुष।

साधारण लोग जिंदगी को शायद बेहतर जीते है।

साधारण लोग जिंदगी को शायद बेहतर जीते है।


*********************
(अपने अभिन्न मित्र घनश्याम दास, मेडिकल प्रैक्टिसनर है, यूनाइटेड अरब अमीरात, जी से कहे हुए शब्द एक विचार विमर्श के दौरान सोशल नेटवर्किंग साईट पर)

*****************************************************

Pics Credit:

Pic One

Pic Two

I AM NOT AFRAID OF LABELS: TRUTH IS MORE IMPORTANT THAN LABELS!

One should not be afraid of labels while pursuing  truth!

One should not be afraid of labels while pursuing truth!

The righteous have always been labelled as this or that. I have never worried about labels; crossed that stage when one is afraid of labels. To feel something terribly and yet not speak out that clearly is some sort of intellectual dishonesty. That’s not my attitude. I respect and admire women a lot but that does not mean I come to overlook the dangerous trend patterns associated with them. We have to warn them in advance, irrespective of the consequences, or else there is no point in shedding tears when something goes wrong because of the same flaws/tendencies. It’s another thing that we react only when the water starts flowing above the danger mark. And neither I wish to shed tears like these misguided souls nor I wish to identify myself with them. That’s why I aggressively protest, right from the nascent stage of crisis. At least, that’s in my hand.  It’s fine if you come to support me. If not, I will still aggressively protest all alone. Let them label me as they want.

Sometimes we need to look at things from human angle, from a sensitive mind. The crude thing is that we over intellectualize everything. That’s the problem with the radical feminists advocating the rights of women. Now the women have their so-called rights but they forgot the art to have a natural and intimate relationship with man. That’s why I find simple man and woman enjoying life more than these men and women living complex lives, living dual lives, in the name of personal rights.

******************

P.S.: These words I shared with my close friend Ghanshyam Dasji, Medical Practitioner in United Arab Emirates, on a social networking site.

Be Simple To Be Truly Intimate

Be Simple To Be Truly Intimate

Pics Credit: 

Serendipity

Was I born a masochist or did society make me this way? I demand unconditional love and complete freedom. That is why I am terrible.

atul's bollywood song a day- with full lyrics

over ten thousand songs posted already

John SterVens' Tales

Thee Life, Thee Heart, Thee Tears

Indowaves's Blog

Just another WordPress.com weblog

Una voce nonostante tutto

Ognuno ha il diritto di immaginarsi fuori dagli schemi

Personal Concerns

My Thoughts and Views Frankly Expressed

flightattendantwithcamera

Seeking adventure with eyes wide open since 1984.

I love a lot

Just another WordPress.com site

the wuc

a broth of thoughts, stories, wucs and wit.

A Little Bit of Monica

My take on international politics, travel, and history...

Atlas of Mind

Its all about Human Mind & Behavior..

Peru En Route

Tips to travel around Perú.

Health & Family

A healthy balance of the mind, body and spirit

मानसिक हलचल

ज्ञानदत्त पाण्डेय का हिन्दी ब्लॉग। मैं यह ब्लॉग लिखने के अलावा पूर्वोत्तर रेलवे, गोरखपुर (भारत) के ट्रेन परिचालन का काम भी देखता हूं।

Monoton+Minimal

travel adventures

Stand up for your rights

Gender biased laws

The Bach

Me, my scribbles and my ego

Tuesdays with Laurie

"Whatever you are not changing, you are choosing." — Laurie Buchanan

The Courage 2 Create

This is the story of me writing my first novel...and how life keeps getting in the way.

A Magyar Blog

Mostly about our semester in Pécs, Hungary.

Follow

Get every new post delivered to your Inbox.

Join 568 other followers