Category Archives: Hindi

Unleashing Magic Of “Triple S” Of Indian Cinema: Sahir Ludhianvi, Shakeel Badayuni and Shailendra!

Sahir: The Poet Very Close To My Heart!

Sahir: The Poet Very Close To My Heart!

  

         (Also published in Northern India Patrika, December 22, 2013)

Once upon a time Hindi movie songs acted as anti-depressants. Now Hindi film music gives rise to depression! Modern songs devoid of meaning and set upon incoherent beats in the name of music give rise to headache instead of removing it! Earlier songs depicted certain philosophy, which added a new dimension in the script of the movie. The movies made by Bimal Roy, Guru Dutt and Raj Kapoor effectively used songs to introduce new twist in the story. It’s altogether a different story in modern cinema. There are item numbers or poorly inserted hopelessly romantic numbers.

First, there is dearth of talented lyricists and, second, there is lack of good music directors. The bunch of music directors that we see are primarily technocrats, relying heavily on technology. Some will argue that we have talented lyricists but the ability to write one or two catchy one-liners doesn’t make anyone a lyricist! Listen the lyrics and it would be hard for you to decide whether it’s an English song, or a Punjabi song, or a Hindi song.  Look at the music compositions. It’s either for the hip-hop generation or it’s for the night clubs. It’s not merely that times have changed and we need to adjust to new trends. There is something terribly wrong with the creativity involved in making of songs! Should we not assume that capitalistic traits have murdered real creativity? Overseas rights of distribution, heavy fees extracted from rights of satellite channels and numerous other equations enjoy greater concern than ensuring bliss! 

I do not wish to appear stupidly nostalgic caught in the time warp. As an evidence of the creativity, which prevailed in 50s and 60s, I am presenting four songs of lyricists who have really inspired me a lot. Every time I come to hear a song written by them, it leaves me in state of intoxication. I am referring to trio comprised of Sahir Ludhianvi, Shakeel Badauini and Shailendra. These “Triple S” always stirred my emotions to no extent.  

Shakeel Badayuni: Great Poets Are Always Down-To-Earth!

Shakeel Badayuni: Great Poets Are Always Down-To-Earth!

********************************************************************

1. Ye Raat Ya Chandni Phir KahanListen this song from Hindi movie Jaal (1952). The heavenly voice of Hemant Kumar, wonderful composition by S D Burman and soul stirring  verses by Sahir Ludhianvi made this song timeless!  Guru Dutt was the director of this movie- a thriller which involved Dev Anand, Geeta Bali and Purnima. Excellent cinematography by VK Murthy has made this song a poetry carved on silver screen. As I said the songs of this era were borrowed from literature. This song echoes the eternal theme that “time and tide wait for no man” – “Ek baar chal diye ager tujhe pukar ke laut ke na aayenge kaafile bahar ke”. The movie depicted Goan Christian culture and so we find the music having western effect based on sweet Guitar pieces. However, the most important aspect about this song is that it’s based on Raga Kafi, which is a midnight raga. That matches with the picturization of the song, depicting a moonlit night! 

***************************************************************

Shailendra:  He Always Lived A Simple Life. That's Why He Emerged As Icon Of  Simplicity!

Shailendra: He Always Lived A Simple Life. That’s Why He Emerged As Icon Of Simplicity!

2. Suhana Safar Aur Ye Mausam Haseen

Bimal Roy’s Madhumati (1958) is very close to my heart. Not only it strengthens our belief in re-birth, a prominent concept in Indian philosophy, but also it makes us believe in the power of true love. As per this movie the impact of true love transcend many generations. This movie is really a classic in world cinema. Right from the first scene till the last frame of this movie, it keeps the viewer in state of trance with its gripping presentation of the story and its enchanting music. I remember when I went to see this movie in a theater couple of months ago in a film festival, the theater was jam-packed. Not a single seat was available. And I saw many of the viewers sitting on the floor of the balcony and many others still having argument with the gate-keeper to move inside even as the movie had started. Shailendra and Salil Chaudhary made each song a masterpiece. Well, this time I wish to introduce first song of this movie “Suhana Safar Aur Ye Mausam Haseen”. Every time I move on a beautiful passage passing through the valleys, I always come to remember this song. Shailendra has borrowed the appeal present in poems of Wordsworth. Nature has come alive in this song where one can actually feel that clouds are kissing the earth! – “Ye Aasman Jhuk Raha Hai Jameen Par”. Notice the wonderful prelude of this song. It’s so impressive that it has virtually become part of my consciousness! Immediately you come to realize that this song features mountains! That’s the magic of these songs. One of my favourite past-time in school and college days was to identify the song after listening clip of prelude. Anyway, it’s time to listen the whole song! Also notice the way how great maestro Bimal Da has picturized this song! 

*************************

3. Aaj Purani Raho Se Koi Mujhe 

That’s  a song which speaks volume about the singing ability of Mohammed Rafi. It’s been so deeply and soulfully sung by Rafi that it leaves you speechless. Aadmi was released in 1968 which had music under direction of Naushad and songs were penned by Shakeel Badayuni. Naushad had a special place for Shakeel in his heart and he went out of the way to help Shakeel in his last days troubled both by financial crisis and bad health. The movie highlighted love triangle and fascinating performances on part of Dilip Kumar, Waheeda Rahman and Manoj Kumar made it an unforgettable movie. The song makes it clear that one can be strong willed even if one’s heart and mind have been shattered by the cruel twists and turns of the fate. The song has tragic melody which not only depicts personal loss but also highlights that pain ultimately leads to realization of highest type- perfect union with the Lord! The camera work is wonderful in this song as it captures the roaring sea waves hitting the rocks! The song makes an appeal that someone who has begun a new journey should not be haunted by the past episodes of life! 

*******************************

  
Shailendra’s fame attained new heights after the release of Vijay Anand’s Guide (1965). It is considered to be one of the finest movies made in Bollywood. Hats off to the courage of Vijay Anand, who went ahead with the release of this movie despite failure of  movie version of  R K Narayan’s ‘The Guide’ in English. The distributors were very much impressed with the efforts of Vijay Anand. The Hindi version proved out to be phenomenal success. S D Burman was seriously ill during making of this movie but he regained health to create some unforgettable numbers. “Aaj Phir Jeene Ki Tamanna Hai” became one of the representative songs of women’s emancipation. However, I wish to present this number which represents the pinnacle of love, commitment and togetherness. Shailendra was a class poet, who had gifted ability to write verses in most simple language without losing sight of loftiness. When I hear these immortal songs and contrast them with songs made in present era a sense of discomfort prevails within. Well, instead of lamenting about the loss of creativity, let’s hear this song which is an ode to love and get lost in an era when music was a way to connect with higher forces!
 Pics Credit: 

Pic One 

Pic Two 

Pic Three

वो जो तुमसे जोड़ता एक पुल है!

वो जो तुमसे जोड़ता एक पुल है!

वो जो तुमसे जोड़ता एक पुल है!

कही न कही तेरे मेरे बीच
में एक पुल है
जिस पर से गुज़र कर मै
अक्सर पहुच जाता हूँ तुम तक

हां वो पुल दिखता नहीं है
इस यथार्थ से भरी दुनियाँ में
ठीक ही तो है कि दिखता नहीं
या फिर मैंने ठीक ही तो किया
जब मैंने इसे सच्ची दुनिया में  
दोष बाधा से बंधी नज़रो से उलझती
हर इस तरह के तिकड़मो से ऊपर रखा
और नहीं बनाया सबको दिखने वाला पुल

वो एक पुल
जिस पर से गुज़र कर मै
अक्सर पहुच जाता हूँ तुम तक

बनता या बनाता इसे दुनियाँ में
तो निश्चित था कि वो ढह जाता
छल कपट से भरी हर निगाहो से
निकलती हर एक उतरन सें
और मिट जाता वो एक सहारा भी
जो  अभी मेरे जीने की एक वजह है

वो एक पुल
जिस पर से गुज़र कर मै
यथार्थ के बीच से होता हुआ
अक्सर पहुच जाता हूँ तुम तक
हर रोज, हर एक गुजरते लम्हे में!
उस दुनियाँ में जहा कोई नही होता
सिवाय तेरे और मेरे अस्तित्व के.

For Non-Hindi Readers:

English Version Of The Same Poem

 Pics Credit:

Pic One


हिंदी पत्रकारिता की धज्जिया उड़ाते आजकल के सबसे ज्यादा बिकने वाले हिंदी के समाचार पत्र!!

 हिंदी के पत्रकार और सम्पादक ना सीखना चाहते है और ना ही सीखने की तमीज रखते है.

हिंदी के पत्रकार और सम्पादक ना सीखना चाहते है और ना ही सीखने की तमीज रखते है.



हिंदी पत्रकारिता की धज्जिया उड़ाने वाले कोई और नहीं हिंदी के तथाकथित पत्रकार खुद है. ये पत्रकारिता नहीं मठाधीशी करते है. कम से कम उत्तर भारत के सबसे ज्यादा बिकने वाले एक प्रसिद्ध हिंदी दैनिक के कार्यालय में जाने पर तो यही अनुभव हुआ. अखबार देखिये तो लगता है खबर के बीच विज्ञापन नहीं बल्कि विज्ञापन के बीच खबर छप रही है. उसके बाद भाषा का स्तर देखिये वही हिंग्लिश या फिर सतही हिंदी का प्रदर्शन. और करेला जैसे नीम चढ़ा वैसी ही बकवास खबरे. मसलन बराक ओबामा को भी अपनी पत्नी से डर लगता है! इस खबर इस समाचार पत्र ने फोटो सहित प्रमुखता से छापा पर अगर इस अखबार के लोगो को पुरुष उत्पीडन जैसी  गंभीर बात को जगह देने की समझ नहीं। इसकी सारगर्भिता को समझाना उनके लिए उतना ही कठिन हो जाता है जैसे किसी बिना पढ़े लिखे आदमी को आइंस्टीन के सूत्र समझाना। बिना पढ़े लिखे आदमी को भी बात समझाई जा सकती है अगर वो कम से कम सुनने को तैयार हो मगर वो ऐसी बात सुनकर मरकही गाय की तरह दुलत्ती मारने लगे तब? हिंदी पत्रकारिता आजकल ऐसे ही लोग कर रहे है. 

हिंदी पत्रकारिता का जब इस देश में उदय हुआ था तो उसने इस देश के आज़ादी में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी. उस युग के सभी प्रमुख क्रांतिकारियों के अपने समाचार पत्र थें. लेकिन आज के परिदृश्य में ये पूंजीपतियों के हाथो में सबसे बड़ा अस्त्र है अपने प्रोडक्ट को बेचने का, राजनैतिक रूप से अपने विरोधियो को चित्त करने का. सम्पादकीय आजकल प्रभावित होकर लिखे जा रहे है. हिंदी समाचार पत्र में छपने वाले समाचार खबरों के निष्पक्ष आकलन के बजाय अंग्रेजी अखबारों के खबरों का सतही अनुवाद भर है. मै जिस  उत्तर भारत के सबसे ज्यादा पढ़े जाने वाले प्रसिद्ध समाचार पत्र की बात कर रहा हूँ वो अपने को सांस्कृतिक विचारो के प्रभाव को दिशा देने वाला समझता है लेकिन अपने अखबार के मिनी संस्करण के पन्नो पर विकृत हिंदी में (माने कि हिंग्लिश) में सबसे कूड़ा खबरे और वो भी “ऑय कैंडी” के सहारे बेचता है. “आय कैंडी” आखिर भारी विरोध के वजह से गायब तो हुआ पर जाते जाते बाज़ार में टिके रहने की समझ दे गया! 

बाज़ार में बने रहने का गुर इस्तेमाल करना गलत नहीं है लेकिन इसका ये मतलब ये नहीं है कि आप खबरों के सही विश्लेषण करने की कला को तिलांजलि दे दें. लेकिन हकीकत यही है. हिंदी के पत्रकार और सम्पादक ना सीखना चाहते है और ना ही सीखने की तमीज रखते है. कुएं के मेढंक बने रहना इन्हें सुहाता है. अगर यकीन ना हो तो किसी हिंदी के अखबार के दफ्तर में जाके देख लें. खासकर उत्तर भारत के सबसे ज्यादा बिकने वाले हिंदी के अखबार के दफ्तर में तो जरूर जाए. वहा आपको खुले दिमागों के बजाय दंभ से चूर बंद दिमाग आपको मिलेंगे। क्या ये दिमाग सच को उभारेंगे? समाज को बदलेंगे? 

 ये पूंजीपतियों के हाथो में सबसे बड़ा अस्त्र है अपने प्रोडक्ट को बेचने का, राजनैतिक रूप से अपने विरोधियो को चित्त करने का. सम्पादकीय आजकल प्रभावित होकर लिखे जा रहे है.

ये पूंजीपतियों के हाथो में सबसे बड़ा अस्त्र है अपने प्रोडक्ट को बेचने का, राजनैतिक रूप से अपने विरोधियो को चित्त करने का. सम्पादकीय आजकल प्रभावित होकर लिखे जा रहे है.

पिक्स क्रेडिट: 

तस्वीर 1  

तस्वीर 2 

चेतावनी: भारत में हिंदी में बात करना और हिंदी के बारे में बात करना खतरनाक है!

हिंदी की उपेक्षा ना करे!

हिंदी की उपेक्षा ना करे!

हिंदी दिवस है सो हिंदी के रोजमर्रा के जीवन में अधिक से अधिक प्रयोग को लेकर बहुत सारी  बाते होंगी। सरकारी तंत्र इसके प्रचार प्रसार के बारे में पहले के तरह ही ऊबाऊ तरीकें से बात करेगा। और लोग पहले ही की तरह बोर होते हुए सुनेंगे। मै सरकारी तंत्र की तरह दमघोंटू बात नहीं करूँगा। संक्षेप में उन्ही कटु अनुभव का जिक्र करूँगा जो हिंदी प्रेमी के होने के नाते मेरे हिस्से में आई.लेकिन इस लघु लेख लिखने की प्रेरणा मुझे कल तब मिली जब राधाष्टमी पर किसी ने श्री राधाजी की सुंदर चित्र के नीचे बधाई सन्देश के रूप में लिखा ” Happy birthday to you Radhaji”! 

तो यही से बात शुरू करता हूँ मै कि चलिए शुद्ध हिंदी बोलना मत सीखे। मत हिंदी में लिखे-बोले हमेशा लेकिन  हम कुछ ख़ास अवसरों पर भी क्या हिंदी में कुछ नहीं कह सकते? बहुत  सारे मौके है जहा पे हम हिंदी में अपनी भावनाए अभिव्यक्त कर सकते है तो वहा ऐसा करने में हम क्यों चूक जाते है? नातीज़ा इसका ये हुआ है कि अँगरेज़ भी असहज हो जाएगा भारत में आकर काले अंग्रेजो के बीच. कितने तकलीफ की बात है कि हम गलत अंग्रेजी में गिटपिट करने को अपनी ऊँची नाक की निशानी समझते है, अपने आधुनिक होने का दंभ भरते है लेकिन शुद्ध हिंदी में बात करके अपने अन्दर शर्मिन्दगी के भाव को उत्पन्न कर देते है. 

उससे भी घातक है ये बात कि जहा आपने हिंदी को उसका सम्मान दिलाने की बात की वोही पे आपसे लोग लड़ने को आतुर हो जायेंगे। मुझे याद आता है इन्स्टाब्लाग्स (Instablogs) पर अपना इसी भाव को ध्यान में रखकर वर्षो पहले लिखा गया लेख. उस मेरे बहुत निष्कपट इरादों से लिखे गए लेख पर भयानक बहस हुई जो मेरे लिए अप्रत्याशित सी घटना थी, इस प्रतिक्रिया के लिए मै बिलकुल तैयार नहीं था और उस वेबसाइट पर सबसे लम्बी बहसों में से एक में अधिकतर बातें हिंदी विरोधी रूख से लबरेज़ थी. मुझे कहना पड़ा वहा कि शायद भारत ही एक ऐसा देश होगा पूरे विश्व में जहा के लोग अपने संस्कृति और भाषा के बारे में इस तरह की दोयम राय रखते है.

हिंदी में बात करने से हम छोटे नहीं हो जायेंगे !

हिंदी में बात करने से हम छोटे नहीं हो जायेंगे !

चलते चलते कुछ एक हादसे भी सुने जो मेरे साथ हुए जो आप गौर करे कितने विचित्र तत्त्वों से भरा है. नई  दिल्ली स्थित किसी एक प्रसिद्ध संस्था जो पर्यावरण बचाओ मुहिम में संलग्न है ने चंदे के लिए मुझे फ़ोन किया. काल अंग्रेजी में थी पर जाने क्या सोचकर मैंने हिंदी में प्रतिउत्तर दिया। इसके पहले उधर से वे सज्जन मेरे पर्यावरण प्रेम की तारीफ में बहुत कुछ कह चुके थें. खैर जैसे ही हिंदी में मैंने कुछ कहना शुरू किया फ़ोन कट गया इस सन्देश के साथ कि आपसे हिंदी में बात करने के लिए अभी दुबारा फ़ोन आएगा पर फ़ोन नहीं आया. 

हिंदी दिवस पर दीनदयाल शर्मा लिखित छोटी सी बाल कविता पढ़े जो मुझे अन्दर तक गुदगुदा गयी: अभी कुछ दिनों पहले ही पढ़ी तब से मुस्कराहट है कि जाने का नाम ही नहीं लेती।

“अकड़-अकड़ कर
क्यों चलते हो 
चूहे चिंटूराम,
ग़र बिल्ली ने 
देख लिया तो 

करेगी काम तमाम,

चूहा मुक्का तान कर बोला
नहीं डरूंगा दादी
मेरी भी अब हो गई है
इक बिल्ली से शादी।”

ये सही बात है!

ये सही बात है !

पिक्स क्रेडिट:

Pic One 

Pic Two 

Pic Three 

कवि और कविताये: समय से परे होकर भी यथार्थ में नए आयाम जोड़ जाते है!

अदम गोंडवी: सही मायनों में जनकवि

अदम गोंडवी: सही मायनों में जनकवि

कविताओ में बहुत ताकत होती है विचारो के प्रवाह को मोड़ने की, उनको एक नया रूख देने की। ये अलग बात है कि कवि और कविताओ की आज के भौतिकप्रधान समाज में कोई ख़ास अहमियत नहीं, इनकी कोई ख़ास “प्रैक्टिकल” उपयोगिता नहीं। लेकिन उससे भी बड़ा सच ये है कि कविताओ की प्रासंगिकता सदा ही जवान रहेंगी। कवियों को समाज नकार दे लेकिन उनके अस्तित्व की सार्थकता को नकारना समाज के बूते के बस की बात नहीं। उसकी एक बड़ी वजह ये है कि कवि और कविताएं इस क्षणभंगुर संसार और पारलौकिक सत्ता के बीच एक सेतु का काम करते है। ये समाज के विषमताओ के बीच छुपे उन जीवनमयी तत्वो को खोज निकालते जो सामान्य आँखों में कभी नहीं उभरती। इसी वजह से कम से कम मुझे तो बहुत तकलीफ होती है जब कविताओ और कवियों को समाज हेय दृष्टि से देखता है या उपयोगितावादी दृष्टिकोण से इन्हें किसी काम का नहीं मानता। खैर इसे कुदरत का न्याय कहिये कि उपेक्षा की मौत मरने वाले कवि और लेखक भले असमय ही इस संसार को छोड़ कर चले जाते हो उनके शब्द अमर होकर धरा पे रह जाते है। उनके शब्द समय के प्रवाह को मोड़कर नया रास्ता बनाते रहते है। मोटरगाडी में सफ़र करने वाले तो गुमनाम हो जाते है लेकिन जीवन भर गुमनामी और उपेक्षा सहने वाले कवि/लेखक अमर हो जाते है। उनकी आभा धरा पे हमेशा के लिए व्याप्त हो जाती है।

आइये कुछ ऐसी ही कविताओ को पढ़ते है जो गुज़रे वक्त के दस्तावेज सरीखे है।

*******************************************************************************

अदम गोंडवी की ये कविता मजदूरों के अहमियत को पाठक के मष्तिष्क पटल पर वास्तविक रूप से उकेरती है । उनके यथार्थ को यथावत आपके सामने रख देती है। २२ अक्टूबर १९४७ को गोंडा जिले के आटा गाँव में जन्मे इस क्रन्तिकारी कवि ने समय के पटल पर कुछ ऐसी रचनाये रची जो संवेदनशील ह्रदय में सकारात्मक वेदना को जन्म दे देती है। वैसे इस कविता में देश में व्याप्त दुर्दशा का भी चित्रण है लेकिन प्राम्भिक पंक्तिया मजदूर पर आधारित है जिसको पढ़कर मुझे रामधारी सिंह “दिनकर” जी की ये पंक्तिया स्मरण हो आई:

‘‘मैं मजदूर हूँ मुझे देवों की बस्ती से क्या!, अगणित बार धरा पर मैंने स्वर्ग बनाये,
अम्बर पर जितने तारे उतने वर्षों से, मेरे पुरखों ने धरती का रूप सवारा’’

***********************************

वो जिसके हाथ में छाले हैं पैरों में बिवाई है
उसी के दम से रौनक आपके बंगले में आई है

इधर एक दिन की आमदनी का औसत है चवन्नी का
उधर लाखों में गांधी जी के चेलों की कमाई है

कोई भी सिरफिरा धमका के जब चाहे जिना कर ले
हमारा मुल्क इस माने में बुधुआ की लुगाई है

रोटी कितनी महँगी है ये वो औरत बताएगी
जिसने जिस्म गिरवी रख के ये क़ीमत चुकाई है

 -अदम गोंडवी

*****************************************

बशीर बद्र ने वैसे तो जीवन के कई रंगों का जिक्र किया लेकिन रूमानियत के रंग में डूबी इनकी ग़ज़लों को जगजीत सिंह ने स्वर देकर एक नयी ऊंचाई दे दी।ये ग़ज़ल मैंने पहल पहल जगजीत सिंह की आवाज़ में सुनी जिसे बहुत ही सधे स्वर में जगजीत जी ने गाया है। और अब पढने के बाद बहुत भीतर तक उतर गयी बशीर साहब की ये ग़ज़ल।

*************************

सर झुकाओगे तो पत्थर देवता हो जाएगा
इतना मत चाहो उसे, वो बेवफ़ा हो जाएगा

हम भी दरिया हैं, हमें अपना हुनर मालूम है
जिस तरफ भी चल पड़ेंगे, रास्ता हो जाएगा

कितनी सच्चाई से मुझ से ज़िन्दगी ने कह दिया
तू नहीं मेरा, तो कोई दूसरा हो जाएगा

मैं ख़ुदा का नाम लेकर पी रहा हूँ दोस्तो
ज़हर भी इसमें अगर होगा, दवा हो जाएगा

सब उसी के हैं हवा, ख़ुश्बू, ज़मीनो-आसमाँ
मैं जहाँ भी जाऊँगा, उसको पता हो जाएगा

-बशीर बद्र

*******************

रमाकांत दूबे जी का नाम शायद लोगो ने कम सुना हो लेकिन इनके द्वारा ग्रामीण लोक में बसी आत्मा में रची ये कविताये कही भी पढ़ी जाई अपना असर दिखा जाती है। ३० अक्टूबर १९१७ को जन्मे इस कवि ने अपनी जड़ो का कभी नहीं छोड़ा और आज़ादी से पहले और आज़ादी के बहुत बाद तक जो भी समय ने दिखाया उसे वैसा ही शब्दों में रच डाला। यकीन मानिए इन पंक्तियों को २०१३ में पढ़ते हुए ऐसा कभी नहीं लगा कि इनको चालीस साल पहले रचा गया होगा। इसकी प्रासंगिकता की अमरता पर हैरानी सी हो रही है। यूँ आभास हो रहा है किसी ने चालीस साल पहले ही २०१३ में क्या व्याप्त होगा ये देख लिया था। इसीलिए तो  मुझे  ये कहने में कोई संकोच नहीं कि कवि संसार में रहते हुएं भी संसारी ना होकर समय से परे रहने वाला एक विलक्षण जीव होता है।

******************************

खाके किरिया समाजवाद के खानदानी हुकूमत चले
जैसे मस्ती में हाथी सामंती निरंकुश झूमत चले
खाके गोली गिरल परजातंतर कि मुसकिल इलाज़ हो गइल
चढ़के छाती पे केहू राजरानी, त केहू जुवराज हो गइल

- रमाकांत दूबे

***********************************

अदम गोंडवी: जो उलझ कर रह गयी है फाइलों के जाल में गाँव तक वह रौशनी आएगी कितने साल में

अदम गोंडवी: जो उलझ कर रह गयी है फाइलों के जाल में गाँव तक वह रौशनी आएगी कितने साल में!


कुछ अच्छी कवितायेँ आप यहाँ पढ़ सकते है: कविता कोष 

Pic Credit: 

Pic One 

 

Meeting The Giants In World Of Writing: My Precious Moments With Ruskin Bond And Gulzar

Ruskin Bond: From His Writings I Learnt The Art Of Writing Simply!

Ruskin Bond: From His Writings I Learnt The Art Of Writing Simply!



The world of writing is marred by strange twists and turns. It’s never easy for a writer, whether established or novice, to keep pace with time in an easy-going manner in world dominated by materialistic principles, which treats nurturing aesthetic pleasures as some sort of waste of time. When selling rose becomes more worthwhile task than to appreciate its scent, it’s quite certain that one would not gain much by falling in love with creative pursuits. I faced extremely tough conditions with humiliating episodes taking place quite frequently, but I always tried not to take them to heart, remembering that great writers of previous eras also received similar treatment. Pain and humiliation do not break a writer ( unless destiny has predestined such a fate) but make him gain more insights, not available to ordinary mortals. The other thing that really kept me going ahead with ease despite huge setbacks was constant support of extremely talented souls, who appeared at various stages of my life as friends and colleagues. Apart from them, I feel really privileged that I also got an opportunity to spent some precious moments with towering figures in world of literature. These very special moments still keep me spirited and cheerful in depressing times even as memories related with those meetings have been clouded by the affairs of time.

I met Ruskin Bond and Gulzar at a time when my bonhomie with the writing world was gaining depth. However, after meeting them, I became certain that being a writer was no crime! I always met people who stupidly asked me( and thereby revealing the actual worth of their grey cells) about my work sphere even as I told them that I write! ” It’s okay that you write but what work you do?” That’s the sort of queries which always chased me. Thank God such queries today neither appear nor they have any relevance left in my life. The sight of Gulzar and Ruskin had left me spellbound, although I had met them separately, but exhibition of feelings remained the same.

I became the fan of Ruskin Bond at the very moment when in one of the boring literature classes of my school, I first came to read his story “The Eyes Have It”. The intensity of emotions expressed in this story fascinated my young heart to great extent. Though my class teacher, the other school mates and the old-fashioned academic standards, compelled me to anticipate the story in a given way, I came to visualize many other things as I read this story. And that’s why I met Ruskin Bond not only as reader but also as a writer! It’s the writings of Ruskin which taught me that how you say is equally important as what you come to say! However, the greatest lesson Ruskin taught me was that great writing is simple writing! Never use bundle of complicated expressions, which make a reader be involved more in picking up a dictionary than being lost in the content of the post! It’s one of the reasons why I avoid reading Arundhati Roy unless I have to sleep early!

The impressions left by Ruskin can also be traced in my being!

The impressions left by Ruskin can also be traced in my being!

Ruskin Bond, the Sahitya Akademi and Padma Shri awards winner, visited Allahabad, circa 2003. He had come here to attend promotional event organised by a leading publisher Rupa & Co. I wasn’t prepared for this meeting, but the moment I heard news of his arrival, I got prepared my manuscript related with my first unpublished anthology- The Petals Of Life.  When I met him, I saw him surrounded by his well-wishers. I waited for my turn, and fortunately when my turn came he had some spare moments. He gave a fabulous smile when I introduced myself as a writer and informed him about my literary pursuits. When I handed him my poems, he seemed to be very pleased by this gesture. He patted my back and asked me to keep writing. Though he was tired but he still obliged me by giving me his autograph at number of places. Our conversations lasted for few minutes but the undercurrents still remain alive. And so I refuse to leave the company of pen!

Gulzar- the Oscar Award winner lyricist-also visited Allahabad, at the invitation of same publisher, during the same period. My meeting with him was once again a hurried affair than a pre-planned affair. When I reached the place where he was about to arrive after couple of hours, I was apprehensive about the meeting. However, call it my luck, despite presence of huge crowd, I created space for my meeting with this amazing man. It was hard for my eyes to acknowledge the fact that maker of landmark movies like Aandhi, Ijaazat, Kitaab, Parichay and Achanak, to name a few, was sitting right before my eyes. Like always, this time, too, he was clad in white kurta-pajama. And like always donned his lips a typical smile, which any Gulzar fan would easily recognize had he/she been noticing photographs of him quite sincerely. To be honest, I had not read enough literature penned by him but I had watched his movies and heard his songs with exceptional zeal and abnormal seriousness. And that’s why his “surrealism” permeated in my writings as well. Anyway, he remained seated in relaxed way. When I informed him about my credentials, his faced remained expressionless yet I noticed that he was pretty conscious! And as I finished saying what I had to say, he gave a very deep look at me. A stare that refused to leave me and became part of my being. I left the space after spending couple of minutes with him but as I came out of that place and headed towards my home these particular lines from this immortal song “Aknhon Mein Humne Aapke” kept appearing and disappearing within mind’s chamber-

              “नज़रे उठाई आपने तो  वक्त रुक गया

               ठहरे हुए पलो में जमाने बिताये है “

         – When you looked at me, the time stopped
         And in those moments I came to live many lives.

Many thanks to these gentlemen who appeared at a very important juncture in my life. I needed some genuine encouragement and their generosity in display of emotions proved to be a tonic for my spirit chased by uncertainties. The uncertainties remain the same but my spirit attained the required evolution and so my writings. And so I am still writing! Pervert critics remain the same and situation remains hopeless like always and yet I am above all these negative concerns. A proof that meeting such enlightened gentlemen did not go in vain.

Gulzar: I still remember that I met you!

Gulzar: I still remember that I met you!

************************

Excerpts from the story ” The Eyes Have It” :

“I wondered if I would be able to prevent her from discovering that I was blind. Provided I keep to my seat, I thought, it shouldn’t be too difficult.”

********************

“The man who had entered the compartment broke into my reverie.

‘You must be dissapointed,’ he said. ‘I’m not nearly as attractive a traveling companion as the one who just left.’

‘She was an interesting girl,’ I said. ‘Can you tell me – did she keep her hair long or short?’

‘I don’t remember,’ he said, sounding puzzled. ‘It was her eyes I noticed, not her hair. She had beautiful eyes – but they were of no use to her. She was completely blind. Didn’t you notice?’”

********************


Song: Ankhon Mein Humne Aapke..

Movie: Thodi Si Bewafai

Singers: Lata and Kishore

Lyricist: Gulzar

Music: Khayyam

Gulzar: That's The Way He Smiles!

Gulzar: That’s The Way He Smiles!

Reference:

Rupa & Co.

Penguin’s List Of Books Written By Ruskin Bond

Poems Of Gulzar-Kavita Kosh

Pics Credit:

Gulzar’s Image

Celebrating Holi, The Festival Of Colours, In League With Poetry Session and Comedy Session!

Colours Fascinate  Everybody

Colours Fascinate Everybody


The people having rendezvous with colours of Holi are in festive mood today. I don’t wish to act as spoilsport by making readers ponder over serious issues. I remember good old days of Doordarshan, when on the eve of Holi, it used to telecast late night poetry sessions, wherein poets, belonging to various parts of country, read their fun-filled poems. It’s really sad that glorious traditions have given way to cheap thrills on Doordarshan.  

Though I am not going to present fun-filled poem, it (the poem) nevertheless speaks about the festival of Holi. It sheds light on distortions that have hit the festival of Holi. This Hindi poem addresses the disturbing scenario, which prevent the masses from embracing the festive mood in right spirit. It makes chilling disclosure that people in cities and villages have given way to dangerous disputes involving bloodshed. How can these people in grip of limited perceptions would ever be able to enjoy the prevailing festive fervour? That’s the essence of this Hindi poem penned by Dr. Ganga Prasad Sharma” Gunashekhara”. He hails from Sitapur, Uttar Pradesh. I also need to thank SC Mudgal, New Delhi, a friend on one of the social networking sites, for making me read this poem.

**********************************

तारकोल, कीचड़ सने, चेहरे रूप-कुरूप.
होली में सब एक-से, रंक, भिखारी, भूप..
होली खूनी हो गई,रक्त सने हैं पाँव.
कान्हा अब आना नहीं, लौट के अपने गाँव..          
होली खूनी हो गई,रक्त सने हैं पाँव.
कान्हा अब आना नहीं, लौट के अपने गाँव..

कैसा हो यदि होलिका, सींचे जीवन- आस.
रंग-बिरंगे रूप, ले मह-मह करे मिठास..
गदराए गेहूँ खड़े , बौराए-से आम.
होली ने सब को दिए,मन-मन भर के काम..
सरसों,तीसी,चना हो,या गेहूँ के खेत.
मस्ती में लहरा उठे, होली आते देख..
जिसमें अपनापन नहीं,नहीं नेह का लेश.
ऐसे घटने से रहा ,बैर भाव या द्वेष ..

होली में फागुन फिरे, धर बासंती वेश. 
पावन पाती प्रेम की, बाँटे देश- विदेश..
फागुन की मादक हवा, उन्मादक परिवेश.
खिले गुलाबी रंग -से, केशरिया गणवेश..
बँसवारी, अमराइयाँ ,ऐसी लुटीं अशेष.
फागुन वापस जा रहा, ले अपना संदेश.

-Dr. Ganga Prasad Sharma” Gunashekhara”
 

Once Upon A  Time..

Once Upon A Time..


****************

And yes, now it’s time to laugh. Enjoy two comedy clips from two different movies. Enjoy this “Mahabharata Episode” from Jaane Bhi Do Yaaro, which is a landmark movie in the genre belonging to comedy. The high standards which it came to set have until now remain unsurpassed. The “Mahabharata Episode” is such a hilarious episode in the movie that it never fails to give rise to maddening laughter. I have watched it umpteen times, but even then when I watch it for one more time I am but all smiles. For non-Hindi readers let me apprise them of the plot of this episode. It’s all about possession of dead body which due to a blunder on part of the people, originally in possession of body, got trapped in live drama show, impersonating the lady who was about to play that role. This dead body is most sought-after object by various rival groups.               
     

The bizarre methods employed by these rival groups  to get hold of this dead body, right in the middle of the live show, based on a mythological theme, is terribly rib-tickling. After all, the actors in the play thought that this lady character belonged to their group, but which in reality was a dead body in hot demand among the dangerous rival groups.They trespass the ongoing drama, as new characters, and then there is huge confusion as they come into conflict with the original characters of the play. For me this movie brings back the memories of days when Doordarshan was darling of the masses.

The Mahabharata Episode From Jaane Bhi Do Yaaro

************************

This second comedy clip is from movie” Pyar Kiye Jaa”. Two legendary actors, Om Prakash and Mehmood, have touched the pinnacle while dealing with shades of comedy. That’s comedy at its best. Neat and clean comedy with no impressions of double-meaning dialogues and cheap gestures. In this scene Mehmood, appearing as wannabe movie producer in the movie, is narrating the elements involved in making of his forthcoming horror movie to Om Prakash. Just notice the expressions on faces of both the actors as they remain deeply involved in act of mutual conversation.

The Comedy Clip  From Pyar Kiye  Jaa

Pics Credit: 

Pic One

Pic Two

अटेन्शनवा: भाई किसी को खालिस सोने के बिस्किट चाहिए तो तिवारी सर से मिले अर्जेन्टी (व्यंग्य लेख )

ये सोने के बिस्कुट मै नहीं हज़म कर पाता हूँ :P

ये सोने के बिस्कुट मै नहीं हज़म कर पाता हूँ :P

मेरे कुछ मित्र भी गजब ही है। बैठे बिठाये लिखने का मसाला दे जाते है। ये तिवारी जी, लखनऊ वाले, मेरा सौभाग्य कहिये या मेरा दुर्भाग्य कि मेरे बचपन के परम मित्रो से है। तब से लेकर आज तक मुझसे गठबंधन किया बैठे है। अब बचपन में तो अच्छे बुरे की पहचान तो होती नहीं वर्ना इस तरह के खतरनाक मित्रो को मै जरा भी लिफ्ट नहीं देता हूँ। खैर ये ‘सड़ी मूँगफली स्कूल’ के काबिल हस्ताक्षर थें। इस स्कूल का असली नाम पाठको को नहीं बताऊंगा क्योकि जिनको समझना है उनके लिए इतना इशारा काफी है। कभी किताब लिखने का मौका मिला तो इस स्कूल के सभी नमूनों के बारे में विस्तार से लिखूंगा लेकिन ये इसी स्कूल की देन है कि खुली आँखों से सोना मुझे आ गया। सुबह सुबह इतने उबाऊ पीरियड में कौन इतना उच्च चेतना संपन्न था कि वो पूरे होशो हवास में रह पाता। कम से कम मै तो नहीं था। और निगम, जो पूरी सर्दी में शायद  तीन चार बार नहाने को महान कार्य समझते थें, तो बिलकुल नहीं था क्योकि उसको तो हमी सब उठाकर स्कूल लाते थें आँखों में नींद लिए। यहाँ भी कोई गांधी थें जिनके महाऊबाऊ विश्वशान्ति वाले भाषण सुबह सुबह असेंबली लाइन में सबसे आगे खड़ा होकर सुनने के कारण कुछ कुछ “अटेंशन डिफिसिट” सा हो जाता था, कही शान्ति आये ना आये पर मेरा मन जरूर अशांत हो जाता था। लगता था कि काश इस युग में भी धरती फट जाए सोचते ही मान तो कुछ देर के लिए वहा  रेस्ट कर लूं। पर किसी शापित देव सा ना सुनने लायक भी सुनने को मजबूर था। 

तो इसी तिवारी साहब ने, मेरे तमाम अशुभ ग्रहों के एक जगह आ जाने के कारण प्रतीत तो यही होता है, मुझे फोनवा करके, आवाज बदल के खालिस भयंकर डान की माफिक एक ढोंगी पाखंडी की तरह राम राम कहने के बाद मुझे सूचित किया कि  “आपके सोने के बिस्कुट आ गए है। बताये कहा डिलिवेरी करनी है। जाहिर सी बात है इस दुष्ट आत्मा से, भाई मै कहा जानता था कि तब तिवारी आवाज बदल कर बोल रहे है गोपनीय नंबर से, पूछना पड़ा कि आप बोल कौन रहे है। उधर से जवाब आया कि अरे लीजिये “आप अपने एजेंटो को नहीं पहचानते”। मुझे फिर कहना पड़ा कि आप बताते है कि कौन बोल रहे है कि मै बंद कर दू नंबर। तब उन्होंने राज खोला अरे मै तिवारी बोल रहा हूं पहचाना नहीं। एक नया नंबर मिल गया था जिसमे फ्री टॉक टाइम था तो सोचा इसका इस्तेमाल कर लूं। अब गरिया तो सकता नहीं था क्योकि वो मेरी आदत नहीं और दूसरा वो इस बोली भाषा में हिट था। वैसे ये कई धंधे आजमा चुके है सो मुझे ऐसा प्रतीत हुआ लगता है इनके फील्ड में रिसेशन आ जाने क्या पता ससुरा गोल्ड बिस्कुट का डीलर बन गया हो । 

वो बहुत खुश था शोले के गब्बर की तरह मुझको डरा समझ के। लेकिन मै जिस वजह से परेशान था उसकी वजह वो नहीं थी जो तिवारी साहब समझ  रहे थें। लेखनी की वजह से मै अपने नंबर सहित काफ़ी सर्कल्स में पहचाना हुआ हूँ जिसमे खाड़ी देशो के मित्र, अपना प्रिय पडोसी पाकिस्तान भी है, के लोग शामिल है, और इसके अलावा इंटेलिजेंस सर्विसेज के लोग भी है। इन साहब की नादान हरकत, जो क़ानूनी परिभाषा के तहत जुर्म की श्रेणी में आता है पर  इनकी बोल्ड आत्मा इस नाजुक आत्मा की  इस बात को मानने से इंकार करती थी, किसी विपत्ति को जन्म दे सकती थी। खैर इनको मुझे समझाना पड़ा कि टेक्नोलाजी के इस युग में जब भाई लोग मर्द हो के भी औरत की आवाज़ में बतिया सकते है, फर्जी स्टिंग आपरेशन होते है, मुझे इस बात की परवाह तो करनी पड़ेगी न कि उधर तिवारी ही बोल रहे थें बिना अपने किसी चमचों के। चमचा का मतलब यहाँ पे फटीचर मीडिया के लोग जो आवाज़ रिकार्ड करके खबरे बनाते है या चमचा माने वो जो फिल्मे परदे में एक मेन विलेन के पीछे पीछे चलते है। खैर मेरी बात की गंभीरता का वो आशय समझ गए पर ये बताने से नहीं चूके कि हाई प्रोफाइल नम्बरों से भी वो ऐसा ही कर सकते है और कोई उनका कुछ नहीं कर सकता या ऐसा करने से कुछ होता नहीं है। 

हां आप सही कह रहे है कि कुछ नहीं होता मगर इन्ही अफवाहों के चलते सिक्योरिटी एजेंसीज की नींद हराम हो जाती है और असली वारदात के समय ये बेचारे कुछ नहीं कर पाते, महत्त्वपूर्ण ट्रेने ऐसी ही बातो के चलते समय से चल नहीं पाती, दंगो के वक्त इस तरह की बाते शोलो को और भड़काती है। अरे साहब कुछ नहीं होता है  तो पीएमओ आफिस में डीलिंग कर लेते तो क्या पता तुम्हारे सोने के बिस्कुट इस देश की दरिद्रता कुछ कम कर देते! तिवारी जी हम जैसे मुद्रा विहीन के यहाँ तो तुम्हारी डीलिंग फ्लाप हो गयी लेकिन पीएमओ आफिस से भयंकर लोग तुम्हे उठाकर तो जरूर ही ले जाते, तुम्हारे  सोने के बिस्कुट बिकते या न बिकते। नालायक कही का ये तिवारी कभी सुधर नहीं सकता। एक बचपन के मित्र की कायदे से मदद करने के बजाय लगा उसे सोने के बिस्किट खिलाने। पता नहीं तुम सोने के बिस्कुट बेचने की हिम्मत रखते हो कि नहीं लेकिन इतनी औकात तो रखते ही हो कि कम से एक मिनी ट्रक बिस्किट ही बच्चों के लिए मेरे घर भेजवा देते। कुछ मै खाता कुछ मोहल्ले के बच्चो को बटवा देता। उनकी दुआओं से तुम्हारी ज़िन्दगी संवर जाती। लेकिन आज जब एक ब्राह्मण ही दूसरे ब्राह्मण की धोती खीचने में लगा हुआ है तो तुम कैसे अपवाद बन जाते। लगे मुझ जैसे फक्कड़ आत्मा को ही सोने के बिस्कुट बेचने जो सदा से ही यही गीत गाता  रहा हो कि “कोई सोने के दिलवाला, कोई चाँदी के दिलवाला, शीशे का है मतवाले तेरा दिल, महफ़िल तेरी ये नहीं, दीवाने कही चल”

तिवारी के बारे में मेरे गाँव की पगली लड़की, और इन तिवारी साहब को इस लड़की की बात बुरी नहीं लगनी चाहिए क्योकि वो भी तिवारी ही है, बिलकुल सही कहती थी कि जब “सौ पागल मरते है तो एक तिवारी का जन्म होता है”। पता नहीं कितनी सच थी उसकी बात लेकिन तिवारी लोगो में पायी जाने वाली अराजकता को देखता हूँ तो मन इस  बात पे आकर टिक जाता है। खैर इन तिवारी साहब का निगम की ही तरह कितना बढ़िया जजमेंट सेंस है ये बताना जरूरी हो जाता है। ये बताना भी जरूरी हो जाता है कि इनको कक्षा चार से ये विलक्षण शक्ति प्राप्त थी कि कौन से लड़की किस लड़के से ज्यादा बतियाती थी। और ये न्यूज़ नमक मिर्च लगा के सब तक सर्कुलेट कर देते थें। मेरे क्लास की लड़की अगर मेरे मोहल्ले में रहती थी तो इनके पेट में दर्द जरूर होता  था। और निगम का भी होगा ये तो तय था। इन दोनों की जजमेंट शक्ति कितनी उच्च थी। अभी पता चल जाएगा। खैर मै जब अपने गाँव में जाता था तो तिवारी सिर्फ यही सूंघ पाते थें कि जैसे मै  इसी खतरनाक पगली लड़की से,जो तिवारी वर्ग में पाए जाने वाली सब महान शक्तियों से लैस थी, से बतियाने जाता था। ये तो कभी सूंघ नहीं सकते थे कि बरसात के कीचड भरे रास्ते,  भयंकर ठण्ड से भरे दिन और राते, भीषण गर्मी में बिना किसी पंखे वाले कमरे में, किसी तरह जो भी मिला वो खाकर अपने खेतो में क्या हो रहा है देखता था। हा ये उन्होंने अनुमान लगा लिया कि गंगा नदी के तट पर स्विट्ज़रलैंड की हसीन वादियों में जैसे लोग टहलते है, वैसे ही मै लेकर उसको विचरण करता हूँगा। अब लखनऊ की चमकती रोमान्टिक गलियों में पले  बढे, नाम मात्र रूप से गाँव के सामाजिक परिवेश को जानते हुए- कभी  असल ब्राह्मण बहुल्य गाँव में तो कभी रहे ना होंगे-को इससे बेहतर क्या समझ में आ सकता था। मुझे इनकी समझ से कुछ लेना देना नहीं पर तिवारी साहब ये आप जान ले कि गाँव में चाहे वो गँगा के तट हो या खेत सुबह शाम नित्य कर्म करने वाले लोगो से पटे रहते है तो कोई कैसे किसी को इस तरह रोमान्टिक तरीके से घुमा सकता  है? मै तो गाड़ी भी ड्राइव नहीं कर पता कि चल कही दूर निकल जाए ऐसा कुछ भी हो सकता। लेकिन इनको क्या और निगम को क्या। सोचने लगे तो यही सब सोच डाला। और सुनिए आप मेरे गाँव में आइये तो ये ट्राई भी मत करियेगा, हा किसी और के बारे में आप कुछ भी सोच ले ये अलग बात है, वर्ना गाँव के लोग कूट काट  डालेंगे। गाँव वाले न शहर वालो को ठीक नज़र से देखते है और शहर वाले तो शहरीपने के चलते गाँव वालो को शुरू से ही गंवार समझते रहे है।

और निगम साहब को उस उम्र में जिसमे प्यार की भावना एक नैसर्गिक प्रक्रिया होती है ये साहब तब भी भयंकर फिल्मी अंदाज़ में मुझे समझाते थे “प्यार वो करते है जिनकी जागीर होती है”। वैसे उसकी बात में कडुवी सच्चाई थी ये मै मानता हूँ पर सच नहीं थी सोचने पर। बिल्कुल सच नहीं थी। क्योकि निगम जी जागीर वाले सब कुछ कर सकते है प्रेम नहीं कर सकते। ये ज्यादा से ज्यादा इस लड़की के साथ टहलेंगे, फिर कल किसी दूसरे के साथ टहलेंगे और अंत में आपको पता चलेगा इन्होने माता पिता का सम्मान करते हुएं रीति रिवाजों के साथ किसी जागीरवाली लड़की के साथ शादी कर ली। अपवाद हो कोई वो अलग बात है पर ज्यादातर तक जागीर वालो का  इतिहास ऐसा ही रहता है प्रेम के नाम पर। वैसे निगम तिवारी से बतिया लेना क्योकि मुझसे कह रह था कि “अलीगंज सेक्टर डी”  से कपूरथला काम्प्लेक्स की दूरी कोई लन्दन से पेरिस तक जितनी नहीं थी कि जो आके अपने बचपन के मित्र का हाल चाल भी न ले सके। ये कायस्थ वर्ग के चरित्र की निशानी है कि अपने सीमित स्वार्थ से ज्यादा दूर तक नहीं सोच पाते। ये अलग बात है बाभनो से पटती भी बहुत है जो इस सोच के ठीक विपरीत होते है। 

वैसे बात सोने के बिस्किट से शुरू हुई थी तो समापन भी ऐसे ही होगा। भाई तिवारी अमीनाबाद चले जाना वहा अपने सड़ी मूंगफली स्कूल के ही एक परम मित्र रहते है अपने ही बचपन के जिनसे जब मै बातचीत करने का इच्छुक होता हूँ तो इस भय से नहीं करता हूँ कि कोई फायदा नहीं क्योकि आपने फ़ोन किया नहीं कि उधर से आवाज़ आएगी कि अरे वो तो मजलिस में गए है। बहुत अच्छा उसका बिज़नस सेन्स है। वो जरूर बिकवा देगा तुम्हारे बिस्कुट। नहीं तो इसी स्कूल के एक सज्जन खुर्रम नगर में रहते है जो फेसबुक मित्रो मे एक बेहतर क्लासिक पोज़ में मौजूद है चश्मे सहित। वहा  चले जाना तुम्हारा काम हो जाएगा। ये लोग बहुत काबिल है। मेरे जैसे साधन विहीन लेखक वर्ग के जरिये तुम अपने सोने के बिस्किट कभी नहीं बेच पाओंगे। अब ये भी धंधा चालु कर दिया है तो कम से कम धंधे में तो थोडा से बेहतर जजमेंट सेंस रखो कि कहा तुम्हारा माल बेहतर बिक सकता है। ऐसे तो तुम दिवालिया हो जाओगे। आया समझ में। और मुझसे मिलने आना तो कम से कम पारले जी वाला बिस्कुट लेते आना। बचपन से इसी बिस्कुट की लत जो लगी है। सोने के बिस्कुट हज़म  करने की लत मुझे कभी नहीं पड़ी और न पड़ेगी। और निगम तुम्हारे लिए तो यही लाइन उपयुक्त रहेगी: सोना नहीं, चांदी नहीं, अरे यार तो मिला जरा प्यार कर ले।

अपना प्यारा लखनऊ :-)

अपना प्यारा लखनऊ :-)

Pics Credit: 

Pic One

Pic Two

पूर्णता की शिकार ये कुछ मैच्योर आत्माये (व्यंग्य लेख)

जय गऊ माता की ...जय कुक्कुर देव की भी।।।

जय गऊ माता की …जय कुक्कुर देव की भी।।।


[सर्वप्रथम 03 जुलाई, 2004 वाराणसी/इलाहाबाद से प्रकाशित सम्मानित दैनिक "आज" में प्रकाशित। ये लेख ऑटोमैटिक रूप से प्रयाग की धरती पर भटकती पूर्णता को प्राप्त रूहों से मिलन के बाद लिखा गया था एक दम फटाफट।]

आज का मनुष्य विरोधाभासों का पुतला बन के रह गया है। जिधर भी देखिये आज ऐसे ही मनुष्यों का समूह पायेंगे। तमाम तरह की विरोधाभासी प्रवृत्तियों को इस तरह अपने में समेटे रहते है कि ऐसा लगता है कि व्यंग्य की कृतियों ने मनुष्य का चोला धारण करना आरम्भ कर दिया है। कुछ उदहारण देने से बात समझ में आ जायेगी। आज के अधिकांश राजनैतिक दल जो क्रन्तिकारी परिवर्तनों की बात करते है अगर हम उनको ध्यान से देखे तो पायेंगे कि गली में घूमने वाले टामियों, मोतियों और शेरूओ और इन दलों के बीच का फर्क बिलकुल समाप्त हो गया है। अब इन कुत्तो को देखिये। दूसरी गली में कोई कुत्ता किसी कारण से भौंक रहा हों तो मेरे दरवाजे के पास बैठे काले कुत्ते को भौकना ना जाने किस वजह से अनिवार्य हो जाता है।

फिर तुरंत ही सारे कुत्ते इकट्ठे होकर सामूहिक रूप से अपनी उर्जा समाप्त करके अपनी अपनी जगह लौट जाते है फिर ऐसी किसी प्रक्रिया को क्षणिक विश्राम  के बाद दुहराने के लिए। कोई कुत्ता यदि भिन्नता लिए हो या फिर कोई कुत्ता अजनबी गली से आउटसोर्सिंग की वजह से गुजर रहा हो तो वह अन्य कुत्तो की आलोचना का अर्थात “भौकन  क्रिया” का शिकार हो जाएगा। वह आगे आगे और अन्य गलियों के काले, भूरे, सफ़ेद, चितकबरे आदि रंग के तमाम कुत्ते उत्तेजक रूप से भौकते उसे गति पकड़ने पर मजबूर कर देंगे। कुछ इसी बीच नई माडल की गाडियों पर टांग उठाते चलेंगे।

आप संसद या विधानसभा की कार्यवाही पर गौर करे तो लगेगा कि आप ये सब पहले कही देख चुके है! बात निवेश की हो या आर्थिक सुधारो की कुछ लोग जो ऊँघते या अनुपस्थित न होंगे तो आप उन्हें हरदम “साम्प्रदायिक सरकार नहीं चलेगी, नहीं चलेगी” या “फ़ासिस्ट हाय-हाय” आपको नियमित रूप से उच्चारित करते हुए मिलेंगे। अब पता नहीं किन अनुभवों के आधार पर आर्थिक सुधारो को साम्प्रदायिकता से जोड़ लेते है ये तो खैर इनकी प्रोग्रेसिव आत्मा ही बता सकती है। और इस उच्चारण को जब और सारे दल सुर में सुर मिलाते  है तो वाकआउट नाम का जिन्न प्रकट होता है जो तत्काल सबको एक बराबरी पर ला पटकता है। और इसके बाद कुछ मुद्दों पर इधर-उधर की कह कर अर्थात टांग उठाकर अपने ठिकाने की तरफ बढ़ चलते है। विरोधाभासों के मंच के सशक्त केंद्र बन गए है संसद आदि स्थल।

अपने इलाहाबाद शहर के एक व्यस्त चौराहे पर अखबार की रसीली दुकान है। विरोधाभासों के कई सशक्त हस्ताक्षर यहाँ दिन भर डेरा डाले रहते है। ऐसे ही एक सज्जन कई अखबारों के पन्नो को यूँ ही उल्टा पल्टी करने के बाद टीका टिपण्णी के बाउन्सर फेकने लगते है। एक दिन मुझसे ये बोले हिंदी में जरा आप लिखे तो कुछ बात बने वर्ना अंग्रेजी लेखन के जरिये तो आप कभी राष्ट की  चेतना से सम्बन्ध नहीं बना पायेंगे। पता नहीं अंग्रेज़ क्यों अपनी अंग्रेजी कुछ लोगो के हवाले करके चले गए। अपनी मिसाईल दाग कर वो चलते बने। अफ़सोस इस बात का नहीं था कि अंग्रेजी लेखन को निशाना बनाया गया था पर इस बात का था कि अपनी दिमागी जड़ता को राष्ट्र की चेतना के विकास से जोड़ गए। क्योकि मै अच्छी तरह जानता हूँ कि अगर मै इनसे ये कहता कि मुझे हिंदी की श्रेष्ठ कृतियों से लगाव है तो मुझे ये संस्कृत से जुड़ने की सीख देते, संस्कृत से भी अगर जुड़ा पाते तो फिर ये कहते आप भोजपुरी से क्यों नहीं गठबंधन करते आदि आदि। खैर मै आपको विरोधाभासों के बारे में, विचित्र प्रवृत्तियों के बारे में कुछ बता सा रहा था।

अगले दिन मुझे बड़ा आश्चर्य हुआ जब मैंने इन सज्जन को फेमिना, कास्मोपोलिटन इत्यादि अंग्रेज़ी मैग्जीनों के पन्नो को पलटते देखा। मैंने उनसे कहा कि लगता है आपने अपना पाला पलट लिया है। अभी आप कल ही तो स्वाभिमान वाली बात कर रहे थें। उन्होंने ये सुनकर कहा कि आपको लगता  है तो लगे पर मै स्पष्ट कर दूँ  कि मै पढ़ नहीं सिर्फ इन्हें सिर्फ देख रहा हूँ। आप की अंग्रेजी पर इतनी पकड़ नहीं तो फिर आप इन्हें देखकर क्या प्राप्त कर रहे है? इस सवाल पर उनका  चेहरा तमतमा उठा पर झेंप को छुपाते हुए बोले देखिये निरुत्तर बनकर मुझे अपूर्णता का शिकार तो होना नहीं है। इनके पन्ने पलटने से तो ही मैचोरिटी आती है। संक्षेप में मंत्र इन्होने ये दिया कि राष्ट्र की चेतना का विकास भले हिंदी में लिखने से होता हों पर पूर्णता अंग्रेजी के मैग्जीनों के पलटने से ही आती है।

अगर सेंट्रल लाइब्रेरी में घटी घटना का उल्लेख न करू तो बात अधूरी रह जायेगी। मै वाचनालय में किसी लेख को पढने में पूरी तल्लीनता से रमा हुआ था कि किसी के कदमो की आहट ने मेरा ध्यान भंग कर दिया। देखा कि एक साहब आदिमकाल के मनुष्यों में पाए जाने वाले गुणों को अभिव्यक्त करते हुए चले आ रहे थें। दुर्भाग्य से ये आके मेरे बगल में खड़े हो गए। आँखे इनकी अभी भी दरवाजे की तरफ ही थी पर इनके हाथो में अंग्रेजी का अखबार आ चुका था। फिर जिस तरह कैशिअर नोटों को गिनता है इन्होने इसी अंदाज़ में पन्नो को तेज़ी सें पलटना आरम्भ किया। केवल मुंह की तरफ हाथ थूंक लगाने के लिए उठता था। कुछ ही सेकेण्ड में भारत का नंबर एक अंग्रेजी का राष्ट्रीय दैनिक अखबार पढ़ा जा चुका था।मुझे इनकी शक्ल कुछ जानी पहचानी सी लगी। भाई साहब लगता है मैंने आपको पहले कही देखा है। इन्होने मेरी तरफ देखा फिर अटपटे लहजे में पूछा कि  आप क्या करते है? इससें पहले कि मै इनसे कुछ कह पाता ये जिस तरह मेरे पास चल के आये थें उसी तरह से ये दरवाजे की तरफ बढ़ चले थें। चलिए ठीक है अब मै किसी जानी पहचानी शक्ल से मिलूँगा तो यही से शुरुआत करूँगा कि आप क्या करते है ? आप की शक्ल कुछ जानी पहचानी रही है। अब तो ठीक है न। शायद मै परिपक्व और पूर्ण हो चला हूँ।

 

बस इसी रोड पर कुछ कदम और आगे बढ़कर है एक अखबार की  दूकान!

बस इसी रोड पर कुछ कदम और आगे बढ़कर है एक अखबार की दूकान!

पिक्स क्रेडिट:

तस्वीर प्रथम 

तस्वीर दितीय

चलो थोडा सा मुस्कुरा ले, थोडा सा जी ले! (हास्य लेख)

मेरी तरह आराम करना सीखे

मेरी तरह आराम करना सीखे


गंभीर  लिखते लिखते मन बोझिल सा हो गया तो सोचा जरा सा मुस्कुरा ले, जरा सा आराम कर ले। पता नहीं किस कवि की पंक्तिया है पर मुझे हंसने और मुस्कुराने के लिए बाध्य कर रही है:’चलो आज बचपन का कोई खेल खेलें, बड़ी मुद्दत हुई बेवजह हंस कर नहीं देखा’। मेरी एक परम मित्र है। बड़ी दुखिया स्त्री है पर काम करने के मामले में नान स्टाप एक्सप्रेस है। लिहाजा हमेशा मेरा उससें छत्तीस का आंकड़ा रहता है काहे कि अपने स्वास्थ्य की कीमत पर काम करती है। मैंने उससें कह रखा है जब मरने लगना मुझे खबर जरूर करना तुम्हारे कब्र के ऊपर मै ये लिखवाऊंगा ” ये रही मेरी मित्र जिसने मुझ जैसे जीवंत शख्स को  दो मिनट भी एक मगरूर, जिद्दी,  बिगडैल हसीना की तरह एहसान जता के दिए लेकिन आफिस के घटिया वातावरण में बेजान आंकड़ो को खूब रस ले के प्रेम किया। इस महान बुद्धिमान स्त्री को मेरा नमन जिसकी मौत आफिस का काम करते करते हुईं। ईश्वर  इसकी आत्मा को शान्ति प्रदान करे जो “हैवन द स्वर्ग” में तो कम से कम आराम करे।” 

ऐसा लिखवाने के बाद मेरी आत्मा को बहुत शान्ति मिलेगी। और उन मेरे जाहिल मित्रो से नफरत और दूरी और घनी हो जायेगी जो आफिस में सड़को पे फिरते आवारा कुत्तो की तरह इधर उधर दुम फटकारने  को “आराम हराम है” सा समझते है । आफिस में दुम फटकारना बहुत बड़ा कर्मयोग है, कुत्ते कही के,  ढोंगी कही के, पाखंडी है ये सब। ईश्वर के अस्तित्व को मै इसी बात से स्वीकार करता हूँ कि इस तरह के वातावरण और ढ़ोंगपने से उसने बचाया। मुझे खूब काम  करना सिखाया पर उसको जताना नहीं  सिखाया। अब मै अपनी  बकैती बंद करता हूँ और आपको आराम तत्त्व को प्रतिपादित करती ये कविता पढवाता हूँ। मेरे जीवन दर्शन को प्रकट करती है और अपने दुखिया मित्र को तन्हाई में कोसने में मदद करती  है। एक लेखक को किसी दूसरे अच्छे लेखक की बातो को  फैलाना चाहिए। उसे चोरी से अपने नाम से नहीं छपवाना चाहिए। या सिर्फ अपना ही लिखा दुसरो पे नहीं  थोपना चाहिए। 

तो आप सब लोग गोपाल प्रसाद व्यास की इस बेहद शानदार हास्य कविता को पढ़कर मेरी  तरह मुस्कुराना सीखे, मेरी तरह आराम करना सीखे।

********************************************************************            

“आराम करो” 

एक मित्र मिले, बोले, “लाला, तुम किस चक्की का खाते हो?
इस डेढ़ छँटाक के राशन में भी तोंद बढ़ाए जाते हो।
क्या रक्खा है माँस बढ़ाने में, मनहूस, अक्ल से काम करो।
संक्रान्ति-काल की बेला है, मर मिटो, जगत में नाम करो।”
हम बोले, “रहने दो लेक्चर, पुरुषों को मत बदनाम करो।
इस दौड़-धूप में क्या रक्खा, आराम करो, आराम करो।

आराम ज़िन्दगी की कुंजी, इससे न तपेदिक होती है।
आराम सुधा की एक बूंद, तन का दुबलापन खोती है।
आराम शब्द में ‘राम’ छिपा जो भव-बंधन को खोता है।
आराम शब्द का ज्ञाता तो विरला ही योगी होता है।
इसलिए तुम्हें समझाता हूँ, मेरे अनुभव से काम करो।
ये जीवन, यौवन क्षणभंगुर, आराम करो, आराम करो।

यदि करना ही कुछ पड़ जाए तो अधिक न तुम उत्पात करो।
अपने घर में बैठे-बैठे बस लंबी-लंबी बात करो।
करने-धरने में क्या रक्खा जो रक्खा बात बनाने में।
जो ओठ हिलाने में रस है, वह कभी न हाथ हिलाने में।
तुम मुझसे पूछो बतलाऊँ — है मज़ा मूर्ख कहलाने में।
जीवन-जागृति में क्या रक्खा जो रक्खा है सो जाने में।

मैं यही सोचकर पास अक्ल के, कम ही जाया करता हूँ।
जो बुद्धिमान जन होते हैं, उनसे कतराया करता हूँ।
दीए जलने के पहले ही घर में आ जाया करता हूँ।
जो मिलता है, खा लेता हूँ, चुपके सो जाया करता हूँ।
मेरी गीता में लिखा हुआ — सच्चे योगी जो होते हैं,
वे कम-से-कम बारह घंटे तो बेफ़िक्री से सोते हैं।

अदवायन खिंची खाट में जो पड़ते ही आनंद आता है।
वह सात स्वर्ग, अपवर्ग, मोक्ष से भी ऊँचा उठ जाता है।
जब ‘सुख की नींद’ कढ़ा तकिया, इस सर के नीचे आता है,
तो सच कहता हूँ इस सर में, इंजन जैसा लग जाता है।
मैं मेल ट्रेन हो जाता हूँ, बुद्धि भी फक-फक करती है।
भावों का रश हो जाता है, कविता सब उमड़ी पड़ती है।

मैं औरों की तो नहीं, बात पहले अपनी ही लेता हूँ।
मैं पड़ा खाट पर बूटों को ऊँटों की उपमा देता हूँ।
मैं खटरागी हूँ मुझको तो खटिया में गीत फूटते हैं।
छत की कड़ियाँ गिनते-गिनते छंदों के बंध टूटते हैं।
मैं इसीलिए तो कहता हूँ मेरे अनुभव से काम करो।
यह खाट बिछा लो आँगन में, लेटो, बैठो, आराम करो।

- गोपालप्रसाद व्यास

***********************

Pic Credit:

Pic One

John SterVens' Tales

Thee Life, Thee Heart, Thee Tears

Indowaves's Blog

Just another WordPress.com weblog

Una voce nonostante tutto

Ognuno ha il diritto di immaginarsi fuori dagli schemi

Personal Concerns

My Thoughts and Views Frankly Expressed

flightattendantwithcamera

Seeking adventure with eyes wide open since 1984.

I love a lot

Just another WordPress.com site

the wuc

a broth of thoughts, stories, wucs and wit.

A Little Bit of Monica

My take on international politics, travel, and history...

Atlas of Mind

Its all about Human Mind & Behavior..

Peru En Route

Tips to travel around Perú.

Health & Family

A healthy balance of the mind, body and spirit

मानसिक हलचल

ज्ञानदत्त पाण्डेय का हिन्दी ब्लॉग। मैं यह ब्लॉग लिखने के अलावा पूर्वोत्तर रेलवे, गोरखपुर (भारत) के ट्रेन परिचालन का काम भी देखता हूं।

Monoton+Minimal

travel adventures

Stand up for your rights

Gender biased laws

The Bach

Me, my scribbles and my ego

Tuesdays with Laurie

"Whatever you are not changing, you are choosing." — Laurie Buchanan

The Courage 2 Create

This is the story of me writing my first novel...and how life keeps getting in the way.

A Magyar Blog

Mostly about our semester in Pécs, Hungary.

Hindizen - हिंदीज़ेन

Best Hindi Motivational Stories, Anecdotes, Articles, Songs, and Poems

If you obey all the rules, you miss all the fun.

A day without sunshine is like, well you know, night.

Follow

Get every new post delivered to your Inbox.

Join 513 other followers