Category Archives: Global Politics

Taj Mahal Is Not Symbol Of True Love: It’s Manifestation Of Insensitivity And Cruelty!

Taj Mahal: Even if it's about true love, it's also equally about lack of conscious approach towards health of woman. It's about romance mired in bloodshed and acts of vandalism.

Taj Mahal: Even if it’s about true love, it’s also equally about lack of conscious approach towards health of woman. It’s about romance mired in bloodshed and acts of vandalism.



We always get carried away by false images, popular sentiments, more so when they are associated with well-known things. Worse, we dare not put in real perspective our own doubts. We keep on believing only because that’s been the known reality since time immemorial. This holds true about Taj Mahal. It’s popular, across the globe as symbol of true love. Whether it’s President of any nation or common man from a different part of the globe, they all love to get their selfies silhouetted against the backdrop of the Taj Mahal. It’s high time we become aware of infamous facets of Taj Mahal and shatter rhetoric strengthened by movies and sponsored literature!  

One of the flaws of education system in India is that it has made analytical abilities of Indian students inherently remain in awe of myths created by Western scholars. Anyway, the suppressed truth about Taj Mahal is that Empress Mumtaz had 14 children and she died due to postpartum hemorrhage after her last childbirth. This fact which appears in A Textbook of Postpartum Hemorrhage: A Comprehensive Guide to Evaluation”, edited by Christopher B-Lynch, got new lease of life when Dr. Anant Kumar,  Assistant Professor, Xavier Institute of Social Service, Ranchi, substantiated it with new findings in his research paper titled “Monument of Love or Symbol of Maternal Death: The Story Behind the Taj Mahal.

In fact in the eyes of Nobel Laureate V. S. Naipaul Taj Mahal is “only despot’s monument to a woman”. Naipaul, trashing the popular perceptions, dares to expose the misdeeds of Muslim rulers in India: “Mosque on temple: ruin on ruin. This is the North”. He was candid in confessing that magnificent buildings built during Mughal period were symbolic of “personal plunder”. Naipaul, shattering the romantic illusions pervading the Taj Mahal, hailed it as ‘wasteful’- “The Taj is so wasteful, so decadent and in the end so cruel that I found it painful to be there for very long. This is an extravagance that speaks about the blood of the people.” The sentiments of V S Naipaul might appear against the secular spirit of nation forcing writers like William Darymple to give way to a knee jerk reaction that historical knowledge of V S Naipaul was flawed.

How can you ignore the harsh truth stated by Naipaul even if you are able to show Muslim rulers in better light? What so wrong about it when Naipaul says that “when you see so many Hindu temples of the 10th century or earlier disfigured, defaced, you realise that something terrible happened. I feel that the civilisation of that closed world was mortally wounded by those invasions … The Old World is destroyed. That has to be understood. Ancient Hindu India was destroyed.”

Let’s come to standard historical findings unearthed by Dr. Anant Kumar in his research work. After delving deep into historical records he stated that “physiological causes of Arjumand’s death were postpartum haemorrhage, anaemia and repeated child bearing without birth spacing.” Arjumand Banu Begum got married to Shah Jahan at the age of 19 and she died at age of 39 on 17th June 1631. In between she had 13 children and she died while giving birth to 14th child. Dr. Anant Kumar suggest that ” 2 1/2 years to 3 years between births” was totally ignored largely because of “social-cultural and religious cause”. “Being a follower of Islam, it must have been difficult for a woman to think about contraception and pregnancy regulation.”  Interestingly, almost at the same time, in different part of the globe ‘a medical doctor Johan von Hoorn started midwifery school in Stockholm in 1708′.

In the light of above-mentioned facts are we still going to treat Taj Mahal as symbol of love? Even if it’s about true love, it’s also equally about lack of conscious approach towards health of woman. It’s about romance mired in bloodshed and acts of vandalism.

The Taj is so wasteful, so decadent and in the end so cruel that I found it painful to be there for very long. This is an extravagance that speaks about the blood of the people. (V S Naipaul)

The Taj is so wasteful, so decadent and in the end so cruel that I found it painful to be there for very long. This is an extravagance that speaks about the blood of the people. (V S Naipaul)

References:

Monument of Love or Symbol of Maternal Death: The Story Behind the Taj Mahal

A Textbook of Postpartum Hemorrhage: A Comprehensive Guide to Evaluation

V.S. Naipaul: Critical Essays

Trapped in the ruins

Pics Credit:

Pic One

Pic Two

That’s Strongest Example Of Divine Justice!

Army People Offering Helping Hands To People Of Jammu & Kashmir Trapped In Flood Waters!

Army People Offering Helping Hands To People Of Jammu & Kashmir Trapped In Flood Waters!

It’s the strongest evidence of divine justice that people of Jammu & Kashmir are today on the mercy of Indian Army! When they are being chased by death in form of threatening flood waters, it’s not the separatist forces, sponsored by Pakistan, which have come to their rescue. One can also not trace so-called progressive people and International Human Rights Commission who always condemned the role of India Army in J & K.

Today, in times of crisis, all we notice are efforts of Indian Army involved in rescue operation in the state. Where is Arundhati Roy who leaves no stone unturned to blame Indian Army? Her scathing attack on Indian Army, usually figment of imagination, is used by the foreign press to give rise to anti-Indian sentiments across the globe!


The chief of Lashkar-e-Taiba’s front Jamaat-ud-Dawah Hafiz Saeed treats the floods in Jammu & Kashmir some sort of conspiracy on part of Indian government! “Indian water terrorism is more lethal than its LOC violations.”  His statement gives clue about Pakistan’s instability in various spheres. After all, what else can you expect if you have these sort of blockheads  deciding fate of key issues related with nation’s growth!

Hafiz Saeed Treats Floods As "Water Terrorism" :P Pakistan is resting place of blockheads.  This statement asserts this unpleasant truth!

Hafiz Saeed Treats Floods As “Water Terrorism” :P Pakistan is resting place of blockheads. This statement asserts this unpleasant truth!

 

Anyway, hats off to divine spirit exhibited by the Indian Army! It’s time to salute their indomitable courage and unbiased stance. It’s also time to hate the cowardice of people who entered in malicious campaign against Indian Army.

 

Separatists in J & K Always Targeted Army People In Violent Manner! And They Are Now Seeking Help Of Army To Save Their Lives! Where Is Pakistan? Where Is Foreign Media?

Separatists in J & K Always Targeted Army People In Violent Manner! And They Are Now Seeking Help Of Army To Save Their Lives! Where Is Pakistan? Where Is Foreign Media?

Where Is International Human Rights Commission Which Always Painted India Army In Wrong Colours?

Where Is International Human Rights Commission Which Always Painted India Army In Wrong Colours?

Look At The Spirit Of Indian Army! However, The Foreign Media, Under Influence Of Wrong Sources, Always Made Indian Army Butt Of Ridicule!

Look At The Spirit Of Indian Army! However, The Foreign Media, Under Influence Of Wrong Sources, Always Made Indian Army Butt Of Ridicule!

Pic Credit:

Pic One

Pic Three

Pic Four

Pic Two & Five : Internet

मोदी का स्वाधीनता दिवस भाषण: इसमें छुपे निहितार्थ!

प्रधानमंत्री का संबोधन कई मायनो में अद्भुत था!

प्रधानमंत्री का संबोधन कई मायनो में अद्भुत था!



मोदीजी का स्वाधीनता दिवस भाषण कई मामलो में ऐतिहासिक और विलक्षण है। ये भाषण सिर्फ वाक् कौशल का  जबरदस्त नमूना नहीं था बल्कि ये एक नेता के दृढ सोच और स्पष्ट दृष्टि का आईना था। अभी तक इस तरह के अवसरों पर दिए जाने वाले भाषण सिर्फ महज एक खानापूर्ति होते थे जिसमे साधारण जनमानस की नाममात्र की दिलचस्पी होती थी। इस बार लाल किले के प्राचीर से दिए गए भाषण में मौजूद अद्भुत तत्वों ने सबका ध्यान अपनी तरफ खींचा और उन उदासीन वर्गों में भी जो अब तक नेताओ के भाषण की  खिल्ली उड़ाते थे कायदे से एक सन्देश गया कि बात निकलती है तो दूर तलक जाती है  और एक अकेला चना भी भाड़ फोड़ सकता है।

“यह भारत के संविधान की शोभा है, भारत के संविधान का सामर्थ्य है कि एक छोटे से नगर के गरीब परिवार के एक बालक ने आज लाल किले की प्राचीर पर भारत के तिरंगे झण्डे के सामने सिर झुकाने का सौभाग्य प्राप्त किया।  यह भारत के लोकतंत्र की ताकत है, यह भारत के संविधान रचयिताओं की हमें दी हुई अनमोल सौगात है।  मैं भारत के संविधान के निर्माताओं को इस पर नमन करता हूँ।” कांग्रेस सरकार के पतन के पीछे जो सबसे बड़ा कारण था वो ये था कि कांग्रेेस ने कभी भी संवैधानिक संस्थाओ का मोल नहीं समझा। सत्ता के नशे में डूबे निकम्मे कांग्रेसी नेताओ ने संविधान को ताक पर रख कर काम किया जिसका नतीजा ये हुआ कि संसद और सुप्रीम कोर्ट आपस में कई बार टकराव की मुद्रा में आ गए। राज्यपाल जैसे गरिमामय पद मोहरो की तरह इस्तेमाल होने लगे। सुप्रीम कोर्ट के फैसले कागज़ पे लिखे व्यर्थ के प्रलाप लगने लगे थे।  इस परिदृश्य में मोदी जी का संविधान के ताकत को नए मायने देना, एक संजीवनी प्रदान करना बहुत दुर्लभ घटना है। भारत ही एक ऐसा देश है जहा लोकतंत्र ने अपने को सही ढंग से विस्तार प्रदान किया है। इसका सशक्त होके उभरने में ही देश का कल्याण है।

कई बार ये लगता है कि देश में सिर्फ ब्यूरोक्रेट्स का शासन है।  ये देश उन्ही लोगो का है जो या तो सरकारी पदो पे आसीन है या उनका है जो बड़े बड़े शहरों में कॉर्पोरेट घरानो के मालिक है। इस भ्रम को मोदीजी ने बहुत बेरहमी से तोड़ दिया। इस सड़े गले से भ्रामक तथ्य को मोदी ने इस सुनहरे सच से बदल दिया कि “यह देश राजनेताओं ने नहीं बनाया है, यह देश शासकों ने नहीं बनाया है, यह देश सरकारों ने भी नहीं बनाया है, यह देश हमारे किसानों ने बनाया है, हमारे मजदूरों ने बनाया है, हमारी माताओं और बहनों ने बनाया है, हमारे नौजवानों ने बनाया है, हमारे देश के ऋषियों ने, मुनियों ने, आचार्यों ने, शिक्षकों ने, वैज्ञानिकों ने, समाजसेवकों ने, पीढ़ी दर पीढ़ी कोटि-कोटि जनों की तपस्या से आज राष्ट्र यहाँ पहुँचा है।  देश के लिए जीवन भर साधना करने वाली ये सभी पीढ़ियाँ, सभी महानुभाव अभिनन्दन के अधिकारी हैं”

मोदी जी का संविधान के ताकत को नए मायने देना, एक संजीवनी प्रदान करना बहुत दुर्लभ घटना है।

मोदी जी का संविधान के ताकत को नए मायने देना, एक संजीवनी प्रदान करना बहुत दुर्लभ घटना है।

आज़ादी से लेकर अब तक किसान प्रधान देश में किसान हमेशा हाशिये पे रहा।  इसका नतीजा ये हुआ कि किसान के लड़के दो कौड़ी की सरकारी नौकरी करने को प्राथमिकता देने लगे। आज आप गाँव में जाकर देखिये लड़के सिपाही/क्लर्क बनने की जुगाड़ में लगे रहते है और खेती के आश्रित रहने में उन्हें अपना भविष्य अंधकारमय लगता है, शर्मिंदगी महसूस होती है।  उत्तर प्रदेश और बिहार जैसे बड़े प्रदेशो में तो ये हालत है कि किसानी करना मतलब लोहे के चने चबाना जैसा हो गया है।  बीज महंगा है, उर्वरक महंगे है, बिजली नहीं है, पानी का जुगाड़ नहीं है और उत्पाद का कोई ठीक खरीदार नहीं है। मोदी ने इस दर्द को महसूस किया है। वो ये जानते है कि किसान इस देश की रीढ़ है और बिना इनको मुख्यधारा में लाये आप विकास के उच्चतम सोपान को नहीं पा सकते। इसलिए उनका गाँव और किसानो के प्रति झुकाव ह्रदय को झकझोर देता है। “जवान, जो सीमा पर अपना सिर दे देता है, उसी की बराबरी में “जय जवान” कहा था।  क्यों? क्योंकि अन्न के भंडार भर करके मेरा किसान भारत मां की उतनी ही सेवा करता है, जैसे जवान भारत मां की रक्षा करता है।  यह भी देश सेवा है।  अन्न के भंडार भरना, यह भी किसान की सबसे बड़ी देश सेवा है और तभी तो लालबहादुर शास्त्री ने “जय जवान, जय किसान” कहा था”। उम्मीद है मोदी की गाँव से जुड़े संकल्प से उभरे योजनाये गाँवों का कायापलट करने में सहायक होंगी।

नौजवानो की बड़ी भीड़ है इस देश में सो इनको “स्किल्ड वर्कर ” बनाकर मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर को उन्नत बनाने का संकल्प एक बेहतरीन दृष्टिकोण है। ये मोदी की दूरदर्शिता दर्शाता है कि आयातित प्रोडक्ट्स पर अपनी निर्भरता को कम करना चाहते है। अभी तक तो ये होता आया है कि युवाओ को सरकारे सिर्फ दिवास्वप्न दिखती रही है। सो उम्मीद यही है कि मोदी राज में युवाओ को एक सार्थक यथार्थपरक दिशा मिलेगी। अंत में मोदी जी की उस दृष्टि को उभारना चाहता हूँ जो इस भाषण की ख़ास बात रही और वो था उनका इस देश की संस्कृति और महापुरुषों के प्रति अभिन्न श्रद्धा। श्री अरविन्द और स्वामी विवेकानंद के वचनो और संस्कृत कथनो का उल्लेख करके उन्होंने ये बता दिया कि देश की जड़ो का सम्मान किये बिना भविष्य की तरफ झांकना कोई मायने नहीं रखता। भौतिक विकास आध्यात्मिक जगत से जुड़े बिना सिर्फ भटकाव ही सुनिश्चित करता है, सिर्फ विनाश ही करता है।  सो इस देश को जरूर विकासोन्मुख बनाये मगर इस पूरी कवायद में जड़ो को ना भूल जाए।

Full speech can be read here: प्रधानमंत्री का संबोधन

श्री अरविन्द के वचनो और संस्कृत कथनो का उल्लेख करके उन्होंने ये बता दिया कि देश की जड़ो का सम्मान किये बिना भविष्य की तरफ झांकना कोई मायने नहीं रखता।

श्री अरविन्द के वचनो और संस्कृत कथनो का उल्लेख करके उन्होंने ये बता दिया कि देश की जड़ो का सम्मान किये बिना भविष्य की तरफ झांकना कोई मायने नहीं रखता।

पिक्स क्रेडिट:

तस्वीर प्रथम

तस्वीर द्वितीय

तस्वीर तृतीय

मोदी के जीत के मायने कुछ अनकहे संदर्भो के दायरे में!

 ये मोदी की भी जीत नहीं है।  ये उस युवा सोच की जीत है जो अपने राष्ट्र को सचमुच विकास के राह पे ले जाना चाहता है तिकड़मी गन्दी राजनीति से ऊपर उठा कर। ये उस हिन्दू आस्था और स्वाभिमान की जीत है जिसके दायरे में संकीर्ण हित नहीं वरन संपूर्ण विश्व आता है।

ये मोदी की भी जीत नहीं है। ये उस युवा सोच की जीत है जो अपने राष्ट्र को सचमुच विकास के राह पे ले जाना चाहता है तिकड़मी गन्दी राजनीति से ऊपर उठा कर। ये उस हिन्दू आस्था और स्वाभिमान की जीत है जिसके दायरे में संकीर्ण हित नहीं वरन संपूर्ण विश्व आता है।


मोदी के जीत में कुछ गहरे आयाम है। मोदी का जीतना एक विलक्षण घटना है।  इसको कई संदर्भो में समझना बहुत आवश्यक है। ये समझने की भूल ना करे कि ये भारतीय जनता पार्टी की जीत है।  ये मोदी की भी जीत नहीं है।  ये उस युवा सोच की जीत है जो अपने राष्ट्र को सचमुच विकास के राह पे ले जाना चाहता है तिकड़मी गन्दी राजनीति से ऊपर उठा कर। ये उस हिन्दू आस्था और स्वाभिमान की जीत है जिसके दायरे में संकीर्ण हित नहीं वरन संपूर्ण विश्व आता है। ये उसी हिन्दू आस्था की जीत है जिसे सदियों से दासता के आवरण में रखकर खत्म करने की कोशिश की गयी हर तरह के आक्रमणकारियों के द्वारा लेकिन जिसने दम तोड़ने से इंकार कर दिया। मेरी नज़रो में तो प्रथम दृष्टया मोदी की जीत इस विखंडित हिन्दू आस्था को जीवंत करने के दिशा में एक शुरुआत है जिसमे अभी कई  स्वर्णिम पड़ाव आने है।  मोदी में लोगो को इस राष्ट्र को सेक्युलर मायाजाल से ऊपर उठाकर सचमुच के विकास को मूर्त रूप में लाने और इसे गतिमान बनाये रखने की असीम संभावना दिखी। इस कारण उन्हें पूरे राष्ट्र ने कन्याकुमारी से लेकर कश्मीर तक उन्हें हाथो हाथ ले लिया। इस आकांक्षा में मोदी कितने खरे उतरते है ये वक़्त बताएगा लेकिन खरे उतरने के अलावा उनके पास विकल्प भी कोई और नहीं है। मोदी तो भारत के राजनैतिक पटल पर एक चक्रवर्ती सम्राट बन कर आ गए लेकिन इसके पहले आसुरी शक्तियों ने चुनावी माहौल में जो करतूतें की उस पर एक नज़र डालना जरूरी हो जाता है।

लोकसभा २०१४ के चुनाव प्रचार सबसे विकृत और बिल्कुल एक व्यक्ति विशेष के विरोध पर केंद्रित थे। ये बहुत दुखी कर देने वाली बात है। आप अमेरिका के राष्ट्रपति के चुनाव को देखे। वह मुद्दो पे आधारित बहस होती है। राष्ट्र हित सबसे ऊपर होता है और कुछ छींटाकशी वहा पर भी होती है लेकिन इसके बावजूद वहाँ राष्ट्र हित से जुड़े हर संवेदनशील मुद्दो पर गंभीर बहस होती है। हमारे यहाँ  राहुल गांधी ने जिनके पास तो अपनी एक टीम भी थी पर युवा सोच के नाम पर मोदी के पत्नी को लेकर टीका टिप्पणी की! शायद हमारे यहाँ विकास इसी तरह किसी के निजी ज़िन्दगी के बारे में इस तरह की सोच रखकर होता है। किसी भी पार्टी ने देश हित से जुड़े मुद्दो पर अपनी राय स्पष्ट रखने की जरुरत नहीं महसूस की। वामदाल प्रकाशक/समर्थक तो लगता है जब तक अस्तित्व में है तब तक वे अपने गढ़े हुए निरथर्क शब्दों के जाल में उलझे रहेंगे और हर वो दंगे जिसमे उन्हें मुसलमानो का समर्थन हासिल हो सके उनकी सहानभूति बटोरकर वे उन्हें उभारते रहेंगे। ये मनहूस पलो को हरा रखते है ताकि जब जरुरत हो इनसे वोट मिल सके। अमेरिका आदि देशो में भी ऐसे ही टाइप के लोग है जो मोदी को गुजरात  दंगो के लिए जिम्मेदार ठहराने वाली बात पे बहस तभी  करते है जब भारत में चुनाव जैसे महत्वपूर्ण क्षण आते है। इसके अलावा हमारे यहाँ कुछ क्षेत्रीय दल है जिनके नेताओ के पास नीति तो कुछ नहीं सिवाय जातिगत राजनीति के विकृत मोहरो के अलावा लेकिन अकांक्षा सिर्फ यही है कि प्रधानमन्त्री कैसे बने। इनके पास भी राष्ट्र को देने के लिए कुछ नहीं सिवाय सीमित लफ़्फ़ाज़ी के कि सांप्रदायिक शक्तियों को रोकना है। जबकि सबसे गन्दी सांप्रदायिक राजनीति ये छोटे क्षेत्रीय दल खुद करते है।

सो इस बार के चुनावी संग्राम में इलेक्शन दर इलेक्शन बेहतर सोच को अपनाते मतदाताओ ने जिस तरह चादर से धूल हटाते है वैसे ही कुछ दलों को भारत के राजनैतिक नक़्शे से निकाल फेंका। ये दल अभी तक केवल विष ही बोते रहे है। इनके पास विकास के एजेंडे के नाम पर लोक लुभावन नीतियों के अलावा कुछ नहीं होता था और उसे भी ठीक से क्रियान्वित नहीं कर पाते थे। इन्होंने इतने सालो तक ना ही केवल मतदाताओ को ठगा वरन देश की संप्रुभता और अखंडता को भी तकरीबन गिरवी रख कर छोड़ा।  वाम मोर्चा के सदस्यों ने तो केवल फ़ासीवाद ना उभरे हर हिन्दू विरोधी गतिविधि को जीवित रखा कांग्रेस के छुपे सहयोग के दम से और सब हिन्दू समर्थक या राष्ट्र समर्थक नायको को हिटलर की संज्ञा देते रहे।  सही है जिस पार्टी ने सबसे बड़े तानाशाहों को जन्म दिया हो गरीब मज़दूरों के हितो के लड़ाई के नाम पर उनका इस तरह के मतिभ्रम का शिकार होना आश्चर्यजनक नहीं लगता। इस पार्टी विशेष के लोगो का आलोचना के नाम पर आलोचना करना कौवों के कर्कश कांव की तरह जगजाहिर है और इसीलिए इनके पेट में जब तक मोदी राज रहेगा तब तक रह रह कर पेट में मरोड़े उठती रहेंगी।

मोदी की जीत सोशल मीडिया की जीत नहीं पर हां ये जरूर है कि कांग्रेस के फैलाये झूठ का पर्दाफाश करने में  इसने अहम भूमिका निभायी। अब तक कांग्रेस अपने मायाजाल को,  स्व-निर्मित अर्धसत्य को लोगो पर थोपते हुए लोगो को ठगती आई।  लेकिन सोशल मीडिया के दमदार इस्तेमाल ने मेनस्ट्रीम के बिके पत्रकारों जो कांग्रेस के लिए झूठ बेचते थे की दाल न गलने दी। कांग्रेस की करतूत वैसे भी सबको मालूम  थी लेकिन सोशल मीडिया ने इस सन्दर्भ में युवा सोच को बेहतर ढंग से जागृत किया। एंटी इंकम्बैंसी भी हमेशा सक्रिय रहती है  लेकिन मोदीराज के आने में  सोशल मीडिया और  एंटी इंकम्बैंसी से भी ऊपर युवाओ की इस सोच ने कामयाबी दिलाई कि अब केवल उसी को सत्ता मिलेगी जो सच में विकास करेगा या विकास लाने में काबिल होगा। इसी वजह से सडको पे हर तरफ युवा धूप में बिना किसी प्रचार के मोदी को सुनने गए, सोशल मीडिया पर मोदी से जुडी हर गतिविधि को ट्रैक किया और फिर हर गली और मुहल्लों में चाहे शहर हो या गाँव उत्साह से भरे रहे। वंशपोषित राजनीति जो समाजवादी पार्टी और कांग्रेस करती आई रही थी उसका इन्होने इस तरह से नाश कर दिया। ये पहली ऐसी लहर थी जिसका निर्माण किसी घटना विशेष ने नहीं किया। इस राष्ट्र प्रेम से ओतप्रोत लहर ने ही हर तरह के जहरीले प्रचार कि  मुस्लिमो का पतन हो जाएगा को दबाते हुए हिन्दू सोच को सत्ता पे आसीन किया जिसने सदियों से पूरे विश्व को अपना समझा।

मोदी आ जरूर गए है लेकिन अब इनके सामने बेहद दुष्कर कार्य है।  सो मतदाताओ को अपनी आकांक्षाओं में ना सिर्फ संयमित रहना पड़ेगा बल्कि बदलाव की अधीरता से पीड़ित ना होकर मोदी जी को अपने हिसाब से काम करते रहने देना होगा। बदलाव कोई जादू की छड़ी से नहीं आते कि आपने घुमाया और बदलाव हो गया।  वर्तमान में इस राष्ट की ये दशा ये हो गयी है कि जैसे कोई गंभीर बीमारी से पीड़ित मरीज़ अंतिम साँसे ले रहा हो।  सो ये सोचना कि सत्ता संभालते ही एक दिन के अंदर ऐसा मरीज़ दौड़ने भागने लगेगा केवल कोरी कल्पना है। हां मोदी को इस बात को समझना जरूर है कि अब उनके पास सिवाय अच्छा करने के और कोई अन्य विकल्प नहीं है। हिन्दुओ को अगर दिग्भ्रमित करने की चेष्टा करेंगे तो उन्हें भी हाशिये पर लाने में युवा ब्रिगेड देर ना करेगी। हिन्दू तो वैसे भी अपनी निष्कपट मन के कारण हर तरह का छल का शिकार होता आया है लेकिन अब और नहीं। इसी सोच ने इस अविश्वसनीय  बदलाव को जन्म दिया और यही सोच अब इस बात को भी सुनिश्चित करेगी कि राष्ट्रहित में अच्छे कार्य होते रहे। और इसीलिए ये जरूरी है कि अब आने वाले वर्षो में कोई भी हिंदू विरोधी पार्टी अस्तित्व में ही ना आये।  ये तभी संभव होगा जब मोदीराज में ईमानदारी से सार्थक बदलाव होते रहे। मोदी जी ऐसा ही करेंगे हम सब राष्ट प्रेम से जुड़े लोगो का यही मानना है।

ये जरूरी है कि अब आने वाले वर्षो में कोई भी हिंदू विरोधी पार्टी अस्तित्व में ही ना आये।  ये तभी संभव होगा जब मोदीराज में ईमानदारी से सार्थक बदलाव होते रहे। मोदी जी ऐसा ही करेंगे हम सब राष्ट प्रेम से जुड़े लोगो का यही मानना है।

ये जरूरी है कि अब आने वाले वर्षो में कोई भी हिंदू विरोधी पार्टी अस्तित्व में ही ना आये। ये तभी संभव होगा जब मोदीराज में ईमानदारी से सार्थक बदलाव होते रहे। मोदी जी ऐसा ही करेंगे हम सब राष्ट प्रेम से जुड़े लोगो का यही मानना है।

Pic Credit:

तस्वीर प्रथम

तस्वीर संख्या दो

Is Aadhaar (Unique Identification Number) Too Dangerous?

Aadhaar: A Gate To Disaster?

Aadhaar: A Gate To Disaster?

 

The Aadhaar project started with great fanfare, but it’s now on the verge of meeting an untimely death. It became the converging point of great expectations, to an extent that it was hailed as image of “new and modern India”. That’s why  it created great chaos among middle classes, which like always, showed vain excitement to have it by hook or by crook, bothering least about the pros and cons of owning unique identity (UID). This project, bearing close resemblance to similar scheme in United Kingdom, was mired in contradictions right from the beginning. On the top of it, continuous conflicting statements from government, regarding its utility, kept the average mass guessing about its actual worth.

It needs to be informed that several experts in the West have already given enough signals that such project of this type having sensitive data based on biometrics could be used in a wrong way. In fact, they could be used to eliminate and target a large community not serving the interest of people in power. However, in countries like India, where we know how government agencies function, it’s always a great possibility that data could be misused, even if there is no such threat of this magnitude as apprehended by experts in West. It would be interesting to know that similar project in United Kingdom met tough resistance on part of British citizens for many years, which left British government with no other option other than to quash it. A report prepared by London School of Economics made mockery of  tall claims made by the government about its significance and it revealed that “biometrics was not a reliable method of de-duplication.”

However, neither the government nor Nandan Nilekani made Indian citizens aware of such serious flaws inherent in this project. On the contrary, it created tension by giving the impression that not owning it meant losing benefits and subsidies involved in various government run schemes. Ironically, just visit any camp where Aadhaar cards are being prepared and one would be taken aback by the mess which prevails there. It’s hard to believe that government has enough will power (forget about enough infrastructure)  to keep the data safe! I am sure ones whose data get stored either in wrong way or with wrong sorts of details would definitely face huge issues in coming days. Even at infrastructure level, the picture that emerges is quite threatening since its budget has increased phenomenally from nearly 32 billion rupees to over 88 billion rupees for coming phases.

That’s why Supreme Court’s judgement came as a whiff of fresh air. It directed the government not to make it mandatory for Indian citizens, and that it could not be a ground to deny services introduced by government. Above all, it made it clear that details collected by Unique Identification Authority of India (UIDAI) would not be shared by it with any other government agency without prior permission of the concerned individual. At this point, it would not be out of place to refer to Social Security Number (SSN) used in USA, which does not compromises with right to privacy. The most shocking thing is that despite strict provisions there to stop identity theft such cases keep happening there leading to huge revenue loss. Now imagine the state of affairs in India where rules can be easily manipulated to benefit the vested interests! Who would guarantee that data protection and privacy would always remain a top priority in India?

The Supreme Court made this observations in PIL filed by retired Karnataka High Court judge Justice KS Puttaswamy and Maj Gen (retd) SG Vombatkere which dealt with constitutional validity of Aadhaar. As per their counsel even if there was any statute to provide validity to this project, it would still be violation of Fundamental Rights under Articles 14 (right to equality) and 21 (right to life and liberty) of the Constitution. The project facilitating surveillance of individuals was a direct assault on the dignity of any individual. The main arguments rested upon these concerns: “…the (Aadhaar) project is also ultra vires because there is no statutory guidance (a) on who can collect biometric information; (b) on how the information is to be collected; (c) on how the biometric information is to be stored; (d) on how throughout the chain beginning with the acquisition of biometric data to its storage and usage, this data is to be protected; (e) on who can use the data; (f) on when the data can be used.” (As quoted in moneylife)

In fact, Goa case had already made it clear how could biometric data be used against the interests of any individual. In this case UIDAI had challenged  a decision of Goa Bench of Bombay High Court. It had  asked it to share biometric data with the Central Bureau of Investigation (CBI) so that the case involving gang rape of a seven year old girl in Vasco reached to its logical culmination.

Anyway, the Supreme Court’s decision to not to make it mandatory is enough to make Indian citizens heave a sigh of relief. It’s high time that before government embarks upon sensitive project it needs to take enough measures to ensure its appropriateness, relevance and significance quite well.

How will it keep intact the privacy of an individual in such a huge country devoid of infrastructure?

How will it keep intact the privacy of an individual in such a huge country devoid of infrastructure?

कांची के शंकराचार्य की रिहाई इस बात को दर्शाती है कि वर्तमान समय में दुष्प्रचार ज्यादा ताकतवर है बजाय सत्य के!

कांची के शंकराचार्य अंततः निर्दोष और निष्पाप होकर उभरे लेकिन इस नौ साल लम्बे ड्रामे की वजह से इस अति प्राचीन हिन्दू मठ पर जो दाग लगे उसको मिटने में कई वर्ष लगेंगे.

कांची के शंकराचार्य अंततः निर्दोष और निष्पाप होकर उभरे लेकिन इस नौ साल लम्बे ड्रामे की वजह से इस अति प्राचीन हिन्दू मठ पर जो दाग लगे उसको मिटने में कई वर्ष लगेंगे.


इस नए युग के इंडिया यानि “भारत” के अगर हाल के घटनाओ को देखे तो ये आसानी से समझ आ जाएगा कि धर्मनिरपेक्ष सरकारो ने सबसे ज्यादा जुल्म ढाया है हिन्दू संतो पर. ये धर्मनिरपेक्ष सरकारे मुग़लकाल के बाद्शाहो और ब्रिटिश काल के शासको से भी ज्यादा क्रूर रही है हिन्दू धर्मं से जुड़े प्रतीकों को ध्वस्त करने और इनसे जुड़े लोगो को अपमानित करने के मामले में. हिन्दू संतो को निराकरण ही प्रताड़ित किया जा रहा है और इन्हे यौन अपराधो से लेकर देशद्रोह जैसे जघन्य अपराधो में बेवजह घसीटा जा रहा है. बिकी हुई मीडिया इन प्रकरणो का एक पक्ष 
दिखाती  है अपने देश में और देश के बाहर विदेशी अखबारो में. ये आपको अक्सर देखने को मिलेगा कि इस प्रकार के खबरो में ज्यादातर झूठ होता है या अर्धसत्य का सहारा लेकर एक भ्रामक कहानी गाढ़ी जाती है. कोई भी मुख्यधारा का समाचार पत्र तस्वीर के दोनों पहलू दिखाने में दिलचस्पी नहीं रखता.

एक सबसे बड़ी वजह ये है कि ज्यादातर  भारतीय मीडिया समूह का कण्ट्रोल विदेशी ताकतो के हाथो में है. सबके विदेशी हित कही ना कही शामिल है तब हम किस तरह से इनसे ये आशा रखे कि ये सच बोलेंगे? ये वही मुख्यधारा के समाचार पत्र है जो साध्वी प्रज्ञा के गिरफ्तारी को तो खूब जोर शोर से दिखाते है लेकिन साध्वी के साथ जेल के अंदर हुए अमानवीय कृत्यो को जो बंदियो के अधिकारो का सरासर उल्लंघन था उसको दिखाने या बताने से साफ़ मुँह मोड़ गए. ये वही मुख्यधारा के समाचार पत्र है जिन्होंने देवयानी प्रकरण में देवयानी का साथ इस तरह से दिया जैसी कि उसने भारत के नाम विदेशो में ऊँचा किया हो, जैसे उसने कोई जुर्म ही नहीं किया हो. वो इसलिए से क्योकि इसका सरकार से सीधा सरोकार है और सिस्टम इसके पक्ष में है लेकिन हर वो आदमी जिसने भी सरकार ये सिस्टम के विपक्ष में कुछ कहा उसे इस तरह की  सरकारे या सिस्टम सुनियोजित तरीको से अपराधी घोषित कर देता है.

ये कहने में कोई संकोच नहीं कि आज के युग मे सत्य से ज्यादा असरदार किसी के खिलाफ सुनियोजित तरीके से फैलायी गयी मनगढंत बाते है. समाचार पत्रो का काम होता है सत्य को सामने लाना सही रिपोर्टिंग के जरिये लेकिन हो इसका ठीक उल्टा रहा है: मीडिया आज सबसे बड़ा हथियार बन गयी है झूठ और भ्रम को विस्तार देने हेतु. इसका केवल इतना काम रहा गया है कि हर गलत ताकतो को जो सत्ता में है उनको बचाना, उनको बल देना. एक बाजारू औरत की तरह अपनी निष्ठा को हर बार बदलते रहना मीडिया का एकमात्र धर्मं बन गया है. साधारण शब्दो में ये सत्ता पे आसीन शासको की भाषा बोलता है. कांची के पूज्य जगद्गुरु शंकराचार्य स्वामी जयेन्द्र सरस्वती जी की गिरफ्तारी के प्रकरण के रौशनी में इस प्रकरण को देखे जिन्हे २००४ में बेहद शर्मनाक तरीके से शंकर रमण के हत्या के आरोप में गिरफ्तार कर लिया था. शंकर रमण कांची के एक मंदिर में मैनेजेर थें. उस वक्त के तमिलनाडु के तत्कालीन मुख्यमंत्री जयललिता ने अपने को धर्मनिरपेक्ष साबित करने के लिए और ये जताने के लिए कि कानून से ऊपर कोई नहीं होता इनकी गिरफतारी सुनिश्चित की. कांची के शंकराचार्य के ऊपर “आपराधिक षड्यंत्र, अदालत को गुमराह करने गलत सूचना के जरिये, धन का आदान प्रदान आपराधिक गतिविधि को क्रियांवित करने के लिये” आदि आरोप लगाये गए.

इस एक हज़ार साल से भी ऊपर अति प्राचीन ब्राह्मणो के अत्यंत महत्त्वपूर्ण केंद्र के मुख्य संचालक को इस तरह अपमानजनक तरीके से एक दुर्दांत अपराधी के भांति गिरफ्तार करना और फिर मुख्यधारा के समाचार पत्रो के द्वारा अनर्गल बयानो के आधार पर उनको दोषी करार कर देना अपने आप में मीडिया की सच्चाई बयान कर देता है. ये बता देना आवश्यक रहेगा कि कांची कामकोटि पीठ हिन्दुओ का अति प्राचीन मठ है जिसको हिन्दू समुदाय में दुनिया भर में बेहद श्रद्धा के साथ देखा जाता है. कांची के पूज्य जगद्गुरु शंकराचार्य स्वामी जयेन्द्र सरस्वती जी बहुत सम्मान की दृष्टि से देखे जाते रहे है हिन्दू शास्त्रो के मर्मज्ञ होने के कारण. इन्होने  नवी शताब्दी में स्थापित कांची कामकोटि पीठ के गरिमा को नयी ऊंचाई प्रदान की, जिसकी हिन्दू समुदाय में वेटिकन चर्च सरीखी पकड़ है. जयललिता और ब्राह्मण विरोधी नेता डीएमके प्रमुख करूणानिधि के आपसी मतभेदों के चलते इस हिन्दू मठ के माथे पर कालिख लग गयी.

 ये बता देना आवश्यक रहेगा कि कांची कामकोटि पीठ हिन्दुओ का अति प्राचीन मठ है जिसको हिन्दू समुदाय में दुनिया भर में बेहद श्रद्धा के साथ देखा जाता है. कांची के पूज्य जगद्गुरु शंकराचार्य स्वामी जयेन्द्र सरस्वती जी बहुत सम्मान की दृष्टि से देखे जाते रहे है हिन्दू शास्त्रो के मर्मज्ञ होने के कारण. इन्होने  नवी शताब्दी में स्थापित कांची कामकोटि पीठ के गरिमा को नयी ऊंचाई प्रदान की, जिसकी हिन्दू समुदाय में वेटिकन चर्च सरीखी पकड़ है. जयललिता और ब्राह्मण विरोधी नेता डीएमके प्रमुख करूणानिधि के आपसी मतभेदों के चलते इस हिन्दू मठ के माथे पर कालिख लग गयी.

ये बता देना आवश्यक रहेगा कि कांची कामकोटि पीठ हिन्दुओ का अति प्राचीन मठ है जिसको हिन्दू समुदाय में दुनिया भर में बेहद श्रद्धा के साथ देखा जाता है. कांची के पूज्य जगद्गुरु शंकराचार्य स्वामी जयेन्द्र सरस्वती जी बहुत सम्मान की दृष्टि से देखे जाते रहे है हिन्दू शास्त्रो के मर्मज्ञ होने के कारण. इन्होने नवी शताब्दी में स्थापित कांची कामकोटि पीठ के गरिमा को नयी ऊंचाई प्रदान की, जिसकी हिन्दू समुदाय में वेटिकन चर्च सरीखी पकड़ है. जयललिता और ब्राह्मण विरोधी नेता डीएमके प्रमुख करूणानिधि के आपसी मतभेदों के चलते इस हिन्दू मठ के माथे पर कालिख लग गयी.

उस वक्त के प्रमुख समाचार पत्रो ने ये दर्शाया कि पुलिस इस तरह से गिरफ्तार करने का साहस बिना पुख्ता सबूतो के कर ही नहीं सकती. उस वक्त अभियोजन पक्ष के वकील इस बात से पूरी तरह आश्वस्त थे कि शंकराचार्य को दोषी साबित करने के लिए उनके पास पर्याप्त पुख्ता सबूत थें. विवेचना अधिकारी प्रेम कुमार का ये बयान प्रमुखता से छपा कि हमारे पास ठोस साक्ष्य है स्वामी जयेन्द्र सरस्वती के खिलाफ और ये कि शंकर रमण और इनके बीच करीब चार सालो से आपसी मनमुटाव था जिसको सिद्ध करने के लिए पर्याप्त सबूत इकठ्ठा किये जा रहे है.

खैर ईश्वर के यहाँ देर भले हो पर अंधेर नहीं है. सत्य की अंततः विजय हुई जब पांडिचेरी की विशेष अदालत ने सत्ताइस नवंबर २०१३ को उन सभी लोगो को जो शंकर रमण हत्याकांड में आरोपी बनाये गए थें उनको बाइज्जत बरी कर दिया. इसी के साथ नौ साल से हो रहे ड्रामे का पटाक्षेप हो गया. उन पर लगाये गए सभी आरोपो से उन्हें मुक्त कर दिया गया. जितने भी प्रमुख गवाह थें उन्होंने अभियोजन पक्ष के वर्णन को समर्थन देने से इंकार कर दिया। अभियोजन पक्ष के विरोध में करीब ८० से अधिक गवाहो ने अपने बयान दर्ज कराये।

कांची के शंकराचार्य अंततः निर्दोष और निष्पाप होकर उभरे लेकिन इस नौ साल लम्बे ड्रामे की वजह से इस अति प्राचीन हिन्दू मठ पर जो दाग लगे उसको मिटने में कई वर्ष लगेंगे. हिन्दुओ के आस्था और प्रतीक के साथ जो बेहूदा मजाक हुआ उसके निशान कई वर्षो तक संवेदनशील मनो को कटोचते रहेंगे. लेकिन हिन्दू ब्राह्मण के उदार मन को देखिये कि इतना होने के बाद भी किसी के प्रति कोई कटुता नहीं. इस परिपेक्ष्य में शंकराचार्य के वक्तव्य को देखिये जो उन्होंने बरी होने के बाद दिया: ” धर्म की विजय हुई. सत्य की जीत हुई. सब कुछ खत्म हो जाने के बाद अंत में केवल यही बात मायने रखती है. मुझे मेरे गुरु ने सब कुछ सहन करने को कहा है. इसलिए ये कहना उचित नहीं होगा कि हालात मेरे लिए असहनीय थें. हा कुछ दिक्कते जरूर आयी वो भी उस वजह सें कि हम लोग नयी तरह की परिस्थितयो का सामना कर रहे थें. हमने पूर्व में देखा है कि किस तरह आक्रमणकारियों ने हिन्दू मंदिरो पर हमले कर उनको विध्वंस किया। आज जब हम मंदिरो पर पड़े उन हमलो की निशानियाँ देखते है तो  हमे वे आक्रमणकारी और उनकी क्रूरता याद आती है. आज जो कुछ भी मठ के साथ हुआ ( मेरे पर जो  आरोप लगे) वे बहुतो की नज़र में पूर्व में किये गए आक्रमणकारियों के द्वारा किये गए विध्वंस सरीखे ही है.”

ये बहुत दुःख की बात है कि जैसे ही किसी हिन्दू संत पर कोई आरोप लगते है सारे मुख्यधारा के मीडिया समूह उस संत को बदनाम करने की कवायद में जुट जाते है पूरी ताकत से इस बात से बिल्कुल बेपरवाह होकर कि मीडिया का मुख्य काम किसी भी घटना की सही-२ रिपोर्टिंग करनी होती है ना कि न्यायिक ट्रायल करना। उससे भी बड़ी बिडम्बना ये है कि अगर संत पर लगे आरोप निराधार और झूठे पाये जाते है तो जो अखबार या फिर न्यूज़ चैनल आरोप लगने के वक्त पूरे जोर शोर से संत को दोषी ठहरा रहे थे वे ही अखबार और न्यूज़ चैनल पूरी तरह से कन्नी काट लेते है. संत को बेगुनाह साबित करने वाली खबर कब आती है और कब चली जाती है ये पता भी नहीं चलता है. यही वजह है कि कांची के शंकराचार्य की बेगुनाही और बाइज्ज़त बरी होना किसी भी शीर्ष अखबार के सुर्खियो में नहीं आया. शायद सेकुलर मीडिया ने ये सोच कर इस खबर को प्रमुखता से नहीं बताया क्योकि हिन्दुओ से जुडी कोई भली खबर सेक्युलर भावना के विपरीत होती है!

मेनस्ट्रीम मीडिया को प्रोपगेंडा ज्यादा रास आता है बजाय सत्य के. सेक्युलर ताकतो ने और इनके द्वारा संचालित मीडिया समूहो ने कांची के शंकराचार्य के गिरफ्तारी के वक्त ये बहुत जोरदार तरीके से ये दर्शाया कि कोई भी कानून से ऊपर नहीं होता. तो क्या यही सेक्युलर ताकते जो कानून की बात करती है शाही ईमाम सैय्यद अहमद बुख़ारी को गिरफ्तार करने की हिम्मत रखते है जिन पर कई धाराओ में देश के विभिन्न थानो में एफ आई आर दर्ज है? क्या यही सेक्युलर ताकते उन क्रिस्चियन मिशनरीज को बेनकाब करने की ताकत रखती है जो देश के पिछड़े और दूर दराज के इलाको में लोगो को बहला फुसला कर उनका धर्म परिवर्तन कर रही है? लेकिन ये सबको पता है कि सेक्युलर मीडिया ऐसा कभी नहीं करेगा. ऐसा इसलिए कि इन सेक्युलर लोगो की निगाह में कानून के लम्बे हाथ केवल हिन्दू संतो के गर्दन तक पहुंचती है. ये हिन्दू संतो को केवल बदनाम करने तक ही सीमित है और हिन्दू आस्था को खंडित और विकृत करने भर के लिए है. ये दुष्प्रचार के समर्थक है सत्य के नहीं.

हिन्दू संत अपनी जाने गंवाते रहे है लेकिन ये खबरे कभी भी सेक्युलर मीडिया की सुर्खिया नहीं बनी. ये स्वामी लक्ष्मणानन्द जी की तस्वीर है जिनकी हत्या क्रिस्चियन ताकतो ने कर दी थी.

हिन्दू संत अपनी जाने गंवाते रहे है लेकिन ये खबरे कभी भी सेक्युलर मीडिया की सुर्खिया नहीं बनी. ये स्वामी लक्ष्मणानन्द जी की तस्वीर है जिनकी हत्या क्रिस्चियन ताकतो ने कर दी थी.


References:

IBN Live

The Hindu

The Hindu

Wiki


Pics Credit:

Pic One

Pic two

Pic Three

Acquittal of Kanchi Seers: A Sad Reminder Of The Fact That Propaganda Is More Powerful Than Truth!

The Acquittal Of Kanchi Seer: Truth has won over propaganda!

The Acquittal Of Kanchi Seer: Truth has won over propaganda!

Any close observer of the happenings in modern India would easily confirm that secular governments have unleashed a sort of war against Hindu saints. They have been framed in number of heinous crimes right from sexual crimes to crimes against national security. The paid media ensures that one-sided coverage gets highlighted not only within Indian landscape but also in International arena. In such matters wherein Hindu saints are involved, a striking feature is that news coverage is full of lies and twisted truths spread by secular press. None of the mainstream media dares to reveal both sides of the story in an impartial way.

One important reason is that most of the Indian media houses are in some way controlled by hidden powers in Western nations. How can we then expect truth to make its presence felt? After all, the mainstream media which harps about involvement of Sadhvi Pragya in blasts never found it important enough to report in same candid fashion about severe violation of rights of prisoners, about inhuman treatment meted out to her inside the jail! The same media is so hyper-sensitive about rights of Devyani who made mockery of India’s honour in West but yet she is being portrayed as if she committed no crime at all! That’s because she is part of the system. But anybody who dared to expose the misdeeds of government was branded as criminal in a well-planned manner!

What I am trying to ascertain that we have given way to era wherein propaganda has become more powerful than version close to truth. One of the most important job of media is to reveal the real picture but exactly opposite has taken place: Media has become carrier of falsehood and distorted versions. It’s main agenda has become to shield dubious powers in rule. Like a prostitute it keep changing its loyalty or, in other words, it generally speaks the language of rulers! Remember the arrest of Kanchi Shankaracharya Swami Jayendra Saraswati in year 2004 in most humiliating manner for allegedly playing a role in murder of Sankararaman, manager of the Sri Varadarajaswamy Temple. The then Chief Minister of Tamil Nadu,J Jayalalithaa, in an attempt to appear more secular than others and to give an impression that no one is above law ensured his arrest! The Kanchi seers were charged with” criminal conspiracy, misleading the court by giving false information, criminal trespass and supply of funds to carry out the criminal activity.”

The Truth Had The Last Laugh!

The Truth Had The Last Laugh!

The head of a 1,000-year-old Brahmin monastic order was presented as petty criminal in mainstream media and even before case was put to trial he was portrayed as accused. Let’s remember that Kanchi Kamakoti Peetham is one of the oldest Hindu mutts in the country and Shankarcharyas belonging to this mutt command a great respect among Hindu communities across the globe. In fact, Swami Jayendra Saraswati is a highly respected figure having profound knowledge of Hindu scriptures. He like his predecessors provided new heights to this mutt established in 9th century by Sri Adi Shankaracharya, enjoying similar status the way Vatican enjoys amid Christians. However, clash of interests between J Jayalalithaa and DMK chief Karunanidhi, who represented anti- Brahminical movments, ensured that this highly revered pontiff got disgraced.

Prominent media analysts of that period conveyed the impression that “police would not have acted unless they had sufficient evidence.” Ironically, the prosecution at that time was supremely confidant about involvement of Kanchi seers in abetting murder of Sankararaman, claiming that it had “incriminating evidence”. The investigating officer Prem Kumar came out with version that made mutt head appear guilty: “We have strong evidence about the involvement of Sri Jayendra Saraswathi in Sankararaman’s murder. There has been animosity between the two for the past four years and further investigation is on to corroborate the evidence collected on the involvement of the Kanchi Acharya.” The allegations had deepened with revelations of  Tamil magazine Nakkeeran. Amid these bizarre turn of events, the case got transferred to Pondicherry to ensure fair trial. To make the matters worse for Kanchi mutt head, even allegations of sexual exploitation surfaced. (The Hindu)

However, the truth had the last laugh when verdict delivered by a special court in Pondicherry acquitted all the accused involved in this sensational murder. The verdict was delivered on November 27, 2013 after nine years of suspense and drama of all sorts. They were acquitted of all the charges which included “criminal conspiracy, misleading the court by giving false information, criminal trespass and supply of funds to carry out the criminal activity.” The main witnesses failed to corroborate the prosecution’s theory. More than 80 witnesses went against the story presented by the prosecution.

Well, it’s true that Kanchi seers got acquitted but in the process it caused irreparable damage to the reputation of an institution, which represented the collective psyche of Hindus. This “collective psyche” of Hindus made its presence felt again the way Kanchi Mutt Head responded to this verdict: ” Dharma has prevailed. Truth has won. That is what matters…I have been trained by my Guru to bear everything. There is no question of situation being tough. Times were challenging because we were facing completely new set of situations. ..There are several invaders who vandalized our temples. Today when you see the disfigured temples you remember the invaders and their acts of vandalism. What was perpetrated on the mutt has been termed as an act of vandalism by several people.” (Kanchi Sathya Org)

Swami Shraddhanand:  Killed By A Muslim Fanatic in 1926.  He Was Part Of The Movement To Reconvert Muslims Back To Hinduism!

Swami Shraddhanand: Killed By A Muslim Fanatic in 1926. He Was Part Of The Movement To Reconvert Muslims Back To Hinduism!

It’s really saddening that moments allegations against Hindu saints surfaces, the whole mainstream media goes berserk and paints them in wrong colours, forgetting that its main task is to report the incident and not to conduct trials. Worse, when the allegations are found false and saints get acquitted the same news item does not get prominence. Acquittal is never important than false stories planted by vested interests. No wonder acquittal of Kanchi’s Shankracharya did not get the same coverage. After all, it strengthens cause of Hindus, which is antithetical to secular spirit of this nation. The mainstream media is more interested in propaganda than emergence of truth.

The secular forces always convey the impression that no one is above law.  And so will they dare to arrest Shahi Imam Syed Ahmad Bukhari against whom so many cases have been registered? Will they dare to bring in open and convict Christian missionaries involved in conversion of tribals in remote corners of India? That will never take place. The law exists only for Hindu saints. It’s an instrument of oppression for Hindus and all that which represents self-pride of Hindus. It’s there to support propaganda and not to sustain truth.

Swamy Lakshmanananda Saraswathi and four of his disciples namely Sadhvi Bhaktimayee, Baba Amritanand, Kishor Baba and Puranjan Ganthi at his Ashram in Jaleshpatta of Kandhamal district in Orissa by a group of Christian zealots on the Janmashtami day, 23 August, 2008.  But the mainstream media made no uproar!

Swamy Lakshmanananda Saraswathi and four of his disciples namely Sadhvi Bhaktimayee, Baba Amritanand, Kishor Baba and Puranjan Ganthi at his Ashram in Jaleshpatta of Kandhamal district in Orissa by a group of Christian zealots on the Janmashtami day, 23 August, 2008. But the mainstream media made no uproar!

References:

The Hindu

The Hindu

Wiki

Pics Source:

Pic One

Pic Two

Pic Three

Pic Four

The Curious Case Of Devyani Khobragade: Aspects Which Will Never Be Discussed!

Devyani: Taken Laws For Granted!!

Devyani: Taken Laws For Granted!!

The complex issue of Devyani Khobragade has come as a boon for ruling party in India on the verge of facing one of the worse defeats in upcoming Parliamentary Elections in 2014. It has allowed its leaders, who have lost their sheen, to talk big about saving the pride of nation, forgetting that most of them enjoy a chequered past! Its most of the leaders, who have been relegated to the background, have now emerged on the surface, speaking aloud about attributes which they rarely displayed both in public and personal lives. Consider the manner in which the Lokpal Bill got passed after the government was left with no other option but to take cognizance of growing unrest over this issue in nation! 

The Indian leaders, especially from the ruling party, definitely lack the moral right to make shrill cry about violation of standard provisions in case of Devyani Khobragade. It’s quite evident from a deeper analysis of issue at hand that facts have been blown out of proportion. Like always the issue has been given a larger-than-life colouring, making it look like some shrewd diversionary tactics on the part of hidden players behind the curtain.

Devyani Khobragade is no child that she could not apprehend the consequences of misrepresentation of facts on visa application of the domestic help Sangeeta Richard. How come she is so much aware of  “Vienna conventions” but pretty unaware about the violation of domestic laws of U.S. even as there were reported incidents of atrocities committed upon domestic help in the past by other Indian diplomats in the same country? Being an Indian diplomat she should have set high precedents instead of giving impression of being a “victim” in the aftermath of strict actions on part of U.S. authorities.

Let’s be very clear that it’s not the case of making mockery of sovereignty of India but it’s more the case of playing with the fire. Devyani conveniently forgot that she was living in United States and not in India where even a petty “Sarkari Babu” (government official) can use his power to thwart the investigation on being caught.

The urgency exhibited and absurd statements on part of Congress Ministers make them laughing stock in the eyes of all conscious people, who believe in the rule of law. The paid mainstream media might give the impression that knee jerk reactions on part of Indian counterparts back in India are “bold measures” and fitting response to United States, but it would never diminish the ugly truth that she is guilty. The moves on part of U.S. sound more appropriate when Preet Bharara makes it clear that “This office’s sole motivation in this case, as in all cases, is to uphold the rule of law, protect victims, and hold accountable anyone who breaks the law — no matter what their societal status and no matter how powerful, rich or connected they are.”

All those who are talking aloud about diplomatic immunity granted to Indian officials posted at consular office surely needs to answer questions posed by this U.S. prosecutor: “One wonders whether any government would not take action regarding false documents being submitted to it in order to bring immigrants into the country. One wonders even more pointedly whether any government would not take action regarding that alleged conduct where the purpose of the scheme was to unfairly treat a domestic worker in ways that violate the law. And one wonders why there is so much outrage about the alleged treatment of the Indian national accused of perpetrating these acts, but precious little outrage about the alleged treatment of the Indian victim and her spouse?”

Yes, it’s disturbing that mainstream media pressure and chaotic voices within the government have made it a “diplomatic row” when it’s nothing more than criminal action committed by a responsible Indian officer. However, let’s view critically the actions taken on part of U.S. The WikiLeaks have proven beyond doubt that American leaders are no saints. The U.S. might give the impression that dealing fairly with violation of human rights is always their topmost priority but when their own men get trapped it takes recourse to most shrewd measures to save them.

Or, for that matter, it can go to any extent to get its job done, even if it means sabotaging the sovereignty of other nations. It’s no secret that documents and evidences were forged to justify their attack on Iraq. The drone attacks in various parts of Pakistan make it clear that borders become meaningless in face of its interests, and so death of innocent civilians means nothing! The controversial release of Ramyond Davis, C.I.A contractor guilty of double murder in Pakistan, speaks volume about subtle pressure employed by American leaders.

 The U.S. claims it’s very much in pain over episodes of violation of human rights but see the treatment meted out to prisoners at Guantanamo Bay! So it’s evident that rich and powerful nations have dual standards and the U.S. is no exception. It’s not at all wrong to presume that it used its domestic laws to enter in  barbaric behaviour which many in India see it as an assault on the pride of India and modesty of a woman.

India needs to learn few lessons from this episode instead of entering in retaliatory actions. Before I come to that point let me state that introduction of gender-neutral laws in India or need of tough measures to punish abusive women always lead to raised eyebrows.The so-called messiahs of women’s rights start making noise in India. The U.S. has perfectly demonstrated that laws are equal for men and women and, therefore, women cannot claim special privileges or concession. 

In India despite the leap of so many centuries  woman is still inherently seen as a weak specie, a saintly figure, who can first commit no crime and even if she commits crimes she needs to be given special treatment! It’s an impression that’s even supported by foreign based agencies, working for the rights of women in India but the same agencies would remain silent about inhuman behaviour done with Devyani just because it happened in U.S.!

Anyway, India needs to demonstrate its own strength not in reactionary way but in a more mature way. It needs to take away all the special privileges and concessions it offers to U.S. citizen in extraordinary way. Very recently a Visa Officer in India was transferred because she had refused to grant visa to a gay American diplomat on the ground that such marriages are not legal in India. The Indian government instead of supporting her argument, transferred her to a lesser department.
 

In the light of recent Supreme Court judgement, which has upheld the validity of section 377, one needs to follow the words of former Finance Minister of India, Yashwant Sinha, to let United States become aware of consequences if other nations also become strict in implementing their domestic laws.”My suggestion to the Government of India is, the media has reported that we have issued visas to a number of US diplomats’ companions. ‘Companions’ means that they are of the same sex. Now, after the Supreme Court ruling, it is completely illegal in our country. Just as paying less wages was illegal in the US. So, why doesn’t the government of India go ahead and arrest all of them? Put them behind bars, prosecute them in this country and punish them.” (Yashwant Sinha).

Sometimes back there was controversy about alleged permission granted to American sniffer dogs to enter Rajghat as a part of the security drill before the visit of U.S. President George Bush. In future this sort of “desecration” could be avoided since it’s not permissible as per our own rules. It’s time for India to exhibit that it has a backbone, instead of entering in knee-jerk reactions. That can be perfectly demonstrated by pursuing its own interests in a rigid way without granting extraordinary privileges to outsiders, being least influenced by their nationality and position.

Nation's Pride Should Be Saved In A Sensible Way!

Nation’s Pride Should Be Saved In A Sensible Way!

References:

Time

MSN

DNA

Zee News

The Indian Express

Financial Express

The Indian Express

The Hindu

IBN Live

Raymond Davis

Yashwant Sinha

Pics Credit:

Pic One

Pic Two Is From Internet

Two Faces Of Masculinity From The Crude Real World Supposedly Belonging To Men In The Eyes Of Feminists!

Men Will Keep Losing Lives For The Sake Of Society!

Men Will Keep Losing Lives For The Sake Of Society!

*Scene One*

This year in the month of September a senior police officer, belonging to IPS cadre, tried to commit suicide in Maharashtra. Such news report now do not stir the emotions of common mass other than creating short-lived ripples within some sensitive minds. Even when it forces the thinking class to take cognizance of such news items, the centre of gravity in these discussions remain governed by flimsy causes and after a certain period the issue gets swept under the carpet.
 

In this particular sensational incident, this senior police officer was at the receiving end of humiliating gestures at the hands of another junior officer, belonging to IAS cadre. This harassment continued for a certain period of time and seeing no way to get out of this mess this hard-working and honest police official set himself on fire. The reason why this police officer faced the ire of this junior IAS officer was that he had found this junior officer responsible for alleged irregularities in the Maharashtra State Road Transport Corporation (MSRTC). This IPS officer in his capacity as the Chief Vigilance Officer of the MSRTC submitted an inquiry report, which found this officer guilty, who was, ironically, the head of this department at that point of time.

That’s one of the few examples from world of ours, which contradicts the claims of  feminists always unfailingly harping on the same string that world belongs to men! Unfortunately, they never realize that it’s rough, cruel and hellish for men-at-large for most of the time. The wives of such hard-working honest officials, who see such husbands as no more than a source to have ready cash all the time for their sense gratification, either in form of buying costly jewelries, costly attires, rarely come to realize what’s actually the state of affairs in lives of the their husbands. Worse, being unaware of the harsh realities prevailing in the world of men, the women show no haste in throwing tantrums on one pretext or another.

Husbands usually do not protest over such whimsical demands of wives since in their eyes giving way to demands of their wives appears to be some sort of fulfilling one’s duty towards them! And that’s how women come to rule over them and in turn exploit them.  Ironically, now laced with new rights, wives have become more possessive, greedy and irrational. It’s a sad declaration but it’s true that scenario would not change in future. It would remain the same, wherein husbands like, bonded labourers, would continue to serve their wives, even as they remained at the receiving end of most tragic developments in world outside the confines of drying room.

Suicide By Men Is Not A Serious Issue For Governments!

Suicide By Men Is Not A Serious Issue For Governments!

  *Scene Two*      

In one of the famous restaurants of Allahabad, popular among love birds, arrived one such couple. Everything went alright between these two lovers, enjoying a happy conversation amid refreshments. Suddenly, a call arrived on the phone of male friend and he went on to have a long conversation. Being suspicious about the nature of the phone call, the female partner inquired about it from her lover. The explanation offered by the male partner did not appear convincing to her and that led to heated debate between the two. The happy mood gave way to high voltage drama marred by panic and tension. The female partner, who belonged to elite class, being unaware of the consequences of involving police, telephoned the police station of that area stating she was being sexually assaulted. The police acted in prompt manner, beating his male partner black and blue, right in front of her eyes, dragged him to the police station.

The girl who did not imagine such fatal consequences and to an extent feeling sorry about the whole episode informed the police officer in the police station that her complaint was fake! She telephoned merely to teach a fitting lesson to his male partner! Perhaps she did not want that matter should reach to their homes, which was going to be the case in next few minutes. The police, taking a liberal view on the whole episode, released both of them warning them not to indulge in such drama again, which involved police. The couple promising them to behave responsibly left the police station with happy and relaxed faces. Such boyfriends, new face of masculinity in modern times would grow in numbers, willing to serve their girlfriends at all costs, no matter if it involves putting at stake one’s self-respect! 

Girlfriends Would Continue To Exploit Men At All Levels!

Girlfriends Would Continue To Exploit Men At All Levels!

Reference:

India Today 

News Item Published In Dainik Jagaran

Hindi Version Of This Article By Me

Pics Credit:

Pic One  

Pic Two 

Pic Three

यथार्थ से उठायी गयी मर्दानगी की दो अलग-अलग तस्वीरे: अफ़सोस ऐसा होता ही रहेगा!

… और पुरुष मर्दानगी के चलते ऐसे ही मरते रहेंगे उस समाज के लिए जो उनकी क़द्र नहीं करता :-(

… और पुरुष मर्दानगी के चलते ऐसे ही मरते रहेंगे उस समाज के लिए जो उनकी क़द्र नहीं करता :-(


                                                     *तस्वीर एक* 
                                
इसी साल सितम्बर महीने में महाराष्ट्र में एक सीनिअर पुलिस अफसर ने आत्महत्या करने की कोशिश की. ऐसी बाते हमारे भारतीय परिदृश्य में आम जनमानस के एक अल्पकालिक सनसनी के सिवाय ज्यादा कुछ पैदा नहीं करती। कुछ बतकही होती है इधर उधर की कुछ समय तक और फिर मामला ठंडा पड़ जाता है. लेकिन मै कुछ सोचने पर मजबूर हो गया. इस घटना के पीछे इस अधिकारी की प्रताड़ना थी जो ये एक अपने से जूनियर आई ए एस के हाथो कई वर्षो से झेल रहा था. वो भी इस वजह से कि इस अफसर ने ईमानदारी से काम करते हुए इस अधिकारी को एक इन्क्वायरी रिपोर्ट में कुछ मामलो में दोषी पाया था। और बात इस कदर बढ़ी कि इस अफसर ने अपने को आग के हवाले कर लिया। 

इस घटना का उल्लेख करने की वजह ये है कि जिन ऐसी अफसरो की बीवियाँ गहनो और महँगी साड़ियों से सुसज्जित पति को प्राप्त हर सुख सुविधा का भोग करती है उनको शायद इस बात का जरा सा भी अंदेशा नहीं रहता कि उनके पति किस तरह के समस्यायों से जूझ रहे है. उस पर से तुर्रा ये कि किसी चीज़ की कमी बेसी पर आसमान सर पर उठा लेने में जरा भी देर नहीं लगाती है. और ये घर घर की कहानी है. इस घर और ऑफिस के दो पाटो में हर मर्द पिस जाता है लेकिन अपने शोषण पर उफ़ नहीं करता क्योकि ये उसको अपना कर्त्वय लगता है. और जबकि इनकी पत्नियाँ हर तरह के अधिकारो से लैस इस तरह के मर्दो को कोल्हू का बैल बना के रखती है. और जिस तरह से इनको अधिकार मिलते ही जा रहे है उससे नहीं लगता कि आने वाले समय में परिदृश्य बदलेगा।     

                                                      *तस्वीर दो*

इलाहाबाद का एक प्रसिद्ध रेस्टॉरंट जहा हमेशा की तरह आधुनिक प्यार को विस्तार देते कई प्रेमी प्रेमिकाएँ बैठे है. इन्ही तमाम जोड़ो में से एक के बीच ऐसा हुआ. एक प्रेमी प्रेमिका बैठे हुए है कि अचानक प्रेमी का मोबाइल बज उठता है जिस पर वो किसी से लम्बी बात करता है तो प्रेमिका ने डिटेल्स लेनी चाहिए लेकिन प्रेमी के जवाब से संतुष्ट ना हुई. और जो इन दोनों के बीच मधुर बातो का सिलसिला चल रहा था वो तकरार के भयंकर रूप में परिवर्तित हो गया. बात यहाँ तक बढ़ी कि प्रेमिका ने तुरंत पुलिस को फ़ोन पर सूचित किया कि उसके साथ छेड़ छाड़ हो रही है. ऐसे मामलो में अति सक्रिय पुलिस तुरंत आ पहुँची और उसके बॉयफ्रैन्ड को तुरंत मारते पीटते थाने ले गए. प्रेमिका चूँकि एलिट क्लास से थी सो उसको अंदाजा ना था कि फ़ोन करने पर ऐसा भी हो सकता है. बात क्योकि अब थाने और घरवालो तक पहुचने वाली थी सो प्रेमिका ने मामले को खत्म करने के इरादे से सच बता दिया कि ऐसा कुछ नहीं था. वो केवल बॉयफ्रेन्ड को सबक सीखना चाहती थी. सो पुलिस ने हलकी से दोनों को चेतावनी देते हुए दोनों को छोड़ दिया। दोनों भविष्य में ऐसा ना करने की कसम खाते हुए फिर से इकट्ठा साथ निकल लिए. मर्दानगी के आधुनिक नमूने इस तरह के बॉयफ्रेंड की फसलें सदा लहलहाती रहेंगी जिसे इस तरह की लड़किया हमेशा अपने हिसाब से काटती रहेगी।

 

प्यार कम और तकरार ज्यादा होता है आज अधिकारो के हक़ की वजह से !!!

प्यार कम और तकरार ज्यादा होता है आज अधिकारो के हक़ की वजह से !!!

 

Reference:

India Today

News Item Published In Dainik Jagaran.

Pics Credit:

Pic One 

Pic Two 

Serendipity

Was I born a masochist or did society make me this way? I demand unconditional love and complete freedom. That is why I am terrible.

atul's bollywood song a day- with full lyrics

over ten thousand songs posted already

John SterVens' Tales

Thee Life, Thee Heart, Thee Tears

Indowaves's Blog

Just another WordPress.com weblog

Una voce nonostante tutto

Ognuno ha il diritto di immaginarsi fuori dagli schemi

Personal Concerns

My Thoughts and Views Frankly Expressed

flightattendantwithcamera

Seeking adventure with eyes wide open since 1984.

I love a lot

Just another WordPress.com site

the wuc

a broth of thoughts, stories, wucs and wit.

A Little Bit of Monica

My take on international politics, travel, and history...

Atlas of Mind

Its all about Human Mind & Behavior..

Peru En Route

Tips to travel around Perú.

Health & Family

A healthy balance of the mind, body and spirit

मानसिक हलचल

ज्ञानदत्त पाण्डेय का हिन्दी ब्लॉग। मैं यह ब्लॉग लिखने के अलावा पूर्वोत्तर रेलवे, गोरखपुर (भारत) के ट्रेन परिचालन का काम भी देखता हूं।

Monoton+Minimal

travel adventures

Stand up for your rights

Gender biased laws

The Bach

Me, my scribbles and my ego

Tuesdays with Laurie

"Whatever you are not changing, you are choosing." — Laurie Buchanan

The Courage 2 Create

This is the story of me writing my first novel...and how life keeps getting in the way.

A Magyar Blog

Mostly about our semester in Pécs, Hungary.

Follow

Get every new post delivered to your Inbox.

Join 563 other followers